Skip to main content

Posts

Showing posts with the label medical jyotish in hindi

Latest Astrology Updates in Hindi

Surya Ka kark Rashi Mai Gochar Ka Fal

Surya ka kark rashi mai gochar kab hoga 2024, सूर्य का गोचर कर्क राशि में, क्या असर होगा 12 राशियों पर, Rashifal in Hindi Jyotish. Surya Ka kark Rashi Mai Gochar:  वैदिक ज्योतिष में सूर्य ग्रह एक बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रह है क्योंकि इसके राशि परिवर्तन से मौसम में, लोगों के जीवन में, राजनीति में बड़े बदलाव होने लगते हैं। सूर्य हर महीने राशि बदलता है और उसके अनुसार हमारे जीवन में भी बदलाव होते रहते हैं। सूर्य 16 जुलाई, 2024 को भारतीय समय के अनुसार  सुबह लगभग  11:07 बजे कर्क राशि में गोचर करेंगे । यहाँ ये  17 अगस्त 2024 तक रहेंगे | कर्क राशी में सूर्य सम के हो जाते हैं | कर्क राशि वालों के लिए यह गोचर महत्वपूर्ण है। इस समय के दौरान, कर्क राशि के लोग अधिक भावुक और सहज महसूस कर सकते हैं, और वे अपने  आप के साथ अधिक संपर्क में रह सकते हैं। वे दूसरों का अधिक पोषण करने वाले और देखभाल करने वाले भी हो सकते हैं। यह गोचर अन्य राशियों के लिए भी फायदेमंद हो सकता है, क्योंकि सूर्य एक शक्तिशाली ग्रह है जो सकारात्मक ऊर्जा और अवसर लाने में मदद करता है।  Surya Ka kark Rashi Mai Gochar Watch Video here

Swasthy Samasyaaon ke 14 Jyotishi Karan

Swasthy Samasyaaon ke 14 Jyotishi Karan, स्वास्थ्य समस्याओं के 14 ज्योतिष कारण, लगातार स्वास्थ्य समस्याओं के ज्योतिष कारण, स्वास्थ्य दिन-ब-दिन क्यों गिरता जा रहा है, मुझे इतनी सारी स्वास्थ्य समस्याओं का सामना क्यों करना पड़ रहा है| अगर कोई नियमित रूप से किसी भी प्रकार की बीमारी से पीड़ित है तो इस पर उचित शोध करना आवश्यक है क्योंकि नियमित स्वास्थ्य समस्याएं व्यक्ति के जीवन काल को प्रभावित करती हैं। यदि कोई बच्चा लगातार स्वास्थ्य समस्याओं से गुजर रहा है तो इसका असर उसकी पढ़ाई, दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ आनंद पर पड़ता है। यदि कोई युवा नियमित स्वास्थ्य समस्याओं से गुजरता है तो इसका असर प्रेम जीवन, करियर में उन्नति, सरकारी नौकरी या निजी नौकरी की तैयारी आदि पर पड़ता है। अगर किसी शादीशुदा व्यक्ति को नियमित स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है तो इसका असर उसकी निजी जिंदगी पर पड़ता है। किसी भी प्रकार की चिकित्सीय समस्याएँ तनाव, उदासी, चिंता, आदि को जन्म देती हैं। कुछ को प्रतिरक्षा समस्याओं का सामना करना पड़ता है, कुछ को शारीरिक और मानसिक बीमारी का सामना करना पड़ता है

Autism Bimari Ke Jyotishiy Karan

Autism Bimari Ke Jyotishiy Karan,स्वलीनता और ज्योतिष उपचार, आटिज्म रोग के लिए कुंडली पढ़ने और वैदिक ज्योतिष के माध्यम से समाधान। स्वलीनता (ऑटिज़्म) मस्तिष्क के विकास के दौरान होने वाला विकार है जो व्यक्ति के सामाजिक व्यवहार और संपर्क को प्रभावित करता है। हिन्दी में इसे 'आत्मविमोह' और 'स्वपरायणता' भी कहते हैं | ऑटिज्म एक विकासात्मक विकार है जो सामाजिक संपर्क और संचार के साथ कठिनाइयों को दिखता है | ऑटिज्म आनुवांशिक और पर्यावरणीय कारकों के संयोजन से जुड़ा हुआ है। शोध के अनुसार केवल भारत में ही 18 मिलियन लोग ऑटिज्म से पीड़ित हैं। दुनिया में ऑटिज्म की सबसे अधिक दर वाले कुछ अन्य देश हैं= United States, South Korea, Saudi Arabia, Canada, Australia, Japan, United Kingdom, Denmark, Israel, China. अनुक्रमणिका: आटिज्म कोसमझे Autism के लक्षण क्या हो सकते हैं ? आटिज्म बिमारी के लिए कुंडली से कैसे जान सकते हैं ? ऑटिज्म या व्यक्तित्व विकार के ज्योतिष उपाय कुछ सरल घरेलु उपाय Autism Bimari Ke Jyotishiy Karan चिकित्सा ज्योतिष में, हम जन्म चार्ट को सूक्ष्मता से पढ़कर स्वल

Cancer Rog Ke Jyotishiy Karan in Hindi

Cancer Rog Ke Jyotishiy Karan in Hindi,  कैंसर रोग के ज्योतिष कारण, ज्योतिष में कैंसर रोग, ज्योतिष में कैंसर के लिए कौन सा ग्रह जिम्मेदार है, ज्योतिष और कैंसर रोग, चिकित्सा ज्योतिष के माध्यम से कैंसर का निदान। कैंसर रोग क्या है? जब शरीर के किसी अंग में कोशिकाएं असामान्य और अनियंत्रित रूप से बढ़ने लगती हैं तो इस स्थिति को कैंसर कहा जाता है। क्षतिग्रस्त या उम्र बढ़ने वाली कोशिकाओं को प्रतिस्थापित करने के लिए कोशिकाएं सामान्य रूप से विभाजित और विकसित होती हैं, लेकिन कैंसर में, यह प्रक्रिया गलत हो जाती है। कैंसरग्रस्त कोशिकाओं द्वारा अनियंत्रित कोशिका विभाजन के परिणामस्वरूप ट्यूमर-ऊतकों का समूह हो सकता है। इन विकृतियों के परिणामस्वरूप शरीर के ऊतक और अंग सामान्य रूप से काम नहीं कर पाते हैं। कैंसर कई प्रकार के होते हैं, प्रत्येक की अपनी विशिष्ट विशेषताएं और उपचार विकल्प होते हैं। कैंसर शरीर के लगभग किसी भी हिस्से में हो सकता है और रक्तप्रवाह या लसीका प्रणाली के माध्यम से अन्य क्षेत्रों में फैल सकता है, इस प्रक्रिया को मेटास्टेसिस के रूप में जाना जाता है।  Cancer Rog Ke Jyotishiy Karan i

Mansik Bimari ke karan Aur Upchar in Medical Jyotish

चिकित्सा ज्योतिष में मानसिक बीमारी का उपचार, कुंडली में कौन से ग्रह और भाव मानसिक स्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार हैं, ज्योतिष केस स्टडीज, रोकथाम के उपाय । Mansik Bimari ke karan Aur Upchar in Medical Jyotish: इस सांसारिक जीवन का आनंद लेने और इस जीवन के अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए स्वस्थ दिमाग आवश्यक है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार मानसिक स्वास्थ्य का कुंडली में चंद्रमा ग्रह से बहुत गहरा संबंध है। हमारे दैनिक जीवन में भी हम देख सकते हैं कि जो लोग किसी भी प्रकार के मानसिक विकार से पीड़ित हैं उनके व्यवहार में शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष में अंतर दिखता है, साथ ही अमावस्या और पूर्णिमा को भी इन लोगो के व्यवहार में बहुत ज्यादा बदलाव देखने को मिलता है, इससे भी ये पता चलता है कि चंद्रमा का मानसिक स्वास्थ्य से बहुत गहरा संबंध है। इसलिए जब हम सिज़ोफ्रेनिया या किसी अन्य मानसिक समस्या के बारे में बात करते हैं तो जन्म कुंडली में चंद्रमा ग्रह की स्थिति और अन्य कारकों की जांच करना बहुत आवश्यक है।  Mansik Bimari ke karan Aur Upchar in Medical Jyotish Mansik Bimari ke karan Aur Upchar in Medical Jyot

Tinnitus Ke Karan Aur Roktham Ke Upay

टिनिटस के कारण और रोकथाम युक्तियाँ, टिनिटस के लक्षण, टिनिटस के ज्योतिष कारण, रोकथाम तकनीक, अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न, केस अध्ययन। एक अत्यंत रहस्यमय प्रकार की समस्या जो जब उत्पन्न हो जाती है तो जातक वर्षों तक समझ ही नहीं पाता कि ऐसा क्यों हो रहा है। इस समस्या को टिनिटस के नाम से जाना जाता है जिसमें व्यक्ति को कानों में शोर का सामना करना पड़ता है, खासकर जब कोई बाहरी आवाज न हो। इस प्रकार के रोगी के लिए मौन और शांति में रहना नरक के समान होता है और यह समस्या कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं जैसे अनिद्रा, मतिभ्रम, अस्थिर दिमाग आदि को जन्म देती है। दुर्भाग्य से एलोपैथ, आयुर्वेद, योग में इस रोग का कोई समुचित उपचार मौजूद नहीं है। लेकिन कारणों का पता लगाने के बाद हम कुछ सुझावों का पालन कर सकते हैं जो इसे नियंत्रित करके सुचारू जीवन जीने में मदद करते हैं।  Tinnitus Ke Karan Aur Roktham Ke Upay इस लेख में हम इस समस्या के लक्षण, ज्योतिष कारण और इससे उबरने के कुछ उपाय देखेंगे। Tinnitus Ke Karan Aur Roktham Ke Upay टिनिटस क्या है? यह कान की एक विशेष स्थिति है जिसमें कुछ प्रकार की आवाजें जैसे झनझनाहट,

Swasthya Bhavishyawani in Hindi Jyotish

ज्योतिष में स्वास्थ्य संबंधी भविष्यवाणियाँ, चिकित्सा ज्योतिष, वैदिक ज्योतिष में स्वास्थ्य समस्याओं की भविष्यवाणी कैसे की जाती है?, 3 उदाहरण कुंडलियाँ | Swasthya Bhavishyawani in Hindi Jyotish: वैदिक ज्योतिष भविष्यवाणियों में बहुत समृद्ध है और इसलिए विद्वान समय-समय पर विभिन्न ग्रहों के प्रभाव के अनुसार जीवन के महत्वपूर्ण निर्णय लेने के लिए इस विद्या का उपयोग करते आ रहे हैं। वैदिक ज्योतिष चार्ट विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं के ग्रहीय कारणों को जानने में बहुत सहायक होते हैं। Swasthya Bhavishyawani in Hindi Jyotish Read in English About Health Predictions In Astrology ज्योतिष स्वास्थ्य समस्याओं की भविष्यवाणी करने में कैसे मदद करता है? हमारा जीवन ग्रहों और सितारों से प्रभावित होता है, इसलिए गोचर कुंडली में ग्रहों की स्थिति में बदलाव के साथ हमें अपने व्यक्तिगत जीवन, पेशेवर जीवन और स्वास्थ्य में बदलाव का सामना करना पड़ता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार कुंडली में 12 घर होते हैं और हर घर शरीर के विभिन्न अंगों से संबंधित होता है। इसलिए जब जन्म कुंडली और गोचर कुंडली में कोई घर या ग्रह अश

Piles ka jyotish samadhan

बवासीर के लिए कौन से ग्रह जिम्मेदार हैं?, बवासीर के मुख्य कारण क्या हैं?, बवासीर को स्थायी रूप से कैसे ठीक किया जा सकता है? बवासीर के लिए घरेलू उपचार और रत्न | आइये पाइल्स की समस्या को समझें? पाइल्स की समस्या बहुत ही दर्दनाक समस्या होती है, इसे हम बवासीर भी कहते हैं। कुछ लोग इसे मस्से की बीमारी भी कहते हैं, इसके बारे में एक बहुत ही दिलचस्प बात यह है कि हर व्यक्ति को गुदा में पाइल्स होता है लेकिन समस्या तब शुरू होती है जब उनमें दबाव और कट के कारण सूजन आ जाती है। Piles ka jyotish samadhan आइये जानते हैं पाइल्स/बवासीर की समस्या क्यों उत्पन्न होती है? पाइल्स के कई कारण हो सकते हैं। आइए जानते हैं बवासीर के कुछ कारण- यदि कोई शौच करते समय बहुत अधिक दबाव का प्रयोग किया जाता है तो बवासीर की समस्या उत्पन्न हो सकती है। पाचन की समस्या बवासीर होने का एक प्रमुख कारण है। वैभवपूर्ण जीवन शैली भी बवासीर की समस्या पैदा करती है। फास्ट फूड पर ज्यादा निर्भरता भी बवासीर का एक बड़ा कारण है। नियमित कब्ज के कारण भी बवासीर हो सकता है। भोजन में फाइबर के सेवन की कमी से भी बवासीर हो जाती है। कठोर मल

shankprakshalan kya hota hai

शंखप्रक्षालन के बारे में जानिए, सर्वोत्तम और शक्तिशाली उपाय शरीर को स्वस्थ रखने के लिए, जानिए योग द्वारा वजन कम कैसे करे । अनुक्रमणिका: योग में शंखप्रक्षालन क्या है? विषहरण की इस प्रक्रिया में क्या होता है? एनीमा और शंख प्रक्षालन में क्या अंतर है? शंख-प्रकाशन के क्या लाभ हैं? कैसे किया जाता है? इस प्रक्रिया के बाद क्या करें? शंखप्रकाशन प्रक्रिया को करने में किन आसनों का अभ्यास किया जाता है? शंखप्रक्षालन किसे नहीं करना चाहिए? हम साल में कितनी बार शंख प्रक्षालन कर सकते हैं? हम शंखप्रक्षालन प्रक्रिया के लिए कहाँ जा सकते हैं? shankprakshalan kya hota hai शंखप्रक्षालन क्या है? भारतीय योग तकनीक मन और शरीर को बदलने के लिए बहुत समृद्ध हैं और योग की किताबों में मन और शरीर को डिटॉक्सीफाई करने और ऊर्जा से भरा जीवन जीने के लिए कई तकनीकों का वर्णन किया गया है। शंखप्रक्षालन सबसे अच्छी तकनीक में से एक है जिसका उपयोग शरीर को डिटॉक्सीफाई करने के लिए किया जाता है। यह एक बहुत ही शक्तिशाली प्रक्रिया है जिसमें नमक और निम्बू पानी का उपयोग आंत को साफ करने के लिए किया जाता है और जिन लोगों ने इसका अनुभव