Hindi Jyotish Website, famous google jyotish, Astrologer in hindi

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे 
free jyotish, hindi jyotish, vedic jyotish online, google jyotish
hindi jyotish sewa online
समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है. 
विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है. 
ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है. 
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है. 
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है. 

आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :

  • जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आपके वैवाहिक जीवन के बारे मे ?, कब होगा विवाह, कैसा रहेगा वैवाहिक जीवन, क्यों परेशानी आ रही है वैवाहिक जीवन मे, ज्योतिष के हिसाब से क्या करें सुखी वैवाहिक जीवन के लिए.
  • अगर प्रेम जीवन मे परेशानी आ रही है तो भी आप ज्योतिष के हिसाब से कुंडली मिलवा के जान सकते हैं की क्यों आ रही है प्रेम मे खटास, कैसे बनाए प्रेम को बेहतर, कैसे मजबूत करे संबंधो को. कौन सी पूजा या रत्न शुभ रहेगा प्रेम जीवन के  लिए. 
  • जानिए क्या कहती है कुंडली आपके कामकाजी जीवन के बारे मे, क्यों बॉस खुश नहीं है , क्यों व्यापार नहीं चल रहा है, कब होगा भाग्योदय. 
  • जानिए अपने स्वास्थ्य समस्याओं के ज्योतिषीय कारणों को , जानिए कैसे ग्रह बिगाड़ते हैं जीवन को, जानिए कैसे ठीक कर सकते हैं स्वास्थय को ज्योतिष के उपायों के द्वारा.
  • अगर आप काले जादू से परेशान है तो भी आप ज्योतिष द्वारा मार्ग दर्शन प्राप्त कर सकते हैं. अगर आप नजर दोष से परेशान है , बार बार की कोशिशे भी काम नहीं कर रही है तो जरुर परामर्श ले और दूर करे समस्याओं को ज्योतिष के माध्यम से. 

Chaitra Navratri 2018 8 Dino Ki Hogi

chaitra navratri 2018
2018 me chaitra navratri

इस वर्ष 2018 मे चैत्र नवरात्री ८ दिनों की होगी और नवरात्री के पहले दिन संवत 2075 की शुरुआत होगी. 
 महत्त्वपूर्ण बात ये है की इस बार चैत्र नवरात्री की शुरुआत रविवार से हो रहा है और अंत भी रविवार को हो रहा है जिसके कारण सूर्य ग्रह की शक्ति से ये नवरात्र ओत-प्रोत रहेगा. अतः साधना की दृष्टि से ये ये नवरात्र बहुत शक्तिशाली रहेगा.

२०१८ चैत्र नवरात्र की तारीख:
नवरात्री १८ मार्च, रविवार २०१८ से शुरू होगा और अष्टमी और नवमी २५ तारीख, रविवार को होगा जिसके कारण नवरात्री ८ दिनों की होगी. 
आइये जानते हैं ज्योतिष के अनुसार इस बार चैत्र नवरात्री में ग्रहों की स्थिति क्या होगा:
  • इस चैत्र नवरात्र में सूर्य और बुध साथ में बैठने के कारण बुधादित्य योग का निर्माण होगा जो की साधना के लिए काफी अच्छा होगा. 
  • केतु भी शुभ स्थिति में रहेगा जिससे तांत्रिक साधना या प्रयोगों के लिए समय अच्छा रहेगा.
  • शुक्र उच्च का रहेगा जो भी अच्छा योग बना रहा है. 
  • हालांकि बुध, राहु और गुरु अशुभ रहेंगे जिसके कारण साधको को मन को एकाग्र करने में समस्या आ सकती है. 
  • चूँकि सूर्य इस बार प्रभाव में रहेगा चैत्र नवरात्री में जिसके कारण नाम, यश, ख्याति के लिए साधना शुभ रहेगा. 
  • शुक्र भी उच्च का रहेगा जिसके कारण प्रेम संबंधो के लिए उपाय करने के लिए शुभ समय रहेगा, विवाह समस्या के समाधान के लिए उपाय करने के लिए शुभ समय रहेगा, पारिवारिक समस्याओं के समाधान के लिए उपूक्त समय रहेगा. 
नव दुर्गाओ की शक्ति असीम होती है और नवरात्रियो में साधना करने का मौका छोड़ना नहीं चाहिए, माँ की कृपा प्राप्त करने का सबसे अच्छा समय होता है नवरात्री.
चैत्र नवरात्री २०१८ घाट स्थापना महुरत :
इस साल चैत्र नवरात्री ८ दिनों की रहेगी और ये दिन बहुत शक्तिशाली और ऊर्जा से भरपूर होते हैं साधना की दृष्टी से. 
नवरात्री में कन्या पूजन करना चाहिए माता स्वरुप मान कर.
अखंड दीपक भी जलाना शुभ रहता है.
नवरात्री के पहले दिन भक्तगण कलश स्थापना करते हैं और पुरे 9 दिनों तक उसकी पूजा करते हैं. इस कलश को घट भी कहते हैं. अगर कलश को सही महुरत में स्थापित किया जाए तो इसमें कोई शक नहीं की बहुत लाभ होता है. 
२०१८ में चैत्र नवरात्र १८ मार्च, रविवार से शुरू होगा और निम्न महुरतो में घट स्थापना की जा सकती है:

Rajyog Jyotish Mai, राजयोग को जानिए

Rajyog Jyotish Mai, राजयोग को जानिए,  कुंडली में राजयोग, ग्रहों की स्थिति राज योग में, कैसे जाने कुंडली में राजयोग को. 
ज्योतिष में राजयोग, कुंडली में राजयोग, राजयोग के फायदे हिंदी में
Rajyog Jyotish Mai, राजयोग को जानिए
कुंडली में मौजूद योगो को जानने की लालसा सभी को रहती है, जिन लोगो को ज्योतिष में रूचि होती है वो ये जानना चाहते हैं की उनके कुंडली में राज योग है की नहीं. इस लेख में इसी विषय पर प्रकाश डाला जा रहा है. क्या होता है राज योग, क्यों लोग इसके बारे में जानना चाहते हैं. क्या करे अगर राज योग न हो कुंडली में, कैसे जीए एक सुखी और सफल जीवन.

राजयोग के बारे में गलत धारणा :

लोग साधारणतः ऐसा सोचते हैं की राज योग सिर्फ एक ही प्रकार का होता है और इसमे सिर्फ एक ही प्रकार से ग्रहों की स्थिति होती है. परन्तु ये सरासर गलत धरना होती है. राज योग अलग अलग प्रकार के होते हैं और सभी में ग्रहों की स्थिति अलग अलग प्रकार के होते हैं. एक अच्छा और अनुभवी ज्योतिष आपकी कुंडली को देखके इसके बारे में सही जानकारी दे सकता है.

क्या है राज योग ?

राजयोग का अर्थ होता है कुंडली में ग्रहों का इस प्रकार से मौजूद होना की जीवन में सफलताओं को आसानी से व्यक्ति प्राप्त कर सकता हो. अगर कुंडली में राज योग होता है तो इसमे कोई शक नहीं की जातक का जीवन सुखी और प्रभावशाली होता है. कई बार कमजोर राज योग और भंग राज योग के कारण भी परिणाम में अंतर आता है.

आइये जानते हैं राजयोग के कारण जातक को क्या फायदे हो सकते हैं :

  1. इसके कारण व्यक्ति स्वस्थ, संपन्न और बुद्धिमान होता है.
  2. अगर कोई राजनीती में हो और उसके कुंडली में राज योग हो तो वो अच्छे पद तक पहुचता है.
  3. अगर किसी इंजिनियर के कुंडली में राज योग हो तो वो अपने कार्य से अच्छे पद को प्राप्त करता है.
  4. अगर किसी साधक के कुंडली में राज योग हो तो वो अपनी साधना में जल्दी तरक्की करता है.
  5. अगर किसी डॉक्टर के कुंडली में ये योग हो तो उसे चिकित्सा क्षेत्र में बहुत सफलता अर्जित करते हम देख सकते हैं.
  6. नाम, यश, ख्याति , धन , वैभव सभी कुछ राज योग के कारण जातक प्राप्त करता है जीवन में.

आइये अब जानते हैं की राजयोग होने पर भी क्यों कोई व्यक्ति इच्छित सफलता नहीं प्राप्त कर पाता है ?

