Skip to main content

Posts

Featured Post

Best Jyotish Services in Hindi

Trusted Astrology Services Vastu Services, Spiritual Healing Services

ज्योतिष संसार के माध्यम से आप पा सकते हैं अपने कुंडली का विश्लेषण, अपने कुंडली में मौजूद ख़राब ग्रहों के बारे में, अपने ताकतवर ग्रहों के बारे में, भाग्यशाली रत्नों के बारे में, ग्रहों के अनुसार सही कैरियर, सरकारी नौकरी, प्रेम विवाह, संतान योग, काले जादू का निवारण, ज्योतिषीय समाधान आदि के बारे में.

पाइये कुंडली विश्लेषण
कुंडली का सटीक विश्लेषण प्राप्त करने के लिए अपना जन्म तारीख, जन्म समय और जन्म स्थान सही –सही भेजे साथ ही अपने प्रश्न भेजे.
जानिए अपने कुंडली में मौजूद शक्तिशाली ग्रहो के बारे में.जानिए कौन से ग्रह जीवन में समस्या उत्पन्न कर रहे हैं.किन ज्योतिष कारणों से जीवन में असफलता प्राप्त हो रही है?जानिए कौन से रत्न भाग्योदय में सहायक होंगे?कौन सी पूजा आपके लिए सही है.आपके प्रश्नों का उत्तर, कुंडली अनुसार.Get The Indepth Analysis of your horoscopeसंपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >> पाइये कुंडली मिलान विवाह हेतु
कुंडली मिलान के लिए लड़के और लड़की, दोनों की जन्म तारीख, जन्म समय और जन्म स्थान भेजे साथ ही अपने …
Recent posts

Mangal Dosh Karan Aur Nivaran

जानिए क्या है मंगल दोष कुंडली मे , कैसे दूर करे मांगलिक दोष को, क्या समस्याए आ सकती है मंगल दोष के कारण जातक को.
आज के दौर मे देखा जा रहा है की मांगलिक दोष के कारण बहुत लोग परेशान है परन्तु यहाँ ये भी बताना चाहेंगे की हर मांगलिक कुंडली खराब नहीं होती, कई बार ऐसा भी होता है की समस्या किसी और ग्रह के कारण होती है और व्यक्ति सिर्फ मंगल के उपायों को करता रहता है अतः अच्छे ज्योतिष से परामर्श लेना जरुरी होता है.

मंगल दोष को कुज दोष या भौम दोष के नाम से भी जाना जाता है.  अगर कुंडली मांगलिक हो और मंगल अशुभ हो तो जातक को जीवन में बहुत अधिक परेशानी होती है.

आइये अब जानते हैं की कुंडली मे मंगल कब माना जाता है ? कुंडली मई १२ भाव होते हैं परन्तु इनमे से प्रथम भाव, चौथा भाव, सातवा भाव, आठवां भाव, और बारहवे का मंगल की मांगलिक दोष को जन्म देता है. ऐसी कुंडली मांगलिक कुंडली कहलाती है. मांगलिक दोष का प्रयोग साधारणतः विवाह मे ही महत्त्व रखता है, जब कुंडली मिलान होता है तो ऐसी मान्यता है की मांगलिक वर को मांगलिक वधु ही चाहिए, अगर गुण मिलान हो रहे हो और कोई एक मांगलिक हो तो भी विवाह उपयुक्त नहीं माना जाता …

Kundli Milan Ka Satya Vivah Se Pehle

Kundli Milan Ka Satya Vivah Se Pehle, अष्टकूट मिलान का सत्य विवाह से पहले, क्या कुंडली न मिलने पर भी विवाह संभव है, क्या अपने प्रेमी से विवाह संभव है कुंडली न मिलने पर भी.
विवाह जीवन का एक महत्वपूर्ण निर्णय होता है, विवाह का निर्णय हमे अपने साथी के साथ जीवन भर रहने के मौका देता है और इसी सन्दर्भ में कुंडली मिलान होता है, वैदिक ज्योतिष के हिसाब से अष्टकूट मिलान का अंक अगर संतोषजनक नहीं है तो विवाह उपयुक्त नहीं जाता है. 
परन्तु एक कड़वा सच ये है की अधूरे ज्ञान के कारण भी हम अपने प्रिये से अलगाव सहन करते रहते हैं, ऐसे कई रिश्ते हैं जो की कुंडली मिलान में संतोषजनक अंक न मिलने के कारण टूट गए. कई प्रेमी जोड़ो को रिश्तो को तोड़ना पड़ा क्यूंकि विवाह के समय कुंडली नहीं मिले. ये एक दुर्भाग्य की बात है की आज के दौर में हम सिर्फ सॉफ्टवेयर में मिलान करके जीवन का एक महत्वपूर्ण निर्णय ले लेते हैं. 
Watch video here:

धयान रखने योग्य बात ये है की –ज्योतिष के ऐसे बहुत से रहस्य है जो साधारणतः मालूम नहीं होते , सिर्फ अनुभवी ज्योतिष ही इस सम्बन्ध में आपको मार्गदर्शन दे सकते हैं.कुंडली मिलान में संतोषजनक अंक न …

Saptahik rashifal 25 to 31 october 2020

साप्ताहिक भविष्यवाणियाँ 25 अक्टूबर 2020, रविवार से 31 अक्टूबर 2020, शनिवार तक , 12 राशियों के राशिफल, करियर, प्रेम जीवन / रिश्ते, गोचर कुंडली में सितारों के परिवर्तन के अनुसार जानिए कैसा रहेगा आने वाला सप्ताह ।ज्योतिषी ओम प्रकाश (jyotishsansar.com) की साप्ताहिक भविष्यवाणियों में आपका स्वागत है। यहाँ ब्लॉग पाठक और ज्योतिष प्रेमीयों को वैदिक ज्योतिष के अनुसार 12 राशियों के जीवन में होने वाले परिवर्तनों के बारे में जानकारी देगा । जानिए आने वाले सप्ताह की राशीफ़ल |
आइए जानते हैं कि यह सप्ताह 25अक्टूबर रविवार से 31 अक्टूबर 2020 शनिवार तक ::मेष राशिफल / भविष्यवाणियाँ (25अक्टूबर रविवार से 31 अक्टूबर 2020 शनिवार):मेष राशि के जातक इस हफ्ते अचानक से किसी नए काम के बारे में सोच सकते हैं आय को बढाने के लिए और बहुत अच्छी प्लानिंग कर सकते हैं अपने भविष्य को सुरक्षित करने के लिए | अपने साथी के साथ छोटी मोती यात्राएं भी कर सकते हैं | विद्यार्थियों के लिए मन को एकाग्र करना मुश्किल होगा | अपने प्रेमी से मनमुटाव हो सकता है, स्थाई कार्य के बारे में आप सोच सकते हैं | भूमि में इन्वेस्ट करने के बारे में भी आ…

Durga Ashtmi Ka Mahattw

दुर्गा अष्टमी का महत्त्व, पढ़िए महा-अष्टमी से सम्बंधित प्रथाएं, क्या करे बेहतर जीवन के लिए. 

नवरात्री का आठवां दिन बहुत महत्त्व रखता है भक्तो के लिए. ये दिन महा-अष्टमी या फिर दुर्गा अष्टमी के नाम से जाना जाता है. इस दिन लोग विशेष प्रकार की पूजा पाठ करते हैं कुलदेवी, माँ काली, दुर्गा जी को प्रसन्न करने के लिए.

अगर कोई नवरात्री के ७ दिनों में पूजा पाठ नहीं कर पाते हैं तो सिर्फ अष्टमी की पूजा से भी लाभ ले सकते हैं.  महाष्टमी से सम्बंधित कई पौराणिक कथाएं सुनने को मिलती है – कुछ के अनुसार इस दिन माँ काली का अवतरण हुआ था. कुछ भरोसा करते है की इस दिन माता जी ने महिसासुर राक्षस का वध किया था.  ज्योतिष के अनुसार तो हर माह की अष्टमी तिथि बहुत महत्त्व रखती है क्यूंकि ये तिथि का सम्बन्ध महा-शक्ति से है,  ये दिन कुलदेवी पूजा , दुर्गा पूजा के लिए श्रेष्ठ होता है. इसी कारण नवरात्री की अष्टमी विशेष महत्त्व रखती है. ये समय वैसे भी साधना के लिए बहुत शुभ होता है. 
साधारणतः लोग हर माह आने वाले अष्टमी के प्रति सजग नहीं रहते हैं इसी लिए नवदुर्गाओ के समय की अष्टमी को पूजा पाठ करके माता के आशीर्वाद लेते हैं.  आ…

Shami Vriksh Aur Jyotish

शमी के पेड़ का महत्त्व, शनि और शमी में सम्बन्ध, जानिए क्यों पूजते हैं शमी के पेड़ को.
दशको से शमी पेड़ की पूजा विद्वानों, ब्राह्मणों, तांत्रिको, ज्योतिशो द्वारा किया जाता रहा हैं. अब प्रश्न ये है की क्यों शमी वृक्ष की पूजा की जाती है , क्या महत्त्व है इसका. इस लेख में हम शमी के पेड़ के बारे में ही जानेंगे. शमी को अलग अलग नामो से जाना जाता है कुछ लोग इसे सांगरी में कहते हैं और कुछ इसे खेजरी भी कहते हैं. अंग्रेजी में इसे "प्रोसोपिस सिनेरेरिया " कहते हैं.

