Gateway Of Jyotish Sansar| Best Astrology Hindi Site

भारतीय ज्योतिष की शक्ति | Power of Indian Astrology

What is jyotish,  ज्योतिष क्या है , ज्योतिष का रहस्य , ज्योतिष के द्वारा क्या क्या द्वारा क्या किया जा सकता है , power of jyotish, use of jyotish, benefits of jyotish in hindi, Why astrology, Astrologer for solutions On line.

ज्योतिष अपने आप में एक रहस्यमय विषय है | जो इसके बारे में जानते है वो इस विषय का लाभ लेकर जीवन में उंचाइयो को छूते हैं।  ज्योतिष के द्वारा ग्रहों के खेल को समझा जाता है, ज्योतिष के द्वारा ग्रहों का प्रभाव हमारे जीवन में कैसा रहेगा, ये देखा जाता है।
Power of Vedic jyotish, Best Astrologer In Google
Why Vedic Jyotish
ज्योतिष को वेदों कि आँखें भी कहा जाता है।  ऐसा कहा गया है "ज्योतिष वेदानां चक्षुः ". ज्योतिष के द्वारा भूत, भविष्य और वर्तमान के बारे में जाना जाता है।  

किसी के जीवन में कब अच्छा समय आयेगा, कब बुरा समय आयेगा, कब भाग्योदय होगा, कब विवाह होगा, क्या करना चाहिए , कब करना चाहिए आदि का ज्ञान बड़ी ही आसानी से पता लगा लिया जाता है।  

ज्योतिष के बारे में गलत फहमी :

Kaise Paaye Prayaaso Main Safaltaa Jyotish Dwara

Kaise paaye prayaaso mai safaltaa jyotish ke dwara,  kya kare kya na kare, kin upaayo dwara hum apne jivan ko sukhmay bana sakte hai. 
best free tips in hindi for successful life by astrologer, jyotish
safaltaa ke sutra janiye jyotish dwara

सफलता शब्द ही मधुर है , हर किसी के मन में सफलता प्राप्त करने की ललक होती है, सफलता हमे सुकून देती है, एक सफल जीवन जीना हम सब का हक़ है परन्तु फिर भी ये सबके लिए संभव नहीं हो पाता है. असफलता के बहुत से कारण हो सकते है. 

सफलता के मापदंड सबके लिए अलग अलग है , यहाँ महत्त्वपूर्ण ये है की जिसने जो सोचा है अगर वो वैसा प्राप्त कर लेता है तो वो सफल है, सुखी है संतुष्ट है परन्तु सोच को पूरा न करने पर दुःख होता है. 

ज्योतिष के अन्दर ये देखा जाता है की कुंडली में ग्रहों की स्थिति कैसी है की सफलता हाथ नहीं आ रही है, कुंडली से ये भी जाना जाता है की प्रयास कब करे की सफलता हाथ लगे. ज्योतिष के द्वारा ये भी पता लगाया जाता है की क्या करे की सफलता हाथ लगे. 

दशको से राजा-महाराजा और विद्वान् लोग इस विद्या का प्रयोग आरके जीवन को निरोगी, स्वस्थ और संपन्न बना रहे है. 

ज्योतिष के द्वारा सफलता के रास्ते जानने के लिए ये जरुरी है की हम सही तरीके से किसी अच्छे ज्योतिषी की सलाह ले और फिर मार्गदर्शन लेके उसपे चले. 

फिलहाल इस लेख में आइये जानते है ज्योतिष के कुछ ख़ास नुस्खे जिनके द्वारा हम सफल जीवन जी सकते है :

Ratna Chikitsa In Hindi For Successful Life

क्या है रत्न चिकित्सा, कैसे करे रत्न चिकित्सा, क्या फायदे हो सकते है रत्न चिकित्सा के, कैसे प्राप्त करे अच्छे रत्न, ध्यान रखने योग्य बाते.
free details on ratn chikitsa
Ratn chikitsa aur jyotish

रत्न चिकित्सा भारत के अन्दर अत्यंत प्राचीनकाल से चला आ रहा है जिसके अंतर्गत दिव्य रत्नों का प्रयोग करके रोगी को ठीक किया जाता है. 

