Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2019

Pati Aur Patni Sambandh Aur Jyotish

पति पत्नी विवादों का ज्योतिष समाधान,  पति और पत्नी के अच्छे संबंधो के लिए क्या करे, ज्योतिष द्वारा जानिए संबंधो को अच्छा करने के तरीके.  पति पत्नी के झगड़े और ज्योतिष: विवाह एक ऐसा बंधन है जिसके द्वारा २ व्यक्ति आगे का जीवन साथ में बिताने के लिए वचनबद्ध होते हैं.  इसी कारण लोगो के दिमाग में विवाह को लेके अलग अलग सपने होते हैं. परन्तु कुछ ऐसे भी जोड़े हैं जो की किसी न किसी कारण से एक दुसरे से अलग हो जाते हैं. कई बार कोई एक साथी मज़बूरी में दबाव में अगर न चाहते हुए भी तलाक ले लेते हैं.

पति और पत्नी के बीच तनाव तब घटता है जब कोई एक साथी दुसरे की भावनाओं को नहीं समझता है, सम्मान नहीं देता है और भावनाओं को बताता नहीं है.

ज्योतिष के द्वारा भी हम पति पत्नी के संबंधो में खटास के कारणों को जान सकते हैं. अगर आप भी अपने जीवन में विवाह समस्या से ग्रस्त है तो अच्छे ज्योतिष से संपर्क करे और जानिए समाधान अपने वैवाहिक जीवन का.  आइये जानते हैं कुछ सामान्य कारण पति पत्नी के बीच समस्याओं का:पति-पत्नी के मानसिक स्थितियों में अंतर – ये एक सच है की २ लोगो के दिमाग एक जैसे नहीं होते इसी कारण विवाद का जन्म …

Kanya Vivaah Ke Liye Jyotish Samadhan

कन्या विवाह के लिए ज्योतिष समाधान, लडकियों के शादी में कौन सी बाधाएं आती है, किन कारणों से कन्या के विवाह में देरी हो सकती है, जानिए कन्या विवाह और ज्योतिष के बारे में.
कन्या का विवाह परिवार के लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण आयोजन होता है. लड़की की शादी हिन्दू परिवारों में पुण्य का कार्य माना जाता है. ये वो आयोजन है जब माता पिता अपने ह्रदय के टुकड़े को किसी और परिवार को सौंपते हैं. ये जीवन का सबसे महत्त्वपूर्ण अवसर होता है इसीलिए परिवार वाले अपने लाडली के शादी में सबसे अच्छा करने की कोशिश करते हैं.

हर माता पिता इस पुण्यशाली अवसर की प्रतीक्षा करता है. परन्तु कभी कभी कुंडली में ग्रहों की स्थिति ठीक नहीं होने के कारण लड़की की शादी में देरी होती है. सभी गुण होने के बावजूद भी कन्या के विवाह में देरी होती है, सही लड़का नहीं मिलता है. कभी कभी तो लड़की का विवाह परिवार में बहुत गंभीर विषय बन जाता है.
इस लेख के माध्यम से लोग जान पाएंगे की कौन से कारण विवाह में देरी करते हैं, क्या करे शीघ्र विवाह के लिए.
आइये जानते हैं कुंडली में कौन से योग कन्या के विवाह में देरी करा सकते हैं: भारतीय ज्योतिष में या वै…

Dusra Vivah Aur Jyotish

Dusra Vivah Aur Jyotish, दूसरा विवाह और ज्योतिष, दुसरे विवाह की जरुरत, कुंडली के हिसाब से दुसरे विवाह के योग, दुसरे विवाह के रूकावटो को कैसे हटाये ज्योतिष उपायों द्वारा.

