Skip to main content

Posts

Showing posts from 2017

Janiye Bhavishyawani Jyotish Sansar Se

भविष्यवाणी  का अर्थ है पूर्वानुमान करना अर्थात किसी अनिश्चित घटना के बारे में कुछ कहना पहले ही. भविष्यवाणी  साधारणतः ज्योतिष, भविष्यवक्ताओ, अंक विद्या के जानकार आदि के द्वारा किया जाता है. ज्योतिषगण कुंडली को पढके बताते हैं, साइकिक रीडर्स अन्तः प्रेरणा के द्वारा कहते हैं, अंक शाष्त्री अंको का स्तेमाल करके भविष्यवाणी करते हैं. किसी भी व्यक्ति का अनुभव और ज्ञान बहुत महत्त्व रखता है भविष्यवाणी करते हुए.
आइये जानते हैं की पूर्वानुमान का महत्त्व क्या होता है:
दशको से लोग भविष्यवाणी  का प्रयोग करते आ रहे हैं महत्त्वपूर्ण निर्णयों को लेने के लिए. सिर्फ ज्योतिष ही नहीं अपितु वित्तीय क्षेत्र में भी भविष्यवाणी का प्रयोग होता आया है, कॉर्पोरेट दुनिया में भी पूर्वानुमानो का प्रयोग होता आया है. मौसम की भविष्यवाणी भी हम रोज सुनते हैं जो की एक्सपर्ट्स के द्वारा बताया जाता है.
अतः भविष्यवाणी को सुनके लोग और महत्त्वपूर्ण पदों पर बैठे लोग बड़े बड़े फैसले लेते हैं. लोग पूर्वानुमानो के आधार पर निवेश करने का निर्णय लेते हैं. लोग नए कार्यो को शुरू करने का भी निर्णय लेते हैं. भविष्यवाणी  के आधार पर लोग अपने…

Badha Nivaran Ke Liye Shabar Mantra

शाबर मंत्र प्रयोग बेल पत्र के साथ, जानिए विशेष मंत्र जिसके द्वारा पूरी कर सकते हैं मनोकामना, पूरी करे इच्छाएं शिव पूजा और शाबर मंत्र से.  ऐसा कहा जाता है की कलयुग में शाबर मंत्र बहुत ज्यादा प्रभावशाली होते हैं, इनके द्वारा मनोकामना बहुत जल्दी और आसानी से पूरी होती है. यहाँ आपके लिए एक आसान प्रयोग दे रहे हैं जो जीवन में से समस्याओं को ख़त्म करके जीवन को सफल बनाने में मदद करती है.  किसी भी शाबर मंत्र का प्रयोग करने से पहले उसका जप ग्रहण काल में या फिर दिवाली की रात्रि को या फिर नवरात्रियो में कर लेना चाहिए. इसके अलावा शाबर सिद्धि के विधि विधानों को भी अपनाना चाहिए किसी योग्य गुरु के सानिध्य में.  शाबर मंत्र: “ॐ ह्रीं श्रीं ठं ठं ठं नमो भगवते
मम कार्य कार्याणि साधय साधय
मां रक्ष रक्ष शीघ्रनां
धनिनं कुरु कुरु हुं
फट श्रियम देहि, प्रज्ञां देहि,
ममापत्तिम निवारय निवारय स्वाहा |”
उपर्युक्त शाबर मंत्र की प्रयोग विधि:

Share Bazaar Aur Jyotish

शेयर बाजार धन कमाने का एक सुनहरा अवसर प्रदान करता है. जिसका भाग्य शेयर बाजार में साथ दे दे वो बहुत ही जल्द करोड़ पति बन जाता है और जिसका भाग्य शेयर मार्केट में साथ न दे वो जल्दी ही सब कुछ गंवा भी देता है.  ऐसा कहा जाता है की शेयर बाजार में बहुत ही कम लोग सफल हो पाते हैं क्यूंकि इसमें भाग्य के साथ साथ गहन अध्ययन की भी जरुरत होती है.  ज्योतिष के द्वारा हम ये जान पाते हैं की कोई व्यक्ति शेयर बाजार से कम पायेगा या नहीं और क्यों. इस संसार में हर व्यक्ति वास्तु आदि पर ग्रहों और नक्षत्रो का प्रभाव रहता है. इसी के कारण समय समय पर ग्रहों की दिशा और अवस्था के बदलने के साथ ही बाजार भी ऊपर और नीचे होता है. अगर हम अपने कुंडली में मौजूद ग्रहों के बारे में जान जाएँ तो ये भी जान सकते हैं की शेयर बाजार से कमा पायेंगे की नहीं. क्या आप जानते है की कौन लोग शेयर बाजार से कमा पाते हैं?जो लोग तुरंत निर्णय लेने में माहिर होते हैं वो लोग शेयर बाजार में सफलता प्राप्त कर लेते हैं क्यूंकि कभी कभी बाजार अचानक से बदल जाता है और उस समय त्वरित निर्णय की जरुरत होता है.जो लोग चील की निगाह बाजार पर रख सकते हैं वो लोग भ…

