Skip to main content

Posts

Showing posts with the label shani grah aur hindi jyotish

Ashubh Shani Ke Upaay Jyotish Me

अशुभ शनि के उपाय, जानिए कुछ आसान उपाय शनि के दुष्प्रभाव को कम करने के, कैसे पायें शनि की कृपा. ashubh shani ke upay शनि के उपाय जानने से पहले आइये जानते हैं की ख़राब शनि और कमजोर शनि में क्या अंतर है. अशुभ शनि मतलब है की शनि शत्रु राशि में बैठा है परन्तु कमजोर शनि शुभ और अशुभ दोनों हो सकता है.इस लेख में हम सिर्फ अशुभ शनि के उपाय ही देखने वाले है. कमजोर और दूषित शनि के उपाय अलग अलग होते हैं अतः भ्रमित नहीं होना चाहिए.शनि हमारे जीवन में बहुत महत्त्व रखता है और वैदिक ज्योतिष के हिसाब से शनि का सम्बन्ध चमड़ा, सीमेंट, तेल, आवागमन के साधन, रबर, लकड़ी, मशीनरी, भूमि आदि से है. अगर कुंडली में शनि शुभ है तो जातक को सफल और आनंदायक जीवन की प्राप्ति बहुत ही आसानी से हो जाती है. वही दूषित शनि अनेको समस्याएं उत्पन्न करता है जीवन में. आइये सबसे पहले जानते हैं की अशुभ शनि कब होता है कुंडली में ? जब कुंडली में शनि मेष राशी का बैठा हो तो बहुत अशुभ परिणाम देता है | जन्मपत्रिका में कर्क राशी का शनि भी अशुभ होता है| कुंडली में सिंह राशि का शनि भी बहुत हानी देता है | वृश्चिक राशि में अगर शनि

Shani Dosh Ke Lakshan in Hindi jyotish

शनि दोष, शनि की दशा, वैदिक ज्योतिष के अनुसार शनि दोष के लक्षण, ज्योतिषी द्वारा उपाय। ज्योतिष प्रेमियों को एक बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रह के बारे में जानने में अत्यधिक रुचि है जो की अपने न्याय और कठोर प्रकृति के लिए जाने जाते है। हाँ ! मैं ज्योतिष में शनि ग्रह के बारे में बात कर रहा हूं। Shani Dosh Ke Lakshan in Hindi jyotish इस ग्रह से संबंधित लोगों के मन में कई सवाल उठते हैं: शनि दोष क्या है? ज्योतिष के अनुसार जातक के जीवन में शनि के प्रभाव क्या हैं? मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरे जीवन में शनि का प्रभाव है? कैसे मजबूत उपायों का उपयोग करके शनि दोष से छुटकारा पाएं? शनि दशा कब तक चलती है? शनि दशा क्या है? शनि दशा के दौरान क्या होता है? संपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >> आइए सबसे पहले जानते हैं कि शनि दोष क्या है? न्याय के लिए सबसे शक्तिशाली ग्रह शनि है। शनि का प्रभाव जीवन में अवश्यंभावी है और सभी को समय-समय पर महादशा, अंतर्दशा और प्रत्यंतरदशा से गुजरना होता है । जहां भी यह कुंडली में बैठता है, उसके हिसाब से व्यक्ति के जीवन को बदल देता है। लोग आमतौर पर श

Shani Jayanti Ka Mahattw In Hindi

शनि जयंती का महत्त्व हिंदी मे, क्या करे शनि जयंती को सफलता के लिए, शनि पूजा का आसान तरीका. शनि देव का सम्बन्ध न्याय से है इसी कारण लोग साधारणतः शनि से डरते हैं. शनि जयंती एक विशेष दिन है जब लोग शनि की विशेष पूजा पाठ करते हैं ताकि शनि की कृपा प्राप्त किया जा सके. ये दिन विशेष महत्त्व रखता है इसिलिये भक्त शनि स्त्रोत, शनि मंत्र, शनि का अभिषेक करते हैं, हवन करते हैं , जरूरतों की मदद करते हैं. Shani Jayanti Ka Mahattw In Hindi अंग्रेजी मे शनि को Saturn कहा जाता है, ज्योतिष के हिसाब से ये एक कठोर ग्रह है और इसका सम्बन्ध भूमि, लोहा, आन्तरिक शारीरिक अंग, काला रंग आदि से होता है. ये पश्चिम दिशा का स्वामी है. ऐसी मान्यता है की शनि देव भागवाद सूर्य और माता छाया के पुत्र है. ऐसी भी मान्यता है की शनि देव का जन्म ज्येष्ठ महीने की अमावस्या को हुआ था इसी कारण हर साल लोग बड़े हर्षोल्लास से इसी दिन शनि जयंती मनाते हैं.  २०२० मे शनि जयंती का महत्त्व : २०२० मे शनि जयंती २२ मई, शुक्रवार को आ रहा है , इस दिन को अमावस्या है. अतः ये दिन बहुत ख़ास हो जाता है उन लोगो के लिए जो शनि को खुश करना

Shani Prakop Se Bachne Ke Totkay

शनि प्रकोप से बचने के टोटके, shani sade sati se bachne ke upaay, शनि ग्रह दोष निवारक टोटके, ज्योतिष समाधान. Shani Prakop Se Bachne Ke Totkay शनि ग्रह सभी ग्रहों में सबसे ज्यादा क्रूर माने जाते हैं परन्तु सही बात ये है की सूर्य पुत्र शनि देव न्याय से सम्बन्ध रखते हैं, पाप और पुण्य का फल देना उनके ही हाथो में है, इसी कारण लोगो को उनसे भय लगता है.  जब शनि साड़े साती किसी की जीवन में आती है तो जातक को विभिन्न प्रकार के बड़े बदलाव नजर आते हैं जो की अच्छे भी होते हैं और बुरे भी. परन्तु लोगो को ग़लतफ़हमी है की शनि सिर्फ पीड़ा ही देते हैं अतः इस सोच को बदलना जरुरी है.  आइये जानते हैं की जब शनि पीड़ा देते हैं तो क्या-क्या हो सकता है? शनि के बुरे प्रभाव से शारीरिक पीड़ा बढ़ सकती है. ख़राब शनि के प्रभाव से लम्बे समय तक रोग रह सकता है. प्रेम संबंधो में समस्या उत्पन्न हो सकती है. रंजिशे बढ़ सकती है दोस्तों, रिश्तेदारों से. जातक को अपमान और उपेक्षा का सामना करना पड़ सकता है. जातक को कानूनी अड़चनो का सामना करना पड़ सकता है. बार बार असफलता जीवन में आती है. धन हानि का सिलसिला शुरू हो जाता है