Skip to main content

Latest Astrology Updates in Hindi

Dhumawati Jayanti Ke Upaay

Dhumavati Jayanti 2024, जानिए कौन है धूमावती माता, कैसे होती है इनकी पूजा, dhumawati mata ka mantra kaun sa hai,  Dhumawati Jayanti Ke Upaay. Dhumavati Jayanti 2024:  10 महाविद्याओं में से एक हैं माँ धूमावती और ये भगवती का उग्र रूप हैं | इनकी पूजा से बड़े बड़े उपद्रव शांत हो जाते हैं, जीवन में से रोग, शोक, शत्रु बाधा का नाश होता है | माना जाता है कि धूमावती की पूजा से अलौकिक शक्तियाँ प्राप्त होती हैं जिससे मुसीबतों से सुरक्षा मिलती हैं, भौतिक और अध्यात्मिक इच्छाएं पूरी होती हैं| इनकी पूजा अधिकतर एकल व्यक्ति, विधवाएँ, तपस्वी और तांत्रिक करते हैं |  Dhumawati Jayanti Ke Upaay  Dhumavati Jayanti Kab aati hai ? हिन्दू पंचांग के अनुसार हर साल ज्येष्ठ महीने के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को माँ धूमावती जयंती मनाई जाती है। पौराणिक मान्यता के अनुसार , मां धूमावती धुएं से प्रकट हुई थीं और ये माता का विधवा रूप भी कहलाती है इसीलिए सुहागिन महिलाएं मां धूमावती का पूजन नहीं करती हैं, बस दूर से दर्शन करती हैं और आशीर्वाद लेती है | Read in english about Importance of Dhumawati jayanti 2024   Dhumava

Rajyog Jyotish Mai, राजयोग को जानिए

Rajyog in hindi Jyotish Mai, राजयोग को जानिए, कुंडली में राजयोग, ग्रहों की स्थिति राज योग में, कैसे जाने कुंडली में राजयोग को.
rajyog aur hindi jyotish
Rajyog Jyotish Mai, राजयोग को जानिए
कुंडली में मौजूद योगो को जानने की लालसा सभी को रहती है, जिन लोगो को ज्योतिष में रूचि होती है वो ये जानना चाहते हैं की उनके कुंडली में राज योग है की नहीं. इस लेख में इसी विषय पर प्रकाश डाला जा रहा है. क्या होता है राज योग, क्यों लोग इसके बारे में जानना चाहते हैं. क्या करे अगर राज योग न हो कुंडली में, कैसे जीए एक सुखी और सफल जीवन.

राजयोग के बारे में गलत धारणा :

लोग साधारणतः ऐसा सोचते हैं की राज योग सिर्फ एक ही प्रकार का होता है और इसमे सिर्फ एक ही प्रकार से ग्रहों की स्थिति होती है. परन्तु ये सरासर गलत धरना होती है. राज योग अलग अलग प्रकार के होते हैं और सभी में ग्रहों की स्थिति अलग अलग प्रकार के होते हैं. एक अच्छा और अनुभवी ज्योतिष आपकी कुंडली को देखके इसके बारे में सही जानकारी दे सकता है.

क्या है राज योग ?

राजयोग का अर्थ होता है कुंडली में ग्रहों का इस प्रकार से मौजूद होना की जीवन में सफलताओं को आसानी से व्यक्ति प्राप्त कर सकता हो. अगर कुंडली में राज योग होता है तो इसमे कोई शक नहीं की जातक का जीवन सुखी और प्रभावशाली होता है. कई बार कमजोर राज योग और भंग राज योग के कारण भी परिणाम में अंतर आता है.