दूसरा विवाह और ज्योतिष: दूसरा विवाह  इतना आसान नहीं होता जितना की सुनने में लगता है. दुसरे विवाह के समय जातक को बहुत से समझौते करने होते हैं. परन्तु मनुष्य जीवन की कुछ जरूरतों को पूरा करने के लिए दूसरा विवाह जरुरी होता है.
आइये जानते हैं कब जरुरी होता है दूसरा विवाह:
दूसरा विवाह का अगर कोई फैसला करता है तो वो कतई गलत नहीं है, इससे जीवन को फिर से सुगम बनाया जा सकता है बस शर्त है की जातक कुछ बातो का ख्याल रखे.
कुछ बाते जो की जातक को दुसरे विवाह के लिए मजबूर करते हैं:लम्बे जीवन को जीने के लिए किसी साथी की जरुरत – जीवन में साथी होना बहुत ख़ास होता है, इससे जीवन जीने में आसानी हो जाती है. एकांगी जीवन बहुत मुश्किल होता है इसीलिए सभी को एक अच्छे जीवन साथी की तलाश होती है जिसके साथ वो बैठ के बात कर सके, अपने विचार बाँट सके, सुख दुःख बाँट सके.बेमल शादी – ऐसे अक्सर देखा गया है की विवाह के तुरंत बाद ही पति पत्नी अलग हो जाते हैं…

Santan Prapti Saadhna

संतान प्राप्ति साधना, जानिए किस साधना से संतान प्राप्त की जा सकती है, कौन सी पूजा बच्चा पाने के लिए करे, कुंडली में संतान भाव के दोषों को कैसे दूर करे. जो साधना संतान प्राप्ति के लिए किया जाता है उसे संतान प्राप्ति साधना कहा जाता है. स्वस्थ संतान की चाहत हर दंपत्ति की होती है, माता पिता बनना हर दंपत्ति की ख्वाहिश होती है. अगर सही समय पर संतान हो जाए तो ये बहुत ही भाग्य की बात है परन्तु बहुत से लोग ऐसे है जिनको संतान सुख नहीं मिलता है पूर्ण रूप से स्वस्थ होने पर, सारी क़ाबलियत होने पर भी.

ऐसे लोगो के कुंडली को देखने पर बहुत से कारण सामने आये हैं जैसे कुंडली में संतान भाव का दूषित होना, इसके कारण जातक को संतान होने में बहुत समय लग जाता है या फिर संतान स्वस्थ नहीं हो पाती है. कुछ दंपत्ति तो काले जादू के कारण भी संतान बाधा से ग्रस्त रहते हैं. कुछ महिलाओं में गर्भपात होता रहता है कमजोर ग्रहों के कारण.
अगर चिकित्सा करने पर भी दंपत्ति को कोई फायदा नहीं होता है तो ऐसे में अनुभवी ज्योतिष से परामर्श लेना चाहिए.
संपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >>
आइये अब जानते हैं संतान प्राप्ति साधन…

Talaak Ke Karan Aur Jyotish Samadhan

तलाक के मुख्य कारण जो की उत्प्रेरक का कार्य करते हैं. जानिए उन कारणों को जो संबंधो को तलाक तक पहुंचा देते हैं, ज्योतिषीय कारण जानिए तलाक के, जानिए ज्योतिष समाधान तलाक के.
आज के दौर में तलाक के बढ़ते मामले सही मायने में एक गंभीर विषय है पुरे संसार के लिए. अब ये समय आ गया है की इस विषय पर गंभीरता से विचार किया जाए और कारणों को जाना जाए. तलाक से अपने आपको बचाने के लिए भी समाधान खोजना चाहिए.  तलाक को लेके कुछ महत्त्वपूर्ण सवाल आते हैं जैसे :आज के कुछ युवा लोग क्यों विवाह के संबंधो को निभा नहीं पा रहे हैं?क्यों आज कोई एक साथी संघर्ष के समय दुसरे का साथ नहीं दे पाता है?क्यों अहंकार इतना महत्त्वपूर्ण हो गया है की बात तलाक तक पहुँच जाती है. क्यों लम्बे समय तक रहने के बाद दंपत्ति तलाक लेने लगे हैं.क्या ज्योतिष तलाक को रोकने में सहायक हो सकता है?क्यों आज कुछ समय के बाद प्रेम संबंधो में दरार आ जाता है?क्यों हम अपने वैवाहिक जीवन को रोज नवीनता से नहीं देख पाते हैं?क्यों ले तलाक?क्यों लोग तलाक के बाद के परिणामो पर विचार नहीं कर पाते हैं? अगर हम ऊपर लिखे प्रश्नों पर गहराई से विचार करे तो निश्चित ही ह…

