Dhanteras Ki Pooja Ka Asan Tarika, धनतेरस पूजा

Dhanteras Ki Pooja Ka Asan Tarika, धनतेरस पूजा आसान विधि और लाभ.

कार्तिक का महिना वैदिक ज्योतिष के हिसाब से बहुत महत्तव रखता है, इस महीने में बहुत से महत्त्वपूर्ण त्यौहार आते हैं और साधना के लिए भी ये उपयुक्त समय होता है. कार्तिक महीने की कृष्ण पक्ष के तेरहवे दिन धन तेरस नाम का त्यौहार भारत में मनाया जाता है. ये पूजा दिवाली के २ दिन पहले होती है.
dhan teras ki puja ka asaan tarika jyotish dwara in hindi
dhan teras aur jyotish

धन तेरस के दिन महत्त्वपूर्ण चीजे खरीदने का रिवाज है, सोना- चंडी के जेवर आदि खरीदने का रिवाज है. वास्तव में धन तेरस के दिन से आने वाले पांच दिन बहुत ही महत्त्वपूर्ण होते हैं. इसके ठीक दुसरे दिन नरक चतुर्दशी मनाई जाती है जिस दिन लोग विशेष तौर पर सफाई करके माँ लक्ष्मी को आमंत्रित करते हैं. नरक चतुर्दशी के बाद दिवाली का त्यौहार मनाया जाता है, उसके बाद गोवेर्धन पूजा होती है और उसके बाद भाई दोज मनाया जाता है. अतः धन तेरस के दिन से लोग व्यस्त हो जाते हैं विभिन्न प्रकार के कर्म कांडो में.

धन तेरस के दिन साधारणतः लोग घर में उपयोग में आने वाले बर्तन, सोना चांदी के जेवर, आदि खरीदते हैं. एक और परंपरा के अनुसार इस दिन धन के रजा कुबेर की पूजा होती है, यमराज की पूजा भी होती है महालक्ष्मी जी के साथ. 
धनतेरस की शाम को यमराज के नाम से दीप दान किया जाता है. पढ़िए दिवाली पूजा का आसान तरीका.

आइये अब जानते हैं की किस प्रकार से आसानी से हम धन तेरस की पूजा कर सकते हैं ?

Dhanteras Ki Pooja Ka Asan Tarika, धनतेरस पूजा, धनतेरस पूजा आसान विधि, धन तेरस की पूजा से लाभ.
  • धन तेरस के दिन शुभ महूरत में एक कलश में 5 सुपारी, 1 चांदी का सिक्का, दुर्बा घास , हल्दी का टुकड़ा, 9 रत्न, डाल के रखना चाहिए फिर उस पर एक प्लेट में चावल भर के कलश के ऊपर रखे और उस पर एक श्रीफल रखे. 
  • इस प्रकार से कलश स्थापना के बाद कलश की पंचोपचार पूजा करे और उसके बाद देवी और देवता से परार्थना करे की आपको आशीर्वाद दे. 
  • दीप दान के बाद भोग या नैवेद्य भी अर्पित करे. 
  • शाम को यमराज(मृत्यु के देवता) के नाम से दीप दान करे और यम स्त्रोत का पाठ करे. 
  • इसी दिन से श्री यन्त्र की पूजा करना भी शुभ होता है, अपने सामर्थ्य के अनुसार आप भोज पत्र, चांदी या सोने में बने श्री यन्त्र की स्थापना कर सकते हैं. 
ये भी जरुरी है की हम अपनी पूजा पूर्ण श्रद्धा और विश्वास से करे और पवित्रता बनाए रखे जिससे की कुबेर, यमराज और माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त हो सके. पढ़िए दिवाली तंत्र के बारे में.

अतः मन से पूजा करे और भगवान् की कृपा प्राप्त करे.

Dhanteras Ki Pooja Ka Asan Tarika, How to perform dhanteras pooja in English?धनतेरस पूजा, धनतेरस पूजा आसान विधि, धन तेरस की पूजा से लाभ.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें