Skip to main content

Shani Dosh Ke Lakshan in Hindi jyotish

शनि दोष, शनि की दशा, वैदिक ज्योतिष के अनुसार शनि दोष के लक्षण, ज्योतिषी द्वारा उपाय।

ज्योतिष प्रेमियों को एक बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रह के बारे में जानने में अत्यधिक रुचि है जो की अपने न्याय और कठोर प्रकृति के लिए जाने जाते है। हाँ ! मैं ज्योतिष में शनि ग्रह के बारे में बात कर रहा हूं।
शनि दोष, शनि की दशा, वैदिक ज्योतिष के अनुसार शनि दोष के लक्षण, ज्योतिषी द्वारा उपाय।
Shani Dosh Ke Lakshan in Hindi jyotish

इस ग्रह से संबंधित लोगों के मन में कई सवाल उठते हैं:

  • शनि दोष क्या है?
  • ज्योतिष के अनुसार जातक के जीवन में शनि के प्रभाव क्या हैं?
  • मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरे जीवन में शनि का प्रभाव है?
  • कैसे मजबूत उपायों का उपयोग करके शनि दोष से छुटकारा पाएं?
  • शनि दशा कब तक चलती है?
  • शनि दशा क्या है?
  • शनि दशा के दौरान क्या होता है?

आइए सबसे पहले जानते हैं कि शनि दोष क्या है?

न्याय के लिए सबसे शक्तिशाली ग्रह शनि है। शनि का प्रभाव जीवन में अवश्यंभावी है और सभी को समय-समय पर महादशा, अंतर्दशा और प्रत्यंतरदशा से गुजरना होता है । जहां भी यह कुंडली में बैठता है, उसके हिसाब से व्यक्ति के जीवन को बदल देता है। लोग आमतौर पर शनि देव से डरते हैं क्योंकि शनि दशा के दौरान अच्छे और बुरे कर्मों का फल मिलता है।
यहाँ इस लेख में, हम कुंडली में शनि दोष के बारे में विवरण देखेंगे। यह जातक के जीवन को कैसे प्रभावित करता है, शनि दोष के लक्षण और कई अन्य चीजें।

यहाँ ये भी जानना जरुरी है की शनि का प्रभाव न केवल भारतीय और हिंदुओं के जीवन को प्रभावित करंता है वरन हर इंसान शनि दशा के प्रभाव से गुजरता है, कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप हिंदू, अमेरिकी, ब्रिटिश, मुस्लिम, ईसाई, अफ्रीकी आदि हैं | जब ज्योतिषी सही जन्म विवरण के माध्यम से कुंडली बनाते है तो तो सब कुछ सामने आता है।

शनि दोष कुंडली में तब बनता है, जब शनि शत्रु राशि, मेष, कर्क, सिंह और वृश्चिक के साथ मौजूद हो । यह मेष राशि के साथ नीच होता है और जीवन में बहुत परेशान उत्पन्न करता है।

शनि दोष भी तब भी उत्पन्न होता है जब शनि कुंडली में वक्री हो जाता है या जन्म कुंडली में कमजोर होता है। इस ग्रह के गोचर के दौरान शनि के दुष्प्रभाव अधिक देखे जा सकते हैं।

शनि ग्रह के कारण होने वाले कष्ट जन्म कुंडली में शनि दोष की शक्ति पर निर्भर करते हैं। यह भी देखा जाता है कि SHANI SADE SATI के दौरान, जातक जीवन में सबसे शक्तिशाली प्रभावों का सामना करते हैं। यह एक तथ्य है कि पिछले जन्म में पिछले कर्मों के कारण व्यक्ति का भाग्य बनता है और इसलिए यदि किसी भी जातक को बहुत अधिक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, तो इसका मतलब है कि उसने पिछले जन्म में ख़राब कर्म किये, गैर धार्मिक कार्य, बुरे कर्मों को करने में शामिल था जैसे कि दूसरों को परेशान करना, लोगों या अन्य जीवों को चोट पहुँचाना, दूसरों के पैसे छीनने की कोशिश करना, दूसरों के जीवन में बाधाएँ पैदा करना, सामाजिक जीवन, व्यवसाय आदि, दूसरों को धोखा देना आदि।

ज्योतिष के अनुसार जातक के जीवन में शनि दोष का क्या प्रभाव होता है?

भगवान शनि किसी के साथ पक्षपात नहीं करते हैं और इसलिए व्यक्ति को कर्मों के अनुसार समस्याओं का सामना करना पड़ता है या मैं कह सकता हूं कि हर किसी को वह मिलता है जिसका वह हकदार होता है-
  • कुछ जातक को गंभीर स्वास्थ्य हानि जैसे पक्षाघात, अस्थमा, हड्डियों की समस्या और अन्य पुरानी बीमारियों से जूझना होता है शनि दोष के कारण होते हैं।
  • संपत्ति प्राप्त करने में देरी होती है जो एक व्यक्ति को समृद्ध बनाती है।
  • पेशेवर और व्यक्तिगत कार्यों में सफलता पाने में अनजानी बाधाएँ भी शनि दोष के कारण होती हैं।
  • व्यक्ति को पढ़ाई में भी अड़चनें आती हैं और उसे अपने काम का उचित वित्तीय लाभ भी नहीं मिल पाता है जो एक गरीब जीवन जीने के लिए मजबूर करता है।
  • दांपत्य जीवन में असंतुष्टि या जीवनसाथी मिलने में देरी भी शनि दोष के कारण जीवन में एक और मुद्दा है।
  • कुछ दुर्भाग्यपूर्ण लोगों को ख़राब ग्रहों के कारण जीवन में नपुंसकता के मुद्दों का सामना करना पड़ता है।
  • कभी-कभी जातक को नौकरी या व्यापार खोना पड़ता है शनि दशा काल के दौरान होता है, यदि यह ग्रह शत्रु राशि में हो या नीच का हो |
  • स्वास्थ्य के मुद्दों, आजीविका के नुकसान आदि के कारण जीवन में भारी वित्तीय नुकसान के कारण व्यक्ति भी ऋणग्रस्त होता है।
  • कई लोग कानूनी मुद्दों में उलझते हैं और कुछ अदालत द्वारा दी गई सजा के कारण जेल की जिंदगी भी देखते हैं।
  • मैंने कई लोगों को शनि के दशा के दौरान काले जादू के मुद्दों का सामना करते देखा है।
  • निराशा, बीमारी, संघर्ष के कारण व्यक्ति आत्महत्या करने के बारे में भी सोचने लगता है |

शनि दोष के प्रभावी उपाय क्या हैं ज्योतिष में ?

यह जानने के लिए बहुत महत्वपूर्ण विषय है कि यदि शनि ने जीवन को दयनीय बना दिया है तो बुरे प्रभावों से उबरने के लिए क्या करना चाहिए।
  1. ज्योतिषी लोगों को "छाया दान" करने का सुझाव देते हैं, अर्थात् तेल मे चेहरा देखकर सरसों का तेल दान करने की सलाह दी जाती है ।
  2. जीवन में से समस्याओं को हटाने के लिए कम से कम 8 शनिवार व्रत करने का भी सुझाव दिया गया है।
  3. शनिवार को ठीक से पीपल के पेड़ की पूजा करना और जीवन से शनि दोष को कम करने के लिए 8 फेरे लेना भी बहुत अच्छा होता है।
  4. शनिवार के दिन किसी जरूरतमंद ब्राह्मण को काली गाय, भैंस का दान करें | ये भी  शनि पीड़ा से उबरने का एक शक्तिशाली तरीका भी है।
  5. कुंडली से शनि दोष को कम करने के लिए शनि शांति पूजा एक और प्रभावी उपाय है।
  6. कुछ ज्योतिषी नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करने का भी सुझाव देते हैं क्योंकि भगवान हनुमान का आशीर्वाद भक्त को ग्रहों के बुरे प्रभाव से बचाता है।
  7. इसमें नीलम, लोहे की अंगूठी, पत्थर पहनने का भी सुझाव दिया जाता है, लेकिन कुंडली के उचित विवेचन जरुरी है ।
  8. ऐसे लोगों का आशीर्वाद लें, जिनको मदद की ज़रूरत है ।

शनि दोष के प्रभावी उपाय जीवन में सद्भाव, शांति और समृद्धि वापस लाने में बहुत सहायक हैं। इसलिए यदि आप बहुत ज्यादा परेशानी और संघर्ष कर रहे हैं तो ज्योतिष से जरुर सलाह लेना चाहिए |
यह ध्यान में रखना है कि शनि एक आध्यात्मिक ग्रह भी है और इसलिए यह व्यक्ति को एक तपस्वी जीवन और आध्यात्मिक जीवन जीने के लिए प्रेरित करता है। यह भी देखा जाता है कि यदि कोई अच्छे कार्यों, प्रार्थनाओं और दूसरों की मदद करने में संलग्न है, तो जीवन में शनि दोष के अत्यधिक प्रभावों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

आइए देखें कुंडली के विभिन्न घरों में शनि दोष का प्रभाव:

  1. जब शनि दोष कुंडली के पहले घर में बने तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह व्यक्ति को अस्थिर मन देता है और जातक गुस्सेल के साथ हठी भी होता है । व्यक्ति की प्रकृति उसे एकांत जीवन जीने के लिए मजबूर करती है। ऐसे व्यक्ति के साथ दूसरों को बहतु परेशानी आती है।
  2. जब कुंडली के दूसरे घर में शनि दोष बनता है तो यह एक व्यक्ति की वित्तीय स्थिति को प्रभावित करता है और यह संभव है कि जातक कर्ज के साथ जीवन जीने लगे । यहां शनि, नजर भी प्रभावित कर सकता है।
  3. जब ख़राब या नीच का शनि जन्म कुंडली के तीसरे भाव में बैठता है तो व्यक्ति को ताकत और इच्छा शक्ति का उपयोग करने में असमर्थता का सामना करना पड़ता है। यह कमजोरी जीवन में निराशा पैदा करती है। साथ ही भाई-बहनों के साथ रिश्ते बनाए रखने में भी व्यक्ति समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
  4. यदि कुंडली के चौथे घर में शनि दोष बनता है तो जातक निराश जीवन व्यतीत करता है क्योंकि उसे आलीशान जीवन जीने के लिए बहुत अधिक परिश्रम करना पड़ता है और कभी-कभी जीवन में आलीशान चीजें होने के बाद भी जीवन का आनंद लेना संभव नहीं होता है। व्यक्ति को माँ से समर्थन नहीं मिल सकता है या माँ के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए चिंताएँ पैदा होती हैं।
  5. जब शनि ग्रह का दोष पंचम भाव में बनता है तो व्यक्ति को संतान के कारण जीवन में समस्या का सामना करना पड़ सकता है। यह संभव हो सकता है कि महिला को गर्भ धारण करने में समस्या का सामना करना पड़े या यह भी संभव है कि अस्वस्थ बच्चो के कारण जीवन में चिंताएं उत्पन्न हो । संतान में देरी भी इसके कारण संभव है।
  6. जब कुंडली में छठे घर में अशुभ शनि बैठता है तो व्यक्ति को शत्रुओं और स्वास्थ्य के मुद्दों के कारण बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कभी-कभी जातक को इसका पता चल जाता है और कुछ लोग इस वजह से दुख में जीवन जीते रहते हैं।
  7. यदि कुंडली के 7 वें घर में शनि दोष बनता है, तो इसमें कोई संदेह नहीं है, यह व्यक्तिगत जीवन को बहुत प्रभावित करता है। व्यक्ति को उम्मीद के मुताबिक जीवनसाथी नहीं मिल सकता है; यह भी संभव है कि विवाह के बाद जीवन तनाव और समझौता से भरा हो। या विवाह में विलंब भी हो सकता है |
  8. जब जन्म कुंडली के 8 वें घर में मौजूद हो शत्रु शनि तब व्यक्ति की आयु को प्रभावित कर सकता है और यह भी संभव है कि व्यक्ति को जीवन में पुरानी बीमारियों का सामना करना पड़े । कुछ जोड़ों को बहुत अधिक गलतफहमी समस्याओं का सामना करना पड़ता है जो जीवन को नरक बना देता है।
  9. जब कुंडली के 9वें घर शनि दोष होता है तो यह दुर्भाग्य पैदा करता है या हम यह कह सकते हैं कि भाग्य व्यक्ति का समर्थन नहीं करेगा और इस कारण से जातक को जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है। भाग्य हमेशा एक व्यक्ति को सुचारू जीवन जीने में मदद करता है इसलिए जब यह समर्थन नहीं करता है तो सोचो कि व्यक्ति को सुचारू जीवन के लिए कितना काम करना है।
  10. कुंडली का 10 वां घर आजीविका से संबंधित है और यदि यह घर शनि दोष उत्पन्न करता है, तो व्यक्ति को अस्थिर कार्य की समस्या का सामना करना पड़ता है, साथ ही जातक आजीविका को बार-बार बालता भी है असंतोष के कारण ।
  11. जब जन्म कुंडली के ग्यारहवें घर में शनि दोष बनता है तो व्यक्ति को अपर्याप्त मौद्रिक संसाधनों के कारण जीवन में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। इस घर में ख़राब ग्रह आय स्रोत को प्रभावित कर सकते हैं और व्यक्ति को अपने काम का संतोषजनक प्रतिफल नहीं मिल सकता है।
  12. जब 12 वें घर में शनि दोष बनता है तो व्यक्ति को अवांछित खर्चों और समस्याओं के कारण वित्तीय समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कभी-कभी जातक ऋणग्रस्त हो जाता हैं और जीवन में सब कुछ खो देते हैं।