Kaise kare Vaivahik jivan ko Majboot Jyotish Dwara

कैसे करे वैवाहिक जीवन को मजबूत ज्योतिष द्वारा, free वास्तु सलाह सुखी वैवाहिक जीवन के लिए, जानिए किस प्रकार ग्रह प्रभावित करते हैं सेक्स जीवन को, Hindi jyotish website.
क्या आप एक तनावपूर्ण जीवन जी रहे हैं, क्या शारीरिक कमजोरी के कारण आपको बहुत कुछ सहन करना पड़ता है, क्या आपका व्यक्तिगत जीवन बहुत संतोषपूर्ण नहीं है, क्या आपके जीवन साथी के साथ सम्बन्ध ठीक नहीं रहते हैं तो निश्चित ही आपके कुंडली में ग्रह कहीं न कहीं समस्या उत्पन्न कर रहे हैं जिसको जानकार आप अपने वैवाहिक जीवन को मजबूत बना सकते हैं.
ज्योतिष द्वारा हम पति-पत्नी के जीवन में उत्पन्न होने वाले परेशानियों के कारण को जान सकते हैं और उसका समाधान भी प्राप्त कर सकते हैं. ग्रहों को हमारे जीवन पर पूरा पूरा प्रभाव पड़ता है, हर व्यक्ति जन्म से लेके मृत्युपर्यंत ग्रहों के हिसाब से ही सुख और दुःख भोगता है. जब जीवन में किसी समस्या का कोई कारण नहीं समझ आता है तो उस समय एक अच्छा ज्योतिष हमारी मदद कर सकता है.
असंतुष्ट सहवास के कारण व्यक्ति कई प्रकार के समस्याओं से ग्रस्त हो जाता है, उसके जीवन से ख़ुशी का अभाव हो जाता है, जीना व्यर्थ लगने लगता ह…

Chipkali Se Jude Shakun Apshakun

Chipkali Se Jude Shakun Apshakun, छिपकली से जुड़े शकुन – अपशकुन, क्या होता है जब छिपकली शारीर के किसी भाग पर गिरे, क्या होता है जब शारीर का कोई भाग कापने/फड़कने लगता है.

ज्योतिष के अन्दर छिपकली के शारीर के किसी भाग पर गिरने को देखके भी भविष्यवाणी की जाती है . इस विषय का जिक्र भी शकुन – अपशकुन के अंतर्गत किया जाता है. परन्तु इस विषय पर लोगो के मत भिन्न भिन्न देखे गए हैं. यहाँ पर जानकारी के लिए कुछ छिपकली से जुड़े शकुन-अपशकुन बताया जा रहा है. 
आप चाहे तो अपने अनुभव भी छिपकली से जुड़े बाँट सकते हैं कमेंट के जरिये.

कुछ कहते हैं की छिपकली का गिरना अशुभ होता है तो कुछ कहते हैं शुभ होता है. परन्तु इसका शुभ – अशुभ इस बात पर निर्भर करता है की छिपकली शारीर के किस भाग पर गिरी है. अगर छिपकली सर पर गिरे तो ये शुभ माना जाता है. व्यक्ति को शीघ्र ही कुछ अच्छा मिलने वाला है, कुछ लाभ होने वाला है, जीवन में ख़ुशी मिलने वाली है. अगर छिपकली तीसरी आँख की जगह गिरे तो इसका अर्थ है की किसी उच्च अधिकारीयों से लाभ होने वाला है. अगर छिपकली नाक को छू  ले तो कोई परेशानी आने वाली है . अगर छिपकली दाए कान पर गिरे तो ये उम्…

Jyotish Main Shakun Ka Mahattwa

Jyotish Main Shakun Ka Mahattwa, ज्योतिष और शकुन, शकुन और अपशकुन क्या है, शकुन और अपशकुन का महत्तव.