Rashi Ratna Aur Unke Rang Jyotish Mai

राशी रत्न, जानिए कौन से ग्रह से कौन सा रत्न सम्बन्ध रखता है, कौन से रंग के होते हैं रत्न ज्योतिष के हिसाब से, कब कौन सा रत्न पहने.
राशी के हिसाब से रत्नों की जानकारी होना आवश्यक होता है उन लोगो के लिए जिन्हें ज्योतिष में रूचि है. कुछ लोग जानकारी के आभाव में गलत रत्न धारण कर लेते हैं. कुछ लोग ऐसे भी है जिन्हें अपने जन्म तारिक, जन्म स्थान, जन्म समय की जानकारी नहीं है जिसके कारण उनकी कुंडली नहीं बन पाती है. ऐसे लोग अपने नाम राशि के हिसाब से रत्न धारण करना चाहते हैं. इस लेख में आप ज्योतिष से जानेंगे की कौन सा रत्न किस रंग का होता है और कौन सी राशि वालो को धारण करना चाहिए और कब. अपने राशि से सम्बंधित रत्न को जानने के लिए सही राशि चुनिए दिए गए विकल्प में से -
चुनिए अपनी सही राशिमेष राशि रत्नवृषभ राशि रत्न मिथुन राशि रत्न कर्क राशि रत्न सिंह राशि रत्न कन्या राशि रत्न तुला राशि रत्नवृश्चिक राशी रत्नधनु राशि रत्न मकर राशि रत्नकुम्भ राशि रत्नमीन राशि रत्न


ऊपर हमने देखा की कौन से राशी के कौन से रत्न है और उस राशि रत्न का रंग क्या है और उसे कब धारण किया जाता है.
नोट: अगर आपके पास आपकी जन्म तारी…

Surya Ka Vrischik Rashi Me Ane Ka Fal

सूर्य का वृश्चिक राशि में आने से क्या प्रभाव होगा राशियों पर, जानिए कैसे सूर्य का राशी बदलना शुभता लाएगा. ज्योतिष से जानिए भविष्यवाणी. सूर्य गृह अति महत्त्वपूर्ण ग्रह है हमारे लिए. सूर्य अगर किसी के कुंडली में शुभ हो तो जातक को मान सम्मान, तरक्की, समाज में विशिष्ट स्थान आसानी से दिला देता है वही अगर सूर्य ग्रह कुंडली में ख़राब हो जाए तो जातक को विभिन्न प्रकार की परेशानियाँ देता है.  गोचर में भी सूर्य समय समय पर राशि बदलता रहता है. इसे ही ज्योतिष में संक्रांति कहा जाता है. १६ नवम्बर २०१७ को सूर्य वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा अतः इस दिन को वृश्चिक संक्रांति कहा जायेगा. सूर्य देव का सम्बन्ध ज्योतिष के अनुसार पिता से है, आत्मा से है, समाज में मान सम्मान से है, यश, कीर्ति, प्रसिद्धि से है. इसका अर्थ ये है की सूर्य की स्थिति का असर हमारे जीवन में उपर लिखये विषयो पर होता है.  आपके कुंडली में सूर्य की स्थिति क्या है ये तो एक अच्छा ज्योतिष ही बता सकता है. और उसी के आधार पर ये हमारे जीवन को प्रभावित करता है.  सूर्य का वृश्चिक में गोचर का असर क्या होगा: इस लेख में हम जानेंगे की १६ नवम्बर को सूर्…

Kartik Poornima Ka Mahattw In Hindi

जानिए कार्तिक पूर्णिमा का महत्त्व, क्या करे कार्तिक पूनम को सफलता के लिए, कैसे प्राप्त करे स्वास्थ्य और सम्पन्नता. कार्तिक पक्ष की पूर्णिमा एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण दिन है जब हम स्वास्थ्य और सम्पन्नता के लिए पूजा पाठ कर सकते हैं. इस पवित्र दिन में भक्त भगवान् विष्णु और माता तुलसी का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं और अपने जीवन को सफल बना सकते हैं. इस दिन लोग पवित्र नदियों में स्नान करते हैं और घाटो पर पूजा-पाठ करते हैं.