ज्योतिष के हिसाब से शमी का सम्बन्ध शनि ग्रह से है अतः शनि ग्रह की कृपा प्राप्त करने के लिए शमी की पूजा की जाती है, शनि साढ़े साती से बचने के लिए भी शमी की पूजा की प्रथा है.

दूसरी तरफ शमी भूमि के लिए भी बहुत अच्छा माना जाता है. इसको लगाने से भूमि की उपजाऊ क्षमता बढती है क्यूंकि इससे भूमि को नाइट्रोजन मिलता है प्राकृत तौर पर और ये बहुत कम पानी में भी फलता फूलता है. शमी का प्रयोग दवाइयों को बनाने में भी किया जाता है जैसे मानसिक रोग और शक्ति की औषधियों में.
मान्यता के अनुसार महाभारत काल में पांडवो ने शमी वृक्ष के निचे अपने शश्त्रो को र…

Dusshera ke Liye Totke

दशहेरे को कौन से टोटके लायेंगे सफलता, क्या करे दशेरे को बाधाओं को दूर करने के लिए, धन प्राप्ति के टोटके दशेरे के लिए.
सम्पूर्ण भारत वर्ष में दशहेरा बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. ये उत्सव हमे श्री की रावण के खिलाफ  युद्ध में विजय की याद दिलाता है. ज्योतिष के हिसाब से भी दशहेरा  बहुत महत्त्व रखता है क्यूंकि इस दिन जीवन को सफल बनाने के लिए बहुत से पूजाएँ की जाती है, बहुत से टोटके भी किये जाते हैं.

कई दशको से जानकार लोग दशहेरा को शक्तिशाली प्रयोग करते आये हैं. इस लेख मे हम जानेंगे कुछ ख़ास टोटको को जो की आसानी से किये जा सकते हैं अपने जीवन को सफल बनाने के लिए. इन टोटको का प्रयोग करके हम अपने जीवन में धन, ऐश्वर्य, स्वास्थ्य को आकर्षित कर सकते हैं.दशहेरा में हमे सर्वार्थ सिद्धि योग मिलता है और पूजा पाठ, टोटको को इसी सर्वार्थ सिद्धि योग में करना चाहिए जिससे की सफलता प्राप्त हो. सर्वार्थ सिद्धि योग के लिए अपने ज्योतिष से परामर्श करना चाहिए. Watch video here:
आइये जानते हैं कुछ ख़ास और आसान उपाय/टोटके जीवन को सफल करने के लिए:दशहेरे को किसी लक्ष्मी मंदिर में दर्शन को जरुर जाना चाहिए और …

Dushere Ka Jyotishiy Mahattw

दशहेरे का महत्त्व हिंदी में जानिए. क्या करे दशहेरे में सफलता के लिए, जानिए ज्योतिषीय महत्त्व दशहेरे का. 
भारत में दशहेरा एक ख़ास उत्सव है जिसे सभी लोग मिलके मनाते हैं, इसे विजयादशमी भी कहते हैं. शारदीय नवरात्री के ख़त्म होते ही दशमी तिथि को दशहेरा मनाया जाता है. इसके पीछे जो मान्यता है वो ये की इसी दिन राम और लक्ष्मण जी ने रावण का अंत किया था और सभी ने ख़ुशी मनाई थी. ये दिन बुराई के ऊपर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है. दशहेरा ये याद दिलाता है की झूठ का अस्तित्तव ज्यादा नहीं टिक सकता है. सच्चाई हमेशा जीत जाती है. आइये जानते हैं कैसे दशहेरे को मनाया जाता है ? साधारणतः एक बड़े मैदान में रावण का पुतला बनाया जाता है और शाम को इसे राम के द्वारा मनाया जाता है. लोग एक जुट होक इसे देखते हैं. पुरे शहर के लोग या गाँव के लोग एक जगह इकट्ठे होते हैं और मेले जैसा दृश्य दिखाई देता है. सभी आनंद मनाते हैं , खाते  है पीते हैं और रावन दहन के कार्यक्रम का आनंद उठाते हैं.  इस दिन शश्त्रो की पूजा भी होती है , लोग एक दुसरे को मिठाई देते हैं और दशहेरे की बधाई देते हैं. हर तरफ ख़ुशी और उल्लास का माहोल रहता ह…

Magical Power of Shree Yantra | श्री यन्त्र की चमत्कारी शक्ति |

श्री यन्त्र क्या है?, श्री यन्त्र की शक्ति को जानिए, श्री साधना के लिए आसान मंत्र, श्री यन्त्र को पूजने के लिए आसान उपाय, श्री यन्त्र के फायदे, श्री यन्त्र रहस्य, panchopchar easy way, shree yantra details in hindi.