पुरे विश्व में लोग शकुन – अपशकुन को मानते हैं. इनका अर्थ होता है कुछ ऐसी घटनाएं जिसको देखके अपने साथ होने वाली घटनाओं का अंदाजा लागाया जाता है. अंग्रेजी इन्हें omens कहा जाता है . हमने अक्सर सुना है की किसी ने अचानक से किसी घटना के बाद अपनी यात्रा को रोक दिया, कुछ लोग बिल्ली के रस्ते काटने के बाद उस रास्ते से नहीं जाते, कुछ लोग कुत्ते के रोने को अशुभ समझते हैं आदि. ये सब शकुन- अपशकुन के अंतर्गत आते हैं. 
शकुन में हम निम्न को सम्मिलित करते हैं :जानवरों की आवाजे शारीर के विभिन्न हिस्सों में कम्पन्न होना किसी चीज का शारीर के किसी भाग पर गिरनाकुछ विशेष प्रकार के स्वप्नकुछ विशेष दृश्य जो की यात्रा शुरू करने के दौरान दिखाई देते हैं आदि. जब कोई घटना बिना किसी तैयारी के घटित और अपेक्षा के घटित हो जाती है तो उनका स्तेमाल किया जाता है की शकुन है या अपशकुन. शकुन – अपशकुन से सम्बंधित जानकारी जिसमे दी गई है उसे “शकुन शास्त्र " कहा जाता है . ज्योतिष में शकुन का स्तेमाल भी बहुत किया जाता है शुभता…

Vivah Ke Baad Anaitik Sambandh Aur Jyotish

विवाह के बाद अनैतिक सम्बन्ध क्यों बनते हैं, जानिए क्या ज्योतिषीय कारण हो सकते हैं अनैतिक संबंधो के, Extra marital affair ke jyotishiy karan.

आज के इस युग में असंतोष होने के कारण या फिर ज्यादा चाह की इच्छा के कारण अनैतिक सम्बन्ध बहुत बन रहे है जिनके कारण तलक के मुद्दे भी बढ़ते जा रहे हैं.

शादी के बाद यदि कोई दूसरा सम्बन्ध बना रहा है तो इसका मतलब है की उसके किसी इच्छा की पूर्ति नहीं हो रही है और उस इच्छा को पूरा करने के लिए वो दुसरे की तलाश करता है और सम्बन्ध बनाता है या बनाती है.
आज अवैध संबंधो के कारण बहुत से क्राइम भी हो रहा है.
आज अनैतिक संबंधो के कारण बहुत से तलाक भी हो रहे है.
आज इसके कारण कई परिवार रोज अलग हो रहे है.
आइये जानते हैं कुछ आम कारण अनैतिक संबंधो के लिए:विवाह के बाद सम्बन्ध का एक कारण विवाह से पहले का प्रेम भी हो सकता है जिसे लड़का या लड़की भुला नहीं पा रहे हो.कुछ लोग विवाह के बाद भी किसी और से प्रेम कर बैठते हैं और सम्बन्ध बन जाते हैं.कुछ लोग अपने रोजाना की जिन्दगी से ऊब जाते हैं और इससे बाहर आने के लिए दूसरा सम्बन्ध बनाते हैं.कुछ दंपत्ति शादी के बाद भी एक दुसरे से भाव…

Vrishabh Raashi ka Rahasya | Taurus Astrology

वृषभ राशि वालो की प्रकृति, ज्योतिषी सलाह, वृषभ वालो के लिए रत्न, Taurus astrology free, Taurus astrology in Hindi. क्या आप वृषभ राशि के हैं और जानना चाहते हैं अपने बारे में तो जानिए वृषभ राशि के रहस्य को.वृषभ राशि पर शुक्र ग्रह का आधिपत्य होता है.प्रथ्वी इसका तत्व है.इस राशि से व्यक्ति के निर्णय लेने की क्षमता, महसूस करने की क्षमता , विश्वास, आदि को पढ़ा जाता है.इस राशि का रत्न हीरा है.शुक्रवार वृषभ राशि वालो का दिन है.इनकी मित्र राशि हैं – कन्या, कर्क, मकर, मीन और मेष.वृषभ से बेमेल राशियाँ है – सिंह, तुला, वृश्चिक, धनु, कुम्भ. कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य:वृषभ राशि के लोग बहुत ही व्यवहारिक होते हैं, ये सपनो की दुनिया में नहीं जीते हैं, इनका हर कदम बहुत ही सावधानीपूर्ण होता है, जिनसे ये प्रेम करते हैं उनके लिए ये बहुत सोचते हैं, जो ये सोचते हैं वैसा ये कर देते हैं.वृषभ राशि के लोग थोड़े जिद्दी भी होते है जिसके कारण इनको कभी कभार परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है.व्यवहारिक ज्ञान होने के कारण इनको सामाजिक जीवन में ज्यादा समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है. ये सिक्के के दोनों पहलुओं को देखने म…

