Bhariav Ashtmi Ka Mahattw

भैरव अष्टमी का महत्त्व, उज्जैन में कैसे मानता है काल भैरव अष्टमी, भैरव पूजा से समस्या समाधान.

हिन्दू पंचाग के अनुसार अगहन महीने की कृष्ण पक्ष की अष्टमी भैरव अष्टमी के रूप में मनाया जाता है. मान्यता के अनुसार इस दिन भैरव जी का जन्म हुआ था. उज्जैन में भैरव अष्टमी बहुत ही हर्षोल्लास से मनता है. इस दिन काल भैरव मंदिर और अष्ट भैरव मंदिरों को खूब सजाया जाता है और विशेष पूजा अर्चना होती है. अर्ध रात्री को बाबा की आरती की जाती है. 
bhairav ashtmi aur jyotish
Bhariav Ashtmi Ka Mahattw
साल २०१८ में ३० नवम्बर, शुक्रवार को भैरव अष्टमी मनाया जाएगा. 

उज्जैन में कालभैरव अष्टमी उत्सव:

स्कन्द पुराण के अवंतिका खंड में उज्जैन में मौजूद अष्ट भैरव का उल्लेख मिलता है और ये भी साफ़ साफ़ बताया गया है की अवंतिका नगरी तंत्र साधना के लिए अति विशिष्ट है.
इसी कारण लोग भैरव अष्टमी को भी विशेष तंत्र साधनाएं करते हैं ईच्छा पूर्ति के लिए. 
भैरव पूजा से जीवन में मौजूद बहुत सी बाधाएं नष्ट होती है और साथ ही स्वास्थ्य और सम्पन्नता प्राप्त होती है. 
चूँकि उज्जैन अष्ट भैरव का स्थान है और यहाँ पर विश्व प्रसिद्द “काल भैरव” मंदिर भी है जहाँ पर बाबा आज भी मदिरा का भोग लगाते हैं. इसी कारण उज्जैन में भैरव अष्टमी बहुत उत्साह से मनाया जाता है.
इस दिन बाबा काल भैरव की यात्रा निकलती है और वो शाम को उज्जैन भ्रमण करते हैं. हजारो लोग बाबा के दर्शनों के लिए दूर दूर से आते हैं.


आइये जानते हैं उज्जैन के अष्ट भैरवो के बारे में:

अष्ट भैरवो के बारे में जानने की उत्सुकता सभी को होती है अतः यहाँ उनकी जानकारी दी जा रही है. 
  1. काल भैरव
  2. विक्रांत भैरव
  3. बटुक भैरव
  4. अताल-पाताल भैरव
  5. क्षेत्रपाल भैरव
  6. चक्रपाणी भैरव
  7. आनंद भैरव
  8. काला-गोरा भैरव
ये सभी मंदिर कालभैरव अष्टमी को विशेष रूप से सजाये जाते हैं. यहाँ विशेष पूजा अर्चना होती है और ना-ना  प्रकार के भोग लगाए जाते हैं. 
अतः अगर आप इस दिन उज्जैन आये तो बाबा का आशीर्वाद जरुर ले और अपने जीवन को धन्य करे. 

क्या करे भैरव अष्टमी को सफलता के लिए?

आप कहीं भी हो, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. अगर आप बाबा काल भैरव का आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं तो आप कुछ आसान तरीके स्तेमाल कर सकते हैं. 
  • किसी भी भैरव मंदिर में जाएँ. 
  • उनको श्रीफल, पुष्प, फल, भोग और मदिरा अर्पित करे और आशीर्वाद मांगे. 
  • वहां पर धुप और दीप जलाए.
  • भैरव अष्टक का पाठ करे या फिर भैरव जी के 108 नामो का जप करे. 
  • वहां पर कुछ देर बैठे और प्रार्थना करे.
जय बाबा काल भैरव
भैरव अष्टमी का महत्त्व, उज्जैन में कैसे मानता है काल भैरव अष्टमी, भैरव पूजा से समस्या समाधान.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें