Hindi Jyotish Website, famous google jyotish, Astrologer in hindi

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, Hindi Astrology by famous Astrologer, कुंडली का अध्ययन हिंदी में, वैदिक ज्योतिष.

ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे 
free jyotish, hindi jyotish, vedic jyotish online, google jyotish
hindi jyotish sewa online
समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है. 
विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है. 
ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है. 
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है. 
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है. 

आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :

  • जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आपके वैवाहिक जीवन के बारे मे ?, कब होगा विवाह, कैसा रहेगा वैवाहिक जीवन, क्यों परेशानी आ रही है वैवाहिक जीवन मे, ज्योतिष के हिसाब से क्या करें सुखी वैवाहिक जीवन के लिए.
  • अगर प्रेम जीवन मे परेशानी आ रही है तो भी आप ज्योतिष के हिसाब से कुंडली मिलवा के जान सकते हैं की क्यों आ रही है प्रेम मे खटास, कैसे बनाए प्रेम को बेहतर, कैसे मजबूत करे संबंधो को. कौन सी पूजा या रत्न शुभ रहेगा प्रेम जीवन के  लिए. 
  • जानिए क्या कहती है कुंडली आपके कामकाजी जीवन के बारे मे, क्यों बॉस खुश नहीं है , क्यों व्यापार नहीं चल रहा है, कब होगा भाग्योदय. 
  • जानिए अपने स्वास्थ्य समस्याओं के ज्योतिषीय कारणों को , जानिए कैसे ग्रह बिगाड़ते हैं जीवन को, जानिए कैसे ठीक कर सकते हैं स्वास्थय को ज्योतिष के उपायों के द्वारा.
  • अगर आप काले जादू से परेशान है तो भी आप ज्योतिष द्वारा मार्ग दर्शन प्राप्त कर सकते हैं. अगर आप नजर दोष से परेशान है , बार बार की कोशिशे भी काम नहीं कर रही है तो जरुर परामर्श ले और दूर करे समस्याओं को ज्योतिष के माध्यम से. 

Kuch Prabhaavshaali Totkay Jyotish Mai

कुछ प्रभावशाली टोटके, कुछ आसान टोटके से बनाए जीवन को सुखी, ज्योतिष द्वारा बनाए अपने जीवन को सफल. 
some totke in hindi to remove problems of life, jyotish and totke for success
Kuch Prabhaavshaali Totkay Jyotish Mai
कई बार ऐसा होता है की हम कई समस्याओं से ग्रस्त हो जाते हैं अचानक और उस समय हम ये भी समझ नहीं पाते है की क्या करे बचने के लिए. शोध ये बताते हैं की किसी भी समस्या के पीछे कही न कही नकरात्मक उर्जाव का असर होता है. अतः ऐसे समस्याओं से बचने के लिए टोटको का प्रयोग किया जाता है. टोटके से डरने की जरुरत नहीं है. ज्योतिष से जानकारी लेके टोटके करने पर फायदा होता है. श्रद्धा और विश्वास से अगर टोटको को लगातार किया जाए तो निश्चित ही फायदा होता है.

आइये जानते हैं कुछ टोटके समस्याओं से छुटकारे के लिए:

पति के अचानक आये गुस्से से कैसे मुक्ति पायें?

ऐसा देखा गया है की कभी कभी पति को बहुत तेज गुस्सा आ जाता है जिसके कारण घर में कलह का वातावरण उत्पन्न हो जाता है. इस गुस्से को ठंडा करने के लिए जितनी पति की उम्र हो उतने मिर्ची के बीज लेले और उन्हें आग में डाल दे. इससे धीरे धीरे पतिदेव का गुस्सा कम होने लगेगा.

गलतफहमियो से या फिर घृणा से कैसे मुक्ति पाए?

साधारणतः ऐसा देखा गया है की घर में सदास्य एक दुसरे से जलन रखते हैं , घृणा करते हैं और इसके कारण परिवार का वातावरण ख़राब होता है. गलतफहमियां अगर कम न हो तो परिवार में गंभीर समस्याए उत्पन्न हो सकती है. परिवार में शान्ति बनाए रखने के लिए ये टोटका करना चाहिए.
७ गोमती चक्र ले, ७ मोती शंख ले, ७ लघु नारियल ले. सभी को पीले कपड़े में रखे. अब इस पोटली को सभी सदस्यों के ऊपर से 21 बार उतारे और फिर इस पोटली को होलिका में जला दे. इससे घर में शांति का माहोल उत्पन्न होने लगेगा. ये टोटका होलिका दहन की रात्रि को होता है.