Mesh Raashi Ka Rahasya | Aries Astrology Free

Aries astrology in Hindi, मेष राशि, मेष राशि वालो की प्रकृति, मुफ्त सलाह, Aries nature, Free astrology  suggestions.

क्या आप मेष राशि के जातक है, क्या आप अपने बारे में जानना चाहते हैं, तो पढिये यहाँ. मेष राशि का स्वामी ग्रह है मंगल.मेष राशि का सम्बन्ध अग्नी तत्व से है.इस राशि वालो के लिए दिन है मंगलवार.इस राशि से निम्न चीजों को देखा जाता है – नेतृत्त्व क्षमता , शारीरिक शक्ति, लक्ष्य , गुस्सा आदि.मेष राशि का रत्न है लाल मूंगा.इसकी मित्र राशियाँ है- सिंह, धनु, मिथुन और वृषभ.जो राशियाँ मेष से मेल नहीं खाती हैं वो हैं कर्क, कन्या, तुला, मकर. कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य :ये राशि चक्र की पहली राशि है और अग्नि तत्त्व की प्रधानता के कारण चमकीली भी है. मेष राशि वाले लोग निर्भीक, नेतृत्त्व क्षमता वाले, उर्जावान और साहसी होते हैं.इनको आलस्यता पसंद नहीं और ये लगातार अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कार्य करते रहते हैं. कई बार अधिक ऊर्जा इनके लिए समस्या भी बन जाती है.इस प्रकार के लोगो के लिए डिफेन्स सेवा, खेल, प्रशासनिक सेवा आदि का क्षेत्र अच्छा रहता है.मेष राशि वालो के लिए सलाह:दूसरों की भावनाओ का सम्मान …

Buddha Poornima Ka Mahattw In Hindi

बुद्ध पूर्णिमा का महत्त्व, वैशाख महीने की पूर्णिमा क्यों महत्त्वपूर्ण है, क्या करे सफलता के लिए वैशाख पूनम को.
वैशाख महीने की पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा के नाम से पुरे विश्व मे जाना जाता है. ऐसा माना जाता है की महात्मा बुद्ध का जन्म इस पवित्र दिन हुआ था इसी कारन बुद्ध जयंती मनाई जाती है इस दिन. 
बुद्ध पूर्णिमा को भक्तगण उपवास रखते है, अध्यात्मिक साधना करते हैं, कर्मकांड करते हैं, कुछ लोग विष्णु भगवान् की पूजा करते हैं, दान-धर्म करते है अपनी क्षमता अनुसार. 
जब चन्द्रमा अपनी पूर्णम आभा बिखेर रहा होता है तब भक्तगण अध्यात्मिक साधना करते हैं जीवन को सफल बनाने के लिए. गौतम बुद्ध ने ऐसा मार्ग दिखाया है जिससे की सभी आसानी से जीवन के परम लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं. 
उनके नियम किसी जाती से सम्बन्ध नहीं रखते हैं, किसी धर्म से सम्बन्ध नहीं रखते हैं. उन्होंने मुक्ति मार्ग दिखाया सभी को. बुद्ध पूर्णिमा को लोग इसी अवतार को याद करते हैं. बुद्ध को मानने वाले इस दिन शोभा यात्रा भी निकलते है, विशेष ध्यान सत्रों का आयोजन होता है विभिन्न जगहों पर. बुद्ध के मंदिरों मे विशेष साज सज्जा होती है.  भारत मे ब…

