Skip to main content

Posts

Showing posts with the label ashtakam/अष्टकम

Latest Astrology Updates in Hindi

Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav

Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav, Surya Mithun Rashi Mai kab jayenge, surya gochar june 2024, मिथुन संक्रांति क्या है, १२ राशियों पर असर | मिथुन संक्रांति का महत्त्व: Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar 2024:  जब सूर्य वृषभ राशि से मिथुन में प्रवेश करते हैं  तो उसे मिथुन संक्रांति कहते हैं| ज्योतिष के हिसाब से इस दिन के बाद अगले करीब ३१ दिन तक सूर्य मिथुन राशी में रहता है| जब सूर्य मिथुन राशि में रहते हैं तो भारत के गुवाहाटी में कामख्या मंदिर में  अम्बुबाची का मेला लगता है जब मंदिर के कपाट कुछ दिनों के लिए बंद किये जाते हैं, ऐसा कहा जाता है की साल में एक बार माता कामख्या रजस्वला होती है अतः इसीलिए कुछ दिनों के लिए मंदिर का पठ बंद रहता है और इन्ही दिनों मंदिर में मेला लगता है | ये सिर्फ साल में एक बार होता है और पुरे विश्व से लोग यहाँ आते है| भारत के बहुत से भागो में इस दिन लोग भगवान् विष्णु की पूजा करते हैं. कई भागो में मानसून आ जाता है और लोग बारिश का भी आनंद लेते हैं|  Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar 2024 Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav आइए जानते हैं कि सू

Chandrashekhar Ashtkam With Meaning In Hindi

Chandrashekhar Ashtkam With Meaning In Hindi, चन्द्रशेखर अष्टकम के फायदे क्या है, शिव वंदना, अकाल मृत्यु से कैसे बचें ?| भगवान् शिव की भक्ति में रहने वाले महान मार्कंडेय ऋषि ने भगवान शिव की वंदना करते हुए 8 स्त्रोतों की रचना की जिसे की चन्द्रशेखर अष्टकम के नाम से जाना जाता है| चन्द्रशेखर अर्थात जो चन्द्रमा को अपने मस्तक पर मुकुट के रूप में धारण करते हैं | Chandrashekhar Ashtkam With Meaning In Hindi Read in English about Lyrics and meaning of Chandrashekhar Ashtkam आइये जानते हैं की चन्द्रशेखर अष्टकम की रचना मार्कंडेय ऋषि ने कब की : अनेकों प्रयासों के बाद भी जब महर्षि मृकण्डु को संतान की प्राप्ति नही हुई तब उन्होंने भगवान शिव  को प्रसन्न करने के लिए कठोर तपस्या की| ऋषि की कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर भगवन शिव ने उन्हें कहा की उनके भाग्य में संतान सुख नहीं है पर उन्होंने ऋषि को 2 विकल्प दिए की उनको एक ज्ञानी पुत्र होगा जिसकी आयु केवल 16 वर्ष की होगी या फिर एक ऐसा पुत्र होगा जो कम ज्ञानी होगा पर दीर्घायु होगा | ऋषि मृकण्डु ने अल्पायु किन्तु ज्ञानवान पुत्र का चयन किया|  Chandrashekhar

Madhurashtkam Lyrics in Sanskrit With Meaning in Hindi

मधुराष्टकम के बोल, Meaning of madhurashtakam in hindi, Lyrics in Sanskrit| भगवन श्री कृष्ण के परमप्रिय भक्त महाप्रभु श्रीवल्लभाचार्य जी मधुराष्टकं की रचना की है | इसमें 8 श्लोक है इसीलिए इसे अष्टकम की श्रेणी में रखा गया है | इसमें श्रीकृष्ण के बालरूप का वर्णन किया गया है। श्रीकृष्ण के प्रत्येक अंग, गतिविधि एवं क्रिया-कलाप मधुर है, और उनके संयोग से अन्य सजीव और निर्जीव वस्तुएं भी मधुरता को प्राप्त कर लेती हैं।  तो आइये इसका आनंद लेते हैं madhurashtkam का | Madhurashtkam Lyrics in Sanskrit With Meaning in Hindi Lyrics of MADHURASHTKAM: अधरं मधुरं वदनं मधुरं नयनं मधुरं हसितं मधुरं । हृदयं मधुरं गमनं मधुरं मधुराधिपते रखिलं मधुरं ॥१॥ वचनं मधुरं चरितं मधुरं वसनं मधुरं वलितं मधुरं । चलितं मधुरं भ्रमितं मधुरं मधुराधिपते रखिलं मधुरं ॥२॥ Listen On YouTube वेणुर्मधुरो रेणुर्मधुरः पाणिर्मधुरः पादौ मधुरौ । नृत्यं मधुरं सख्यं मधुरं मधुराधिपते रखिलं मधुरं ॥३॥ गीतं मधुरं पीतं मधुरं भुक्तं मधुरं सुप्तं मधुरं । रूपं मधुरं तिलकं मधुरं मधुराधिपते रखिलं मधुरं ॥४॥ करणं मधुरं तरणं मधुरं हरणं मधुरं रमणं