ज्योतिष के अंतर्गत रत्नों का प्रयोग बहुत होता है ग्रहों को मजबूत करने के लिए, कई दोषों को दूर करने के लिए gems stones का स्तेमाल साधारणतः होता ही है. 

रत्नों को हम उसके रंग के आधार पर पहचानते है साधारणतः और तकनिकी रूप से उसे जांचने के लिए डेंसिटी टेस्ट भी किया जाता है, आज अनेक प्रकार के ऐसे इलेक्ट्रॉनिक औजार बन गए है जिनके इस्तेमाल से रत्नों को पहचाना जा सकता है. इसीलिए बड़ी कंपनीज तो सर्टिफाइड रत्न भी प्रदान करते हैं. 

हालांकि सर्टिफाइड रत्न एक आम आदमी के जेब की सीमा से बहार ही होते है, इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता है. 
ऐसे में उपरत्नों का इस्तेमाल लाभदायक रहता है. 

Swastik Rahasya In Hindi

kya hai swastik, swasik rahasya in hindi, kaise prayog kare swastik ka.
free knowledge of swastik for success in hindi
Swastik rahasya in Hindi

हिन्दू संस्कृति के प्राचीन ऋषियों ने अपने धर्म के आध्यात्मिक अनुभवों के आधार पर कुछ विशेष चिन्हों की रचना की, ये चिन्ह मंगल भावों को प्रकट करती है , ऐसा ही एक चिन्ह है “स्वास्तिक“.

स्वस्तिक मंगल चिन्हों में सर्वाधिक प्रतिष्ठा प्राप्त है और पुरे विश्व में इसे सकारात्मक ऊर्जा का स्त्रोत माना जाता है. इसी कारण किसी भी शुभ कार्य को शुरू करने से पहले स्वस्तिक का चिन्ह बनाया जाता है. 

स्वस्तिक 2 प्रकार का होता है – एक दाया और दुसरा बांया . दाहिना स्वस्तिक नर का प्रतिक है और बांया नारी का प्रतिक है. वेदों में ज्योतिर्लिंग को विश्व के उत्पत्ति का मूल स्त्रोत माना गया है. 

स्वस्तिक की खड़ी रेखा सृष्टि के उत्पत्ति का प्रतिक है और आड़ी रेखा सृष्टि के विस्तार का प्रतिक है तथा स्वस्तिक का मध्य बिंदु विष्णु जी का नाभि कमल माना जाता है जहाँ से विश्व की उत्पत्ति हुई है. स्वस्तिक में प्रयोग होने वाले 4 बिन्दुओ को 4 दिशाओं का प्रतिक माना जाता है. 

Motapa Kam Karne Ke liye Kya Kare

मोटापा कम कैसे करे, free में जाने मोटापा कम करने के उपाय, fat loss tips free, special ring for fat loss, best ways to control fat.
motapa kam karne ke nuskhe free mai jaane
motapa kaise kam kare in Hindi

अच्छा और स्वस्थ शारीर जहा वरदान है वही मोटापा हमारे लिए एक अभीशाप है जिसके जिम्मेदार वास्तव में हम खुद ही हैं. गलत रहन सहन, गलत खान पान, अनियमित दिनचर्या का परिणाम होता है मोटापा और उससे जुड़ी कई बीमारियाँ. 

पुरि दुनिया में लोग इस रोग से ग्रस्त है और यहाँ तक की आज की इस युग में बच्चे भी मोटापा का शिकार हो रहे है, इसीलिए इसे रोकने के उपाय जरुरी है. 

आज कल मोटापा कम करने के courses भी चलाये जाते हैं जहा लोग खूब अभ्यास करके मोटापा कम कर रहे है. विभिन्न प्रकार के तरीको द्वारा मोटापा को कम किया जा सकता है जैसे योग के द्वारा, व्यायाम के द्वारा, भोजन प्रबंध द्वारा, ज्योतिष के द्वारा, दवाइयों द्वारा आदि.