किसी गंभीर रोग के डर से कैसे मुक्ति पायें?

अगर किसी बिमारी से परेशान हो और डर गहराता जा रहा हो तो निम्न टोटका फायदेमंद हो सकता है. इस टोटके को अमावस्या, शनिवार या मंगलवार की रात्री को १२ बजे करने से लाभ होता है. इसके लिए एक मिटटी का सकोरा ले, उसमे एक कच्छा अंडा रखे, १ लड्डू, २ सिक्के, रखे और उसपर सिन्दूर छिड़क दे. अब इस सकोरे को बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति के ऊपर से 21 बार उतारे और किसी चौराहे पर छोड़ के आ जाएँ. वापस आके हाथ मुंह धो के गूगल की धुप दे. इससे अगर कोई नकारात्मक उर्जा का असर होगा तो ख़त्म होगा, बिमारी से मुक्ति में सहायता मिलेगी.
कुछ प्रभावशाली टोटके, कुछ आसान टोटके से बनाए जीवन को सुखी, ज्योतिष द्वारा बनाए अपने जीवन को सफल.

किसी भी समस्या से मुक्ति के लिए टोटका जानिए?

सुबह ब्रह्म महुरत में उठे और छत पर जाए, दक्षिण की तरफ मुंह करके दोनों हाथो को फैला कर दिव्य उर्जाव से परार्थना करिए की आपको समस्याओं से मुक्ति दे. ४० दिन लगातार प्रयोग करने से काफी अच्छे परिणाम मिलेंगे.

किसी भी कन्या के सुखी वैवाहिक जीवन के लिए कौन सा टोटका करे?

विदाई के समय कन्या को एकांत कमरे में ले जाए. एक लोटे में जल भरे और उसमे हल्दी का पाउडर डाले और कुछ हल्दी की गांठ डाले. अब उसे कन्या के ऊपर से 21 बारे लोटे को उतारे और किसी पौधे या पेड़ में डाल दे. इस टोटके को करने से कन्या के वैवाहिक जीवन सुखी होता है.

इंटरव्यू में सफलता के लिए क्या करे ?

जब भी इंटरव्यू में जाए तो ये टोटका करे --- एक मुट्ठी काली उरद की दाल ले और चौखट पे खड़े होक दाल को अपने सर पे डाले. किसी को बोले की आपके जाने के १५ मिनट बाद सारे दालो को उठा के बहार कही फेक दे. इससे इंटरव्यू में सफलता के योग बढ़ जायेंगे.

किसी भी महत्त्वपूर्ण कार्यो की सफलता के लिए क्या करे?

जब भी किसी महत्त्वपूर्ण कार्यो को करने के लिए जाए तो सबसे पहले भगवान् गणेशजी के सूंड की पूजा करके निकले , इससे बाधाओं का नाश होगा और कार्य में सफलता मिलेगी.

Mithun Sankranti Significance In Astrology

मिथुन संक्रांति क्या है, क्या महत्त्व है मिथुन संक्रांति का, क्या करे पुण्य लाभ के लाभ के लिए, ज्योतिष से जानिए कुछ ख़ास उपाय.
मिथुन संक्रांति क्या है, क्या महत्त्व है मिथुन संक्रांति का, क्या करे पुण्य लाभ के लाभ के लिए, ज्योतिष से जानिए कुछ ख़ास उपाय.
Mithun Sankranti Significance In Astrology

मिथुन संक्रांति का महत्त्व:

जब मिथुन संक्रांति होती है हिन्दू पंचांग के हिसाब से तो भारत के गुवाहाटी में कामख्या मंदिर में एक ख़ास घटना घटती है, ये सिर्फ साल में एक बार होता है और पुरे विश्व से लोग यहाँ आते है इस चमत्कार को देखने के लिए. 

मिथुन संक्रांति क्या है?

जब सूर्य वृषभ राशि से मिथुन में प्रवेश करता है तो उस समय को मिथुन संक्रांति कहते हैं. ज्योतिष के हिसाब से इस दिन के बाद अगले करीब ३१ दिन तक सूर्य मिथुन राशी में रहता है. 
भारत के बहुत से भागो में इस दिन लोग भगवान् विष्णु की पूजा करते हैं. कई भागो में मानसून आ जाता है और लोग बारिश का भी आनंद लेते हैं.

मिथुन संक्रांति को लोग क्या करते हैं ?