कार्तिक पूर्णिमा को लोग बहुत अलग अलग तरह के विधि विधान करते दीखते हैं जिससे की जीवन को निष्कंटक बनाया जा सके. कुछ लोग तुलसी और शालिग्राम का विवाह करते हैं.भक्तगण नदी तटो पर दीप दान भी करते हैं. ऐसी मान्यता है की कार्तिक पूनम की शाम को दीप दान करने वाले को अश्वमेघ यज्ञ का पुण्य प्राप्त होता है.इस पवित्र दिन को लोग “त्रिजटा लक्ष्मी ” की पूजा भी करते हैं. ऐसा कहा जाता है की त्रिजटा लक्ष्मी जी ने माता सीता को अशोक वाटिका में बचाया था. विशेषरूप से कन्याएं त्रिजटा लक्ष्मी की पूजा अपने मनपसंद जीवन साथी को पाने के लिए करती है.भक्तगण इस दिन तुलसी का पौधा भी वितरित करते हैं.कुछ जगह त…

Kamjor Chandrama Ka Jivan Par Prabhav Aur Upaay Jyotish Me

कमजोर चन्द्रमा का प्रभाव जीवन में, कैसे बढ़ाए चन्द्रमा की शक्ति को , क्या नुक्सान होता है चन्द्रमा कमजोर होने से ज्योतिष के हिसाब से, जानिए कुछ ख़ास उपाय अच्छे जीवन के लिए. अगर सूर्य दहकता हुआ गेंद दीखता है तो वहीँ चन्द्रमा शीतलता लिए हुए दीखता है. सूर्य दिन का राजा है और चन्द्रमा रात्री को सभी को राह दिखाता है. लोग पूर्णिमा के दिन काफी उर्जा से युक्त महसूस करते हैं. चन्द्रमा की शक्ति भी जीवन में बहुत महत्त्वपूर्ण है. चन्द्रमा का सम्बन्ध जीवन के बहुत ही महत्त्वपूर्ण विषयो से रहता है :चन्द्रमा हमारे सोचने को प्रभावित करता है. चन्द्र अगर राहू के साथ युति कर जाए कुंडली में तो जीवन को बहुत ज्यादा प्रभावित करता है, साथ ही अगर ये वृश्चिक राशि में हो तो भी बहुत नुक्सान करता है. चंद्रमा माता के साथ संबंधो को भी प्रभावित करता है. जन्म के समय ये हमारे राशि का निर्धारण भी करता है. भावनात्मक विचारो को भी चन्द्रमा प्रभावित करता है.कर्क राशि पर चन्द्रमा का प्रभाव रहता है.चन्द्रम हमारे सोच, अंतः प्रज्ञा, रचनात्मकता, कल्पना शक्ति और इन्द्रियों को बहुत ज्यादा प्रभावित करता है. चन्द्रमा का सम्बन्ध हमारे …

Shani Prakop Se Bachne Ke Totkay

शनि प्रकोप से बचने के टोटके, shani sade sati se bachne ke upaay, शनि ग्रह दोष निवारक टोटके, ज्योतिष समाधान.
शनि ग्रह सभी ग्रहों में सबसे ज्यादा क्रूर माने जाते हैं परन्तु सही बात ये है की सूर्य पुत्र शनि देव न्याय से सम्बन्ध रखते हैं, पाप और पुण्य का फल देना उनके ही हाथो में है, इसी कारण लोगो को उनसे भय लगता है.  जब शनि साड़े साती किसी की जीवन में आती है तो जातक को विभिन्न प्रकार के बड़े बदलाव नजर आते हैं जो की अच्छे भी होते हैं और बुरे भी. परन्तु लोगो को ग़लतफ़हमी है की शनि सिर्फ पीड़ा ही देते हैं अतः इस सोच को बदलना जरुरी है.  आइये जानते हैं की जब शनि पीड़ा देते हैं तो क्या-क्या हो सकता है?शनि के बुरे प्रभाव से शारीरिक पीड़ा बढ़ सकती है.ख़राब शनि के प्रभाव से लम्बे समय तक रोग रह सकता है.प्रेम संबंधो में समस्या उत्पन्न हो सकती है.रंजिशे बढ़ सकती है दोस्तों, रिश्तेदारों से.जातक को अपमान और उपेक्षा का सामना करना पड़ सकता है.जातक को कानूनी अड़चनो का सामना करना पड़ सकता है.बार बार असफलता जीवन में आती है.धन हानि का सिलसिला शुरू हो जाता है. आइये अब जानते हैं की जब शनि देव सकारात्मक प्रभाव उत्पन्न करते …

