Skip to main content

Posts

Recent posts

Magh Mahine Ki Gupt Navratri Ka Mahattw

2022 माघ महीने की गुप्त नवरात्री का महत्त्व ज्योतिष के हिसाब से, क्या करे जीवन को आसान और साल बनाने के लिए गुप्त-नवरात्री में. 2 फरवरी 2022, बुधवार से गुप्त नवरात्री शुरू हो रही है जो की साधना, आराधना, तंत्र, मंत्र साधना, अध्यात्मिक उन्नति के लिए साधना के लिए बहुत ज्यादा महत्त्व रखता है. हिन्दू पंचांग अनुसार माघ महीने के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से गुप्त नवरात्री शुरू होती है और दैविक आराधना के लिए अती महत्त्वपूर्ण है.  Magh Mahine Ki Gupt Navratri Ka Mahattw Read in english about when is gupt navratri of maagh month in 2022 ? गुप्त नवरात्री क्यों महत्त्व रखता है? गुप्त नवरात्री भी साधना के लिए अति महत्त्वपूर्ण दिनों में आते हैं और इस समय में कोई भी व्यक्ति अपनी मनोकामना की पूर्ति हेतु देवी आराधना कर सकते हैं | अगर कोई तंत्र साधना करना चाहते हैं तो भी उसकी शुरुआत गुप्त नवरात्री में कर सकते हैं | कोई अगर दीक्षा लेना चाहते हैं तो भी ये समय बहुत अच्छा होता है | अध्यात्मिक सफलता के लिए भी गुप्त नवरात्री में साधना को बढ़ाया जा सकता है | सांसारिक ईच्छा की पूर्ती के लिए भी इस

February mai kaun se grah badlenge raashi

February Rashifal 2022, कौन से ग्रह बदलेंगे राशि फ़रवरी २०२२ में, 12 राशियों पर क्या असर होगा ग्रहों के राशी परिवर्तन का |  हर महीने गोचर कुंडली में कुछ बड़े बदलाव होते हैं जिसके कारण देश और दुनिया में राजनिति में, मौसम में, प्रेम जीवन में, कारोबार में बहुत बड़े बदलाव देखने को मिलते हैं |  आज के इस लेख में हम जानेंगे की फ़रवरी 2022 में कौन से ग्रह अपनी राशी बदलेंगे और उसका असर क्या होगा |  February mai kaun se grah badlenge raashi Read in english about which planets will change zodiac in february 2022 and predictions 13 फरवरी 2022, रविवार को सुबह 3:12 AM पे सूर्य मकर राशि से निकल के कुम्भ राशि में प्रवेश करेंगे | पढ़िए राशिफल | मंगल ग्रह 26 फरवरी 2022, शनिवार, 2:46 PM पे मकर राशि में गोचर करेंगे।  पढ़िए राशिफल | शुक्र ग्रह 27 फरवरी, 2022, रविवार को 9:52 AM पे मकर राशि में प्रवेश करेंगे | पढ़िए राशिफल | Watch video here: आइये जानते हैं की सूर्य के राशि परिवर्तन का 12 राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा ? 13 फ़रवरी, रविवार को जब सूर्य मकर राशि को छोड़कर अपने शत्रु राशि कुम्भ में प्रवेश करे

shankprakshalan kya hota hai

शंखप्रक्षालन के बारे में जानिए, सर्वोत्तम और शक्तिशाली उपाय शरीर को स्वस्थ रखने के लिए, जानिए योग द्वारा वजन कम कैसे करे । अनुक्रमणिका: योग में शंखप्रक्षालन क्या है? विषहरण की इस प्रक्रिया में क्या होता है? एनीमा और शंख प्रक्षालन में क्या अंतर है? शंख-प्रकाशन के क्या लाभ हैं? कैसे किया जाता है? इस प्रक्रिया के बाद क्या करें? शंखप्रकाशन प्रक्रिया को करने में किन आसनों का अभ्यास किया जाता है? शंखप्रक्षालन किसे नहीं करना चाहिए? हम साल में कितनी बार शंख प्रक्षालन कर सकते हैं? हम शंखप्रक्षालन प्रक्रिया के लिए कहाँ जा सकते हैं? shankprakshalan kya hota hai शंखप्रक्षालन क्या है? भारतीय योग तकनीक मन और शरीर को बदलने के लिए बहुत समृद्ध हैं और योग की किताबों में मन और शरीर को डिटॉक्सीफाई करने और ऊर्जा से भरा जीवन जीने के लिए कई तकनीकों का वर्णन किया गया है। शंखप्रक्षालन सबसे अच्छी तकनीक में से एक है जिसका उपयोग शरीर को डिटॉक्सीफाई करने के लिए किया जाता है। यह एक बहुत ही शक्तिशाली प्रक्रिया है जिसमें नमक और निम्बू पानी का उपयोग आंत को साफ करने के लिए किया जाता है और जिन लोगों ने इसका अनुभव