Love Harmones Ka Rahasya In Hindi

लव हारमोंस का रहस्य, क्या होता है लव हारमोंस, जानिए लव हार्मोन्स के फायदे, कैसे स्वस्थ्य को प्रभावित करता है ये हार्मोन. ये काफी दिलचस्प विषय है क्यूंकि हम बहुत सी बातो के गहराई को नहीं जानते हैं परन्तु उसके पीछे विज्ञान होता है. एक ऐसा विशेष हार्मोन है जो की बच्चे के जन्म के समय पैदा होता है, जब बछा दूध पीता है तब पैदा होता है, जब कुशी होती है , जब शांति होती है मन मे तब पैदा होता है. ये हार्मोन प्रेम और प्रेमियों से भी जुड़ा है. जी हाँ ! जब हम किसी से प्रेम करते हैं और उसके साथ ख़ुशी महसूस करते हैं तब भी ये हार्मोन जन्म लेता है. इस विशेष हार्मोन का नाम है “ऑक्सीटोसिन” जो की जिम्मेदार है स्वस्थ दिमाग और शारीर के लिये. इसका सम्बन्ध भावनाओं से है, निकटता से है आदि.
शोध ये भी बताते हैं की इस हार्मोन का जन्म पारस्परिक शारीरिक सम्बन्ध बनाने के समय भी होता है. परन्तु सिर्फ ऐसा ही नहीं है. महिलाए जब बच्चे को जन्म देती है, जब बच्चे को दूध पिलाती है तब भी ये हार्मोन पैदा होता है.
शोध ये भी बताता है की ऑक्सीटोसिन हार्मोन शारीर के अन्दर मेटाबोलिक क्रिया कलापों के लिए भी बहुत सहायक है. भूख और कैलो…

Hum Kaise Durbhagya Ko Akarshit Karte Hain

Hum Kaise Durbhagya Ko Akarshit Karte Hain, कैसे कार्य दुर्भाग्य को जन्म देते हैं, कैसे हम अपने जीवन में रुकावटों को जन्म देते हैं.

साधारणतः हम लोग अपने जीवन में मौजूद रुकावटों को लेके रोते रहते हैं, हम हमेशा शिकायत करते रहते हैं की जीवन संघर्षो से भरा है, आज ये परेशानी है , कल ये होगा, कैसे जिएंगे आदि. परन्तु ऐसी बहुत सी समस्याएं हैं जो की हम अपने की आदतों के कारण पैदा कर लेते हैं.
इस लेख में आपको कुछ ऐसे ही आदतों की जानकारी देंगे जिसके कारण हम अनजाने में दुर्भाग्य को जन्म देते हैं. कुछ आदतें नकारात्मक उर्जाओं के लिए निमंत्रण का काम करती हैं और दुर्भाग्य, मुश्किलों को जन्म देती हैं. अतः जानकारी से बचाओ संभव है.
अगर आप एक सफल जीवन जीना चाहते हैं, अगर आपका सपना है एक सफल व्यक्ति बनने का, अगर आप एक सरल और सच्चा जीवन जीना चाहते हैं तो ये लेख आपकी जरुर मदद करेगा. संपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >>
आइये देखते हैं कैसे कुछ आदतें दुर्भाग्य को जन्म देते हैं?जो व्यक्ति प्रातः जल्दी नहीं उठते हैं वो लोग ताज़ी हवा और उर्जा युक्त वातावरण से वंचित रह जाते हैं जो की अपने आप में ही ए…