2018 Rashifal In Hindi

2018 Rashifal in hindi , Kya Kahte Hai Nay Saal Ke Sitare, पढ़िए २०१८ राशिफल, जानिए भविष्य फल, ग्रहों और नक्षत्रो का प्रभाव कैसे रहेगा २०१८ में.

नया साल जब भी आता है तो लोगो में नई उमंग, नया उत्साह, आ जाता है. लोग नए संकल्प लेने लगते हैं, नए सपने देखने लगते हैं और उन्हें पूरा करने के लिए नए उत्साह के साथ कार्य करने की तैयारी करते हैं. ज्योतिष प्रेमी लोग नए साल के राशिफल को जानने की इच्छा रखते हैं. अब समय आ गया है की हम जाने की नए साल २०१८ क्या ला रहा है, १२ राशियों पर ग्रहों के चाल का क्या असर होगा, क्या करे जीवन को सफल बनाने के लिए ज्योतिष के हिसाब से. जानिए शनि देव क्या असर डालने वाले है नए साल में राशियों पर. ये राशिफल आपको जीवन में महत्त्वपूर्ण फैसलो को लेने में मदद करेगा.
स्वागत है आप सभी का संवत 2074- 2075 मे: इस नए संवत्सर के राजा है सूर्य देव जिनका सम्बन्ध नाम, यश, ख्याति, उन्नति आदि से है और मंत्री है शनिदेव जिनका सम्बन्ध न्याय, निर्णय, कठोर परिश्रम, खेती आदि से है. अपनी राशि को चुनिए और जानिए ज्योतिष से २०१८ क्या ला रहा है आपके लिए.

आपकी राशि चुनिए मेष राशि वृषभ राशि�…

Nada Yoga Dhyan Ke Fayde Aur Vidhi

नाद योग ध्यान क्या है, कैसे करे नाद योग ध्यान, क्या फायदे होते हैं इस ध्यान के, कैसे उर्जित करे अपने मन मस्तिष्क और शारीर को, जानिए ध्यान की अदभुत विधि.
इस लेख को शुरू करने से पहले ये बता दे की ये ध्यान विधि बहुत ही प्रभावकारी है और लोगो ने इस विधि का प्रयोग करके बहुत ही अश्चार्जनक बदलाव जीवन में महसूस किया है. इस ध्यान विधि के बारे में जानने के लिए ये जरुरी है की हम खुद करे और महसूस करे इसकी शक्ति को. नाद योग ध्यान को रोज करने वाले बहुत सी परेशानियों से अनायास ही छुटकारा पा लेते हैं. अगर इस ध्यान को रोज किया जाए तो हम एक स्वस्थ जीवन, संपन्न जीवन, सकारात्मक जीवन को जी सकते हैं. क्या है नाद योग ध्यान ? नाद योग भारत की अति प्राचीन ध्यान विधियों में से एक है जिसका प्रयोग यहाँ के ऋषि, मुनि, योग और जानकार लोग करते आये हैं. साधारणतः लोग इसका प्रयोग अध्यात्मिक उन्नति के लिए ही करते आये हैं परन्तु सच तो ये है की इस ध्यान के प्रभाव से संकल्प शक्ति विकसित हो जाती है और व्यक्ति सफलता पूर्वक जीवन भी जी सकता है. आइये कुछ और जाने नाद योग के बारे में : शारीर और मन के शुद्धिकरण में सहायक है नाद योग ध…

Putrada Ekadashi Vrat Ka Jyotish Mahattw

Putrada Ekadashi Vrat Ka Jyotish Mahattw, क्या करे पुत्रदा एकादशी को संतान सुख के लिए.
जो एकादशी श्रावण महीने के शुक्ल पक्ष को आती है उसे भारत में पवित्र एकादशी या फिर पुत्रदा एकादशी के रूप में भी मनाया जाता है. ये पवित्र दिन भगवान् विष्णु को समर्पित है. इस दिन पति और पत्नी दोनों ही व्रत रखते हैं जिससे की स्वस्थ पुत्र की प्राप्ति हो. ये व्रत वैष्णव सम्प्रदाय में बहुत माना जाता है.