Hanumanji ka dhyan mantra

हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए कौन सा मंत्र जपे ?, बजरंगबली का ध्यानमन्त्र, Powerful hanuman meditation mantra, hanuman mantra lyrics. जब बात भक्ति की होती है तो हनुमानजी का नाम सबसे ऊपर आता है, श्री राम के प्रति उनके अपार प्रेम और भक्ति से हम सभी परिचित है |  ॐ हं हनुमते नमः  किसी भी प्रकार की अड़चन हो, किसी भी प्रकार की परेशानी हो, भूत, प्रेत आदि की समस्या हो तो ऐसे में हनुमानजी की पूजा से लाभ मिलता है |   Hanumanji ka dhyan mantra Table of Content: हनुमानजी की शक्ति बजरंगबली के 7 लोकप्रिय नाम हनुमानजी का ध्यान मंत्र हनुमान-मंत्र का जाप और सुनने के लाभ कैसे करें पूजा? हनुमान-पूजा करते समय ध्यान रखने योग्य बातें ऐसी बहुत सी शक्तिया हैं जिन्हें सशरीर रहने का वरदान प्राप्त है और हनुमानजी उनमे से एक है इसीलिए कलयुग में हनुमान जी की पूजा से बहुत जल्दी मुसीबतों से छुटकारा मिल जाता है  परन्तु इनकी पूजा में ब्रह्मचर्य और पवित्रता का विशेष ध्यान रखना पड़ता है |  हनुमान जी की पूजा से जातक साहस प्राप्त कर सकता है, भय से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं | आइये जानते हैं हनुमानजी को किन क

vipreet rajyoga kaise banta hai

विपरीत राजयोग कैसे बनता है, what is vipreet rajyoga,  क्या फायदे होते हैं विपरीत राजयोग के, क्या सबके कुंडली में राजयोग होता है? | ज्योतिष प्रेमियों को राजयोग को लेके बहुत उत्सुकता रहती है और लोग अपनी कुंडली में राजयोग को जानना चाहते हैं क्यूंकि इसके कारण जातक को अतुलनीय सफलता प्राप्त होती है, जातक को मान-सम्मान प्राप्त होता है, धन प्राप्त होता है, पारिवारिक जीवन का सुख प्राप्त होता है, ऐशो आराम के साधन प्राप्त होते हैं |  इस लेख में हम जानने वाले हैं विपरीत राजयोग के बारे में जिसके कारण भी जातक को जीवन में विभिन्न प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं, हम उदाहरण के साथ ये भी जानेंगे की कब ये विपरीत राजयोग फल नहीं देता है, कब इसके शुभ फल जातक को प्राप्त होते हैं | vipreet rajyoga kaise banta hai Read in english about how vipreet rajyoga form in horoscope आइये सबसे पहले जानते हैं की कुंडली के कौन से भावो का अध्ययन किया जाता है विपरीत राजयोग को जानने के लिए ? विपरीत राजयोग को जानने के लिए जन्म पत्रिका के त्रिक भावो का अध्ययन किया जाता है अर्थात 6, 8 और 12 भावों का अध्ययन किया जाता है

Kesar ke prayog in hindi

जीवन में सफलता के लिए केसर का उपयोग, ज्योतिष के अनुसार इसका उपयोग कैसे करें, केसर के लाभ, use of saffron for health and wealth, ज्योतिष के माध्यम से समस्याओं के आसान समाधान । अगर मैं आपसे कहूं कि एक बहुत ही शक्तिशाली वास्तु हम सब के पास है है जिसका अगर सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए तो न केवल अच्छी  सेहत पा सकते हैं अपितु जीवन में धन की कमी को भी दूर किया जा सकता है तो आप जरुर जानना चाहेंगे | इस चमत्कारी वास्तु के प्रयोग से दैवीय शक्तियों को प्रसन्न करना भी संभव है। और ये वास्तु है केसर जिसे अंग्रेजी में saffron कहा जाता है |  Kesar ke prayog in hindi  दशकों से लोग स्वस्थ जीवन जीने के लिए केसर का उपयोग कर रहे हैं। यह नवजात शिशुओं को सुंदर चेहरा पाने के लिए दिया जाता है, गर्भवती को स्वस्थ बच्चे को जन्म देने के लिए दिया जाता है, इसे स्वादिष्ट व्यंजन बनाने में भी प्रयोग किया जाता है और यह अपने रंग और सुगंध के लिए प्रसिद्ध है जो हर किसी को अपनी ओर बड़ी आसानी से आकर्षित करता है। Read in english about Use of SAFFRON for health and wealth केसर एक प्रकार का मसाला है लेकिन इसकी गुणवत्ता के क