आइये जानते हैं राजयोग के कारण जातक को क्या फायदे हो सकते हैं :

  1. इसके कारण व्यक्ति स्वस्थ, संपन्न और बुद्धिमान होता है.
  2. अगर कोई राजनीती में हो और उसके कुंडली में राज योग हो तो वो अच्छे पद तक पहुचता है.
  3. अगर किसी इंजिनियर के कुंडली में राज योग हो तो वो अपने कार्य से अच्छे पद को प्राप्त करता है.
  4. अगर किसी साधक के कुंडली में राज योग हो तो वो अपनी साधना में जल्दी तरक्की करता है.
  5. अगर किसी डॉक्टर के कुंडली में ये योग हो तो उसे चिकित्सा क्षेत्र में बहुत सफलता अर्जित करते हम देख सकते हैं.
  6. नाम, यश, ख्याति , धन , वैभव सभी कुछ राज योग के कारण जातक प्राप्त करता है जीवन में.

आइये अब जानते हैं की राजयोग होने पर भी क्यों कोई व्यक्ति इच्छित सफलता नहीं प्राप्त कर पाता है ?

कई बार लोग इस प्रकार के प्रश्न करते हैं की मेरे कुंडली में गजकेसरी योग है पर में बहुत परेशान रहता हूँ,खाने के लिए भी बहुत संघर्ष करना पड़ता है, क्यों. यहाँ यही कहना चाहेंगे की कुंडली में ग्रहों की सही तरीके से अध्ययन जरुरी है अगर हम सच जानना चाहते हैं. कई बार योग बहुत कमजोर होता है और कई बार उसका समय नहीं होता है. समय से पहले भी परिणाम की अपेक्षा हम नहीं कर सकते हैं.

एक उदाहरण से समझते हैं मेरे एक मित्र की कुंडली में गज केसरी योग था परन्तु उसे हमेशा ही परेशान देखता था, ज्योतिष उसकी कुंडली देख के यही बोलते की तुम्हारे पास तो बहुत धन है, तुम बहुत तरक्की करोगे परन्तु सच्चाई ये है की आज भी वो परेशान घूम रहा है न शादी हुई और न कोई स्थाई नौकरी और न खाने को घर.

जब मैंने उसकी कुंडली देखि तो पाया की उसके कुंडली में राज योग तो था पर गुरु और चन्द्र दोनों की शक्तिहीन थे जिससे उसे इस योग का लाभ नहीं मिल पा रहा था. अतः योग होक भी नहीं था. अतः ये जरुरी है की ग्रहों की स्थिति का पूर्ण अध्ययन करे किसी नतीजे पर पहुचने से पहले.

राज योग के कुछ प्रकार :

Rajyog Jyotish Mai, राजयोग को जानिए, कुंडली में राजयोग, ग्रहों की स्थिति राज योग में, कैसे जाने कुंडली में राजयोग को.
कुंडली में विभिन्न प्रकार के राज योग बनते हैं जिनमे से कुछ की जानकारी यहाँ दी जा रही है.
  1. कुंडली में राज योग : अगर कुंडली में गुरु उच्च का हो, शुक्र नवे भाव में बैठा हो, मंगल और शनि सातवे भाव में हो तो ये एक विशेष प्रकार का राज योग बनाता है और इसके प्रभाव से व्यक्ति जल्द ही सरकारी नौकरी प्राप्त करके अच्छा नाम, पैसा कमाता है और हंसी ख़ुशी जीवन व्यतीत करता है.
  2. गजकेसरी योग कुंडली में : अगर कुंडली में गुरु केंद्र में बैठा हो लग्न या चन्द्रमा से या फिर वो शुभ ग्रहों से दृष्ट हो तो गजकेसरी योग का निर्माण होता है. परन्तु इस बात का ध्यान रखना चाहिए की गुरु नीच का न हो या फिर शत्रु का न हो. गजकेसरी योग के कारण जातक को उच्च कोटि का ऑफिसर बनता है साथ ही उसका अलग ही नाम और ख्याति होती है.
  3. सिंघासन योग : अगर सभी ग्रह दुसरे, तीसरे, छठे, आठवे और बारहवे घर में बैठ जाए तो सिंघासन योग बनता है कुंडली में. इसके प्रभाव से व्यक्ति शासन अधिकारी बनता है और नाम प्राप्त करता है.
  4. हंस योग : अगर कुंडली में मौजूद सभी ग्रह मेष, कुम्भ, मकर, वृश्चिक और धनु राशि में हो तो हंस योग का निर्माण होता है. इसके कारण व्यक्ति ऐश्वर्या और भव्य जीवन व्यतित करता है.
  5. चतुः सार योग : अगर कुंडली में ग्रह मेष, कर्क, तुला और मकर राशि में स्थित हो तो ये योग बनता है. इसके प्रभाव से व्यक्ति इच्छित सफलता जीवन में प्राप्त कर सकता है और किसी भी समस्या से आसानी से बहार आ जाता है.
  6. श्रीनाथ योग : अगर लग्न का स्वामी, सातवे भाव का स्वामी दसवे घर में मौजूद हो और दसवे घर का स्वामी नवे घर के स्वामी के साथ मौजूद हो तो श्रीनाथ योग का निर्माण होता है. इसके प्रभाव से जातक को धन नाम, यश, वैभव की प्राप्ति होती है.
  7. शंख योग : अगर लग्न मजबूत हो या फिर लग्न का स्वामी शक्तिशाली हो, पांचवे और छठे घर का स्वामी केंद्र में बैठे हो, साथ ही लग्न और दसवे घर का स्वामी चर राशि के साथ बैठे हो तो शंख योग बनता है. इस योग के कारण जातक इमानदार, पवित्र भावनाओं वाला, बुद्धिमान, दयावान बनता है और दीर्घायु होता है.
  8. शाशक योग: ये भी एक महत्त्वपूर्ण योग है लग्नाधिपति शनि किसी केंद्र स्थान में मौजूद हो. ऐसे लोग संगठन बनाने में माहिर होते हैं और जीवन का आनंद लेते हैं.

अतः यहाँ कुछ शुभ योगो की जानकारी दी गई है परन्तु किसी भी निर्णय पर बिना अच्छे ज्योतिष से सलाह लिए नहीं पहुचना चाहिए.

Difference between Normal And Rajyog Kundli:

विषय साधारण कुंडली राजयोग कुंडली
नाम/यश/ख्याति X हाँ
शिक्षा में सफलता आसानी से X हाँ
प्रेम जीवन में सफलता आसानी से X हाँ
नौकरी में उच्च पद आसानी से X हाँ
संतोषजनक वित्तीय स्थिति X हाँ
समाज में उच्च पद X हाँ

कैसे राजयोग को मजबूत किया जा सकता है ?

अगर कुंडली में राज योग हो और वो कमजोर हो तो नव रत्नों की सहायता से, मंत्र जप आदि करके भी जीवन को सफल बनाया जा सकता है.
और ये बात भी ध्यान रखना चाहिए की राज योग नहीं होने पर भी व्यक्ति बहुत सफल हो सकते हैं अगर कुंडली में ग्रह शुभ, शक्तिशाली हो.

 

Watch video here:

आइए जानते हैं राज योग के बारे में अधिक जानकारी:

कौन नहीं चाहता कि जीवन में विलासिता, खुशी, प्यार, मनोरंजन, भव्य सफलता मिले। इस दुनिया में हर व्यक्ति की दैनिक दिनचर्या है कि जीवन को सुखी बनाने के लिए दौड़ लगाते रहना |
best rajyog jyotish in hindi
Rajyog ke prabhav

लेकिन तथ्य यह है कि सहज जीवन, सफल जीवन, खुशहाल जीवन व्यक्ति की नियति पर निर्भर करती है। जीवन में किसी को कितना फायदा होता है और कोई कितना वह खो सकता है यह कुंडली में मौजूद अच्छे और बुरे योगों पर निर्भर करता है। लेकिन इस लेख में हम कुंडली में शक्तिशाली योग यानी कुंडली में राजयोग के बारे में बात करेंगे।

जब शक्तिशाली ग्रह, सकारात्मक ग्रह कुंडली में एक विशिष्ट तरीके से एक साथ जुड़ते हैं तो RAJYOGA का निर्माण होता है। यहाँ ध्यान रखने वाली बात ये है की सफल योग बनाने के लिए केवल सकारात्मक और शक्तिशाली ग्रहों की आवश्यकता होती है। कौन सा ग्रह शुभ है और कौन से ख़राब ,इस पर निर्भर करता है कि कुंडली में यह किस राशि में मौजूद है।

कैसे जांचा जाए कि कोई ग्रह शुभ है या नहीं?

