Somwati Amavasya Ka Mahattwa In Hindi

क्या है सोमवती अमावस्या, क्या करना चाहिए सोमवती अमावस्या को, सोमवती अमावस्या का महत्त्व, ज्योतिष द्वारा सलाह सफल जीवन के लिए.
भारत मे साधारणतः ये देखा जाता है की सोमवती अमावस्या को लोग पवित्र नदियों मे स्नान करते है, विशेष पूजा पाठ करते है , दान करते है.
somwati amavasya ka mahattw in hindi jyotish
Somwati Amavasya Ka Mahattwa In Hindi

आइये समझते है सोमवती अमावस्या को:

जब अमावस सोमवार को आती है तब उसे सोमवती अमावस कहते हैं. ये भगवान् शिव के पूजा का विशेष दिन माना जाता है, पितरो के पूजन के लिए भी भी शुभ दिन है साथ ही चन्द्र देव के पूजन के लिए भी माना जाता है ज्योतिष के अनुसार.
महाभारत मे भीष्म पितामह ने युधिस्ठिर को भी सोमवती अमावस्या के महत्त्व के बारे मे बताया था. इस दिन भगवान् शिव और पितरो की कृपा आसानी से प्राप्त की जा सकती है. इस दिन विभिन्न तरीको से शिवजी और पितरो का पूजन किया जाता है जैसे अभिषेक, हवन, तर्पण आदि.
सोमवती अमावस्या का महत्त्व:
जानकारी के अनुसार इस दिन पवित्र नदियों मे स्नान करना शुभ होता है जैसे गंगा, नर्मदा, कावेरी आदि. इसके अलावा त्रिवेणी मे भी स्नान करना पुण्य प्रदान करता है. व्यक्ति को समस्याओं, दुखो और रोगों से मुक्ति मिलती है.
ऐसी मान्यता है की इसी दिन पितरो के लिए किया गया श्राद्ध तर्पण बहुत फलदाई होता है, इस दिन पीपल की पूजा भी की जाती है.

क्या करे सोमवती अमावस्या को सफलता के लिए?

ये सवाल बहुत महत्त्व रखता है की क्या करे और कैसे करे. तो अब हम कुछ आसान तरीके जानते है सोमवती अमावस्या को सफल बनाने के.
  1. अगर कोई जातक आर्थिक तंगी से गुजर रहा है, पारिवारिक समस्या से गुजर रहा है, नौकरी नहीं मिल रही है कुंडली मे पितृ दोष होने के कारण तो इस दिन पवित्र नदी मे स्नान करके पितरो के निमित्त तर्पण करना चाहिए और उनसे मुसीबतों से छुटकारे के लिए प्रार्थना करना चाहिए.
  2. शिव भक्तो को चाहिए की केसर मिश्रित दूध से शिवलिंग का अभिषेक करे और रुद्राष्टक का पाठ करे. अपने दुखो के निवृत्ति हेतु प्रार्थना करे.
  3. सोमवती अमावस्या को पीपल की पूजा करे अपने गहन समस्याओं को दूर करने हेतु. वो पीपल के पेड़ ज्यादा उपयोगी है जो बहुत पुराने हो, शमशान मे हो, और जिनके निचे कोई भगवान् की मूर्ति न हो.
    क्या है सोमवती अमावस्या, क्या करना चाहिए सोमवती अमावस्या को, सोमवती अमावस्या का महत्त्व, ज्योतिष द्वारा सलाह सफल जीवन के लिए.
  4. पीपल के पेड़ की जड़ मे केसर युक्त दूध अर्पित करे, दीपक और भोग लगाए और १०८ परिक्रमा करे और अपनी समस्याओं को दूर करने हेतु प्रार्थना करे सूक्ष्म शक्तियों से जो वह मौजूद है.
  5. घर मे दक्षिण-पश्चिम दिशा मे धुनी दे पितरो के नाम से.
  6. इस दिन और रात मे रूद्र पूजा भी बहुत प्रभावी होती है.
  7. अगर किसी की कुंडली मे चन्द्रमा का दोष हो, तो भी इस दिन पूजा करके लाभ लिया जा सकता है. इस दिन दूध और जल का दान शुभता लाता है. इस दिन प्याऊ लगाने के लिए दान किया जा सकता है या खुद ही प्याऊ लगाए जरुरत की जगह मे.
अतः सोमवती अमावस्या एक शुभ दिन होता है जब हम शिव कृपा , पितर कृपा को प्राप्त करके अपने जीवन को सफल बना सकते है.
अगर आप भी परेशान है, ज्योतिषीय सलाह चाहते है तो अभी संपर्क कर सकते है विश्वसनीय ज्योतिषीय सलाह के लिए.



और सम्बंधित ज्योतिषीय लेख पढ़े:
Significance of somwati amavasya in English
पौष अमावस्या का महत्त्व 
हरियाली अमावस्या का महत्त्व

क्या है सोमवती अमावस्या, क्या करना चाहिए सोमवती अमावस्या को, सोमवती अमावस्या का महत्त्व, ज्योतिष द्वारा सलाह सफल जीवन के लिए.

No comments:

Post a Comment