कई बार लोग इस प्रकार के प्रश्न करते हैं की मेरे कुंडली में गजकेसरी योग है पर में बहुत परेशान रहता हूँ,खाने के लिए भी बहुत संघर्ष करना पड़ता है, क्यों. यहाँ यही कहना चाहेंगे की कुंडली में ग्रहों की सही तरीके से अध्ययन जरुरी है अगर हम सच जानना चाहते हैं. कई बार योग बहुत कमजोर होता है और कई बार उसका समय नहीं होता है. समय से पहले भी परिणाम की अपेक्षा हम नहीं कर सकते हैं.
एक उदाहरण से समझते हैं मेरे एक मित्र की कुंडली में गज केसरी योग था परन्तु उसे हमेशा ही परेशान देखता था, ज्योतिष उसकी कुंडली देख के यही बोलते की तुम्हारे पास तो बहुत धन है, तुम बहुत तरक्की करोगे परन्तु सच्चाई ये है की आज भी वो परेशान घूम रहा है न शादी हुई और न कोई स्थाई नौकरी और न खाने को घर.
जब मैंने उसकी कुंडली देखि तो पाया की उसके कुंडली में राज योग तो था पर गुरु और चन्द्र दोनों की शक्तिहीन थे जिससे उसे इस योग का लाभ नहीं मिल पा रहा था. अतः योग होक भी नहीं था. अतः ये जरुरी है की ग्रहों की स्थिति का पूर्ण अध्ययन करे किसी नतीजे पर पहुचने से पहले.

राज योग के कुछ प्रकार :

Black Magic Remedies | Kalajadu Ka Samadhaan

काला जादू का प्रभाव और समाधान

, कैसे करे काले जादू से बचाव , काले जादू या ब्लैक मैजिक से सुरक्षा के सूत्र, , Free encyclopaedia on kala jadu/ black magic  remedies in Hindi, bad effects of black magic, black magic impacts and remedies provider.
काला जादू का प्रभाव और समाधान, कैसे करे काले जादू से बचाव , काले जादू या ब्लैक मैजिक से सुरक्षा के सूत्र, , Free encyclopaedia on kala jadu/ black magic  remedies in Hindi, bad effects of black magic, black magic impacts and remedies provider.
kale jadu se kaise bache

नकारात्मक दिमाग वाले लोग काले जादू का स्तेमाल इसलिए करते हैं ताकि जल्द से जल्द अपनीइच्छाओं  को पूरा कर सकें. ये एक घातक हथियार है जो न केवल जिसपर प्रयोग किया जाता है उसको नष्ट करता है बल्कि जो इसका प्रयोग करता है उसको भी नष्ट करता है.

ये बहुत ही दुर्भाग्य की बात है की अज्ञानता और धीरज की कमी के कारण आज लोग शैतानी शक्तियों के स्तेमाल करने से भी नहीं चूकते हैं. ऐसे बहुत से केस मेरे पास आते रहते हैं जिनमें काले जादू के कारण लोग विभिन्न प्रकार के फल को भोगते हैं जैसे की-
  1. सारे गुण होने के बावजूद भी रोजगार न मिलना.
  2. अच्छा कार्य करने पर भी तरक्की a मिलना और ऊपर से अफसरों से सुनना.
  3. आय के स्त्रोत का अकस्मात् बंद हो जाना.
  4. शक्ति होने के बावजूद भी घर में बैठे रहना, काम नहीं करना.
  5. दिन भर सोते रहना.
  6. रोज बुरे सपने आना. 
  7. व्यापार में अकस्मात् हानि होना शुरू हो जाना और कारणो का पता नहीं चलना.

वक्तिगत जीवन पर भी काले जादू से बहुत प्रभाव पड़ता है जैसे की –

  1. वैवाहिक जीवन का नष्ट हो जाना, सब कुछ ठीक चलते चलते अचानक से रिश्तों में खटास आ जाना.
  2. प्रेम संबंधों में विच्छेद हो जाना बिना किसी कारण के. 
  3. बिना किसी कारण के तलाक की नौबत आना.
  4. रोज गली गलोच मरना पीटना आदि भी दिखाई पड़ते हैं.
  5. अचानक कोई गंभीर रोग होना और इलाज करने पर भी असर न होना.
  6. दुर्घटनाये होना और बड़े किसी हानि का होना.

इसके अलावा भी कुछ विचित्र बातें सामने आई है जैसे की –

  • कहीं पर भी आग लग जाना और नुक्सान होना.
  • घर पर से चीजों का गायब हो जाना .
  • पुरे घर में एक भय का वातावरण का निर्माण हो जाना.
  • खून की उल्टियाँ होना और मृत्यु नजर आना.
  • गंभीर बिमारी से ग्रस्त हो जाना और सब तरफ नकरात्मक वातावरण का निर्माण होना.
  • कहीं भी राह नजर न आना आदि .

