Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2019

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में,ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आपक…

Talaak Ke Karan Aur Jyotish Samadhan

तलाक के मुख्य कारण जो की उत्प्रेरक का कार्य करते हैं. जानिए उन कारणों को जो संबंधो को तलाक तक पहुंचा देते हैं, ज्योतिषीय कारण जानिए तलाक के, जानिए ज्योतिष समाधान तलाक के.
आज के दौर में तलाक के बढ़ते मामले सही मायने में एक गंभीर विषय है पुरे संसार के लिए. अब ये समय आ गया है की इस विषय पर गंभीरता से विचार किया जाए और कारणों को जाना जाए. तलाक से अपने आपको बचाने के लिए भी समाधान खोजना चाहिए.  तलाक को लेके कुछ महत्त्वपूर्ण सवाल आते हैं जैसे :आज के कुछ युवा लोग क्यों विवाह के संबंधो को निभा नहीं पा रहे हैं?क्यों आज कोई एक साथी संघर्ष के समय दुसरे का साथ नहीं दे पाता है?क्यों अहंकार इतना महत्त्वपूर्ण हो गया है की बात तलाक तक पहुँच जाती है. क्यों लम्बे समय तक रहने के बाद दंपत्ति तलाक लेने लगे हैं.क्या ज्योतिष तलाक को रोकने में सहायक हो सकता है?क्यों आज कुछ समय के बाद प्रेम संबंधो में दरार आ जाता है?क्यों हम अपने वैवाहिक जीवन को रोज नवीनता से नहीं देख पाते हैं?क्यों ले तलाक?क्यों लोग तलाक के बाद के परिणामो पर विचार नहीं कर पाते हैं? अगर हम ऊपर लिखे प्रश्नों पर गहराई से विचार करे तो निश्चित ही ह…

Kaise Paayen Mukti Bhay, Chinta aur Nirasha se Jyotish Ke Madhyam Se

कैसे बचाए अपने आपको तनाव से, नकारात्मकता से, डर से, ज्योतिष के द्वारा, क्या करे जब नकारात्मक विचार पीछा न छोड़े, जानिए कौन से ग्रह जिम्मेदार है नकारात्मक विचार और निराशा के लिए.
तनाव, डर और नकारात्मक विचार ऐसे ३ मुख्य कारक है जो की किसी भी व्यक्ति के पतन का कारण बन जाते हैं. इनके कारण जातक नकारात्मक निर्णय लेने लगता है और अपने जीवन को असफलता की और धकेल देता है.
आइये जानते हैं की तनाव, नकारात्मक विचार और डर के ज्योतिषीय कारण क्या हो सकते हैं? इस संसार में ऐसे बहुत से कारण होते हैं जिससे जीवन में डर, चिंता, निराशा आ जाती है परन्तु ज्योतिष में हम ग्रहों को किसी भी घटना का कारण मानते हैं अतः यहाँ हम जानेंगे ज्योतिषीय कारण. कुंडली में पहला घर मन से सम्बन्ध रखता है और अगर ये किसी ख़राब ग्रह से प्रभावित हो जाए तो जातक चिंता, निराशा, नकारात्मक विचार से ग्रस्त हो जाता है. जैसे की अगर ख़राब राहू लग्न में हो तो राहू की महादशा में जातक नकारात्मक विचार से जरुर ग्रस्त हो जाता है. जीवन में निराशा और असफलता भी घेर लेती है.कुंडली में अगर ग्रहण योग हो तो भी जातक भय, चिंता, नकारात्मक विचार से ग्रस्त हो सकता…

Chipkali Se Jude Shakun Apshakun

Chipkali Se Jude Shakun Apshakun, छिपकली से जुड़े शकुन – अपशकुन, क्या होता है जब छिपकली शारीर के किसी भाग पर गिरे, क्या होता है जब शारीर का कोई भाग कापने/फड़कने लगता है.

ज्योतिष के अन्दर छिपकली के शारीर के किसी भाग पर गिरने को देखके भी भविष्यवाणी की जाती है . इस विषय का जिक्र भी शकुन – अपशकुन के अंतर्गत किया जाता है. परन्तु इस विषय पर लोगो के मत भिन्न भिन्न देखे गए हैं. यहाँ पर जानकारी के लिए कुछ छिपकली से जुड़े शकुन-अपशकुन बताया जा रहा है. 
आप चाहे तो अपने अनुभव भी छिपकली से जुड़े बाँट सकते हैं कमेंट के जरिये.