श्री यन्त्र की रचना मानव जाती के लिए एक वरदान है. हमारे भारत के महान ऋषि मुनियों की अद्भुत रचना है श्री यन्त्र. एक सिद्ध श्री यन्त्र अगर किसी जगह स्तापित कर दिया जाए तो वो अपने आसपास के जगह को भी उर्जा से परिपूर्ण कर देता है.
श्री यन्त्र को यंत्रों का रजा कहा जाता है ,इच्छाओं को पूर्ण करने के लिए ये एक सशक्त माध्यम है. इसी साधना से धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष की प्राप्ति निश्चित ही प्राप्त होती है. अगर कोई नियम से रोज श्री यन्त्र की पूजा करे तो धन, समपन्नता , मान – सम्मान, ख़ुशी, सुख, शान्ति सब कुछ आदमी के कदम चूमेगी, इसमे कोई शक नहीं है. श्री यन्त्र के अभिषेक का जल ग्रहण करने पर असाध्य कष्टों से भी मुक्ति संभव है. श्री यन्त्र के बारे में कुछ विशेष जानकारियाँ पढिये:इस यन्त्र में सम्पूर्ण ब्रहमांड समाया हुआ है.इसके अनेक प्रकार है जैसे ताम्बे के श्री यन्त्र, चांदी के श्री यन्त्र, …

Navratri Mai kala Jadu Se Suraksha

Navratri mai kala jadu se suraksha in hindi, नवरात्री में काला जादू से बचाव के उपाय, वस्तुएं जिनका प्रयोग किया जाता है काला जादू में, कैसे बचाए खुद को , व्यापार को,परिवार को काले जादू से.

ऐसा कहा जाता है की सिक्के के दो पहलु होते है एक सकारात्मक और दूसरा नकारात्मक. नवरात्री नौ दिन जो की अत्यंत शक्तिशाली माने जाते हैं साधना के लिए में भी दोनों प्रकार की साधनाए की जाती है.

सात्विक लोग जहा देवी और देवता की सात्विक साधना करते हैं वहीँ नकारात्मक विचारधारा से ग्रस्त लोग काले जादू और काले इल्म की साधना करते हैं.

ये काले जादू की साधनाए बहुत खतरनाक भी साबित होती है , ये सिर्फ जिसपे किया जाए उसका ही नुक्सान नहीं करती अपितु ये करनेवाले का भी सब कुछ बर्बाद करने की क्षमता रखती है. और देखा भी गया है की जिन्होंने अदृश्य शक्तियों का गलत इस्तेमाल किया है उनका हाल बहुत ख़राब हुआ है.

ऐसा इसीलिए होता है क्यूंकि हम बुरे से अच्छाई की उम्मीद नहीं रख सकते. शुरुआत में साधक को बहुत फायदे होते हैं परन्तु धीरे धीरे वो खुद ही इसमे फंस जाता है.

ऐसे बहुत से लोग है जो मेरे संपर्क में आये है जिन्होंने अपने शुरूआती समय…

Ashwin amavasya Ka Mahattw

अशिवन अमावस्या का महत्त्व, कैसे दूर करे दुर्भाग्य को, क्या करे १६ अक्टूबर, शक्रवार को, क्या होगा इस दिन पूजा-पाठ, दान करने से, जानिए ज्योतिष अनुसार.भारत में अमावस्या का बहुत महत्त्व है क्यूंकि ज्योतिष अनुसार इस दिन किया गया पूजन, दान पितरों की कृपा प्राप्त करने के सबसे अच्छा साधन होता है| तंत्र की दृष्टि से भी अमावस्या विशेष महत्त्व रखता है और इसीलिए दिवाली की रात्रि भी अमावस्या को आती है जब विशेष साधना लोग कर पाते हैं मनोकामना पूरी करने हेतु |
१६ अक्टूबर 2020, शुक्रवार को आश्विन मास की अमावस्या आ रही है और इसी दिन रात्रि को १:०१ मिनट पर अधिक मास ख़त्म होगा और नवरात्री शुरू हो जाएगी.यही नहीं सूर्य भी तुला राशी में प्रवेश कर जाएगा १७ को और १ महीने तक नीच का रहेगा जिसकी पूरी जानकारी मैंने पिछले विडियो और लेख में दिया है |१६ अक्टूबर 2020, शुक्रवार को अमावस्या सुबह ४:५३ से शुरू हो जायेगी और रात्रि १:०१ तक रहेगी|ये अमावस्या अत्यंत महत्त्वपूर्ण है क्यूंकि इस दिन हम दुर्भाग्य को दूर करने के लिए अनेक प्रयोग कर सकते हैं साथ ही पितरो की कृपा प्राप्त करने के लिए भी अनेको प्रयोग कर सकते है |
Watch v…