Skip to main content

Posts

Showing posts with the label vyapaar aur jyotish

Latest Astrology Updates in Hindi

Surya Ka kark Rashi Mai Gochar Ka Fal

Surya ka kark rashi mai gochar kab hoga 2024, सूर्य का गोचर कर्क राशि में, क्या असर होगा 12 राशियों पर, Rashifal in Hindi Jyotish. Surya Ka kark Rashi Mai Gochar:  वैदिक ज्योतिष में सूर्य ग्रह एक बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रह है क्योंकि इसके राशि परिवर्तन से मौसम में, लोगों के जीवन में, राजनीति में बड़े बदलाव होने लगते हैं। सूर्य हर महीने राशि बदलता है और उसके अनुसार हमारे जीवन में भी बदलाव होते रहते हैं। सूर्य 16 जुलाई, 2024 को भारतीय समय के अनुसार  सुबह लगभग  11:07 बजे कर्क राशि में गोचर करेंगे । यहाँ ये  17 अगस्त 2024 तक रहेंगे | कर्क राशी में सूर्य सम के हो जाते हैं | कर्क राशि वालों के लिए यह गोचर महत्वपूर्ण है। इस समय के दौरान, कर्क राशि के लोग अधिक भावुक और सहज महसूस कर सकते हैं, और वे अपने  आप के साथ अधिक संपर्क में रह सकते हैं। वे दूसरों का अधिक पोषण करने वाले और देखभाल करने वाले भी हो सकते हैं। यह गोचर अन्य राशियों के लिए भी फायदेमंद हो सकता है, क्योंकि सूर्य एक शक्तिशाली ग्रह है जो सकारात्मक ऊर्जा और अवसर लाने में मदद करता है।  Surya Ka kark Rashi Mai Gochar Watch Video here

Business Ko Badhaane Ke Kuch Shaktishaali Tarike

व्यापार को बढ़ाने के लिए कुछ शक्तिशाली टोटके, ज्योतिष के उपायों द्वारा दूर करे व्यवसाय के रूकावटो को, जानिए कुंडली न हो तो क्या करें ? Business Ko Badhaane Ke Kuch Shaktishaali Tarike यदि आप व्यवसाय में हैं, यदि आप कुछ बेचते हैं, यदि आपको व्यवसाय में वृद्धि नहीं मिल रही है, तो यह लेख आपको अपने ग्राहक और बिक्री को बढ़ाने के कुछ सर्वोत्तम ज्योतिष तरीके बतायेगा दिखाएगा । प्रतिस्पर्धा में वृद्धि के साथ, लोग किसी भी तरह से व्यवसाय को बढ़ाने के लिए कई तकनीकों का उपयोग कर रहे हैं। आज के समय में, बाजार में आसानी से अलग जगह बनाना आसान नहीं है। जो भी स्थिति हो, हमेशा चीजों पर, लोगों पर और समय पर ग्रहों पर प्रभाव पड़ता है,  इसलिए यदि किसी को व्यापार में समस्याओं का सामना करना पड़ता है, तो ग्रहों के प्रभाव को जानने और कुछ सर्वोत्तम उपायों का पालन करने के लिए एक अनुभवी ज्योतिषी को कुंडली दिखाना अच्छा है जिससे की आप सटीक उपायो का प्रयोग करके व्यापार को बढ़ा सके । ज्योतिष के तरीको का प्रयोग करके कुंडली में मौजूद ख़राब ग्रहों द्वारा उत्पन्न बाधाओं से छुटकारा पाने में मदद मिलती हैं। कोई भी व्यक्ति ज

Vyaparik Samasyaao Ka Jyotish Samadhan

व्यवसाय को प्रभावित करने वाले कारक, व्यापार विफलता के कारण, ज्योतिष से कैसे करे समस्याओं का समाधान. Vyaparik Samasyaao Ka Jyotish Samadhan व्यापार की सफलता अनेको कारणों पर निर्भर करती है, इसके सिर्फ एक ही कारण नहीं होता है. जब सारी मेहनत के बावजूद सफलता हाथ ना लगे तो प्रश्न उपजता है की – क्यों व्यवसाय बढ़ नहीं रहा हैं? क्यों हमारी सारी मेहनत विफल हो रही हैं? क्यों कर्जा बढ़ता जा रहा है? आदि. क्या आपने ये महसूस किया है की – आपका व्यापार लगातार निचे की और जा रहा हैं? व्यवसाय स्थल पर पहुंचने पर चिंता शुरू हो जाती है। व्यपारिक जगह पर कर्मचारियों में बहुत मन-मुटाव रहता है. कर्मचारी ईमानदारी से काम नहीं करते और टिकते भी नहीं हैं. ग्राहक संतुष्ट नहीं होते हैं और ऐसे ही अन्य कारण भी परेशान करते हैं. आइये अब जानते हैं की व्यापारिक विफलता के कुछ ज्योतिषीय कारण : ऐसा हो सकता हो की आपके व्यापार को या फिर व्यवसाय चलाने वाले को बहुत बुरी नजर लगी हो. ये भी हो सकता है की आप कोई गलत पूजा कर रहे हो या की हो जिसके परिणाम स्वरुप आपके साथ बुरा हो रहा हो. कुंडली मे मौजूद पितृ दोष भ