आइये जानते हैं की श्रावण पवित्रा एकादशी का महत्त्व: हिन्दुओं की मान्यता है की श्राद्ध कर्म सिर्फ पुत्र द्वारा ही किया जाता है और ऐसी भी मान्यता है की बुढापे में पुत्र की अपने माता पिता की देखभाल करता है. हालांकि आज के समय में ऐसा कुछ दीखता नहीं है. आज लोग बीटा और बेटी के प्रति सामान भाव रखने लगे है. आज लड़कियां लडको से अच्छा अपनी जिम्मेदारियों को निभा रही है.

पवित्र एकादशी या फिर पुत्रदा एकादशी उन लोगो के लिए बहुत महत्त्व रखता है जो लोग सिर्फ पुत्र की कामना रखते हैं. अगर कोई दंपत्ति इस दिन उपवास रखता है और पूजा करता है तो भगवान् विष्णु की कृपा से उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है.
जानिए कुछ ख़ास बाते पुत्र…

Apne Dar Ko Kaise Jeete Shaandar Jivan Jeene ke Liye

कैसे जीते अपने डर को, जानिए कुछ बेहतरीन उपाय डर से बाहर आने के लिए, कैसे जियें सफल जीवन.
भय एक अहसास है कुछ खोने का, जैसे सामाजिक स्टेटस खोने का, किसी व्यक्ति से बिछड़ने का, धन हानि का, संपत्ति खोने का, ऐशो आराम से जीने का आदि. भय के बारे में मुख्य बात ये है की ये जातक को भिखारी जैसे बना सकता है. मन से व्यक्ति गुलामो जैसे जीवन जीने के लिए मजबूर हो जाता है भय के कारण और जीवन को नरक बना लेता है.

भय एक श्राप है जो जातक के वर्तमान और भविष्य को ख़राब कर सकता है अतः इससे बाहर आना बहुत जरुरी होता है. हमेशा सचेत रहिये और किसी भी हालत में डर को अपने अन्दर घुसने मत दीजिये. आइये देखते है की कैसे डर उत्पन्न होता है मन में ?जब एक पढ़ा लिखा व्यक्ति नौकरी नहीं पाता है तो डर उत्पन्न हो जाता है.जब किसी को अपने पसंद का जीवन साथी नहीं मिल पाता है तो डर उत्पन्न होने लगता है.जब व्यापार नीचे आने लगता है तो व्यक्ति नकारात्मक भावों से भर जाता है.कुछ लोग तो ऊँची आवाज से भी घबरा जाते हैं.अगर बिजली चली जाए तो भय उत्पन्न हो जाता है.एक ने दुल्हन को नए परिवार में जाने का डर होता है.कुछ लोगो को तो हर नए व्यक्ति से मिल…

Kamjor Guru Ka Jivan Par Prabhav Aur Upaay Jyotish Me

कमजोर गुरु का प्रभाव जीवन में, कैसे बढ़ाए गुरु की शक्ति को , क्या नुक्सान होता है गुरु कमजोर होने से ज्योतिष के हिसाब से, जानिए कुछ ख़ास उपाय अच्छे जीवन के लिए. अगर कुंडली में गुरु ग्रह शुभ और मजबूत हो तो इसमें कोई शक नहीं की जातक जीवन में जबरदस्त सफलता हसील कर सकता है.एक अकेला शुभ गुरु बाकी ग्रहों की समस्याओं को भी कम कर सकता है. अतः जिनके कुंडली में गुरु ग्रह शुभ और शक्तिशाली है वो भाग्यशाली होते हैं. गुरु ग्रह ज्ञान से सम्बन्ध रखता है, गंभीरता से सम्बन्ध रखता है, सफलता से सम्बन्ध रखता है और साथ ही असाधारण शक्ति से भी सम्बन्ध रखता है. गुरु ग्रह के कारण जातक को समाज में आदर, सम्मान, अधिकार मिलता है. आइये देखते है की कमजोर गुरु ग्रह के कारण जीवन में क्या असर हो सकते हैं:कमजोर गुरु के कारण जातक को विद्द्या प्राप्ति में समस्या हो सकती है जिसके कारण अन्य परेशानियाँ उत्पन्न हो सकती है. समाज में जातक को अपना नाम करने में परेशानी आ सकती है.कमजोर गुरु के कारण दुसरो के द्वारा जातक दबा दिया जाता है.इसके कारण जातक को दुसरो को प्रभावित करने में भी समस्या आती है. क्या करे गुरु की शक्ति को बढाने के ल…