उदाहरण के लिए सूर्य मेष राशि के साथ उपस्थित होने पर उच्च होता है और शुभ होता है, इसी तरह वृश्चिक, धनु और मीन राशि के साथ बैठने पर शुभ फलदाई होता है। चंद्रमा वृष, मिथुन, सिंह और कन्या राशि से शुभ होता है। सिंह, धनु और मीन राशि वाले मंगल शुभ होते हैं। वृषभ और तुला के साथ बुध शुभ होता है। बृहस्पति मेष, सिंह, कन्या और वृश्चिक के साथ शुभ होता है। मिथुन, धनु, मकर और कुंभ राशि के साथ मौजूद होने पर शुक्र अच्छा होता है। वृषभ, मिथुन और कन्या के साथ शनि शुभ है। राहु और केतु जब कुंडली, तुला, धनु, मकर,कुम्भ और मीन राशि के साथ होते हैं तो अच्छे परिणाम दिखाते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सटीक भविष्यवाणियों के लिए केवल लग्न कुंडली का अध्ययन पर्याप्त नहीं है; सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषी हमेशा नवमांश कुंडली और दशमांश कुंडली पर विचार करते हैं ताकि राजयोग या अन्य शुभ योग के बारे में पुष्टि की जा सके।

यह जानना भी बहुत महत्वपूर्ण है कि शक्तिशाली लग्न, शक्तिशाली केंद्र भाव कुंडली में राजयोग को बढ़ाते हैं। इसलिए भविष्यवाणी करते समय, सभी कारकों को ध्यान में रखना आवश्यक है।

कुंडली में एक प्रकार का राजयोग नहीं होता है। विभिन्न लोगों की कुंडली में विभिन्न प्रकार के राज-योग मौजूद हैं। एक बात यह भी महत्वपूर्ण है कि यह जरूरी नहीं है कि केवल कुंडली में राजयोग रखने वाले लोगों को जबरदस्त सफलता मिलेगी। वैदिक ज्योतिष में कई अन्य नियम दिए गए हैं जो जीवन में भव्य सफलता की गणना करते हैं।



