Skip to main content

Posts

Showing posts with the label parad/Mercury In Jyotish

Latest Astrology Updates in Hindi

Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav

Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav, Surya Mithun Rashi Mai kab jayenge, surya gochar june 2024, मिथुन संक्रांति क्या है, १२ राशियों पर असर | मिथुन संक्रांति का महत्त्व: Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar 2024:  जब सूर्य वृषभ राशि से मिथुन में प्रवेश करते हैं  तो उसे मिथुन संक्रांति कहते हैं| ज्योतिष के हिसाब से इस दिन के बाद अगले करीब ३१ दिन तक सूर्य मिथुन राशी में रहता है| जब सूर्य मिथुन राशि में रहते हैं तो भारत के गुवाहाटी में कामख्या मंदिर में  अम्बुबाची का मेला लगता है जब मंदिर के कपाट कुछ दिनों के लिए बंद किये जाते हैं, ऐसा कहा जाता है की साल में एक बार माता कामख्या रजस्वला होती है अतः इसीलिए कुछ दिनों के लिए मंदिर का पठ बंद रहता है और इन्ही दिनों मंदिर में मेला लगता है | ये सिर्फ साल में एक बार होता है और पुरे विश्व से लोग यहाँ आते है| भारत के बहुत से भागो में इस दिन लोग भगवान् विष्णु की पूजा करते हैं. कई भागो में मानसून आ जाता है और लोग बारिश का भी आनंद लेते हैं|  Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar 2024 Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav आइए जानते हैं कि सू

Parad Shivling Ki Pooja Kaise Kare

Parad shivling ki pooja kaise kare asaan tarike se, जानिए आसान तरीका घर में पारद के शिवलिंग की पूजा करने का. जैसा की हम जानते हैं की पारद के शिवलिंग की पूजा से स्वास्थ्य, सम्पन्नता, मान सम्मान आदि की प्राप्ति हो सकती है. तो इस लेख में हम जानेंगे की कैसे करे आसान तरीके से पारे के शिवलिंग की पूजा.  Parad Shivling Ki Pooja Kaise Kare पारे के शिवलिंग का अध्यात्मिक महत्त्व है. पारद के शिवलिंग का धार्मिक महत्त्व है.  इसके पूजा से धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष की प्राप्ति संभव है. अतः इसकी पूजा करनी चाहिए.  पारद संहिता में पारे के लिंग के महत्त्व को विस्तार से बताया गया है.  पारे का शिवलिंग हमे नकरात्मक शक्तियों से बचाता है.  ये जीवन को सफल बनाने में मदद करता है.  इसकी पूजा से रोगों से मुक्ति संभव है.  पापो से मुक्ति के लिए भी लोग पारे के लिंग की पूजा करते हैं.  Read in english about how to worship Mercury shivling? आइये जानते हैं की पारद/मरकरी के शिवलिंग की पूजा कैसे करे ? कुछ विशेष दिन होते हैं जब शिवलिंग की पूजा विशेष फल देता है जैसे शिवरात्रि, सोमवार, पूर्णिमा, अमावस्या, चौद

Parad Shivling Ke Fayde

Parad shivling ka Mahattw in Hindi, शिवलिंग पूजा से कैसे सफलता पायें, जानिए क्या फायदे होते हैं पारद शिवलिंग के. Parad Shivling Ke Fayde पारद से बने शिवलिंग की पूजा करने पर शिव कृपा की प्राप्ति होती है इसीलिए शिवभक्तो में इसकी बहुत महत्ता है. पारद की तुलना किसी अन्य धातु से नहीं की जा सकती है. जहाँ पर पारद शिवलिंग की पूजा होती है वहां पर सकारात्मक उर्जा के कारण धन, ऐश्वर्य, सम्पन्नता, स्वास्थ्य अनायास ही प्राप्त होने लगता है.  Read in english about Benefits of Mercury shivling आइये जानते हैं पारद से बने शिवलिंग का महत्त्व बिन्दुओ में : पारद शिवलिंग के समक्ष अध्यात्मिक साधनाओ को करने से सफलता शीघ्र मिलती है.  पारे के शिवलिंगम की पूजा करने से अनेको पापो से मुक्ति मिलती है.  अनेक रोगों से मुक्ति में भी इसकी पूजा मदद करती है.  मरकरी से बने लिंग की पूजा जहाँ होती है वह नकारात्मक शक्ति का वास नहीं होता है.  इसके प्रभाव से वास्तु दोष भी ख़त्म होते हैं.  विद्यार्थियों के लिए भी ये बहुत मददगार साबित होता है.  नवग्रह शांति में भी ये मदद करता है.  इस पर ध्यान लगाने से भी बहुत फ

Parad Kya Hota Hai Jyotish Mai

Parad kya hota hai, kya fayde hote hain parad shivling ke pooja ke| एक ऐसा धातु जो जीवन में सफलता को आकर्षित करता है, एक ऐसा धातु जो जीवन में मौजूद बाधाओं को हटाने में मदद करता है, जिसके बने शिवलिंग, श्री यन्त्र आदि की पूजा से पुण्य अर्जित होता है, वो चमत्कारी धातु है पारद. शाश्त्रो के हिसाब से भी पारद को बहुत पवित्र माना जाता है.  पारद को अंग्रेजी में मरकरी कहते हैं और इसका चिकित्सा क्षेत्र के साथ साथ ज्योतिष में भी प्रयोग किया जाता है. ज्योतिष इससे बने पदार्थो को रखने और पूजने की सलाह देते हैं. नवग्रह दोषों को दूर करने का भी इसमें जबरदस्त शक्ति है.  इस लेख में आपको इस पवित्र और शक्तिशाली धातु की जानकारी दी जा रही है और साथ ही ये भी बताया जा रहा है की आप कहा से इसे खरीद सकते हैं. Read in english about what is Mercury? क्या है पारद? ये एक मात्र धातु है जो की द्रव्य रूप मे पाया जाता है इसी कारण इसे मेटलोइड भी कहा जाता है अर्थात धातु के रूप रंग का एक अधातु पदार्थ. ये लोगो का अनुभव भी है और शास्त्रों में भी लिखा है की पारद से बने शिवलिंग की पूजा करने से अनन्य कोटि फल की प