  • इस दिन लोग भगवान् विष्णु के साथ धरती माँ की पूजा करते हैं. 
  • लोग विभिन्न वस्तुओ का दान करते हैं जरुरतमंदो को पुण्य लाभ के लिए. 
  • सूर्य का सम्बन्ध पितरो से है अतः बहुत से लोग पितरो के उन्नति और उनसे आशीर्वाद के लिए प्रार्थनाये और पूजा करते हैं. 
  • इस दिन बहुत से लोग चावल नहीं खाते हैं. 

मिथुन संक्रांति और अम्बुबाची मेला:

Ambubachi Mela Ka Mahatwa In Hindi

Ambubachi Mela Ka Mahatwa In Hindi, क्या है अम्बुबाची मेला, क्यों लगता है ये मेला कामख्या मंदिर में, जानिए कामख्या माता की चमत्कारी शक्ति को.
best jyotish for ambubaachi festival astrology in hindi
ambubaachi utsav importance in hindi
जब तंत्र की बात चलती है तो माता कामख्या की कृपा को नजरंदाज नहीं कर सकते हैं, माता की पूजा अलग अलग कार्यो के लिए लोग करते हैं, परन्तु तांत्रिक जगह के रूप में भी कामख्या मंदिर अति प्रसिद्ध है. ये एक प्रसिद्ध, पवित्र और शक्तिशाली स्थान है, गुवाहटी , आसाम में जहा विश्वभर से लोग माता की कृपा और चमत्कार को देखने लोग प्रतिवर्ष आते हैं.

क्या है अम्बुबाची?

ये नाम उस मेले को दिया जाता है जो की प्रतिवर्ष 5 दिनों के लिए लगता है कामाख्या में. साधक लोग इस 5 दिन का इन्तेजार पुरे साल भर करते हैं. बड़े हर्ष और उल्लास के साथ ये 5 दिन मनाये जाते हैं.
ऐसी मान्यता है की साल में एक बार माँ रजोधर्म से गुजरती है और इसीलिए 5 दिनों के लिए मंदिर के पट बंद रहते हैं और मंदिर प्प्रंगन में मेला लगता है. 
इस समय यहाँ पर विभिन्न तांत्रिको को देखा जा सकता है जो की विभिन्न प्रकार की साधनाओ में लगे रहते हैं. इस समय माता की शक्ति का अनुभव सब आसानी से कर सकते हैं.

इस साल २२ जून से 2५ जून २०१८ तक अम्बुबाची मेला लग रहा है.

इस समय में मंदिर बंद रहता है और सही समय पर पूर्ण विधि विधान से पूजन के बाद ही खोला जाता है और तब लाखो की संख्या में भक्त माता के दर्शनों के लिए उमड़ते हैं. 

कामाख्या मंदिर क्यों प्रसिद्ध है?

ये मंदिर गुवाहटी, आसाम में है और ५१ शक्तिपीठो में से एक है. यहाँ पर माता की पूजा योनी के रूप में होती है. अतः तांत्रिक साधना के लिए अतिश्रेष्ठ स्थानों में से एक है. 
ये जगह कला जादू के लिए भी बहुत प्रसिद्ध है.

अम्बुबाची उत्सव का रहस्य :

ये समय बारिश के दिनों में अत है और ये 5 दिन शक्ति साधना के लिए , तत्न्रिक उपासना के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण माना जाता है. ऐसे समय में हम वह पर तांत्रिक, अघोरी, योगिनी आदि को करीब से देख सकते हैं जो की विभिन्न प्रकार की साधनाओ में लगे रहते हैं. 
ये समय मनोकामना पूर्ति के लिए विशेष माना जाता है.
जब मंदिर के पट खुलते हैं तो भक्तो को प्रसाद के रूप में लाल वस्त्र दिया जाता है जो की माता के रजोधर्म का प्रतिक होता है.
एक चमत्कारी बात जो दिखती है वो ये की मंदिर के पट बंद करने से पहले सूती कपडा माता के योनी में रखा जाता है और जब पट खोला जाता है तो पूरा कपडा लाल द्रव्य से सना मिलता है, यही बताता है की वहां पर कोई तो शक्ति है जो भक्तो की मनोकामना पूरी करती है. 