जानकारी के लिए मै यहाँ पर राजयोग की जानकारी दे रहा हूँ| जातक की कुंडली में हमे निम्न प्रकार के राजयोग मिल सकते हैं –
वैदिक ज्योतिष के अनुसार, कुंडली में राजयोग होने पर व्यक्ति राजा बन जाता है यानी व्यक्ति को इस जीवन का आनंद लेने के लिए अच्छी स्थिति, नाम, प्रसिद्धि, पैसा, अच्छी काया मिल जाती है। जीवन के हर पड़ाव में किस्मत साथ देती है। लेकिन मैंने कई कुंडलियां देखी हैं जिनमें यह योग है लेकिन इसके बावजूद जातक पीड़ित था। अतः केवल इस शुभ योग का होना ही पर्याप्त नहीं है, जीवन के बारे में जानने के लिए गहन अध्ययन आवश्यक है।
  1. विपरीत राजयोग: इस योग के 3 मुख्य प्रकार हैं - हर्ष, सरला और विमला। कुंडली के 6, 8 वें और 12 वें घर इस विपरीत राजयोग के लिए जिम्मेदार हैं। छठा घर संबंधित शत्रु, बीमारियों, भय, चिंताओं से संबंधित है। कुंडली का 8 वां घर स्वास्थ्य, दीर्घायु, मृत्यु, बीमारियों, वैवाहिक जीवन आदि से संबंधित है। 12 वां घर खर्च, हानि, आंखों, तपस्वी जीवन आदि से संबंधित है, जब छठे घर का स्वामी उसी घर में या फिर 8 वें या 12 वे घर में मौजूद हो तो विपरीत योग का निर्माण करता है। जब 8 वें घर का स्वामी उसी घर में या छठे या बारहवें घर में उपस्थित हों तो कुंडली में सरल विपरीत योग बनता है। जब कुंडली में १२ वें घर का स्वामी 6 वें या 8 वें घर में मौजूद हो तब कुंडली में विमला विपरीत योग बनाता है। इनमें से किसी भी योग के कारण, जातक जीवन की कठिनाइयों पर विजय पाने में सक्षम होता है और जीवन को फलदायी, शानदार और खुशहाल बनाता है।
  2. केंद्र त्रिकोण राज योग: जब लग्न का स्वामी किसी भी केंद्र गृह के स्वामी के साथ या त्रिकोण घर के साथ संबंध बनाते हैं तो यह योग कुंडली में बनता है। इस योग के कारण जातक को नाम, यश, धन की प्राप्ति होती है।
  3. नीचभंग राज योग: जब भाव में नीच ग्रह हो उसका स्वामी अगर कुंडली में या केंद्र के किसी भी घर में उच्च का हो जाता है तो कुंडली में नीच भंग राजयोग बनता हैं। उदाहरण के लिए तुला राशि का सूर्य नीच का होता है लेकिन यदि तुला राशी का स्वमी शुक्र उच्च का हो या चतुर्थ, 7 वें या 10 वें भाव में मौजूद हो तो नीचभंग राज योग कुंडली में बनता है।
  4. राज पूजित राज योग: यदि किसी भी महिला के 7 वें घर में शुभ ग्रह मौजूद हो और वो भी सम राशी में तो ये शुभ योग बनता है और इसके कारण जीवन साथी स्वस्थ, धनवान और संपन्न होगा।
आगे पढ़ें कैसे कुंडली में ग्रहों के साथ होने से राजयोग बनता है :
गजकेसरी योग
सिंहासन योग
हंस योग
श्रीनाथ योग
शंख योग
शाशक योग



और सम्बंधित लेख पढ़े:
Rajyog in horoscope in english
कुछ महत्त्वपूर्ण योग वैदिक ज्योतिष में
कैसे पाए राज योग के बिना सफलता
कुंडली में शुभ और अशुभ योग

hindi jyotish website,Rajyog in hindi Jyotish Mai, राजयोग को जानिए, कुंडली में राजयोग, ग्रहों की स्थिति राज योग में, कैसे जाने कुंडली में राजयोग को.

Comments

Popular posts from this blog

84 Mahadev Mandir Ke Naam In Ujjain In Hindi

उज्जैन मंदिरों का शहर है इसिलिये अध्यात्मिक और धार्मिक महत्त्व रखता है विश्व मे. इस महाकाल की नगरी मे ८४ महादेवो के मंदिर भी मौजूद है और विशेष समय जैसे पंचक्रोशी और श्रवण महीने मे भक्तगण इन मंदिरों मे पूजा अर्चना करते हैं अपनी मनोकामना को पूरा करने के लिए. इस लेख मे उज्जैन के ८४ महादेवो के मंदिरों की जानकारी दी जा रही है जो निश्चित ही भक्तो और जिज्ञासुओं के लिए महत्त्व रखती है.  84 Mahadev Mandir Ke Naam In Ujjain In Hindi आइये जानते हैं उज्जैन के ८४ महादेवो के मंदिरों के नाम हिंदी मे : श्री अगस्तेश्वर महादेव मंदिर - संतोषी माता मंदिर के प्रांगण मे. श्री गुहेश्वर महादेव मंदिर- राम घाट मे धर्मराज जी के मंदिर मे के पास. श्री ढून्देश्वर महादेव - राम घाट मे. श्री अनादी कल्पेश्वर महादेव- जूना महाकाल मंदिर के पास श्री दम्रुकेश्वर महादेव -राम सीढ़ियों के पास , रामघाट पे श्री स्वर्ण ज्वालेश्वर मंदिर -धुंधेश्वर महादेव के ऊपर, रामघाट पर. श्री त्रिविश्तेश्वर महादेव - महाकाल सभा मंडप के पास. श्री कपालेश्वर महादेव बड़े पुल के घाटी पर. श्री स्वर्न्द्वार्पलेश्वर मंदिर- गढ़ापुलिया

