Skip to main content

Posts

Featured Post

Best Jyotish Services in Hindi

Trusted Astrology Services Vastu Services, Spiritual Healing Services

ज्योतिष संसार के माध्यम से आप पा सकते हैं अपने कुंडली का विश्लेषण, अपने कुंडली में मौजूद ख़राब ग्रहों के बारे में, अपने ताकतवर ग्रहों के बारे में, भाग्यशाली रत्नों के बारे में, ग्रहों के अनुसार सही कैरियर, सरकारी नौकरी, प्रेम विवाह, संतान योग, काले जादू का निवारण, ज्योतिषीय समाधान आदि के बारे में.

पाइये कुंडली विश्लेषण
कुंडली का सटीक विश्लेषण प्राप्त करने के लिए अपना जन्म तारीख, जन्म समय और जन्म स्थान सही –सही भेजे साथ ही अपने प्रश्न भेजे.
जानिए अपने कुंडली में मौजूद शक्तिशाली ग्रहो के बारे में.जानिए कौन से ग्रह जीवन में समस्या उत्पन्न कर रहे हैं.किन ज्योतिष कारणों से जीवन में असफलता प्राप्त हो रही है?जानिए कौन से रत्न भाग्योदय में सहायक होंगे?कौन सी पूजा आपके लिए सही है.आपके प्रश्नों का उत्तर, कुंडली अनुसार.Get The Indepth Analysis of your horoscopeसंपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >> पाइये कुंडली मिलान विवाह हेतु
कुंडली मिलान के लिए लड़के और लड़की, दोनों की जन्म तारीख, जन्म समय और जन्म स्थान भेजे साथ ही अपने …
Recent posts

Nakaratmak Urja Ko Rokne Ke Kuch Upaay

Nakaratmak Urja Ko Rokne Ke Kuch Upaay, क्या है नकारात्मक उर्जा, कैसे रोखे नकारात्मकता को, जानिए कुछ ज्योतिषीय और वास्तु के उपाय नकारात्मक उर्जा से बचने के लिए.
वो उर्जा जिनसे हमे नुकसान होता है , परेशानी होती है, वो सब नकारात्मक उर्जा कहलाती है, नकारात्मक उर्जा जीवन में संघर्ष उत्पन्न करती है और मुश्किलें दिन प्रतिदिन बढती जाती है. नकारात्मक उर्जा के अंतर्गत हम काले जादू, भूत-प्रेत दोष, वास्तु उर्जा, बीमारियों आदि को भी शामिल करते हैं.
अगर हमे किसी जगह की नकारात्मकता को जानना है तो हमे उस जगह को महसूस करना होगा, अगर हम किसी जगह जाने पर घबराहट महसूस करते हैं या फिर हमारे व्यवहार में नकारात्मक परिवर्तन महसूस करते हैं तो ये जान लेना चाहिए की वहां पर किसी प्रकार की नकारात्मकता है उदाहरण के लिए टॉयलेट या कचरे फेके जाने वाले जगह पर जाने पर हमे एक विशेष प्रकार की गंध आती है जो की हमारे लिए परेशानी का कारण बन जाती है और हम ज्यादा देर तक वहां नहीं रह सकते , ये भी नकारात्मकता के कारण ही होता है.
घर में नकारात्मकता होगी तो हम रह नहीं पायेंगे, ऑफिस में नकारात्मकता होगी तो काम सही तरीके से नहीं क…

Malmaas/Adhik Maas Ka Mahattw jyotish anusar

मलमास/ पुरुषोत्तम मास/ अधिक मास का महत्त्व ज्योतिष अनुसार, क्या करे मलमास में जीवन को सुखी करने के लिए, कौन से कार्य करे, कौन से नहीं इस समय, किस भगवान् की पूजा करे?, जानिए उज्जैन में मौजूद ७ सगरो के बारे में |
मलमास कैसे बनता है ? :हिन्दू पंचाग अनुसार हर ३ साल में एक बार अधिक मास आता है जो की एक खगोलीय घटना है| एक साल में १२ संक्रांति आते हैं और इसी कारण १२ महीने बनते हैं परन्तु सूर्य और चन्द्र मास में ११ दिनों का अंतर होता है | यही अतिरिक्त दिन मिलके एक नया महिना बना देते हैं जिसे की मलमास/ पुरुषोत्तम मास/ अधिक मास कहा जाता है |एक और तरीका भी है मलमास को जानने का और वो ये की जिस महीने में कोई सूर्य संक्रांति ना आये वो महिना मलमास कहलाता है |और अगर किसी महीने में २ सूर्य संक्रांति आ जाए तो उसे क्षय मास कहा जाता है |आइये जानते हैं की पौराणिक मान्यता के अनुसार पुरुषोत्तम मास का महत्त्व :पौराणिक मान्यता अनुसार ये अतिरिक्त दिनों से मिलके बना है अतः इसका कोई विशेष देवता से सम्बन्ध नहीं है अतः ये महिना भगवान् विष्णु को समर्पित है | इसी कारण इसे पुरुषोत्तम मास कहा जाने लगा |वैष्णव मंदिरों मे…

