Skip to main content

Posts

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में, ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे  समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आ…
Recent posts

Best Jyotish Services in Hindi

ज्योतिष संसार के माध्यम से आप पा सकते हैं अपने कुंडली का विश्लेषण, अपने कुंडली में मौजूद ख़राब ग्रहों के बारे में, अपने ताकतवर ग्रहों के बारे में, भाग्यशाली रत्नों के बारे में, ग्रहों के अनुसार सही कैरियर, सरकारी नौकरी, प्रेम विवाह, संतान योग, काले जादू का निवारण, ज्योतिषीय समाधान आदि के बारे में.

Client Outside India can Use PAYPAL Button which is at bottom of page>> Paytm No. भी निचे दिया गया है अगर आप PAYTM करना चाहते हैं. Email है – askjyotishsansar@gmail.com
पाइये कुंडली विश्लेषण
कुंडली का सटीक विश्लेषण प्राप्त करने के लिए अपना जन्म तारीख, जन्म समय और जन्म स्थान सही –सही भेजे साथ ही अपने प्रश्न भेजे..
जानिए अपने कुंडली में मौजूद शक्तिशाली ग्रहो के बारे में.जानिए कौन से ग्रह जीवन में समस्या उत्पन्न कर रहे हैं.किन ज्योतिष कारणों से जीवन में असफलता प्राप्त हो रही है?जानिए कौन से रत्न भाग्योदय में सहायक होंगे?कौन सी पूजा आपके लिए सही है.आपके प्रश्नों का उत्तर, कुंडली अनुसार.Pay Only 501/- INR or $11
पाइये कुंडली मिलान विवाह हेतु
कुंडली मिलान के लिए लड़के और लड़की, दोनों की जन्म …

2019 Me Holi Utsav Aur Jyotish

2019 में होली उत्सव और ज्योतिष, जानिए होलिका दहन कब होगा, क्या करे जीवन को सुखी करने के लिए.

होली रंगों का त्यौहार है, इस उत्सव में सभी अपना दुःख भूलकर खुशियों से जिन्दगी को भरने का प्रयास करते हैं. ज्योतिष के हिसाब से होली की रात्रि साधना को करने के लिए अती उत्तम समय होता है, इस रात्रि को तंत्र साधना भी की जाती है, मंत्र साधना भी की जाती है, यंत्र साधना भी की जाती है. विद्वान् लोग कुछ न कुछ विशेष अनुष्ठान करते हैं होली की रात्री को जीवन को सफल बनाने हेतु.

ग्रह दोषों से मुक्ति के लिए भी ये रात्री ख़ास होती है.इस रात्रि को मन्त्र जागृति के लिए शुभ माना जाता है.इस रात्री को देवी देवताओं को प्रसन्न करने के लिए साधना की जा सकती है.कुछ लोग वशीकरण साधना भी इस रात्री को करते हैं.कुछ लोग आय के स्त्रोत को खोलने के लिए भी पूजा करते हैं.
अतः होली की रात्री सभी के लिए ख़ास होती है. व्यापारी, गृहणी, प्रेमी, विद्यार्थी, नौकरी पेशा सभी इस रात्री को अपने जीवन को सफल बनाने के लिए पूजा पाठ कर सकते हैं. आइये जानते हैं होलिका दहन का महत्त्व : होलिका दहन एक ऐसी क्रिया है जिसमे हम अपने अन्दर की बुराइयों को …

Saraswati Sadhna In Hindi Vidya Prapti Ke liye

Saraswati saadhna dwara safalta, kaun hai mata saraswati, saraswati sadhna ke fayde, jivan ko safal banaane ke upaay, आसान  सरस्वती साधना के बारे में जानिए. माँ सरस्वती जगत प्रसिद्ध है विद्या देने के लिए, इनकी पूजा से साधक को विद्या प्राप्त होती है विभिन्न विषयों की, व्यक्ति को सही मायने में दिमागी शक्ति प्राप्त होती है वाक् शक्ति प्राप्त होती है, साथ ही व्यक्ति अपनी विद्या का सही ढंग से प्रयोग कर सकता है.  सरस्वती माता की पूजा का सबसे अच्छा दिन बसंत पंचमी माना जाता है. अगर कोई विद्यार्थी पढाई में कमजोर हो, अगर दिमाग सही तरीके से कार्य नहीं कर रहा हो, अगर कोई अपनी विद्या का प्रयोग करने में सक्षम न हो तो ऐसे में सरस्वती साधना बहुत लाभदायक सिद्ध होती है.  सरस्वती साधना के लिए तांत्रिक और वैदिक दो प्रकार के मंत्र उपलब्ध हैं ग्रंथो में, साधक के प्रकृति और जरुरत के हिसाब से मंत्रो का चयन किया जाता है.  आइये जानते है सरस्वती पूजा का आसान तरीका:Saraswati saadhna dwara safalta, kaun hai mata saraswati, saraswati sadhna ke fayde, jivan ko safal banaane ke upaay, आसान  सरस्वती साधना के बारे मे…

Basant Panchmi Ka Mahattw

भारत में बसंत पंचमी का त्यौहार, जानिए क्या महत्त्व है बसंत पंचमी का, क्या करे सफलता के लिए. 

