Skip to main content

Posts

Showing posts with the label Hindi jyotish me rashiyan

Latest Astrology Updates in Hindi

Dhumawati Jayanti Ke Upaay

Dhumavati Jayanti 2024, जानिए कौन है धूमावती माता, कैसे होती है इनकी पूजा, dhumawati mata ka mantra kaun sa hai,  Dhumawati Jayanti Ke Upaay. Dhumavati Jayanti 2024:  10 महाविद्याओं में से एक हैं माँ धूमावती और ये भगवती का उग्र रूप हैं | इनकी पूजा से बड़े बड़े उपद्रव शांत हो जाते हैं, जीवन में से रोग, शोक, शत्रु बाधा का नाश होता है | माना जाता है कि धूमावती की पूजा से अलौकिक शक्तियाँ प्राप्त होती हैं जिससे मुसीबतों से सुरक्षा मिलती हैं, भौतिक और अध्यात्मिक इच्छाएं पूरी होती हैं| इनकी पूजा अधिकतर एकल व्यक्ति, विधवाएँ, तपस्वी और तांत्रिक करते हैं |  Dhumawati Jayanti Ke Upaay  Dhumavati Jayanti Kab aati hai ? हिन्दू पंचांग के अनुसार हर साल ज्येष्ठ महीने के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को माँ धूमावती जयंती मनाई जाती है। पौराणिक मान्यता के अनुसार , मां धूमावती धुएं से प्रकट हुई थीं और ये माता का विधवा रूप भी कहलाती है इसीलिए सुहागिन महिलाएं मां धूमावती का पूजन नहीं करती हैं, बस दूर से दर्शन करती हैं और आशीर्वाद लेती है | Read in english about Importance of Dhumawati jayanti 2024   Dhumava

Rashi Anusaar Mantra Safalta Ke Liye

१२ राशियों से सम्बंधित मंत्र, ज्योतिष के अनुसार १२ राशियों के लिए बीज मंत्र, जानिए राशी मंत्र को जपने के फायदे.  हम सभी जानते हैं की वैदिक ज्योतिष के हिसाब से १२ राशियाँ होती है और हर व्यक्ति की कोई न कोई राशि होती है जिसका प्रभाव उसके जीवन में पड़ता ही है. ये १२ राशियाँ हैं (मेष, वृषभ, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला वृश्चिक, धनु, मकर, कुम्भ, मीन). १२ राशियों से सम्बंधित मंत्र हर राशि का कोई न कोई मंत्र भी है और अगर अपने राशि के अनुसार मंत्र का जप करे तो बहुत फायदे होते हैं और सफलता के रास्ते खुलते हैं.   मंत्रो का जप सबसे अच्छा तरीका है किसी भी शक्ति की कृपा को पाने के लिए और जीवन को बेहतर बनाने के लिए. पढ़िए भाग्य कैसे जगाएं  जब भी Rashi Mantra का जप किया जाता है सही तरीके से तो जपकरता के अन्दर ऊर्जा बढ़ने लगती है जिसका फायदा जातक को भौतिक जीवन, अध्यात्मिक जीवन और व्यक्तिगत जीवन में दिखने लगता है |  यहाँ पर चन्द्र राशि अनुसार मंत्र दिए जा रहे हैं जिसका जप धन, स्वास्थ्य, सम्पन्नता दिलाएगा |  आप किसी भी देश में हो आप किसी भी शुभ समय से अपने Rashi Mantra का जप शुरू कर सकते ह

Vrishabh Raashi ka Rahasya | Taurus Astrology

वृषभ राशि वालो की प्रकृति, ज्योतिषी सलाह, वृषभ वालो के लिए रत्न, Taurus astrology free, Taurus astrology in Hindi. Vrishabh Raashi ka Rahasya क्या आप वृषभ राशि के हैं और जानना चाहते हैं अपने बारे में तो जानिए वृषभ राशि के रहस्य को. वृषभ राशि पर शुक्र ग्रह का आधिपत्य होता है. प्रथ्वी इसका तत्व है. इस राशि से व्यक्ति के निर्णय लेने की क्षमता, महसूस करने की क्षमता , विश्वास, आदि को पढ़ा जाता है. इस राशि का रत्न हीरा है. शुक्रवार वृषभ राशि वालो का दिन है. वृषभ राशि के लिए शुभ दिशा है दक्षिण. इनकी मित्र राशि हैं – कन्या, कर्क, मकर, मीन और मेष. वृषभ से बेमेल राशियाँ है – सिंह, तुला, वृश्चिक, धनु, कुम्भ. जानिए Vrishabh Rashi Ka Mantra कौन सा है ? Watch video on Vrishabh Rashi: कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य: वृषभ राशि के लोग बहुत ही व्यवहारिक होते हैं, ये सपनो की दुनिया में नहीं जीते हैं, इनका हर कदम बहुत ही सावधानीपूर्ण होता है, जिनसे ये प्रेम करते हैं उनके लिए ये बहुत सोचते हैं, जो ये सोचते हैं वैसा ये कर देते हैं. वृषभ राशि के लोग थोड़े जिद्दी भी होते है जिसके कारण इन

Mesh Raashi Ka Rahasya | Aries Astrology Free

Mesh Rashi Wale Kaise Hote hain?. Aries astrology in Hindi, मेष राशि, मेष राशि वालो की प्रकृति, मुफ्त सलाह, Aries nature, Free astrology  suggestions. Mesh Raashi Ka Rahasya क्या आप मेष राशि के जातक है, क्या आप अपने बारे में जानना चाहते हैं, तो पढिये यहाँ. मेष राशि का स्वामी ग्रह है मंगल. मेष राशि का सम्बन्ध अग्नी तत्व से है. इस राशि वालो के लिए दिन है मंगलवार. इस राशि से निम्न चीजों को देखा जाता है – नेतृत्त्व क्षमता , शारीरिक शक्ति, लक्ष्य , गुस्सा आदि. मेष राशि का रत्न है लाल मूंगा. आपके लिए शुभ दिशा है पूर्व. इसकी मित्र राशियाँ है- सिंह, धनु, मिथुन और वृषभ. जो राशियाँ मेष से मेल नहीं खाती हैं वो हैं कर्क, कन्या, तुला, मकर. कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य : ये राशि चक्र की पहली राशि है और अग्नि तत्त्व की प्रधानता के कारण चमकीली भी है. मेष राशि वाले लोग निर्भीक, नेतृत्त्व क्षमता वाले, उर्जावान और साहसी होते हैं. इनको आलस्यता पसंद नहीं और ये लगातार अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कार्य करते रहते हैं. कई बार अधिक ऊर्जा इनके लिए समस्या भी बन जाती है. इस प्रकार के लोगो क

Meen Raashi Rahasya | Pisces Astrology In Hindi

मीन राशि रहस्य, मीन राशि के गुण, मीन राशि की प्रकृति, Pisces astrology in Hindi,  Nature of Pisces tips for success, FREE. Meen Raashi Rahasya मीन राशि का स्वामी ग्रह है गुरु और इसका सम्बन्ध जल तत्व से है. इस राशि के द्वारा हम महसूस करने की शक्ति, आध्यात्मिक शक्ति, प्रेम, देख भाल करने का गुण आदि को देखते हैं. मीन राशि का रत्न है पिला पुखराज. इनसे सम्बंधित दिन गुरुवार या Thursday है. इन राशी वाले लोगो से सम्बंधित दिशा है उत्तर. मीन राशि की मित्र राशियाँ हैं- मेष, वृषभ, कर्क, वृश्चिक, धनु और मकर. बेमेल राशियाँ है मिथुन, सिंह, कन्या, तुला और कुम्भ. जानिए मीन राशि का मन्त्र कौन सा है ? कुछ महत्वपूर्ण तथ्य जानिए: राशि चक्र में बारहवीं राशि है मीन जो की गुरु ग्रह द्वारा संचालित होती है. ये राशि बहुत ही अध्यात्मिक है. ऐसे जातक के अन्दर सबके लिए सहानुभूति होती है और सबकी मदद करने को तैयार रहते है. मीन राशि के जातक अच्छे दोस्त, अच्छे मददगार, अच्छे साथी और कुल मिलकर एक अच्छे मानव होते है. ऐसे लोग किसी भी विषय को गहराई में जान सकते हैं. ऐसे लोग बुद्धिमान, अंतर्मुखी होते है