Pitra Moksha Amavasya Ka Mahatwa पितृ मोक्ष अमावस्या

Pitra Moksha Amavasya Ka Mahatwa पितृ मोक्ष अमावस्या का महत्तव, क्या है सर्वपितर अमावस्या, कैसे प्राप्त करे पितरों की कृपा, श्राद्ध के आखरी दिन क्या करे.

हर साल हिन्दू लोग 16 दिन तक विशेष पूजा पाठ करते हैं अपने पितरो की कृपा प्राप्त करने के लिए, ये सोलह दिन श्राद्ध पक्ष कहलाते हैं, पितर पक्ष कहलाते हैं , कुछ जगह पर इसे महालय भी कहते हैं. भारतीय संतो ने ये दिन निकाले थे जिससे की लोग अपने जीवन को सुखमय कर सके और अपने साथ साथ अपने पूर्वजो का कल्याण भी कर सके.  वास्तव में ये हमारा कर्त्तव्य है की हम अपने पूर्वजो को पितरो को समय समय पर याद करे और उनकी कृपा के लिए उनका धन्यवाद दे. क्यूंकि हम इस सुन्दर धरती पर अगर है तो उनके कारण. हिन्दू शाश्त्रो में पितरो को पूजने के लिए भी निर्देश दिए गए हैं जिससे की लोग सुखी और संपन्न जीवन जी सके. हिन्दू पंचांग के हिसाब से आश्विन माह में ये सोलह दिन आते हैं जब लोगो को विशेष रूप से पितरो के निमित पूजा पाठ, दान , तर्पण आदि करना चाहिए.
ऐसा विश्वास किया जाता है की जो भी हम दान- पुण्य पितरो के नाम से करते हैं वो उनको प्राप्त होता है और बदले में वो हमे आशीष प्र…

Pitru Moksh Amvasya Ko Kya Kare Totkay

पितृ मोक्ष अमावस्या को क्या करे पितरो की प्रसन्नता के लिए, जानिए कुछ आसान टोटके पितृ कृपा के लिए, कैसे दूर करे दुर्भाग्य, सर्व पितृ अमावस्या के लिए टोटके.

श्राद्ध पक्ष का अंतिम दिन होता है सर्व पितृ अमावस्या, ये दिन बहुत महत्त्व रखता है भारतीय ज्योतिष के हिसाब से. इस दिन बहुत बड़ी पूजाए होती है अपने जीवन को सुखी करने के लिए. हिन्दुओ में पितरो को बहुत सम्मान दिया जाता है क्यूंकि उनके कारण ही हम आज इस धरती पर है.

श्राद्ध पक्ष वो समय होता है जब हम अपने पूर्वजो के लिए पूजा, पाठ, दान आदि करते हैं ताकि उनकी उच्च गति हो और वो हमे आशीर्वाद दे सुखी जीवन के लिए.

पितृ पक्ष में हर तिथि को अलग अलग श्राद्ध लोग करते हैं परन्तु अगर किसी को अपने किसी पूर्वज की तिथि का ज्ञान न हो तो वो सर्व पितृ अमावस्या को उनका श्राद्ध कर सकता है.

इस अमावस्या को पितरो के निमित्त तर्पण करने से पितरो की कृपा की प्राप्ति होती है. जो लोग पितृ मोक्ष अमावस्या को अपने पूर्वजो के निमित्त भोजन, निकालते हैं, तर्पण करते हैं, दान देते हैं जरुरतमंदो को, उनके जीवन में खुशियाँ प्रवेश करती है, बढायें नष्ट होती है, धर्म-अर्थ-कम-मोक्ष की…

Shraadh Se Sambandhit Kuch Tathya In Hindi

श्राद्ध से सम्बंधित कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य, तर्पण में उपयोग होने वाले वस्तुए, गोत्र का महत्तव , पितरो को प्रसन्न करने का सही समय, तर्पण के लिए 7 मुख्य स्थल.

