Gateway Of Jyotish Sansar| Best Astrology Hindi Site

भारतीय ज्योतिष की शक्ति | Power of Indian Astrology

What is jyotish,  ज्योतिष क्या है , ज्योतिष का रहस्य , ज्योतिष के द्वारा क्या क्या द्वारा क्या किया जा सकता है , power of jyotish, use of jyotish, benefits of jyotish in hindi, Why astrology, Astrologer for solutions On line.

ज्योतिष अपने आप में एक रहस्यमय विषय है | जो इसके बारे में जानते है वो इस विषय का लाभ लेकर जीवन में उंचाइयो को छूते हैं।  ज्योतिष के द्वारा ग्रहों के खेल को समझा जाता है, ज्योतिष के द्वारा ग्रहों का प्रभाव हमारे जीवन में कैसा रहेगा, ये देखा जाता है।
Power of Vedic jyotish, Best Astrologer In Google
Why Vedic Jyotish
ज्योतिष को वेदों कि आँखें भी कहा जाता है।  ऐसा कहा गया है "ज्योतिष वेदानां चक्षुः ". ज्योतिष के द्वारा भूत, भविष्य और वर्तमान के बारे में जाना जाता है।  

किसी के जीवन में कब अच्छा समय आयेगा, कब बुरा समय आयेगा, कब भाग्योदय होगा, कब विवाह होगा, क्या करना चाहिए , कब करना चाहिए आदि का ज्ञान बड़ी ही आसानी से पता लगा लिया जाता है।  

ज्योतिष के बारे में गलत फहमी :

Ravi Pushya Ka Mahatwa In Hindi

Ravi  pushya ka mahatwa in hindi, क्या करे रवि पुष्य के दिन सफलता के लिए, टोटके सफलता के लिए, क्या ख़रीदे रवि पुष्य को सम्पन्नता के लिए.
jyotish dwara jaane ravi pushya ke upaay on line free
ravi pushya mahatwa

27 नक्षत्रों में पुष्य नक्षत्र सबसे महत्वपूर्ण नक्षत्र है और जब पुष्य नक्षत्र रविवार को आता है तो वो दिन बहुत ही पुण्यशाली बन जाता है, इसे कहते हैं रवि पुष्य योग. ये दिन किसी भी नए कार्य को करने के लिए शुभ होता है, कुछ नया खरीदने के लिए शुभ होता है, अध्यात्मिक साधना करने वालो के लिए भी बहुत महत्व रखता है, आयुर्वेदिक दवाइयों को बनाने के लिए भी अच्छा दिन होता है, तंत्रोक्त प्रयोगों को करने के लिए भी उपयुक्त दिन होता है. 

साधारणतः लोग इस दिन सोने के गहने खरीदना पसंद करते हैं, ऐसी मान्यता है की रवि पुष्य के दिन अगर कोई अच्छा कार्य करे तो निश्चित ही सम्पन्नता जीवन मे आती है, ख़ुशी आती है, सफलता आती है.
रवि पुष्य जब भी आये तो इस दिन कुछ प्रयोग जरुर करना चाहिए अपने जीवन को सफल बनाने के लिए. 

आइये देखते हैं कुछ ख़ास और आसान उपाय जो की हम कर सकते हैं रवि पुष्य को:

Motapa Niyantran Ke Liye Acupressure

Motapa Niyantran Ke Liye Acupressure, मोटापा कैसे कम करे प्राकृतिक तरीके से, मोटापा को नियंत्रित  करने का आसान तरीका.
best and easy way in hindi to reduce fat
motapa aur acupressure

ज्यादा वजन कई गंभीर परेशानियाँ उत्पन्न कर देता है जीवन में, अधिक वजन के कारण हम स्वतंत्र होकर जीवन का आनंद नहीं ले पाते हैं. मोटापे के कारण नौकरी, व्यापार और व्यक्तिगत जीवन में भी कई परेशानियां होती है. अतः ये जरुरी है की इसे नियंत्रिक किया जाए. 

आज के दौर में आहार विशेषज्ञों, स्लिमिंग केन्द्रों के द्वारा कई प्रकार के कोर्सेज करवाए जाते हैं जिसके द्वारा वजन कम किया जाता है और लोग इनका लाभ ले रहे हैं परन्तु इस लेख में आपको में ये बताने जा रहा हूँ की किस प्रकार से शारीर में मौजूद कुछ बिन्दुओं को दबाकर शारीर को स्वस्थ रखा जा सकता है. इस उपचार पद्धति का प्रयोग कोई भी बहुत आसानी से कर सकता है और वो भी स्वयं बिलकुल मुफ्त, free.
आगे बढ़ने से पहले चलिए पहले जान लेते हैं कुछ महत्वपूर्ण बातें जिसके बाद आप को उपचार करना आसान हो जाएगा.
spleen क्या होता है ?
हिंदी में इसे हम तिल्ली या फिर प्लीहा के नाम से जानते हैं ये शारीर के अन्दर मौजूद एक महत्वपूर्ण अंग है जो की जिगर और गुर्दे के बीच में स्थित है. ये शारीर के अन्दर मौजूद लसिका प्रणाली का महत्वपूर्ण भाग है, ये कीटाणुओं से लड़ता है शारीर को स्वस्थ रखने के लिए, ये संचार प्रणाली को स्वस्थ रखता है शारीर के अन्दर जिससे की पाचन भी अच्छा होता है और यही नहीं खून को साफ़ करने के काम में भी ये सलग्न रहता है. अतः प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए ये महत्वपूर्ण है.