हिंदी पंचांग के हिसाब से माघ महीने के शुक्ल पक्ष में पांचवे दिन बसंत पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है. ये बहुत ही आनंद का दिन होता है क्यूंकि ये दिन बहुत ही शानदार मौसम का संकेत होता है.  इस दिन माता सरस्वती की पूजा की जाती है मुख्यतः, माँ सरस्वती विद्या की देवी है इसी कारण विद्यार्थियों के लिए बहुत महत्त्व रखती है. ऐसा माना जाता है की माँ सरस्वती का जन्म इसी दिन हुआ था इसी कारण माता के जन्म दिवस के रूप में भी ये दिन मनाया जाता है.

बसंत के मौसम में खेत पीले रंग से आच्छादित हो जाता है क्यूंकि सरसों के फूल खिल जाते हैं. इस दृश्य का लोग खूब आनंद लेते हैं.  आइये जानते हैं की लोग इस दिन क्या करते हैं:लोग पीले कपड़े पहनते हैं. भक्तगण पीले फूल माता को अर्पित करते हैं. भोग में पिला भोजन बनाया जाता है जैसे खिचड़ी.पीले मीठे चावल बनाने का भी रिवाज है इस दिन जिसमे केसर भी डाला जाता है.पाठशालाओं में विद्यार्थि और गुरुजन मिलके माँ सरस्वती की विशेष पूजा अर्चना करते हैं.  पिला रंग अध्यात्म, ज्ञान, रचनात्मकता का प…

Magh Mahine Ki Gupt Navratri Ka Mahattw

माघ महीने की गुप्त नवरात्री का महत्त्व ज्योतिष के हिसाब से, क्या करे जीवन को आसान और साल बनाने के लिए गुप्त-नवरात्री में.

५ फरवरी २०१९, मंगलवार से गुप्त नवरात्री शुरू हो रही है जो की साधना, आराधना, तंत्र, मंत्र साधना, अध्यात्मिक उन्नति के लिए साधना के लिए बहुत ज्यादा महत्त्व रखता है.

हिन्दू पंचांग अनुसार माघ महीने के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से गुप्त नवरात्री शुरू होती है और देविक आराधना के लिए अती महत्त्वपूर्ण है.  गुप्त नवरात्री क्यों महत्त्व रखता है?५ फरवरी से गुप्त नवरात्री की शुरुआत बहुत ही शक्तिशाली योग में हो रही है जो इसके महत्त्व को और बढ़ा देती है. इस बार गुप्त-नवरात्री ५ फरवरी को शुरू हो रही है और इसी दिन शाम को ६:४५ पे पंचक भी शुरू हो रहा है. ज्योतिष की ऐसी मान्यता है की पंचक में फल ५ गुना बढ़ जाता है अतः इस बार गुप्त नवरात्रि का महत्त्व 5 गुना ज्यादा रहेगा. इन ९ दिनों में 3 सर्वार्थ सिद्धि योग भी आ रहे हैं जिसके कारण साधको को और ज्यादा लाभ मिलेगा साधना का.  अतः और कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है इस गुप्त नवरात्री के बारे में.  पढ़िए नवरात्री के अचूक प्रयोग >> क्या करे सफलता…

Somwati Amavasya Ka Mahattwa In Hindi

क्या है सोमवती अमावस्या, क्या करना चाहिए सोमवती अमावस्या को, सोमवती अमावस्या का महत्त्व, ज्योतिष द्वारा सलाह सफल जीवन के लिए.
भारत मे साधारणतः ये देखा जाता है की सोमवती अमावस्या को लोग पवित्र नदियों मे स्नान करते है, विशेष पूजा पाठ करते है , दान करते है. आइये समझते है सोमवती अमावस्या को: जब अमावस सोमवार को आती है तब उसे सोमवती अमावस कहते हैं. ये भगवान् शिव के पूजा का विशेष दिन माना जाता है, पितरो के पूजन के लिए भी भी शुभ दिन है साथ ही चन्द्र देव के पूजन के लिए भी माना जाता है ज्योतिष के अनुसार. 
महाभारत मे भीष्म पितामह ने युधिस्ठिर को भी सोमवती अमावस्या के महत्त्व के बारे मे बताया था. इस दिन भगवान् शिव और पितरो की कृपा आसानी से प्राप्त की जा सकती है. इस दिन विभिन्न तरीको से शिवजी और पितरो का पूजन किया जाता है जैसे अभिषेक, हवन, तर्पण आदि.
सोमवती अमावस्या का महत्त्व:
जानकारी के अनुसार इस दिन पवित्र नदियों मे स्नान करना शुभ होता है जैसे गंगा, नर्मदा, कावेरी आदि. इसके अलावा त्रिवेणी मे भी स्नान करना पुण्य प्रदान करता है. व्यक्ति को समस्याओं, दुखो और रोगों से मुक्ति मिलती है.
ऐसी मान्यता…