यह ध्यान में रखना चाहिए कि शनि दोष और शनि साढ़े साती लड़के, लड़की, वयस्कों, घर की पत्नियों, व्यापारियों, खिलाडियों, सेवा प्रदाताओं आदि को विभिन्न प्रकार की समस्या देते हैं। समस्याएं कैसी होंगी, इसके लिए कोई नियम नहीं है | 

यह भी जानना आवश्यक है कि कुंडली में जब शनि शत्रु ग्रहों के साथ बैठता है तब भी शनि दोष निर्मित होता है जैसे शनि और मंगल का संयोजन अच्छा नहीं है, शनि और चंद्रमा भी अच्छा नहीं है।

ख़राब शनि के गोचर के दौरान जातक को कई असफलताओं और दुर्भाग्य का सामना करना पड़ सकता है, रुकावटें, नकारात्मकता, स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं, बुरी नजर, प्रेम जीवन संबंध समस्याएं आदि।

वृष, तुला, मकर, कुंभ के साथ शनि कुंडली में अच्छे परिणाम देते हैं लेकिन यह भी आवश्यक है कि यह अपने दुश्मन ग्रह के साथ नहीं बैठा हो ।



शनि दोष, शनि की दशा, वैदिक ज्योतिष के अनुसार शनि दोष के लक्षण, Shani dosh symptoms, ज्योतिषी द्वारा उपाय।

Comments

Popular posts from this blog

Suar Ke Daant Ke Totke

Jyotish Me Suar Ke Daant Ka Prayog, pig teeth locket benefits, Kaise banate hai suar ke daant ka tabij, क्या सूअर के दांत का प्रयोग अंधविश्वास है.

सूअर को साधारणतः हीन दृष्टि से देखा जाता है परन्तु यही सूअर पूजनीय भी है क्यूंकि भगवान् विष्णु ने वराह रूप में सूअर के रूप में अवतार लिया था और धरती को पाताल लोक से निकाला था. और वैसे भी किसी जीव से घृणा करना इश्वर का अपमान है , हर कृति इस विश्व में भगवान् की रचना है.
सूअर दांत के प्रयोग के बारे में आगे बताने से पहले कुछ महत्त्वपूर्ण बाते जानना चाहिए :इस प्रयोग में सिर्फ जंगली सूअर के दांत का प्रयोग होता है.किसी सूअर को जबरदस्त मार के प्रयोग में लाया गया दांत काम नहीं आता है अतः किसी भी प्रकार के हिंसा से बचे और दुसरो को भी सचेत करे.वैदिक ज्योतिष में सूअर के दांत के प्रयोग के बारे में उल्लेख नहीं मिलता है.इसका सूअर के दांत के प्रयोग को महुरत देख के ही करना चाहिए.कई लोगो का मनना है की सुकर दन्त का प्रयोग अंधविश्वास है परन्तु प्रयोग करके इसे जांचा जा सकता है , ऐसे अनेको लोग है जो अपने बच्चो को इसका ताबीज पहनाते हैं और कुछ लोग खुद भी पहनते है …

Kala Jadu Kaise Khatm Kare

काला जादू क्या है , कैसे पता करे काला जादू के असर को, कैसे ख़त्म करे कला जादू के असर को, hindi में जाने काले जादू के बारे में. काला जादू अपने आप में एक खतरनाक विद्या है जो की करने वाले, करवाने वाले और जिस पर किया जा रहा है उन सब का नुक्सान करता है. यही कारण है की इस नाम से भी भय लगता है. अतः ये जरुरी है की इससे जितना हो सके बचा जाए और जितना हो सके उतने सुरक्षा के उपाय किया जाए.
ज्योतिष संसार के इस लेख में आपको हम उसी विषय में अधिक जानकारी देंगे की कैसे हम काले जादू का पता कर सकते हैं और किस प्रकार इससे बचा जा सकता है. प्रतियोगिता अच्छी होती है परन्तु जब ये जूनून बन जाती है तब व्यक्ति गलत ढंग से जीतने के उपाय करने से भी नहीं चुकता है. आज के इस प्रतियोगिता के युग में लोग बस जीतना चाहते हैं और इसके लिए किसी भी हद तक जाने से नहीं चुकते हैं और यही पर काला जादू का प्रयोग करने की कोशिश करते है. संपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >>
आखिर में क्या है काला जादू? हर चीज के दो पहलु होते हैं एक अच्छा और एक बुरा. काला जादू तंत्र, मंत्र यन्त्र का गलत प्रयोग है जिसके अंतर्गत कुछ शक्तियों को प…

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में,ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है. विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है. ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है. आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आपके व…