Naurkri Ya Vyapaar Kya kare Jyotish Ke Hisab Se

Naurkri Ya Vyapaar Kya kare Jyotish Ke Hisab Se, कुंडली के हिसाब से क्या बेहतर होगा व्यापार या नौकरी, काम काज चुनने में ज्योतिष की भूमिका.
अगर आपको परेशानी आ रही है ये चुनने में की क्या करे व्यापार या जॉब तो ऐसे में ज्योतिष की मदद आप ले सकते हैं. वैदिक ज्योतिष की माध्यम से हम कुंडली में ग्रहों की स्थिति को देखके सही मार्ग चुन सकते हैं काम काज के लिए. इस लेख में हम जानेंगे की कैसे ज्योतिष मदद करता है कैरियर चुनने में.
जीवन में ऐसा बहुत बार होता है की हम दुविधा में फंस जाते हैं की क्या चुनना चाहिये. कभी ऐसा होता है की नौकरी में व्यक्ति को समस्या आने लगती है तो जातक सोचता है की चलो अब कोई व्यापार किया जाए, फिर ऐसा विचार आता है की चलो दूसरी जॉब ढूँढ़ते हैं. इस प्रकार के असमंजस में काफी दिन निकल जाते हैं.  जो लोग हाल ही पढ़ाई पूरी करके निकलते हैं उन लोगो को भी बहुत समस्या आती है सही कैरियर चुनने में.  कुछ लोग तो नौकरी के साथ पार्ट टाइम में व्यापार भी करना चाहते हैं.  ज्योतिष के द्वारा हमे ये पता चल सकता है की हमे क्या करना चाहिए व्यापार या नौकरी. क्या आप नौकरी छोढ़कर व्यापार के बारे में सोच र…

Vyaparik Samasyaao Ka Jyotish Samadhan

व्यवसाय को प्रभावित करने वाले कारक, व्यापार विफलता के कारण, ज्योतिष से कैसे करे समस्याओं का समाधान. व्यापार की सफलता अनेको कारणों पर निर्भर करती है, इसके सिर्फ एक ही कारण नहीं होता है. जब सारी मेहनत के बावजूद सफलता हाथ ना लगे तो प्रश्न उपजता है की – क्यों व्यवसाय बढ़ नहीं रहा हैं?क्यों हमारी सारी मेहनत विफल हो रही हैं?क्यों कर्जा बढ़ता जा रहा है? आदि. क्या आपने ये महसूस किया है की –आपका व्यापार लगातार निचे की और जा रहा हैं?व्यवसाय स्थल पर पहुंचने पर चिंता शुरू हो जाती है।व्यपारिक जगह पर कर्मचारियों में बहुत मन-मुटाव रहता है.कर्मचारी ईमानदारी से काम नहीं करते और टिकते भी नहीं हैं.ग्राहक संतुष्ट नहीं होते हैं और ऐसे ही अन्य कारण भी परेशान करते हैं. आइये अब जानते हैं की व्यापारिक विफलता के कुछ ज्योतिषीय कारण :ऐसा हो सकता हो की आपके व्यापार को या फिर व्यवसाय चलाने वाले को बहुत बुरी नजर लगी हो.ये भी हो सकता है की आप कोई गलत पूजा कर रहे हो या की हो जिसके परिणाम स्वरुप आपके साथ बुरा हो रहा हो.कुंडली मे मौजूद पितृ दोष भी आपको परेशान कर सकता है.ये भी हो सकता है की आपके व्यापारिक स्थान में वास्तु …

Vakri Grah Ka Jivan Par Pravah

कुंडली में वक्री ग्रह का प्रभाव, क्या होता है वक्री का मतलब ज्योतिष मे, अशुभ वक्री ग्रह के प्रभाव जानिए. 
ज्योतिष में जब कुंडली बनती है तो हमे कुछ ग्रह वक्री भी मिल सकते हैं. ज्योतिष प्रेमी लोगो को वक्री ग्रह के प्रभाव को जानने का भी बहुत मन होता है. परन्तु इस विषय पर विभिन्न मत मौजूद है जिसके कारण अलग अलग ज्योतिष अलग अलग भविष्यवाणी करते हैं और उस आधार पर उपाय भी अलग अलग देते हैं.