Makar Sankaranti Ka Mahattwa in Hindi

Makar Sankaranti Ka Mahattwa in Hindi, मकर संक्रांति का महत्त्व, क्या करे सफलता के लिए मकर संक्रांति को, सफलता के लिए ज्योतिषीय उपाय जानिए, पढ़िए सूर्य का मकर राशी में प्रवेश करने का राशिफल . मकर संक्रांति का त्यौहार पूरे भारत में बहुत ही उत्साह से मनाया जाता है, भारत वर्ष में मनाये जाने वाले उत्सवों में ये भी एक बड़ा उत्सव है. इस दिन बच्चे, बूढ़े, जवान, महिलाए आदि सभी लोग पतंग उड़ाना पसंद करते हैं. पुरे दिन लोग अपने परिवार वालो के साथ छत पर बिताते हैं या फिर मैदान मे, लोग तिल के लड्डू भी बनाते हैं और एक दूसरे को बाटते हैं. Makar Sankaranti Ka Mahattwa in Hindi ये महत्त्वपूर्ण त्यौहार अलग अलग रूप में भारत वर्ष में मनाया जाता है जैसे की तमिल नाडू मे इसे पोंगल के नाम से मनाते हैं, आसाम में इसे बिहू के नाम से मनाते हैं, पंजाब और हरयाणा में इसे लोहरी के रूप में मनाते हैं.  आइये जानते हैं मकरसंक्रांति से सम्बंधित कुछ तथ्य : इस दिन से सूर्य उत्तरायण हो जाते हैं. सूर्य मकर राशि मैं इस दिन प्रवेश करते हैं. पौराणिक मान्यता के अनुसार इस दिन से देवताओं के दिन शुरू हो जाते हैं.

Putrada Ekadashi Vrat Ka Jyotish Mahattw

पौष महीने की पुत्रदा एकादशी कब है और क्या महत्त्व है, Putrada Ekadashi Vrat Ka Jyotish Mahattw, क्या करे पुत्रदा एकादशी को संतान सुख के लिए. हिन्दू पंचांग के अनुसार जो एकादशी पौष महीने की शुक्ल पक्ष को आती है उसे भारत में पवित्र एकादशी या फिर पुत्रदा एकादशी के रूप में मनाया जाता है. ये पवित्र दिन भगवान् विष्णु को समर्पित है. इस दिन पति और पत्नी दोनों ही व्रत रखते हैं जिससे की स्वस्थ संतान की प्राप्ति हो. ये व्रत वैष्णव सम्प्रदाय में बहुत माना जाता है. सन 2022 में 13 अगस्त, गुरुवार को है पवित्रा एकादशी का व्रत रहेगा | Putrada Ekadashi Vrat Ka Jyotish Mahattw आइये जानते हैं की पौष मास की पवित्रा एकादशी का महत्त्व: इस बार २०२२ में अभी खरमास चल रहा है जो की भगवान विष्णु की पूजा के लिए विशेष महिना होता है और एकादशी भी भगवान विष्णु को समर्पित है | इसी बार पुत्रदा एकादशी खरमास में आ रही है जिससे इसका महत्त्व बहुत ज्यादा बढ़ जाता है | अतः जो दंपत्ति स्वस्थ संतान चाहते हैं, उन्हें इस दिन विशेष रूप से पूजा करनी चाहिए | हिन्दुओं की मान्यता है की श्राद्ध कर्म सिर्फ पुत्र द्वारा ही

Featured Post

Best Jyotish Services in Hindi

Trusted Astrology Services Vastu Services, Spiritual Healing Services ज्योतिष संसार के माध्यम से आप पा सकते हैं अपने कुंडली का विश्लेषण, अपने कुंडली में मौजूद ख़राब ग्रहों के बारे में, अपने ताकतवर ग्रहों के बारे में, भाग्यशाली रत्नों के बारे में, ग्रहों के अनुसार सही कैरियर, सरकारी नौकरी, प्रेम विवाह, संतान योग, काले जादू का निवारण, ज्योतिषीय समाधान आदि के बारे में. Services For You By astrologer astroshree पाइये कुंडली विश्लेषण कुंडली का सटीक विश्लेषण प्राप्त करने के लिए अपना जन्म तारीख, जन्म समय और जन्म स्थान सही –सही भेजे साथ ही अपने प्रश्न भेजे. जानिए अपने कुंडली में मौजूद शक्तिशाली ग्रहो के बारे में. जानिए कौन से ग्रह जीवन में समस्या उत्पन्न कर रहे हैं. किन ज्योतिष कारणों से जीवन में असफलता प्राप्त हो रही है? जानिए कौन से रत्न भाग्योदय में सहायक होंगे? कौन सी पूजा आपके लिए सही है. आपके प्रश्नों का उत्तर, कुंडली अनुसार. Get The Indepth Analysis of your horoscope संपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >> पाइये कुंडली मिलान व