Kumbh Raashi Rahasya | Aquarius Astrology In Hindi

कुम्भ राशि रहस्य, कुम्भ राशि के गुण, कुम्भ राशि की प्रकृति, Aquarius astrology in Hindi,  Nature of Aquarius, tips for success, FREE. Kumbh Raashi Rahasya  कुम्भ राशि का स्वामी ग्रह है शनि है और इसका सम्बन्ध वायु तत्व से है. इस राशि के द्वारा व्यक्तित्व, अलगाव, मेहनत, सेवा आदि को देखा जाता है.  कुम्भ राशि से सम्बंधित रत्न है नीलम और इसका दिन है शनिवार.  आपके लिए शुभ दिशा है पश्चिम. इसकी मित्र राशियाँ हैं मेष, तुला, मिथुन और धनु.  इसकी बेमेल राशियाँ हैं मीन, कर्क, सिंह, वृश्चिक, कन्या और मकर.  जानिए कुम्भ राशि का मंत्र कौन सा है ? कुभ महत्त्वपूर्ण बातें जानिये: ये राशि चक्र की ग्यारहवीं राशि है और शनि द्वारा अधिकृत है, ये राशि व्यक्ति को खुद के बल पर खड़े रहने की शक्ति देती है. कुभ राशि के जातक शक्ति संपन्न होते है और जानते हैं की इसका प्रयोग किस दिशा में कैसे करना है. इनको दुसरो की सेवा करना भी पसंद है. इनका दिल भी बड़ा होता है और बहुत ही सकारात्मक सोच के होते हैं. इनके अन्दर कुछ अलग से कर दिखाने की इच्छा होती है जो जिसके कारण ये कुछ अलग हट के प्रदर्शन करते हैं.  इनक

Makar Raashi Rahasya | Capricorn Astrology

मकर राशि रहस्य, मकर जातक की प्रकृति, ज्योतिष द्वारा जानिए भविष्य, Capricorn astrology in Hindi, nature of Capricorn persons. Makar Raashi Rahasya मकर राशि का स्वामी ग्रह है शनि और इससे सम्बंधित तत्व है प्रथ्वी. इस राशि के द्वारा हम गुस्सा, सेवा भाव, विश्वसनीयता, भावना, प्रेम का अहसास अदि का अध्यन करते हैं. मकर राशि का शुभ रत्न है नीलम. इसका सम्बन्ध शनिवार से है. आपके लिए शुभ दिशा है दक्षिण. इसके मित्र राशियाँ है- वृषभ, कर्क, कन्या, तुला और मीन. बेमेल राशियाँ है- मेष, मिथुन, सिंह, धनु और कुम्भ. जानिए मकर राशि का मंत्र कौन सा है ? कुछ महत्त्वपूर्ण बाते जानिए मकर राशि के बारे में: इसका स्थान राशि चक्र में दसवां है और ऐसे जातक बहुत ही सतर्क और सेवा भावी होते हैं. ये थोड़े अंतर्मुखी भी होते हैं इसीलिए हर किसी से खुलते भी नहीं है. परन्तु मेहनत करने में इनका मुकाबला नहीं किया जा सकता है, इसी कारण नौकरी में ऐसे लोग बहुत सफल होते हैं. मकर राशि वाले लोग शांति से अपना काम करना पसंद करते हैं और इनका विश्वास जीतना भी आसान नहीं होता है. शनि जातक को एक अच्छा चिन्तक भी बनता है, आध

Dhanu Raashi Rahasya | Sagittarius Astrology

धनु राशि रहस्य, धनु वालो की प्रकृति, Sagittarius astrology in Hindi,  Tips for success, free encyclopedia. Dhanu Raashi Rahasya  धनु राशि का स्वामी ग्रह है गुरु और इसका सम्बन्ध अग्नि तत्व से है. इसके द्वारा हम इमानदारी, स्वतन्त्रता, दबाने की शक्ति आदि का अध्यन करते हैं. धनु से सम्बंधित रत्न है पीला पुखराज, पीला हकिक. गुरुवार या Thursday इसका दिन है. आपके लिए शुभ दिशा है पूर्व. इसकी मित्र राशिय हैं – मेष, तुला, कुम्भ और सिंह. बेमेल राशियाँ है- वृषभ, कर्क , तुला, कन्या और मकर. जानिए धनु राशि का मंत्र कौन सा है ? कुछ मुख्य बातें जानिये धनु राशि वालो के बारे में: इसका स्थान नवां है राशि चक्र में और ये गुरु ग्रह द्वारा नियंत्रित होता है. इसके कारण इस जातक को उत्साह, विश्वसनीयता, आत्मशक्ति, किस्मत, ज्ञान आदि की प्राप्ति सहज में ही हो जाती है. कभी कभार ऐसे जातक ज्यादा पद लेने के कारण अहंकार के वशीभूत भी हो जाता हैं.  इनके पास सकारात्मक शक्ति होती है और दुसरो को भी ये सकारात्मक कर सकते हैं. समाज ये लोग अपनी विद्वता के कारण जाने जाते हैं.  ये अपने समय का सदुपयोग करने में