कुछ कहते हैं की छिपकली का गिरना अशुभ होता है तो कुछ कहते हैं शुभ होता है. परन्तु इसका शुभ – अशुभ इस बात पर निर्भर करता है की छिपकली शारीर के किस भाग पर गिरी है. अगर छिपकली सर पर गिरे तो ये शुभ माना जाता है. व्यक्ति को शीघ्र ही कुछ अच्छा मिलने वाला है, कुछ लाभ होने वाला है, जीवन में ख़ुशी मिलने वाली है. अगर छिपकली तीसरी आँख की जगह गिरे तो इसका अर्थ है की किसी उच्च अधिकारीयों से लाभ होने वाला है. अगर छिपकली नाक को छू  ले तो कोई परेशानी आने वाली है . अगर छिपकली दाए कान पर गिरे तो ये उम्…

Jyotish Main Shakun Ka Mahattwa

Jyotish Main Shakun Ka Mahattwa, ज्योतिष और शकुन, शकुन और अपशकुन क्या है, शकुन और अपशकुन का महत्तव.

पुरे विश्व में लोग शकुन – अपशकुन को मानते हैं. इनका अर्थ होता है कुछ ऐसी घटनाएं जिसको देखके अपने साथ होने वाली घटनाओं का अंदाजा लागाया जाता है. अंग्रेजी इन्हें omens कहा जाता है . हमने अक्सर सुना है की किसी ने अचानक से किसी घटना के बाद अपनी यात्रा को रोक दिया, कुछ लोग बिल्ली के रस्ते काटने के बाद उस रास्ते से नहीं जाते, कुछ लोग कुत्ते के रोने को अशुभ समझते हैं आदि. ये सब शकुन- अपशकुन के अंतर्गत आते हैं. 
शकुन में हम निम्न को सम्मिलित करते हैं :जानवरों की आवाजे शारीर के विभिन्न हिस्सों में कम्पन्न होना किसी चीज का शारीर के किसी भाग पर गिरनाकुछ विशेष प्रकार के स्वप्नकुछ विशेष दृश्य जो की यात्रा शुरू करने के दौरान दिखाई देते हैं आदि. जब कोई घटना बिना किसी तैयारी के घटित और अपेक्षा के घटित हो जाती है तो उनका स्तेमाल किया जाता है की शकुन है या अपशकुन. शकुन – अपशकुन से सम्बंधित जानकारी जिसमे दी गई है उसे “शकुन शास्त्र " कहा जाता है . ज्योतिष में शकुन का स्तेमाल भी बहुत किया जाता है शुभता…

Vrishabh Raashi ka Rahasya | Taurus Astrology

वृषभ राशि वालो की प्रकृति, ज्योतिषी सलाह, वृषभ वालो के लिए रत्न, Taurus astrology free, Taurus astrology in Hindi. क्या आप वृषभ राशि के हैं और जानना चाहते हैं अपने बारे में तो जानिए वृषभ राशि के रहस्य को.वृषभ राशि पर शुक्र ग्रह का आधिपत्य होता है.प्रथ्वी इसका तत्व है.इस राशि से व्यक्ति के निर्णय लेने की क्षमता, महसूस करने की क्षमता , विश्वास, आदि को पढ़ा जाता है.इस राशि का रत्न हीरा है.शुक्रवार वृषभ राशि वालो का दिन है.इनकी मित्र राशि हैं – कन्या, कर्क, मकर, मीन और मेष.वृषभ से बेमेल राशियाँ है – सिंह, तुला, वृश्चिक, धनु, कुम्भ. कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य:वृषभ राशि के लोग बहुत ही व्यवहारिक होते हैं, ये सपनो की दुनिया में नहीं जीते हैं, इनका हर कदम बहुत ही सावधानीपूर्ण होता है, जिनसे ये प्रेम करते हैं उनके लिए ये बहुत सोचते हैं, जो ये सोचते हैं वैसा ये कर देते हैं.वृषभ राशि के लोग थोड़े जिद्दी भी होते है जिसके कारण इनको कभी कभार परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है.व्यवहारिक ज्ञान होने के कारण इनको सामाजिक जीवन में ज्यादा समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है. ये सिक्के के दोनों पहलुओं को देखने म…

Mesh Raashi Ka Rahasya | Aries Astrology Free

Aries astrology in Hindi, मेष राशि, मेष राशि वालो की प्रकृति, मुफ्त सलाह, Aries nature, Free astrology  suggestions.