काले जादू से बचाव के उपाय:

Parad Shivling Ki Pooja Kaise Kare

parad shivling ki puja kaise kare in hindi
Parad Shivling Ki Pooja Kaise Kare
जैसा की हम जानते हैं की पारद के शिवलिंग की पूजा से स्वास्थ्य, सम्पन्नता, मान सम्मान आदि की प्राप्ति हो सकती है. तो इस लेख में हम जानेंगे की कैसे करे आसान तरीके से पारे के शिवलिंग की पूजा. 
पारे के शिवलिंग का अध्यात्मिक महत्त्व है. 
  • पारद के शिवलिंग का धार्मिक महत्त्व है. 
  • इसके पूजा से धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष की प्राप्ति संभव है. अतः इसकी पूजा करनी चाहिए. 
  • पारद संहिता में पारे के लिंग के महत्त्व को विस्तार से बताया गया है. 
  • पारे का शिवलिंग हमे नकरात्मक शक्तियों से बचाता है. 
  • ये जीवन को सफल बनाने में मदद करता है. 
  • इसकी पूजा से रोगों से मुक्ति संभव है. 
  • पापो से मुक्ति के लिए भी लोग पारे के लिंग की पूजा करते हैं. 

आइये जानते हैं की पारद/मरकरी के शिवलिंग की पूजा कैसे करे ?

Mano Ya Na Mano Jyotish Kaam Karta Hai

best jyotish for prediction in hindi, vedic hindi jyotish online
Mano Ya Na Mano Jyotish Kaam Karta Hai
हम अक्सर लोगो को ज्योतिष विषय पर बहस करते हुए देख सकते हैं. कुछ लोग ज्योतिष को बहुत गहराई से मानते हैं और कुछ लोग इसका विरोध करते हैं, इसे अंध विश्वास मानते हैं. दशको से ये बहस का विषय रहा है. परन्तु फिर भी ऐसे बहुत से ज्योतिष हैं जो की लगातार ज्योतिष पर शोध और अध्ययन कर रहे हैं और लोगो का सही मर्दर्शन कर रहे हैं. लोग अपने भविष्य के बारे में जानते हैं, अपने काम काज के बारे में जानते हैं, सही व्यापार के विषय में जानते हैं, विवाह के समय की जानकारी निकालते हैं, प्रेम जीवन के बारे में जानते हैं, यश, नाम, ख्याति कब मिलेगी , या जानना चाहते हैं. ज्योतिष में खगोलीय घटनाओं का अध्ययन से मानव पर उसके प्रभाव के अध्ययन को करता है.

ज्योतिष के बारे में एक और बात ये जान लेना चाहिए की ये एक मात्र विषय है जो की भविष्य के घटनाओं का पता लगाने के लिए किया जाता है. हर व्यक्ति ये जानने को उत्सुक है की भविष्य के गर्भ में क्या छुपा है और ज्योतिष इसमें मदद करता है. 

जिन लोगो ने ज्योतिष का अध्ययन नहीं किया है और किसी अच्छे ज्योतिष से संपर्क नहीं किया है वे लोग इस विषय को अंध विश्वास बताते हैं. परन्तु जिन लोगो ने ग्रहों के बदलने से जीवन के बदलने को महसूस किया है वे लोग जानते हैं की ज्योतिष बिलकुल सत्य है और ये कोई अंधविश्वास नहीं है. आज पुरे विश्व में लोग ज्योतिष विषय को सीख रहे हैं और मर्दार्द्शन भी ले रहे हैं. 

कुछ बातो को हमेशा याद रखना चाहिए ज्योतिष के विषय में:
  • की भी २ कुंडलियाँ एक जैसी नहीं होती है, कुछ न कुछ अंतर सभी में देखने को मिलता है और इसी के आधार पर जातक का व्यवहार, रंग-रूप आदि दीखते हैं. 
  • ज्योतिष एक भविष्यवाणी कहने वाला विज्ञान है, ये कोई जादूगारी नहीं है. परन्तु बहुत से लोग धोखा खा जाते हैं इस बात को लेके की इसके डरा जीवन ही बदल जाता है. 
  • ज्योतिष के द्वारा हम अच्छे और बुरे समय का पता लगा सकते हैं और पहले से तैयारी करके रह सकते हैं जिससे जोखिक को कम कर सकते हैं, समस्याओं को कम कर सकते हैं. 
  • हम व्यक्ति के गुणों का भी पता लगा सकते हैं कुंडली मे मौजूद ग्रहों का अध्ययन करके. इसी के आधार पर ज्योतिष सही व्यापार, काम-काज आदि की राय देते हैं. 
  • वैदिक ज्योतिष में हम 9 ग्रहों का अध्ययन करते हैं जो की है सूर्य, चन्द्रमा, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु, केतु. 
  • वैदिक ज्योतिष में हम कुंडली में मौजूद 12 ग्रहों का अध्ययन करते हैं जो की जीवन के अलग अलग भागो से सम्बन्ध रखता है. 
  • ज्योतिष इस बात को भी बताते हैं की किस समय पर किस ग्रह का प्रभाव सबसे ज्यादा होगा और उसके कारण जीवन में क्या परिवर्तन हो सकता है, और लोग इसका अनुभव भी करते आ रहे हैं की ग्रहों की चाल और स्थिति बदलने से जीवन भी बदलने लगता है.