Shree Ganesh Ashtkam benefits in Hindi

श्री गणेश अष्टकम लाभ हिंदी में, श्री गणेशाष्टकम् - हिंदी अर्थ और संस्कृत गीत के साथ, shree ganesh ashtak benefits in hindi with lyrics . गणेश अष्टकम हिन्दुओं में बहुत लोकप्रिय है |  यह गणपति अष्टकम भगवान गणेश के आशीर्वाद को प्राप्त करने का एक शक्तिशाली तरीका है। इसमें आठ श्लोक हैं जो भगवान गणेश की महानता और सभी देवताओं के बीच उनकी अद्वितीय सर्वोच्चता का गुणगान करते हैं। यह श्री गणेश अष्टकम भक्तो द्वारा गणपति के अनुष्ठान पूजा और प्रार्थना के लिए उपयोग किया जाता है। Ganesh Ashktam (गणेश अष्टकम) के लाभ: इस अष्टकम का जाप करने से सफलता, समृद्धि और विपत्ति से सुरक्षा मिलती है। इस शक्तिशाली अष्टकम के फलश्रुति में इसके लाभ बताये गए हैं - जो मनुष्य 3 दिनों तक तीनों संध्याओं के समय इस स्तोत्र का पाठ करेगा उसके सारे कार्य सिद्ध हो जाएंगे | जो 8 दिनों तक इन 8 श्लोकों का एक बार पाठ करेगा और चतुर्थी तिथि को आठ बार स्त्रोत्र का पाठ करेगा वह आठों सिद्धियों को प्राप्त कर लेगा | जो 1 माह तक प्रतिदिन 10-10 बार इस स्तोत्र का पाठ करेगा वह कारागार में बंधे हुए तथा राजा के द्वारा मृत्यु दंड पाने व

Shivashtak Benefits In Hindi with Lyrics

शिवाष्टकम् के बोल, शिवाष्टक के लाभ, शिवाष्टक स्तोत्रं, महादेव की कृपा के उपाय, Shivashtak Meaning in Hindi| शिवाष्टकम भगवान शिव की स्तुति में लिखा गया है और इसका पाठ करने से भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है। जो लोग प्रतिदिन प्रातःकाल त्रिशूलधारी शिव की भक्तिपूर्वक इस स्तुति का जाप करते हैं, उन्हें इस जीवन में सभी सुख प्राप्त होते हैं तथा मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है। Shivashtak Benefits In Hindi with Lyrics पढ़िए शिवजी के १०८ दुर्लभ मंत्र जपने के फायदे  शिवाष्टकम का पाठ करने के लाभ हैं: शांति और समृद्धि: कहा जाता है कि शिवाष्टकम का पाठ करने से पाठ करने वाले के जीवन में शांति और समृद्धि आती है। भगवान शिव का आशीर्वाद: कहा जाता है कि शिवाष्टकम का पाठ करने से भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इच्छाओं की पूर्ति: कहा जाता है कि शिवाष्टकम का पाठ करने से पाठ करने वाले की इच्छाएं पूरी होती हैं। पापों से मुक्ति: कहा जाता है कि शिवाष्टकम का पाठ करने से पाठ करने वाले को पापों से मुक्ति मिलती है। मोक्ष: कहा जाता है कि शिवाष्टकम का पाठ करने से पाठ करने वाले को मोक्ष, या जन

kaalbhairav ashtkam ke fayde

कालभैरव अष्टकम संस्कृत में, कालभैरव अष्टकम के क्या लाभ हैं, काल भैरव अष्टकम का हिंदी अर्थ, kaalbhairav ashtkam with hindi meaning। आदि शंकराचार्यजी द्वारा रचित श्री कालभैरव अष्टकम एक बहुत शक्तिशाली पाठ है जिसके द्वारा शिव के उग्र रूप को प्रसन्न किया जा सकता है। अष्टकम में आठ श्लोक हैं। ये भजन बहुत शक्तिशाली हैं और दैवीय शक्तियों का आह्वान करते हैं। भगवान भैरव काले रंग के हैं और खोपड़ी की माला पहनते हैं। सर्प उनके आभूषण हैं; अनिष्ट शक्तियों को नष्ट करने के लिए उनके पास 3 नेत्र और अस्त्र हैं । ज्योतिषी जीवन की विभिन्न समस्याओं को दूर करने के लिए इस दिव्य मंत्र का जाप करने की सलाह देते हैं। kaalbhairav ashtkam ke fayde भगवान कालभैरव से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदु: कुत्ता बाबा कालभैरव का वाहक है। वह भगवान शिव का उग्र रूप है वह मृत्यु और समय को नियंत्रित करता है। कलयुग में भगवान भैरव की पूजा का बहुत ही शीघ्र फल मिलता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान कालभैरव भारत में काशी के स्वामी हैं। योगी आज्ञा चक्र पर कालभैरव का ध्यान करते हैं। कालभैरव अष्टकम का पाठ करने के क्या लाभ

Yamashtkam Ke Fayde aur Lyrics

 यम अष्टक स्तोत्र, यमाष्टकम्,  Yama Ashtkam with lyrics , Way To worship  God of Death. बड़े से बड़े पाप और परेशानियों से बचने के लिए यम अष्टकम का पाठ किया जा सकता है | ये एक दिव्य अष्टक है जो मृत्यु के देवता यम की कृपा प्राप्त करने के लिए किया जाता है |  जो मनुष्य नित्य प्रात: काल yamashtkam के श्लोकों का पाठ करता है, वह पापों से मुक्त हो जाता है और मृत्यु के भय से भी मुक्त हो जाता है। यमराज सूर्य के पुत्र हैं और शनिदेव के भाई हैं । ये मृत्यु के देवता है इसीलिए लोग इनसे भयभीत रहते हैं |  Yamashtkam Ke Fayde aur Lyrics Lyrics Of Yamashtkam in Sanskrit: ||यमाष्टकम् || सावित्री उवाच तपसा धर्ममाराध्य पुष्करे भास्करः पुरा | धर्मं सूर्यः सुतं प्राप धर्मराजं नमाम्यहम् ||१|| समता सर्वभूतेषु यस्य सर्वस्य साक्षिणः | अतो यन्नाम शमनं इति तं प्रणमाम्यहम् ||२|| येनान्तश्च कृतो विश्वे सर्वेषां जीविनां परम् | कर्मानुरूपं कालेन तं कृतान्तं नमाम्यहम् ||३|| भिभर्ति दण्डं दण्डाय पापिनां शुद्धिहेतवे | नमामि तं दण्डधरं यश्शास्ता सर्वजीविनाम् ||४|| विश्वं च कलयत्येव यस्सर्वेषु च सन्ततम् | अतीव दुर्निवार्

Vishnu Strotram Ke Fayde With Lyrics Hindi Meaning

Vishnu Strotram with Lyrics | विष्णु स्त्रोत्रम का अर्थ हिंदी में  | Shree Hari Strotram |श्री हरि स्तोत्रम | श्री हरि स्त्रोत्रम का पाठ वैसे तो रोज करना चाहिए पर जो लोग रोज नहीं कर सकते हैं उन्हें बृहस्पतिवार को तो करना ही चाहिए |  इसके अलावा ग्यारस/एकादशी और पूर्णिमा को भी करना चाहिए |  पूर्ण श्रद्धा और विश्वास के साथ इस अष्टक का पाठ करने से भक्त को भगवन विष्णु की कृपा प्राप्त होती है और वैकुण्ठ की प्राप्ति होती है |  व्यक्ति का दुर्भाग्य दूर होता है और सफलता जीवन में आती है |  विष्णु जी को तुलसी, पीले रंग की मिठाई, पीले फल चढ़ाने चाहिए |  Vishnu Strotram Ke Fayde With Lyrics Hindi Meaning Read In English About Vishnu Ashtakam Benefits and Meaning Lyrics of Vishnu Strotram: जगज्जाल पालम् कचत् कण्ठमालं शरच्चन्द्र भालं महादैत्य कालम्।  नभो-नीलकायम् दुरावारमायम् सुपद्मा सहायं भजेऽहं भजेऽहं ||1||  सदाम्भोधिवासं गलत्पुष्पहासम् जगत्सन्निवासं शतादित्यभासम्।  गदाचक्रशस्त्रं लसत्पीत-वस्त्रं हसच्चारु-वक्रं भजेऽहं भजेऽहं ||2|| रमाकण्ठहारं श्रुतिव्रातसाराम् जलान्तर्विहारं धराभारहारम्। चिदानन्

Rukmani Ashtkam ke fayde with meaning in Hindi

Rukmani ashtkam lyrics with meaning in hindi,  रुकमनी अष्टकम का अर्थ हिंदी में, क्या फायदे है रुक्मिणी अष्टकम के ?| एक अद्भुत प्रार्थना है जिसमे हम माता रुक्मिणी की कृपा के लिए आवाहन करते हैं | जो की भगवान् कृष्ण की प्रिय है जो हमेशा उनकी सेवा में लगी रहती है|  प्रेम समस्याओं का समाधान क्या है? योग्य जीवनसाथी पाने के आसान उपाय क्या हैं? पति-पत्नी के बीच की समस्याओं को कैसे दूर करें? उत्तर है रुक्मणी अष्टकम की पूजा और पाठ । रुक्मिणी अष्टकम के पाठ के बहुत फायदे है : जिनका विवाह नहीं हो रहा हो वे अगर इसका पाठ करें माता रुक्मिणी की पूजा करके तो विवाह में आने वाली बाधाओं का नाश होता है | जिनको अपने मन पसंद साथी से विवाह करना हो उनके लिए भी ये एक चमत्कारी अष्टकम है | लव मैरिज में आने वाली बाधाओं का नाश होता है माता रुक्मिणी की कृपा से | अगर धन सम्बन्धी परेशानी हो तो भी माता रुक्मिणी की पूजा से फायदा होता है क्यूंकि वो माता लक्ष्मी का ही रूप है | शादी के बाद अगर पति पत्नी के बीच सम्बन्ध ख़राब हो रहे हो तो भी रुक्मिणी अष्टकम के पाठ से सम्बन्ध वापस सुधरते हैं | Rukmani Ashtkam ke fayd

Rudrashtak lyrics in hindi ke fayde

श्री रुद्राष्टकम के बोल अर्थ के साथ, रुद्राष्टकम पढ़ने के क्या लाभ हैं। Shri Rudrashtakam Lyrics with meaning , what are the benefits of reciting rudrashtakam. रूद्र जो की शिव के ही एक रूप है और अत्यंत शक्तिशाली है |  जब हर तरफ से परेशानी आ रही हो, असफलता लगातार परेशान कर रही हो, नकारात्मक विचार आगे नहीं बढ़ने दे रही हो तो ऐसे में रुद्राष्टकम का पाठ अत्यंत ही शक्तिशाली और प्रभावी होता है | शिवजी की दिव्या कृपा को तुरंत प्राप्त करने के लिए shree rudrashtak का पाठ रोज करना चाहिए | अगर शत्रु द्वारा कुछ कर दिया गया हो जिससे जीवन असमंजस में पड़ गया हो तो ऐसे में रुद्राष्टकम का पाठ रोज करना चाहिए सुबह, दोपहर और शाम को |  दैनिक जीवन के कार्यो में आने वाली बाधाओं को हटाने के लिए रोज सुबह काम पे निकलने से पहले रुद्राष्टक का पाठ करना चाहिए | Rudrashtak lyrics in hindi ke fayde Read Benefits of Rudrashtakam in english Rudrashtak lyrics in Sanskrit || श्री शिव रूद्राष्टकम: नमामीशमीशान निर्वाण रूपं, विभुं व्यापकं ब्रह्म वेदः स्वरूपम् । निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं, चिदाकाश माकाशवासं भजेऽहम्

Hanuman Ashtak lyrics with hindi meaning

Sankatmochan Hanuman Ashtak | संकट मोचन हनुमानाष्टक lyrics meaning in hindi, क्या फायदे है हनुमान अष्टक को पढने के ?| अगर जीवन में शत्रु बाधा हो, अनचाहा भय परेशां कर रहा हो, किसी से बात करने में झिझकते हो, किसी ने कुछ कर दिया हो, नकरात्मक शक्तियों के कारण रोग और शोक ने घेर लिया हो तो ऐसे में हनुमान जी की पूजा से बहुत फायदा होता है |संकट मोचन हनुमान अष्टक का नियमित पाठ करने से गंभीर संकट का भी निवारण हो जाता है। Hanuman Ashtak lyrics with hindi meaning ॥ हनुमानाष्टक ॥ बाल समय रवि भक्षी लियो तब, तीनहुं लोक भयो अंधियारों । ताहि सों त्रास भयो जग को, यह संकट काहु सों जात न टारो । देवन आनि करी बिनती तब, छाड़ी दियो रवि कष्ट निवारो । को नहीं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥ १ ॥ Hanuman ashtak lyrics बालि की त्रास कपीस बसैं गिरि, जात महाप्रभु पंथ निहारो । चौंकि महामुनि साप दियो तब, चाहिए कौन बिचार बिचारो । कैद्विज रूप लिवाय महाप्रभु, सो तुम दास के सोक निवारो ॥ २ ॥ Hanuman ashtak lyrics अंगद के संग लेन गए सिय, खोज कपीस यह बैन उचारो । जीवत ना बचिहौ हम सो जु, बिना सुधि लाये इहाँ