क्या आप मेष राशि के जातक है, क्या आप अपने बारे में जानना चाहते हैं, तो पढिये यहाँ. मेष राशि का स्वामी ग्रह है मंगल.मेष राशि का सम्बन्ध अग्नी तत्व से है.इस राशि वालो के लिए दिन है मंगलवार.इस राशि से निम्न चीजों को देखा जाता है – नेतृत्त्व क्षमता , शारीरिक शक्ति, लक्ष्य , गुस्सा आदि.मेष राशि का रत्न है लाल मूंगा.इसकी मित्र राशियाँ है- सिंह, धनु, मिथुन और वृषभ.जो राशियाँ मेष से मेल नहीं खाती हैं वो हैं कर्क, कन्या, तुला, मकर. कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य :ये राशि चक्र की पहली राशि है और अग्नि तत्त्व की प्रधानता के कारण चमकीली भी है. मेष राशि वाले लोग निर्भीक, नेतृत्त्व क्षमता वाले, उर्जावान और साहसी होते हैं.इनको आलस्यता पसंद नहीं और ये लगातार अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कार्य करते रहते हैं. कई बार अधिक ऊर्जा इनके लिए समस्या भी बन जाती है.इस प्रकार के लोगो के लिए डिफेन्स सेवा, खेल, प्रशासनिक सेवा आदि का क्षेत्र अच्छा रहता है.मेष राशि वालो के लिए सलाह:दूसरों की भावनाओ का सम्मान …

Buddha Poornima Ka Mahattw In Hindi

बुद्ध पूर्णिमा का महत्त्व, वैशाख महीने की पूर्णिमा क्यों महत्त्वपूर्ण है, क्या करे सफलता के लिए वैशाख पूनम को.
वैशाख महीने की पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा के नाम से पुरे विश्व मे जाना जाता है. ऐसा माना जाता है की महात्मा बुद्ध का जन्म इस पवित्र दिन हुआ था इसी कारन बुद्ध जयंती मनाई जाती है इस दिन. 
बुद्ध पूर्णिमा को भक्तगण उपवास रखते है, अध्यात्मिक साधना करते हैं, कर्मकांड करते हैं, कुछ लोग विष्णु भगवान् की पूजा करते हैं, दान-धर्म करते है अपनी क्षमता अनुसार. 
जब चन्द्रमा अपनी पूर्णम आभा बिखेर रहा होता है तब भक्तगण अध्यात्मिक साधना करते हैं जीवन को सफल बनाने के लिए. गौतम बुद्ध ने ऐसा मार्ग दिखाया है जिससे की सभी आसानी से जीवन के परम लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं. 
उनके नियम किसी जाती से सम्बन्ध नहीं रखते हैं, किसी धर्म से सम्बन्ध नहीं रखते हैं. उन्होंने मुक्ति मार्ग दिखाया सभी को. बुद्ध पूर्णिमा को लोग इसी अवतार को याद करते हैं. बुद्ध को मानने वाले इस दिन शोभा यात्रा भी निकलते है, विशेष ध्यान सत्रों का आयोजन होता है विभिन्न जगहों पर. बुद्ध के मंदिरों मे विशेष साज सज्जा होती है.  भारत मे ब…

Hum Kaise Durbhagya Ko Akarshit Karte Hain

Hum Kaise Durbhagya Ko Akarshit Karte Hain, कैसे कार्य दुर्भाग्य को जन्म देते हैं, कैसे हम अपने जीवन में रुकावटों को जन्म देते हैं.

साधारणतः हम लोग अपने जीवन में मौजूद रुकावटों को लेके रोते रहते हैं, हम हमेशा शिकायत करते रहते हैं की जीवन संघर्षो से भरा है, आज ये परेशानी है , कल ये होगा, कैसे जिएंगे आदि. परन्तु ऐसी बहुत सी समस्याएं हैं जो की हम अपने की आदतों के कारण पैदा कर लेते हैं.
इस लेख में आपको कुछ ऐसे ही आदतों की जानकारी देंगे जिसके कारण हम अनजाने में दुर्भाग्य को जन्म देते हैं. कुछ आदतें नकारात्मक उर्जाओं के लिए निमंत्रण का काम करती हैं और दुर्भाग्य, मुश्किलों को जन्म देती हैं. अतः जानकारी से बचाओ संभव है.
अगर आप एक सफल जीवन जीना चाहते हैं, अगर आपका सपना है एक सफल व्यक्ति बनने का, अगर आप एक सरल और सच्चा जीवन जीना चाहते हैं तो ये लेख आपकी जरुर मदद करेगा. आइये देखते हैं कैसे कुछ आदतें दुर्भाग्य को जन्म देते हैं?जो व्यक्ति प्रातः जल्दी नहीं उठते हैं वो लोग ताज़ी हवा और उर्जा युक्त वातावरण से वंचित रह जाते हैं जो की अपने आप में ही एक दुर्भाग्य हो जाता है अतः अपनी आदतों को बदल के …

Naurkri Ya Vyapaar Kya kare Jyotish Ke Hisab Se

Naurkri Ya Vyapaar Kya kare Jyotish Ke Hisab Se, कुंडली के हिसाब से क्या बेहतर होगा व्यापार या नौकरी, काम काज चुनने में ज्योतिष की भूमिका.
अगर आपको परेशानी आ रही है ये चुनने में की क्या करे व्यापार या जॉब तो ऐसे में ज्योतिष की मदद आप ले सकते हैं. वैदिक ज्योतिष की माध्यम से हम कुंडली में ग्रहों की स्थिति को देखके सही मार्ग चुन सकते हैं काम काज के लिए. इस लेख में हम जानेंगे की कैसे ज्योतिष मदद करता है कैरियर चुनने में.
जीवन में ऐसा बहुत बार होता है की हम दुविधा में फंस जाते हैं की क्या चुनना चाहिये. कभी ऐसा होता है की नौकरी में व्यक्ति को समस्या आने लगती है तो जातक सोचता है की चलो अब कोई व्यापार किया जाए, फिर ऐसा विचार आता है की चलो दूसरी जॉब ढूँढ़ते हैं. इस प्रकार के असमंजस में काफी दिन निकल जाते हैं.  जो लोग हाल ही पढ़ाई पूरी करके निकलते हैं उन लोगो को भी बहुत समस्या आती है सही कैरियर चुनने में.  कुछ लोग तो नौकरी के साथ पार्ट टाइम में व्यापार भी करना चाहते हैं.  ज्योतिष के द्वारा हमे ये पता चल सकता है की हमे क्या करना चाहिए व्यापार या नौकरी. क्या आप नौकरी छोढ़कर व्यापार के बारे में सोच र…

Kala Jadu Kaise Khatm Kare

काला जादू क्या है , कैसे पता करे काला जादू के असर को, कैसे ख़त्म करे कला जादू के असर को, hindi में जाने काले जादू के बारे में. काला जादू अपने आप में एक खतरनाक विद्या है जो की करने वाले, करवाने वाले और जिस पर किया जा रहा है उन सब का नुक्सान करता है. यही कारण है की इस नाम से भी भय लगता है. अतः ये जरुरी है की इससे जितना हो सके बचा जाए और जितना हो सके उतने सुरक्षा के उपाय किया जाए.
ज्योतिष संसार के इस लेख में आपको हम उसी विषय में अधिक जानकारी देंगे की कैसे हम काले जादू का पता कर सकते हैं और किस प्रकार इससे बचा जा सकता है. प्रतियोगिता अच्छी होती है परन्तु जब ये जूनून बन जाती है तब व्यक्ति गलत ढंग से जीतने के उपाय करने से भी नहीं चुकता है. आज के इस प्रतियोगिता के युग में लोग बस जीतना चाहते हैं और इसके लिए किसी भी हद तक जाने से नहीं चुकते हैं और यही पर काला जादू का प्रयोग करने की कोशिश करते है. आखिर में क्या है काला जादू? हर चीज के दो पहलु होते हैं एक अच्छा और एक बुरा. काला जादू तंत्र, मंत्र यन्त्र का गलत प्रयोग है जिसके अंतर्गत कुछ शक्तियों को पूज के अपना गलत स्वार्थ सिद्ध किया जाता है. करने …

Akshay Tritiya Ka Mahatw In Hindi

Akshay tritiya ka mahatw in hindi, क्या है अक्षय तृतीय, धार्मिक महत्तव , क्या करे अक्षय तृतीय को, क्या न करे इस पुण्यशाली दिन को, टोटके अक्षय तृतीय के लिए, 2019 मे अक्षय तृतीय क्यों ख़ास है.

अगर आप कोई महत्त्वपूर्ण कार्य का आरंभ करना चाहते हैं, अगर आप पुण्य प्राप्त करने के लिए कोई क्रिया करना चाहते हैं, अगर आप निर्विघ्नता से किसी कार्य को पूर्ण करना चाहते हैं, और अगर आपको मुहुर्त का ज्ञान नहीं है तो कोई बात नहीं है, अक्षय तृतीय का दिन वो शुभ दिन होता है जब कोई भी अच्छा कार्य हम शुरू कर सकते हैं, ये एक स्वयं सिद्ध मुहुर्त है.

क्या है अक्षय तृतीय? इस दिन को “आखा तीज” के रूप में भी जानते हैं. ये दिन भगवान् परशुराम के जन्मदिन के रूप में भी मनाया जाता है जो की विष्णुजी के छठे अवतार थे. ये वो दिन है जब भगवान् गणेश जी के महाभारत लिखना प्रारंभ किया था. ये दिन है भाग्य को जगाने का , ये दिन है सफलता के लिए क्रियाओं को करने का, ये दिन है देवी शक्तियों के आशीर्वाद लेने का. अक्षय तृतीय का धार्मिक महत्तव :ये दिन भवान विष्णु और माता लाक्स्मीजी की पूजा के लिए विशेष दिन है.ये दिन वैशाख महीने के अमावस्य…