Makeup Artist Aur Jyotish

अगर आप एक सफल मेकओवर आर्टिस्ट बनना चाहते हैं तो ये ज्योतिषीय लेख आपकी मदद कर सकता है. आज मेकअप इंडस्ट्री में बहुत तगड़ा प्रतिस्पर्धा है क्यूंकि ये व्यव्साय ग्लैमर जगत से जुड़ा है. अपने आपको सुन्दर और हटके दिखाने के लिए हमे एक अच्छे मेकअप आर्टिस्ट की जरुरत होती है. Makeup Artist Aur Jyotish कुछ प्रश्न है जो की मेकअप कलाकारों के अन्दर उठते रहते हैं जैसे – मेरे पास मेकअप का पूरा ज्ञान है फिर भी मेरे पास ग्राहक क्यों नहीं है? मै मेकअप के कार्य में प्रसिद्द क्यों नहीं हो पा रही हूँ या रहा हूँ. मेरे ग्राहक मेरे काम से खुश क्यों नहीं हो पाते हैं? कैसे जाने की कौन से ग्रह हमारे लिए सहयोगी है बेस्ट मेकअप आर्टिस्ट बनने के लिए. क्या करे सफल मेक उप कलाकार बनने के लिए? ज्योतिष और मेक ओवर आर्टिस्ट: जैसा की हम जानते हैं की ग्रहों का असर हमारे जीवन में हमेशा बना रहता है, जन्म से ही हम ग्रहों के द्वारा प्रभावित रहते हैं. अतः कोई अगर अपने कामकाजी जीवन में सफल नहीं हो पा रहा है तो ऐसे में अच्छे ज्योतिष से संपर्क करके सलाह लेना चाहिए.  एक बेस्ट मेकअप आर्टिस्ट में कुछ गुण होने जरुरी होत

Laxmi Bandhan Ka Samadhan

लक्ष्मी बंधन क्या होता है, कैसे जाने की तंत्र द्वारा बाँधा गया है, कैसे मुक्ति पायें, जानिए ज्योतिष द्वारा हल लक्ष्मी बंध समस्या का. ये सवाल अक्सर कई जगहों से हुआ है की हम पर लक्ष्मी बंधन किया गया है, कही से भी आय नहीं हो पा रही है, जबकि पहले सब ठीक चल रहा था. अचानक से व्यापार पूरा ख़त्म हो गया और अब जिस काम में भी हाथ डालते है, घाटा होता है.  Laxmi Bandhan Ka Samadhan जब ऐसा हो तो जरुरी नहीं की हमेशा किसी ने तंत्र द्वारा बाँधा हो, कई बार किसी ख़राब ग्रह के कारण भी ऐसा होता है अतः पूरी तरह जांच करवाने के बाद ही सही प्रयोग करना चाहिये. बहरहाल इस लेख में हम ये जानेनेगे की लक्ष्मी बंधन क्या होता है और कैसे जाने की ऐसा कुछ हुआ है.  आइये जानते हैं की laxmi bandhan क्या है? कई बार ऐसा होता है की किसी का व्यापार या नौकरी बहुत अच्छी चल रही होती है और अचानक से सब ख़त्म हो जाता है, इसका कारण ये हो सकता है की किसी जलने वाले या फिर किसी शत्रु ने जानबुझकर नुक्सान पहुचाने के लिए बंधन प्रयोग किया हो जिसके कारण सब ख़त्म होता जा रहा हो, दिमाग ने काम करना बंद कर दिया हो, जिस भी काम में हाथ

Jewelry Vyapaar Aur Jyotish

ज्वेलरी व्यापार और ज्योतिष सलाह, कैसे बाधाएं अपने व्यापार को, ग्राहो का प्रभाव कैसा पड़ता है. गहनों का व्यापार प्राचीन समय से चला आ आ रहा है और हमेशा रहेगा भी. विभिन्न धर्म के लोगो में विभन्न प्रकार के ज्वेलरी पहनने का रिवाज है. लोग अपने घर के देवी देवता को भी आभुशनों से सजाते हैं.  Jewelry Vyapaar Aur Jyotish ज्योतिषीय उपाय ज्वेलरी व्यापार के लिए: हालांकि ऐसा देखा जाता है की सुनार लोग बहुत धनी रहते हैं परन्तु ये बात सभी पर लागू नहीं होती है. ग्रहों का असर सभी पर पड़ता है और उसी आधार पर कुछ बहुत ज्यादा सफल होते हैं सुनारी में और कुछ असफल भी होते हैं. एक सफल ज्वेलर उसे कह सकते हैं जो की बाज़ार में बदलाव के हिसाब से लोगो को गहने बना के दे और जिनके पास नए नए ग्राहक आते रहे. सुनारी का व्यापार सट्टे से भी जुड़ा होता है क्यूंकि सोने का भाव रोज बदलता है कब क्या हो जाए इस बात की कोई जानकारी नहीं रहती है, कुछ को बहुत फायदा होता है और कुछ लोगो को बहुत घाटा हो जाता है. ऐसा भी देखा जाता है की बाजार के सही चलने पर भी कोई बहुत घाटा खाता रहता है , इसका कारण कुंडली में मौजूद खराब ग्रह होत