Skip to main content

Posts

Showing posts with the label Fengshui tips in hindi

Latest Astrology Updates in Hindi

Dhumawati Jayanti Ke Upaay

Dhumavati Jayanti 2024, जानिए कौन है धूमावती माता, कैसे होती है इनकी पूजा, dhumawati mata ka mantra kaun sa hai,  Dhumawati Jayanti Ke Upaay. Dhumavati Jayanti 2024:  10 महाविद्याओं में से एक हैं माँ धूमावती और ये भगवती का उग्र रूप हैं | इनकी पूजा से बड़े बड़े उपद्रव शांत हो जाते हैं, जीवन में से रोग, शोक, शत्रु बाधा का नाश होता है | माना जाता है कि धूमावती की पूजा से अलौकिक शक्तियाँ प्राप्त होती हैं जिससे मुसीबतों से सुरक्षा मिलती हैं, भौतिक और अध्यात्मिक इच्छाएं पूरी होती हैं| इनकी पूजा अधिकतर एकल व्यक्ति, विधवाएँ, तपस्वी और तांत्रिक करते हैं |  Dhumawati Jayanti Ke Upaay  Dhumavati Jayanti Kab aati hai ? हिन्दू पंचांग के अनुसार हर साल ज्येष्ठ महीने के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को माँ धूमावती जयंती मनाई जाती है। पौराणिक मान्यता के अनुसार , मां धूमावती धुएं से प्रकट हुई थीं और ये माता का विधवा रूप भी कहलाती है इसीलिए सुहागिन महिलाएं मां धूमावती का पूजन नहीं करती हैं, बस दूर से दर्शन करती हैं और आशीर्वाद लेती है | Read in english about Importance of Dhumawati jayanti 2024   Dhumava

Wind Chimes Ke Fayde

विंड चाइम्स के फायदे, विंड चाइम्स का प्रयोग कैसे करे, जानिए कैसे जीवन को सफल बना सकते हैं विंड चाइम्स के स्तेमाल से. Wind Chimes Ke Fayde फेंग शुई जीवन को बेहतर बनाने में बहुत सहायक है और इसी के अंतर्गत विंड चाइम्स का प्रयोग भी बहुत होता है. इस लेख में हम विंड चाइम्स के फायदे के बारे में जानेंगे. कैसे वास्तु को सकारात्मक उर्जा से भर देता है विंड चाइम्स. विंड चाइम्स के प्रयोग से स्वास्थ्य, सम्पन्नता को जीवन में लाया जा सकता है. इनके स्तेमाल से कामकाजी जीवन में तरक्की पाई जा सकती है, इसके स्तेमाल से घर में शांति और सौहार्द्र का माहोल बनाया जा सकता है, आर्थिक समस्या से निजात पाया जा सकता है, संबंधो को सुधारा जा सकता है. आइये जानते हैं विंड चाइम्स के कुछ बड़े फायदे: अगर इसे अच्छे महुरत में टांगा जाए तो इससे भाग्योदय होता है. इसके स्तेमाल से दिमाग में नकारात्मक विचार जाने लगते हैं और सकारात्मक विचार उत्पन्न होता है. विंड चाइम्स  के स्तेमाल से उर्जाओं को संतुलित किया जा सकता है. इसका स्तेमाल अलास्यता को भी हटाता है. अवसाद से निकलने में भी विंड चाइम्स  सहायक है. विंड चाइम्स

Wind Chimes Ka Prayog Kaise Kare Safalta Ke Liye

फेंगशुई के अंतर्गत विंड चाइम्स का प्रयोग कैसे करे, कहाँ लगाएं विंड चाइम्स फायदे के लिए, कब टाँगे विंड चाइम्स को, कैसे सुरक्षा करे वास्तु का विंड चाइम्स के द्वारा. Wind Chimes Ka Prayog Kaise Kare Safalta Ke Liye अगर आपको अपने घर, ऑफिस आदि में आनंद नहीं आ रहा है तो विंड चाइम्स आपको फायदा दे सकता है. अगर विद्यार्थी पढ़ाई में ध्यान नहीं लगा पा रहे है तो विंड चाइम्स का स्तेमाल कर सकते हैं, अगर पति पत्नी के बीच सम्बन्ध ख़राब हो रहे हो तो विंड चाइम्स का स्तेमाल कर सकते हैं, अगर सफलता जीवन में नहीं आ रही है तो विंड चाइम्स का प्रयोग कर सकते हैं. विंड चाइम्स का स्तेमाल फेंगशुई के अंतर्गत वास्तु दोषों को सुधरने में किया जाता है. इसका स्तेमाल वातावरण में सकारात्मक उर्जा को लाता है. विंड चाइम्स कई प्रकार के होते हैं जिनका स्तेमाल अलग अलग कार्यो के लिए होता है.  आइये देखते हैं विंड चाइम्स के प्रकार: विंड चाइम्स अलग अलग चीजो से बनाए जाते हैं जिसके हिसाब से उन्हें हम निम्न भागो में बाँट सकते हैं – धातु से बने विंड चाइम्स बांस से बने विंड चाइम्स सेरामिक विंड चाइम्स कांच से बने विंड चा

Fengshui Kya Hota Hai

फेंग शुई क्या है, फेंग शुई के फायदे, फेंग शुई की शक्ति, कब प्रयोग करे फेंग शुई का. Fengshui Kya Hota Hai करीब ४००० वर्ष पूर्व चाइना में एक चमत्कारी विद्या की खोज हुई जिसे फेंग शुई कहा गया. इसमें उर्जा के बारे में जानकारी दी गई है. इसमें बताया गया है की कैसे हम उर्जाओं में सामंजस्य बिठा सकते हैं शारीर में, वास्तु में और घर में और सफलता को आकर्षित कर सकते हैं.  क्या है फेंग शुई? भारतीय वास्तु विद्या के जैसा फेंगशुई भी है. भारत में हम वास्तु के सिद्धांतो का प्रयोग घर, फैक्ट्री, बिल्डिंग आदि बनाने में करते हैं उसी प्रकार चाइना में फेंगशुई का प्रयोग वास्तु में सकारात्मक उर्जा को बढाने में किया जाता है. फेंग शुई शब्द का अर्थ है हवा और पानी. चीनियों का मानना है की उर्जा का सामंजस्य बहुत जरुरी है व्यक्तिगत और कामकाजी जीवन को सफल बनाने के लिए. फेंगशुई में “ईन” और “यांग” उर्जा का उल्लेख मिलता है. इनके अनुसार ये २ उर्जा पुरे विश्व को नियंत्रण करती है. सौर्य उर्जा को “ची” कहा जाता है जो सब जगह उपलब्ध रहती है. ये ची शारीर में भी बहती है. इस ची का नकारात्मक और सकारात्मक प्रभाव होता है.