om kleem kaamdevay namah mantra ke fayde in hindi

कामदेव मंत्र ओम क्लीं कामदेवाय नमः के फायदे,  प्रेम और आकर्षण के लिए मंत्र, शक्तिशाली प्रेम मंत्र, प्रेम विवाह के लिए सबसे अच्छा मंत्र, सफल रोमांटिक जीवन के लिए मंत्र, lyrics of kamdev mantra। कामदेव प्रेम, स्नेह, मोहक शक्ति, आकर्षण शक्ति, रोमांस के देवता हैं। उसकी प्रेयसी रति है। उनके पास एक शक्तिशाली प्रेम अस्त्र है जिसे कामदेव अस्त्र के नाम से जाना जाता है जो फूल का तीर है। प्रेम के बिना जीवन बेकार है और इसलिए कामदेव सभी के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। उनका आशीर्वाद जीवन को प्यार और रोमांस से भरा बना देता है। om kleem kaamdevay namah mantra ke fayde in hindi कामदेव मंत्र का प्रयोग कौन कर सकता है ? अगर किसी को लगता है कि वह जीवन में प्रेम से वंचित है तो कामदेव का आह्वान करें। यदि कोई एक तरफा प्रेम से गुजर रहा है और दूसरे के हृदय में प्रेम की भावना उत्पन्न करना चाहता है तो इस शक्तिशाली कामदेव मंत्र से कामदेव का आह्वान करें। अगर शादी के कुछ सालों बाद पति-पत्नी के बीच प्यार और रोमांस कम हो रहा है तो इस प्रेम मंत्र का प्रयोग जीवन को फिर से गर्म करने के लिए करें। यदि शारीरिक कमजोरी

Mrityunjay Sanjeevani Mantra Ke Fayde

MRITYUNJAY SANJEEVANI MANTRA , मृत्युंजय संजीवनी मन्त्र, रोग, अकाल मृत्यु से रक्षा करने वाला मन्त्र |  किसी भी प्रकार के रोग और शोक से बचाता है ये शक्तिशाली मंत्र |  रोग, बुढ़ापा, शारीरिक कष्ट से कोई नहीं बचा है परन्तु जो महादेव के भक्त है और जिन्होंने उनके मृत्युंजय मंत्र को जागृत कर लिए है वे सहज में ही जरा, रोग, अकाल मृत्यु से बच जाते हैं |  आइये जानते हैं mrityunjaysanjeevani mantra : ऊं मृत्युंजय महादेव त्राहिमां शरणागतम जन्म मृत्यु जरा व्याधि पीड़ितं कर्म बंधनः।। Om mriyunjay mahadev trahimaam sharnagatam janm mrityu jara vyadhi peeditam karm bandanah || मृत्युंजय संजीवनी मंत्र का हिंदी अर्थ इस प्रकार है : है कि हे मृत्यु को जीतने वाले महादेव मैं आपकी शरण में आया हूं, मेरी रक्षा करें। मुझे मृत्यु, वृद्धावस्था, बीमारियों जैसे दुख देने वाले कर्मों के बंधन से मुक्त करें।  Mrityunjay Sanjeevani Mantra Ke Fayde आइये जानते हैं मृत्युंजय संजीवनी मंत्र के क्या क्या फायदे हैं : भोलेनाथ दयालु है कृपालु है, महाकाल है अर्थात काल को भी नियंत्रित करते हैं इसीलिए शिवजी के भक्तो के लिए कु