Vrischik Raashi Rahasya | Scorpio Astrology

वृश्चिक राशि रहस्य, वृश्चिक राशि की प्रकृति, जीवन को सुखमय बनाने के उपाय, Scorpio astrology in Hindi, free encyclopedia. Vrischik Raashi Rahasya वृश्चिक राशि का स्वामी ग्रह है मंगल और इस राशि का सम्बन्ध जल तत्व से है.इसके द्वारा गोपनीयता, हट, चंचल प्रकृति, स्थिरता, काम क्रीडा की शक्ति आदि को देखा जाता है. वृश्चिक राशि से सम्बंधित रत्न है लाल मूंगा और इसका दिन है मंगलवार. इससे सम्बंधित दिशा है उत्तर. इसकी मित्र राशियाँ है – कर्क, वृषभ, धनु, मकर, मीन इसकी बेमेल राशियाँ है- मेष, तुला, सिंह, मिथुन, कुम्भ . जानिए वृश्चिक राशि का मंत्र कौन सा है ? वृश्चिक राशि के सम्बन्ध में कुछ मुख्य बातें: राशी चक्र में इसका स्थान आठवां है और मंगल के प्रभाव के कारण ऐसे जातक बहुत ही उर्जा से भरपूर, चंचल, शक्तिशाली होते हैं. इस राशि वाले लोगो को जानना आसान नहीं होता , ये थोड़े रहस्यमयी होते हैं. ये अपने काम में किसी की दखलंदाजी पसंद नहीं करते हैं. ये बहादुर होते हैं, साहसी होते हैं और इसी कारण ये एक अच्छे नेता भी बनते हैं. ये किसी भी प्रकार की सच्चाई को पचा लेते हैं और मौन हो जाते हैं. अ

Tula Raashi Rahasya | Libra Astrology

तुला राशि रहस्य, ज्योतिष क्या कहती है तुला राशि के लिए, तुला राशि की प्रकृति , तुला राशि वालो के लिए रत्न, Libra astrology in Hindi, free encyclopedia. Tula Raashi Rahasya शुक्र ग्रह तुला राशि का स्वामी है और ये वायु तत्त्व से सम्बन्ध रखता है. इस राशि के द्वारा मिलनसार प्रकृति, बुद्धिमत्ता , समबन्ध, कला ज्ञान, सामाजिक सम्बन्ध आदि को देखा जाता है. तुला राशि का रत्न है हीरा , सफ़ेद ओपल. इस राशि से सम्बंधित वार है शुक्रवार. आपके लिए शुभ दिशा है पश्चिम.  इसकी मित्र राशियाँ है- मिथुन, कुम्भ, धनु और सिंह. तुला से बेमेल राशियाँ है मेष, कर्क, मकर, वृषभ. जानिए तुला राशि का मंत्र कौन सा है ? कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य जानिये: ये राशि चक्र में सातवाँ स्थान रखती है. ऐसे लोग बहुत अच्छे चिन्तक होते है साथ ही सम्बन्ध बनाना खूब जानते हैं. इनका सामाजिक स्तर पर पहचान भी खूब होती है और लोग इनसे बहुत प्रभावित रहते हैं. इनको अपने ज्ञान का उपयोग करना बहुत अच्छी तरह से आता है. प्रस्तुतीकरण में तो इनका जवाब नहीं है. शुक्र ग्रह के कारण इनके अन्दर एक अच्छी सम्मोहन शक्ति होती है जिसके कारण ये लोग