vedic jyotish from India

हिंदी ज्योतिष ब्लॉग ज्योतिष संसार में आपका स्वागत है

पढ़िए ज्योतिष और सम्बंधित विषयों पर लेख और लीजिये परामर्श ऑनलाइन

Kalsarp Yoga Kya Hota Hai

Kalsarp yoga kya hai, कालसर्प योग इन hindi, कैसे जाने कालसर्प योग को, क्या प्रभाव होता है कालसर्प योग का जीवन में, ज्योतिष कालसर्प योग.
best jyotish of india for kalsarp yoga remedies
kalsarp yoga kya hai aur kaise dur kare

वैदिक ज्योतिष में एक विशेष योग के बारे में बहस करते हुए लोगो को देखा जाता है जिसे हम कालसर्प योग के नाम से जानते हैं, लोगो के अन्दर कालसर्प को लेके बहुत दर व्याप्त रहता है कारण की इसे एक दोष के रूप में ही प्रस्तुत किया गया है परन्तु वास्तव में ये एक योग है जिसके परिणाम अच्छे और बुरे दोनों हो सकते हैं. अतः जानकारी के आभाव में दर पैदा न करे.

ज्योतिष संसार के इस लेख में कालसर्प योग के विषय में जानकारी दी जा रही है जो सभी के काम आएगी.

क्या आप जानते हैं ?
1. कुंडली में कालसर्प के विभिन्न प्रकार मिलते हैं जिसे बारीकी से अध्ययन करने पर जाना जाता है.
2. कालसर्प के अलावा 14 प्रकार के कुछ अन्य महत्त्वपूर्ण श्राप का भी वर्णन ज्योतिष शाश्त्रों में मिलता है जिनका प्रभाव इससे भी घटक हो सकता है. जैसे की पितर दोष, प्रेत दोष, ब्राह्मण दोष, मातुल दोष, पत्नी दोष, सहोदर दोष अदि.
3. हर कालसर्प योग खतरनाक नहीं होता है.
4. प्राण प्रतिष्ठित नाग-नागिन के जोड़े अगर विशेष धातु से बनवा के शिव मंदिर में छोड़े जाएँ तो विशेष फलदाई होते हैं कालसर्प योग के बुरे प्रभावों को दूर करने में .
5. शिव पूजा से भी कालसर्प योग के बुरे प्रभाव कम होते हैं.

अब प्रश्न उठता है की क्या है काल सर्प योग?


ज्योतिष के हिसाब से जब भी सारे ग्रह राहू और केतु के बीच में आ जाते हैं तो विभिन्न प्रकार के कालसर्प योग का निर्माण कुंडली में होता है. अगर काल सर्प योग खतरनाक हो तो व्यक्ति का जीवन उलझनों से भर जाता है.
हर तरफ निराशा, असफलता आदि हाथ लगती है. अतः अच्छे ज्योतिष से परामर्श लेके कालसर्प योग के बुरे प्रभावों को दूर करने का इन्तेजाम करना चाहिए.

आइये अब जानते है किन प्रकार की समस्याओं से व्यक्ति ग्रस्त होता है कालसर्प योग के कारण:
1. इसके कारण व्यक्ति अगर व्यापारी है तो उसमे सफलता में समस्याएं आती है.
2. व्यक्ति के विवाह में परेशानी आती है या फिर विवाह के बाद शादी शुदा जीवन में भी परेशानी आती है.
3. कई बार बीमारियों से व्यक्ति ग्रस्त हो जाता है और जीवन में आगे बढ़ने में भी परेशानी आती है.
4. व्यक्ति को व्यक्तिगत जीवन में भी खुसी नहीं मिल पाती है.
5. विध्यार्थियों को पढ़ाई में परेशानी आती है. गुण होने के बाद भी सही नंबर नहीं आ पता है.
6. सामाजिक जीवन में भी यश प्राप्त नहीं हो पाता है.
7. नौकरी में भी तरक्की में परेशानी आती है.
अतः कालसर्प अगर कुंडली में हो तो व्यक्ति को परेशानी तो आती है पर सफलता भी मिलती है इसमे कोई शक नहीं है बस म्हणत थोडा ज्यादा करना होती है.

कालसर्प योग के बुरे प्रभावों को कैसे दूर करे ?
चूँकि जीवन के हर पल महत्त्वपूर्ण हैं और मनुष्य जीवन मिलना ज्यादा ख़ास है तो इसे यूँही नहीं बर्बाद कर सकते हैं अतः वो हर प्रयास करना चाहिए जिससे की सफलता मिले.

वैसे कालसर्प के लिए कई पूजाएँ होती है और कई उपाय होते हैं जो की अच्छे ज्योतिष से समपर्क करके पता करना चाहिए. परन्तु फिर भी कुछ उपाय है जो की हर कोई कर सकता है जैसे शिव पूजा लगातार करना चाहिए, महामृत्युंजय मंत्र का जप भी शुभ होगा, नवनाग स्त्रोत का पाठ भी अच्छा रहता है, कालसर्प दोष निवारण पूजाएँ भी होती है.

इसके अलावा कालसर्प की अंगूठी और पेंडेंट भी लाभदायक होता है.
अच्छे ज्योतिष से संपर्क करके आप सही उपाय प्राप्त करसकते हैं कालसर्प योग के बुरे प्रभावों को दूर करने के लिए.
विश्वसनीय ज्योतिषीय सलाह के लिए आप संपर्क कर सकते हैं.

यहाँ क्लिक करे 
kalsarp dosh samadhan sampark
kalsarp dosh nivaran prayog

और सम्बंधित लेख पढ़े :
What is kalsarp yoga in English?
कालसर्प योग से बचने के लिए टोटके 
कालसर्प का समाधान 
Kalsarp yoga kya hai, कालसर्प योग इन hindi, कैसे जाने कालसर्प योग को, क्या प्रभाव होता है कालसर्प योग का जीवन में, ज्योतिष कालसर्प योग.

No comments:

Post a Comment

Indian Jyotish In Hindi