२०१८ में अम्बुबाची मेला और ज्योतिष :

Pati Aur Patni Sambandh Aur Jyotish

पति पत्नी विवादों का ज्योतिष समाधान,  पति और पत्नी के अच्छे संबंधो के लिए क्या करे, ज्योतिष द्वारा जानिए संबंधो को अच्छा करने के तरीके. 
पति पत्नी विवादों का ज्योतिष समाधान,  पति और पत्नी के अच्छे संबंधो के लिए क्या करे, ज्योतिष द्वारा जानिए संबंधो को अच्छा करने के तरीके.
Pati Aur Patni Sambandh Aur Jyotish

पति पत्नी के झगड़े और ज्योतिष:

विवाह एक ऐसा बंधन है जिसके द्वारा २ व्यक्ति आगे का जीवन साथ में बिताने के लिए वचनबद्ध होते हैं.  इसी कारण लोगो के दिमाग में विवाह को लेके अलग अलग सपने होते हैं. परन्तु कुछ ऐसे भी जोड़े हैं जो की किसी न किसी कारण से एक दुसरे से अलग हो जाते हैं. कई बार कोई एक साथी मज़बूरी में दबाव में अगर न चाहते हुए भी तलाक ले लेते हैं. 
पति और पत्नी के बीच तनाव तब घटता है जब कोई एक साथी दुसरे की भावनाओं को नहीं समझता है, सम्मान नहीं देता है और भावनाओं को बताता नहीं है. 
ज्योतिष के द्वारा भी हम पति पत्नी के संबंधो में खटास के कारणों को जान सकते हैं. अगर आप भी अपने जीवन में विवाह समस्या से ग्रस्त है तो अच्छे ज्योतिष से संपर्क करे और जानिए समाधान अपने वैवाहिक जीवन का. 

आइये जानते हैं कुछ सामान्य कारण पति पत्नी के बीच समस्याओं का:

  1. पति-पत्नी के मानसिक स्थितियों में अंतर – ये एक सच है की २ लोगो के दिमाग एक जैसे नहीं होते इसी कारण विवाद का जन्म होता है जब दो विपरीत मानसिकता के लोग साथ में रहने लगते हैं. 
  2. विवाह से पहले दोनों के जीवन शैली में अंतर होना. 
  3. धन की कमी भी पति-पत्नी  के बीच झगडे का कारण होता है. 
  4. विवाह के बाद किसी और से सम्बन्ध होना भी पति-पत्नी के बीच समस्याओं को जन्म देता है. 
  5. परिवार के लोगो या फिर किसी अन्य व्यक्ति का पति-पत्नी  के बीच में आना भी समस्याओं को जन्म देता है. 
  6. जरुरत से ज्यादा एक दुसरे से अपेक्षा रखना भी समस्याओं का कारण है और तलाक तक की नौबत आ जाती है. 

आइये अब जानते हैं पति-पत्नी के बीच विवादों के कुछ ज्योतिषी कारण:

  • कुंडली में विवाह स्थान में शत्रु राशि का ग्रह पति-पत्नी के बीच तनाव उत्पन्न करता है. 
  • कुंडली में तलाक के योग भी वैवाहिक जीवन में समस्या को उत्पन्न करता है. 
  • कमजोर शुक्र भी असंतुष्ट वैवाहिक जीवन के लिए जिम्मेदार है. 
  • कई बार जब महादशा या अन्तर्दशा या फिर प्रत्यांतार्दशा में ख़राब ग्रह आ जाते हैं तब भी व्यक्ति के वैवाहिक जीवन में संघर्ष शुरू हो जाता है. 
  • कई लोगो के जीवन में कुंडली के नहीं मिलने के कारण भी विवाह करने पर समस्याएं उत्पन्न हो जाते हैं. 
  • कुंडली में अगर सुख स्थान ख़राब हो तो भी जातक को वैवाहिक जीवन में समस्या आती है. 
  • संतान भाव में समस्या के कारण संतान नहीं हो पाती है, ऐसे में भी पति-पत्नी  अलग हो जाते हैं. 
  • कुंडली में कुछ दोष भी होते हैं जो की पति-पत्नी के बीच संबंधो को ख़राब कर देते हैं. ऐसे में दोष निवारण पूजा करवाना चाहिए. 
अतः अगर ग्रहों के कारण पति-पत्नी  के सम्बन्ध ख़राब हो रहे हो तो वैवाहिक जीवन को अच्छा करने के लिए अच्छे ज्योतिष से संपर्क करना चाहिए. कुंडली को देखने के बाद ही ज्योतिष सही राय दे सकते हैं. 
अगर पति-पत्नी के विवाद को शुरू में ही या जल्दी ही नहीं सुलझाया जाए तो धीरे धीरे बढ़ते हुए तलाक तक पंहुच जाती है. 
सफल जीवन जीने के लिए पति और पत्नी को शीघ्र ही विवादों से बाहर आना चाहिए. 

आइये जानते हैं पति-पत्नी के बीच विवादों का समाधान ज्योतिष द्वारा:

Kamjor Shukra Ka Jivan Par Prabhav Aur Upaay Jyotish Me

कमजोर शुक्र का प्रभाव जीवन में, कैसे बढ़ाए शुक्र की शक्ति को , क्या नुक्सान होता है शुक्र कमजोर होने से ज्योतिष के हिसाब से, जानिए कुछ ख़ास उपाय अच्छे जीवन के लिए, hindi jyotish website.
कमजोर शुक्र का प्रभाव जीवन में, कैसे बढ़ाए शुक्र की शक्ति को , क्या नुक्सान होता है शुक्र कमजोर होने से ज्योतिष के हिसाब से, जानिए कुछ ख़ास उपाय अच्छे जीवन के लिए.
Kamjor Shukra Ka Jivan Par Prabhav Aur Upaay Jyotish Me
शुक्र एक ऐसा ग्रह है जो यदि जातक को लाभ दे तो व्यक्ति को मनमोहक बना देता है, दुसरो को आकर्षित करने की शक्ति देता है, शानदार जीवन देता है, विलासिता के साधन प्रदान करता है आदि.
अतः शक्तिशाली और शुभ शुक्र की जरुरत इस नश्वर जीवन को सफलता पूर्वक जीने के लिए बहुत महत्त्व रखता है. इसके कारण जातक सांसारिक आवश्यकता को आसानी से पूरी कर सकता है. कमजोर शुक्र के कारण जातक को जीवन में बहुत परेशानियां होती है.

शुक्र अगर ज्यादा शक्तिशाली हो जाए तो जातक को कुछ अनैतिक कार्यो में उलझा देता है जिसके कारण बदनामी भी हो सकती है. अतः ये जरुरी है की शुक्र की शक्ति को बैलेंस रखा जाए.

आइये जानते है की कमजोर शुक्र के कारण जीवन में क्या प्रभाव हो सकता है ?

  • कमजोर शुक्र के कारण विपरीत लिंग के साथ संबंधो में परेशानी हो सकती है.
  • इसके कारण आलीशान जीवन जीने में बाधा उत्पन्न हो सकती है.
  • कमजोर शुक्र सेक्स जीवन को भी प्रभावित करता है.
  • कमजोर शुक्र प्रेम जीवन को भी प्रभावित करता है. 
  • इसके कारण जातक की आकर्षण शक्ति भी कम हो सकती है.
  • जातक दुसरो को प्रभावित करने में कमजोर पड़ता है.

कैसे बढायें शुक्र की शक्ति को?

Kalsarp Yog Se Mukti Ke Liye Totke, कालसर्प दूर करने के लिए टोटके

Kalsarp Yog Se Mukti Ke Liye Totke, कालसर्प दूर करने के लिए टोटके, जन्म कुंडली में कालसर्प योग बनने के कारण क्या समस्यायें उत्पन्न होती हैं, क्या कालसर्प वाकई खतरनाक होता है, जानिए कुछ आसान टोटके कालसर्प योग से बचने के लिए hindi में, Hindi Jyotish website.
free totkay for remedies of kalsarp yoga in hindi by jyotish
kalsarp ke liye totke hindi mai

वास्तव में कालसर्प योग से जायदा डरने की जरुरत नहीं है क्यूंकि ऐसे दुसरे भी बहुत से योग कुंडली में पाए जाते हैं जो की इससे भी ज्यादा घटक होते हैं. 
कालसर्प योग से तात्पर्य है 7 ग्रहों का राहू और केतु के बीच में आ जाना उदाहरण के लिए सूर्य, चन्द्र , मंगल, बुध, गुरु शुक्र, शनि अगर राहू और केतु के बीच में आ जाते हैं तो कालसर्प योग का निर्माण हो जाता है जन्म कुंडली में.
ये योग एक प्रकार का रोक पैदा करता है अर्थात जातक को कार्यो को करने में मेहनत ज्यादा करना होता है और उसका फल कम मिलता है. जिसके कारण उदासीनता, क्रोध, विषाद आदि आ जाते हैं, सही कार्य नहीं मिल पता, सही पारिश्रमिक नहीं मिल पाता है,  . सही जीवन साथी सही समय पर नहीं मिल  पाता है, विद्यार्थी सही नंबर नहीं ला पाते है, संतान समस्या उत्पन्न होती है आदि. 
अतः इस लेख में कुछ आसान टोटके दिए जा रहे हैं जिनका स्तेमाल करके जातक कालसर्प योग या सर्प श्राप से मुक्ति पा सकते हैं. 

आइये जानते हैं कालसर्प योग को दूर करने के लिए कुछ टोटके :