Kamjor Budh Ka Jivan Par Prabhav Aur Upaay Jyotish Me

कमजोर बुध का प्रभाव जीवन में, कैसे बढ़ाए बुध की शक्ति को , क्या नुक्सान होता है बुध कमजोर होने से ज्योतिष के हिसाब से, जानिए कुछ ख़ास उपाय अच्छे जीवन के लिए. बुध एक ऐसा ग्रह है जो हमे क्षमता देता है किसी भी कार्य को दक्षता से करने का. अतः किसी भी व्यक्ति की बुद्धिमत्ता इस बात पर निर्भर करती है की कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति कैसी है. कमजोर बुध जातक को मजबूर कर देता है की वो संघर्षमय जीवन जिए दूसरी तरफ मजबूत बुध जीवन को सफलता पूर्वक जीने के रास्ते खोल देता है. शुभ बुध के कारण जातक किसी भी कार्य को आसानी से कर सकता है. बुध जातक को ये भी क्षमता देता है की किसी भी परिस्थिति का सामना बुद्धिमत्ता से कैसे करना है, कैसे किसी कार्य को आसानी से करना है, अतः शुभ बुध से जातक को एक आकर्षक व्यक्तित्त्व मिलता है. बहुत से वक्ता, लेखक, नेताओं, खोजकर्ताओं के कुंडली में बुध का अच्छा प्रभाव दीखता है. आइये देखते है की कैसे कमजोर बुध हमारे जीवन को प्रभावित करता है:कमजोर बुध के कारण व्यक्ति की बुद्धि प्रभावित होती है.इसके कारण जातक का दिमाग कमजोर हो सकता है.कमजोर बुध के कारण गले, हाथ, त्वचा में कमजोरी पाई जा…

Kamjor Mangal Ka Jivan Par Prabhav Aur Upaay Jyotish Me

कमजोर मंगल का प्रभाव जीवन में, कैसे बढ़ाए मंगल की शक्ति को , क्या नुक्सान होता है मंगल कमजोर होने से ज्योतिष के हिसाब से, जानिए कुछ ख़ास उपाय अच्छे जीवन के लिए.
मंगल शक्तिशाली ग्रह है और इसकी जीवन में बहुत महत्त्व है. मंगल प्रतिक है शारीरिक शक्ति का, जीवनी शक्ति का आदि.  जातक की संकल्प शक्ति को भी मंगल प्रभावित करता है. कुंडली में अच्छा मंगल हो तो जातक अपनी इच्छाओ को जीवन में पूरा कर लेता है मेहनत से.  मंगल का ज्यादा शक्तिशाली होना जातक को गुस्सेल बना सकता है और कमजोर मंगल के कारण जातक शांत स्वभाव का हो जाता है, कभी कभी ये अलसी भी बना देता है, बेकार भी कर देता है, गैर जिम्मेदार भी बना देता है.  कुंडली में मंगल शुभ और शक्तिशाली हो तो जातक रक्षा सेवाओं में सफलता प्राप्त करता है. सफल कलाकारों में भी मंगल शुभ देखा गया है.  कमजोर मंगल के कारण जातक खून की कमी से भी ग्रस्त हो सकता है और इसके कारण जातक सेक्स करने में भी पूर्ण रूप से समर्थ नहीं हो पाता है जिससे व्यक्तिगत जीवन में परेशानी उत्पन्न होती है. मंगल ग्रह उर्जा से सम्बन्ध रखता है अतः इसका सम्बन्ध सभी अन्य विषयो से होता है. अतः ये जरुरी …