श्राद्ध अर्थात पितृ पक्ष या फिर महालया जो की 16 दिनों का विशेष समय होता है जब पितृ गण अपने परिवार को आशीर्वाद देने आते हैं. अतः इस समय कोई भी व्यक्ति बहुत आसानी से अपने जीवन को निष्कंटक कर सकता है और उन्नति के रस्ते खोल सकता है.

भारत के ऋषि मुनियों ने अपने तपोबल से आत्माओं के अस्तित्तव को दिखाया है और पूरी दुनिया आज आत्माओं के अस्तित्व को मानती है. अतः हम पितृ पक्ष को एक अंधविश्वास नहीं मान सकते हैं. ये भी सत्य है की हम अगर है तो वो सिर्फ हमारे पितरो के कारण और हमे ये भूलना नहीं चाहिए. भारत में तो हर मुख्य कार्य से पहले पितरो को पूजने का भी नियम है. उनके आशीर्वाद के बिना कोई कार्य संभव नहीं है.

श्राद्ध एक ऐसा समय है जब हम पितरो के लिए अपनी कृतज्ञता दिखा सकते हैं. ये वो समय है जब हम उनके प्रेम और कृपा के लिए उनका धन्यवाद कर सकते हैं उनके उन्नति के लिए प्रार्थना करके. पूजा में गोत्र का महत्तव: किसी भी पूजा को करने पर नाम के साथ गोत्र…

13 September 2020 Aaj Ka Rashifal in Hindi jyotish

13 September Aaj Ka Rashifal in Hindi, आज का राशिफल, जानिए १२ राशियों पर क्या असर होगा ग्रहों का, आज का पंचांग .

ये राशिफल गोचर में ग्रहों की स्थिति को देखते हुए दिया जा रहा है | आप जानेंगे की १३ सितम्बर २०२० के सितारे आपके जीवन में क्या असर डालने वाले है |13 september2020, आज का राशिफल मेष राशी वालो के लिए :मेष राशी के लोगों को आज अचानक से धन लाभ के योग बन सकते हैं, भाई बहनों के साथ वक्त सुखपूर्वक बीतने के योग बनते हैं| छोटी यात्रा भी कर सकते हैं समय बिताने के लिए | आप आज संतान के साथ भी अच्छा समय व्यतीत कर पायेंगे और सबके साथ रहके कुछ नया सीख पायेंगे | आज आपके शत्रु भी आपके कूट निति में फंस सकते हैं जिससे आपको काफी लाभ होगा| अगर आप भूमि या फिर किसी साहसिक कार्य से जुड़े है तो आज आप कुछ विशेष लाभ कमा पायेंगे |13 september 2020, आज का राशिफल वृषभ राशी वालो के लिए : आज आपके गुस्से में बढ़ोतरी हो सकती है अगर आपके मनमुताबिक काम ना हुआ तो परन्तु आज आप अपने बोली से सबका मन मोह सकते हैं | आज विशेष लाभ के योग बनते हैं | अपनी बुद्धि बल का प्रयोग आज आप को यश, नाम दे सकता है | जीवन साथी के साथ कुछ…

12 September2020 Aaj Ka Rashifal in Hindi

12 september Aaj Ka Rashifal in Hindi, आज का राशिफल, आज के सितारे क्या कहते हैं?.ये राशिफल गोचर में ग्रहों की स्थिति को देखते हुए दिया जा रहा है | आप जानेंगे की १२ सितम्बर २०२०  के सितारे आपके जीवन में क्या असर डालने वाले है |