अतः कोई विश्वास करे या न करे परन्तु ज्योतिष कार्य करता है. हम सभी का जीवन ग्रहों, नक्षत्रो के द्वारा प्रभावित है और इस प्रभाव को ज्योतिष जान पाते हैं. 

Kundli Ka Gahraai Se Adhyan

deep analysis of kundli reading by jyotish in hindi
Kundli Ka Gahraai Se Adhyan
ज्योतिष ग्रहों, नक्षत्रो और खगोलीय घटनाओं के अध्ययन का विज्ञान है. हमारे जन्म पत्रिका में 9 ग्रह जिनमे सूर्य, चन्द्रमा, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु, केतु है अलग अलग भावो में बैठे रहते हैं, ज्योतिष का काम है इनके स्थिति, शक्ति, दृष्टी आदि का अध्ययन करके भविष्यवाणी करे. हर व्यक्ति की कुंडली एक दुसरे से भिन्न होती है और इसी के आधार पर उसके रंग, रूप, बोल चाल, व्यक्तित्त्व आदि में भिन्नता आती है. 

हर व्यक्ति की अपनी एक सोच होती है, व्यवहार होता है. इसका कारण ये है की हर व्यक्ति के ऊपर ग्रहों का प्रभाव अलग हुआ है. ये सब कुंडली/जन्मपत्रिका के गहराई से अध्ययन से पता चलता है. 

पृथ्वी घूम रहा है, सूर्य भी चल रहा है, हर ग्रह अपनी गति से चल रहा है लगातार और इसी बदलाव का असर लोगो के जीवन पर भी पड़ता है. इसी कारण जब ग्रह दशाये बदलती है तो व्यक्ति के जीवन में भी बदलाव देखा जाता है. इस बात का पता ज्योतिष से लगाया जाता है. 

जब कुंडली या जन्म पत्रिका का गहराई से अध्ययन होता है तो 5 बातो का ध्यान ज्योतिष रखते हैं:
  1. ग्रह कौन से भाव में बैठे है. 
  2. ग्रहों की बल कैसा है. 
  3. कुंडली में भावो की स्थिति कैसी है.
  4. वर्तमान में कौन से ग्रहों की दशा चल रही है. 
  5. कौन से ग्रह अपनी जगहों को बदल रहे हैं. 

जानिए वैदिक ज्योतिष से अपने बारे में गहराई से.
पाइए बेस्ट ज्योतिषीय मार्गदर्शन jyotishsansar.com से. 

बारीक़ ज्योतिषी अध्ययन के लिए ज्योतिष अलग अलग प्रकार के कुंडलियो का अध्ययन भी करते हैं जैसे :
  1. लग्न कुंडली – ये मुख्या कुंडली है जिससे जातक के रूप, रंग, व्यवहार, शक्ति, कमजोरी आदि को जाना जाता है. 
  2. नवमांश कुंडली – इसका अध्ययन साधारणतः जातक के व्यक्तिगत जीवन, वैवाहिक जीवन, सुख को जानने के लिए किया जाता है. 
  3. दशमांश कुंडली – ये कुंडली जातक के कर्म से सम्बन्ध रखता है, कामकाजी जीवन को बताता है. 

जीवन के बारे में गहराई से जानने के लिए कुंडली का बारीकी से अध्ययन जरुरी है. सही और सटीक भविष्यवाणी के लिए कुंडली को बहुत बारीकी से देखा जाता है. 
आप सही जन्म तारीख, जन्म समय और जन्म स्थान बता के ज्योतिष से सही मार्गदर्शन पा सकते हैं. 
सही जन्म की जानकारी से निश्चित ही एक अच्छा ज्योतिष सटीक भविष्यवाणी कर सकता है. 


कुंडली का सही विश्लेषण से जीवन में बहुत से महत्त्वपूर्ण निर्णय लेने में मदद मिलती है. इसके द्वारा हम काम-काजी जीवन, व्यापार, पढ़ाई, विवाह, संबंधो के बारे में सही निर्णय ले सकते हैं.

यहाँ ज्योतिष खुद ही कुंडली बना के व्यक्तिगत रूप से कुंडली का अध्ययन करके मर्दर्शन देते है जिसमे अनुभव और ज्योतिष ज्ञान का पूरा प्रयोग होता है.