Online Jyotish Prashn Uttar

ज्योतिष संसार के पाठको के लिए ये सेवा शुरू की जा रही है जिसमे पाठक अपने प्रश्नों का उत्तर ऑनलाइन पा सकते हैं.
आप अनेक विषयो से सम्बंधित सवाल को ओपन प्रश्न उत्तर के जरिये पूछ सकते हैं जिसका जवाब www.jyotishsansar.com ब्लॉग में प्रकाशित किया जाएगा.
अगर घर में परेशानी हो तो आप पूछ सकते है ज्योतिष से सवाल. अगर शिक्षा में परेशानी आ रही है तो पूछ सकते हैं ज्योतिष से सवाल ऑनलाइन प्रश्न उत्तरी में.अगर बिमारी परेशान कर रही है तो पूछ सकते है सवाल.अगर कानूनी अडचने आ रही है जीवन में तो भी पूछ सकते हैं.अगर वैवाहिक जीवन में परेशानी आ रही है तो भी आप ज्योतिष से प्रश्न पूछ सकते हैं. अगर बिना बात के दुश्मनी बढती जा रही है और आप जानना चाहते है ज्योतिषीय कारण तो पूछ सकते हैं प्रश्न. कैसे पूछे प्रश्न ज्योतिष से ऑनलाइन प्रश्न उत्तर में? अपना नाम लिखे:
अपना जन्म तारीख, जन्म समय, जन्म स्थान लिखे.
विषय : ओपन प्रश्न उत्तर
कोई एक प्रश्न लिखे:
अपने शहर का नाम लिखे:
अपना कोई एक प्रश्न :

आपको ये जानकारियां निम्न ईमेल पर भेजना होगा : askjyotishsansar@gmail.com ओपन प्रश्न उत्तर के नियम -इसका जवाब मेल से नहीं भेजा जा…

Jyotish Se Baat Kare

ज्योतिष से बात करके समाधान पायें अपनी समस्याओं का. अगर चिंताएं परेशान कर रही है, अगर जीवन दुश्वार हो रहा है, अगर ग्रहों के कारण कुछ समझ नहीं आ रहा है तो आप ज्योतिष से बात करके भी अपने समस्याओं का सामाधान प्राप्त कर सकते हैं. विवाह परेशानियों का समाधान पायें ज्योतिष से.पितृ दोष का समाधान पायें ज्योतिष से.कालसर्प दोष का समाधान पायें ज्योतिष से.प्रेम में असफल हो रहे हो तो जानिए ग्रहों का खेल ज्योतिष से. www.jyotishsansar.com के द्वारा आप पा सकते है अपने कुंडली का विवेचन, आप जान सकते हैं अपने बारे में लाभदायक रत्न, शुभ पूजाएँ आदि.
ज्योतिष से बात करके आप जान सकते है कामकाजी जीवन में आगे बढ़ने के ज्योतिषीय उपाय.नौकरी में समस्याओं को दूर करने के तरीके.प्रेम विवाह या रोमांस जीवन में आनेवाली समस्याओं का समाधान.शिक्षा में समस्याओं के समाधान के लिए ज्योतिषीय उपाय.काला जादू से परेशानी से छुटकारा.बीमारियों से छुटकारे के लिए ज्योतिषीय उपाय. ज्योतिष परामर्श के लिए कुछ बाते ध्यान में रखे :ज्योतिषीय परामर्श के लिए आप ईमेल (askjyotishsansar@gmail.com) कर सकते हैं और बाद में समय मिलने पर फ़ोन पर तत्काल बात…

Kamjor Surya Ka Jivan Par Prabhav Aur Upaay Jyotish Me

कमजोर सूर्य का प्रभाव जीवन में, कैसे बढ़ाए सूर्य की शक्ति को , क्या नुक्सान होता है सूर्य कमजोर होने से ज्योतिष के हिसाब से, जानिए कुछ ख़ास उपाय अच्छे जीवन के लिए.
ग्रहों का शक्तिशाली होना बहुत महत्त्व रखता है कुंडली में. ज्योतिष के हिसाब से अगर किसी की कुंडली में ग्रह शक्तिशाली होते है तो वो जातक सफल जीवन आसानी से जी सकता है. परन्तु कुंडली में ग्रह शुभ हो परन्तु कमजोर हो तो भी जातक को संघर्ष करना होता है.  एक अच्छा ज्योतिष कुंडली में सिर्फ ग्रहों की शुभता नहीं देखता है अपितु ग्रहों की शक्ति को भी देखता है और फिर उसके हिसाब से उपाय निकाले जाते है.  साधारणतः हम कुंडली में सिर्फ ख़राब ग्रहों के बारे में जानना चाहते हैं परन्तु कमजोर ग्रहों को भी देखना चाहिए. कोई भी जातक कमजोर ग्रहों के कारण भी बहुत संघर्ष करता है.  इस ज्योतिषीय लेख में हम जानेंगे कमजोर सूर्य के जीवन पर प्रभाव के बारे में. कैसे प्रभावित करता है कमजोर सूर्य जीवन को, कैसे बढ़ाए सूर्य की शक्ति को, कैसे सूर्य देव की कृपा प्राप्त करे. कौन सा रत्न सूर्य से जुदा है आदि. वास्तव में सूर्य ग्रह जीवन का आधार है. सूर्य ही हमे ऊर्जा देता …