12 september2020, आज का राशिफल मेष राशी वालो के लिए : मेष राशी के लोग आज बहुत ज्यादा आत्मविश्वास से भरे रहेंगे जिससे कुछ नए कदम उठाने की सोचेंगे | जमीन से सम्बंधित अगर कोई काम रुका हुआ हो तो आज आगे बढ़ने के योग बनते हैं| अपने सहस के कारण आज आपको मान सम्मान भी मिलने के योग बनते हैं | अगर आप मार्केटिंग करते हैं तो आज आप कुछ अलग हट के कर पायेंगे| आपने जो भी सिखा है उसका आज आप स्तेमाल कर पायेंगे| आज आपको अपने साथी के साथ थोड़ा संभल कर चलना होगा, खटपट हो सकती है, अपने प्रेमी के साथ आज आपके सम्बन्ध बिगड़ सकते हैं अतः व्यवहार में सावधानी रखे | स्वास्थ्य की और से कोई चिंता की बात नहीं है मेष राशी वालो को, बस ज्यादा खाने से बचे | 12 september 2020, आज का राशिफल वृषभ राशी वालो के लिए : आपके यश में वृद्धि हो सकती है जिससे आपको ख़ुशी मिलेगी | आप अपने ज्ञान का उपयोग कर पाएंगे जिस…

Magical Power of Shree Yantra | श्री यन्त्र की चमत्कारी शक्ति |

श्री यन्त्र क्या है?, श्री यन्त्र की शक्ति को जानिए, श्री साधना के लिए आसान मंत्र, श्री यन्त्र को पूजने के लिए आसान उपाय, श्री यन्त्र के फायदे, श्री यन्त्र रहस्य, panchopchar easy way, shree yantra details in hindi.

श्री यन्त्र की रचना मानव जाती के लिए एक वरदान है. हमारे भारत के महान ऋषि मुनियों की अद्भुत रचना है श्री यन्त्र. एक सिद्ध श्री यन्त्र अगर किसी जगह स्तापित कर दिया जाए तो वो अपने आसपास के जगह को भी उर्जा से परिपूर्ण कर देता है.
श्री यन्त्र को यंत्रों का रजा कहा जाता है ,इच्छाओं को पूर्ण करने के लिए ये एक सशक्त माध्यम है. इसी साधना से धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष की प्राप्ति निश्चित ही प्राप्त होती है. अगर कोई नियम से रोज श्री यन्त्र की पूजा करे तो धन, समपन्नता , मान – सम्मान, ख़ुशी, सुख, शान्ति सब कुछ आदमी के कदम चूमेगी, इसमे कोई शक नहीं है. श्री यन्त्र के अभिषेक का जल ग्रहण करने पर असाध्य कष्टों से भी मुक्ति संभव है. श्री यन्त्र के बारे में कुछ विशेष जानकारियाँ पढिये:इस यन्त्र में सम्पूर्ण ब्रहमांड समाया हुआ है.इसके अनेक प्रकार है जैसे ताम्बे के श्री यन्त्र, चांदी के श्री यन्त्र, …

Tarpan Kya Hota Hai

Tarpan kya hota hai, जानिए हिंदी में तर्पण के बारे में, कैसे मुक्ति पायें पितृ दोष से, कैसे पायें सफलता जीवन में, कैसे पायें पितरो से आशीर्वाद.
ऐसा देखा जाता है की कुंडली में पितृ दोष होने के कारण लोग बहुत परेशान रहते हैं, जीवन में हर कदम पर परेशानी आती रहती है. व्यक्तिगत जीवन और काम-काजी जीवन में हद से जयादा परेशानी आती है. और कितनी भी कोशिश करे , परेशानी ख़त्म नहीं हो पाती है. पितृ दोष को अगर सही तरीके से समझ जाएँ तो इससे मुक्ति पाई जा सकती है, इस लेख में पितृ दोष से मुक्ति के लिए एक विशेष प्रयोग की जानकारी दी जा रही है जिसे तर्पण कहते हैं.

जब भी कोई व्यक्ति शारीर का त्याग करता है तो उसकी मुक्ति के लिए कुछ विशेष पूजाओ का जिक्र हमारे ग्रंथो में किया गया है , इन क्रियाओं को करने से आत्मा क्षण भंगुर संसार के मोह को त्याग कर मुक्ति हो जाती है और इसका पुण्य क्रिया करने वाले को मिलता है.

ऐसी मान्यता है की अगर मृत्यु के पश्चात कर्मो को ठीक ढंग से नहीं किया जाता है तो आत्मा मुक्त नहीं होती है और इधर उधर भटकती रहती है. इससे पितृ दोष, प्रेत दोष आदि की उत्पत्ति होती है और ज्योतिष में इसे कुंडली…