वक्री ग्रह क्या होता है? हर ग्रह सामान्य तौर पर आगे की और चलते हैं अर्थात पहले मेष राशी में रहेगा फिर वृषभ पर फिर मिथुन पर आदि. परन्तु जब कोई ग्रह आगे जगह पीछे की तरफ चलने लग जाए तो इस चाल को वक्री गति कहा जाता है ज्योतिष में. जैसे की मिथुन के बाद कर्क राशि में जाना चाहिए परन्तु कोई अगर मिथुन के बाद वृषभ में जाए तो इसका मतलब है की वो ग्रह वक्री हो गया है.  इसी लिए कई बार हम ज्योतिष में सुनते हैं की इस समय शनि वक्री है, इस समय बुध वक्री है आदि. कौन से ग्रह सदा वक्री रहते हैं? राहू और केतु सदा ही कुंडली में वक्री रहते हैं. कौन से ग्रह कुंडली में कभी भी वक्री नहीं हो सकते हैं? सूर्य और चन्द्रमा कभी भी किसी के क…

Mahalaxmi Ko Prasann Karne Ka Chamatkaari Mantra

Mahalaxmi Ko Prasann Karne Ka Chamatkaari Mantra, माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए चमत्कारी मंत्र, जानिए कैसे जपे लक्ष्मी मंत्र को. माता लक्ष्मीजी धन की देवी है, संपत्ति की दाता हैं, सम्पन्नता प्रदान करती है अपने भक्तो को. इसी कारण हर व्यक्ति इनको खुश करने के लिए विशेष प्रयास करता रहता है. ज्योतिष भी लक्ष्मीजी को प्रसन्न करने के लिए अनेक तरीको का वर्णन करते हैं जिनका जिक्र तंत्र शाश्त्रो में दिया गया है.

लाक्स्मीजी से सम्बंधित बहुत से मंत्र उपलब्ध है परन्तु आज मै आपको एक विशेष मंत्र के बारे में बता रहा हूँ जिसके परिणाम बहुत अच्छे और जल्दी मिलता हैं.
किन स्थितियों में जपना चाहिए इस लक्ष्मी मंत्र को?अगर व्यापार में लगातार हानि हो रही है तो इस मंत्र का जप फायदा दे सकता है. अगर किसी को नौकरी नहीं मिल रही है तो इस लक्ष्मी मंत्र का जप सफलता के रास्ते खोल सकता है. अगर कोई व्यक्ति धन हीन है और अवसाद ग्रस्त हो रहा हो तो इस मंत्र से उसे बहुत लाभ हो सकता है. कब शुरू करे इस लक्ष्मी मंत्र का जप?नवरात्री के ९ दिन इस मंत्र का जप बहुत लाभ देता है. ग्रहण काल में भी इसका जप सिद्धि देता है. शु…

Kawach Kya Hote Hai Kab Kare Kawach Ka Paath

कवच क्या होते हैं, कब करना चाहिए कवच का पाठ, क्या फायदे है कवच के.
कवच के बारे में साधारणतः सभी ने सुना होगा, कुछ लोग कवच का पाठ रोज करते हैं, कुछ को ज्योतिष भी बोलते हैं पाठ करने को. जैसा की नाम से पता लगता है की ये हमारी सुरक्षा के लिए बनाया गया है. कवच का पाठ पढने वाले की बुरी शक्तियों से रक्षा करता है.
कवच के प्रकार :कवच बहुत से देवी देवताओं के उपलब्ध है और जरुरत के हिसाब से कवच का पाठ लाभ देता है.दुर्गा कवच का पाठ माँ दुर्गा की कृपा प्राप्त करने का श्रेष्ठ तरीका है.शिव अमोघ कवच से भगवान् शिव की कृपा प्राप्त की जा सकती है. भैरव कवच से भैरवजी की कृपा से मुसीबतों से मुक्ति पाई जा सकती है. श्री नारायण कवच द्वारा भगवान् विष्णु की कृपा को पाया जा सकता है. नरसिंह कवच से शत्रुओ द्वारा किये कराये को ख़त्म किया जा सकता है. काली कवच भी भक्तो की रक्षा करता है. विभिन्न देवी देवताओं के अलग अलग कवच मौजूद है. संपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >>
आइये जानते हैं कवच के पाठ से क्या फायदे हैं?कवच का पाठ रोज करने से बुरी शक्तियों से रक्षा होती है. कवच के पाठ से ग्रह दोषों से भी बचा जा सक…