Hatho Mai Parwat Aur Vaivahik Jivan

क्या होते हैं पर्वत, पर्वतों का प्रभाव वैवाहिक जीवन में क्या पड़ता है, जानिए नवग्रहों को पर्वतों से .  हस्त रेखा विज्ञान एक अदभुत विज्ञान है जिसके द्वारा जीवन को देखा जाता है. हस्त रेखा के अंतर्गत भविष्यवाणी के लिए साधारणतः रेखाओं और पर्वतों का स्तेमाल किया जाता है. हस्तरेखा विशेषज्ञ हाथो का अध्ययन करके बहुत कुछ जान जाते हैं.
इस लेख में हम जानेंगे पर्वतों का क्या प्रभाव होता है जीवन में, उसके वैवाहिक जीवन में. उससे पहले जानते हैं की-
पर्वत क्या होते हैं?
उंगलियों के नीचे का उठा हुआ भाग जो होता है उसे पर्वत कहते हैं. हर व्यक्ति में पर्वत अलग अलग प्रकार के होते है. किसी के पर्वत उठे होते हैं, किसी के पर्वत दबे होते हैं, इनके अध्ययन से भी जीवन के बारे में बहुत कुछ जाना जाता है.  आइये जानते हैं की पर्वतों का वैवाहिक जीवन पर क्या प्रभाव हो सकता है : चन्द्र पर्वत : अगर चन्द्र पर्वत ज्यादा उठा हुआ हो तो इसका मतलब है की जातक अस्थिर बुद्धि का है साथ ही विपरीत लिंग के पीछे भी रह सकता है जिसके कारण वैवाहिक जीवन खराब हो सकता है.
चन्द्र पर्वत के होने वाले समस्या से निजात पाने के लिए निम्न उपाय अप…

52 Shaktipeeth Ke Bare Me Janiye

५२ शक्ति पीठ भारत में, कहाँ मौजूद है ५२ शक्तिपीठ, कौन सी देवी की पूजा होती है ५२ शक्तिपीठो में. 
भारत में शक्तिपीठो का बहुत महत्त्व है, रोज हजारो लोग शक्तिपीठो में साधना और दर्शन के लिए पहुँचते हैं. ऐसी मान्यता है भक्तो की कि शक्तिपीठो में दर्शन पूजन करने से माता की कृपा तुरंत प्राप्त होती है. महाशक्ति स्वयं शक्तिरूप में शक्तिपीठो में मौजूद है.

पुराणों के अनुसार शक्तिपीठो में माता के अंग गिरे थे इस कारण ये सब स्थान प्रसिद्द हो गए और शक्तिशाली भी. आइये जानते हैं ५२ शक्तिपीठो के बारे में साथ ही वहां की अधिष्ठात्री देवी और स्थान के बारे मेंहिंगुला शक्तिपीठ – बिलोचिस्थान में है और यहाँ भैरवी की पूजा होती है. यहाँ पर माता के सर का उपरी हिस्सा ब्र्हम्रंध्र गिरा था.किरीट शक्तिपीठ – बटनगर – हावड़ा में और यहाँ भुवनेश्वरी देवी की पूजा होती है.नंदिपुर शक्तिपीठ सेंथिया –हावड़ा में जहाँ नंदिनी देवी की पूजा होती है.अट्टहास शक्तिपीठ लाभपुर अहमदपुर, बंगाल में जहाँ फुल्लारा देवी की पूजा होती है.वक्त्रेश्वर शक्तिपीठ – अंडाल, हावड़ा में जहाँ पर महिषमर्दिनी की पूजा होती है.नलहाटी शक्तिपीठ – नलहाटी हावड़ा मे…