एक्यूप्रेशर काम करता है मेरीडियन सिस्टम के ऊपर अर्थात शारीर के अन्दर कई प्रकार के मेरीडियन हैं जिनमे की अलग अलग बिन्दुओं पर दबाव डाला जाता है जिससे की शारीर के अन्दर विशेष प्रकार का रासायनिक क्रियाएं होती है और लाभ पहुचती है व्यक्ति को. 

spleen मेरीडियन जो है वो शुरू होता है पैर के अंगूठे से और जाता है ह्रदय तक.

अब आइये जानते हैं मोटापे के कुछ ख़ास कारणों को:
1. अपने स्वाद और भूख पर नियंत्रण न होने से मोटापे को हम बढ़ाते हैं.
2. पाचन प्रणाली के कमजोर होने से भी मोटापा बढ़ने लगता है.
3. फ़ास्ट फ़ूड का ज्यादा स्तेमाल भी हमे नुक्सान पहुचता है.
4. सही मात्रा में शारीरिक परिश्रम न करना और व्यायाम आदि न करना भी इसका एक महत्वपूर्ण कारण है. 
इस सब के करना शारीर में वसा बढ़ने लगता है और हम मोटापे के शिकार हो जाते हैं और देखते ही देखते कई अन्य बीमारियाँ भी हमे घेर लेती हैं. 

आइये अब जानते हैं मोटापा कम करने के आसान तरीके :

Akshay Tritiya Ka Mahatw In Hindi

Akshay tritiya ka mahatw in hindi, क्या है अक्षय तृतीय, धार्मिक महत्तव , क्या करे अक्षय तृतीय को, क्या न करे इस पुण्यशाली दिन को, टोटके अक्षय तृतीय के लिए.
jyotish dwara janiye kya kare akshay tritiya ko safalta ke liye hindi mai
akshay tritiya ka mahaatw

अगर आप कोई महत्त्वपूर्ण कार्य का आरंभ करना चाहते हैं, अगर आप पुण्य प्राप्त करने के लिए कोई क्रिया करना चाहते हैं, अगर आप निर्विघ्नता से किसी कार्य को पूर्ण करना चाहते हैं, और अगर आपको मुहुर्त का ज्ञान नहीं है तो कोई बात नहीं है, अक्षय तृतीय का दिन वो शुभ दिन होता है जब कोई भी अच्छा कार्य हम शुरू कर सकते हैं, ये एक स्वयं सिद्ध मुहुर्त है. 

क्या है अक्षय तृतीय?
इस दिन को “आखा तीज” के रूप में भी जानते हैं. ये दिन भगवान् परशुराम के जन्मदिन के रूप में भी मनाया जाता है जो की विष्णुजी के छठे अवतार थे. ये वो दिन है जब भगवान् गणेश जी के महाभारत लिखना प्रारंभ किया था. ये दिन है भाग्य को जगाने का , ये दिन है सफलता के लिए क्रियाओं को करने का, ये दिन है देवी शक्तियों के आशीर्वाद लेने का.

अक्षय तृतीय का धार्मिक महत्तव :

Shani Amavas Ka Mahatw In Hindi

Shani amavas ka mahatwa in hindi, कैसे छुटकारा पायें शनि के बुरे प्रभाव से, शनि अमवस्या को क्या करे सफलता के लिए?, शनि के टोटके, शनि पीड़ा से मुक्ति के उपाय.
shani amavasya ko kya kare khas safalta ke liye
Shani amvasya significance in hindi

हिन्दू परंपरा के अनुसार शनि अमवस्या का बहुत अधिक महत्तव है. इस दिन पवित्र नदियों के किनारे मैले जैसा वातावरण हो जाता है, लोग पवित्र नदियों में स्नान करते है और नदी तट पर ही पूजा पाठ आदि करते हैं कृपा प्राप्त करने के लिए. इस दिन पितृ शांति की पूजा होती है, काले जादू से मुक्ति हेतु भी ये दिन विशेष महत्तव रखता है, नजर दोष, उपरी हवा से बचाव के लिए भी इस दिन विशेष क्रियाये की जाती है. इस दिन शनि पूजा का भी बहुत लाभ मिलता है. इसी कारण शनिवार को पड़ने वाले अमावस्या का बहुत अधिक महत्तव होता है. 

तंत्र के हिसाब से भी ये दिन ख़ास महत्तव रखता है. जानकार लोग इस दिन शक्ति प्राप्त करने हेतु विशेष साधना करते हैं. नकारात्मक विचारो से ग्रस्त लोग इस दिन लोगो को नुक्सान पहुचाने हेतु क्रियाएं करते हैं अतः ये जरुरी है की सावधानी बरती जाए. 

अगर किसी जातक के कुंडली में ग्रहण योग है या फिर शनि नीच का है तो ऐसे में उनको इस दिन बहार नहीं निकलना चाहिए और पूजा पाठ में दिन रात बिताना चाहिए. राक्षस गण वालो को भी सावधानी बरतनी चाहिए. जिनकी कुंडली में ग्रहों का बल कम हो उन्हें भी इस दिन ज्यादा घूमना नहीं चाहिए. शनि अमावस्य को कोई नया कार्य आरम्भ न करे. 

शनि अमावस्या से डरने की जरुरत नहीं है अपितु ये एक ख़ास दिन है जब हम देविक कृपा आसानी से प्राप्त कर सकते हैं अतः इस दिन श्रद्धा और विश्वास से पूजा पाठ करना चाहिए. 

आइये अब जानते हैं की किनके लिए शनि अमावस्या को किनके लिए पूजा सबसे ज्यादा लाभदायक सिद्ध हो सकती है?