Skip to main content

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में, ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे  समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आ…

Swasthya Se Sambandhit Jyotishiya Yog

अच्छे स्वास्थ्य का महत्त्व, कुछ ज्योतिषीय योग जो की बिमारी का कारण हो सकते हैं, जनेन्द्रिय सम्बंधित रोग और ज्योतिष, अलसर- घाव से सम्बंधित योग, गुप्त रोग और ज्योतिष, मनो रोग के ज्योतिषीय कारण. 
swathya sambandhit kuch jyotishiy yog, gupt rog aur jyotish, jyotish dwara samadhaan
rog aur jyotish in hindi

स्वास्थ्य का जीवन मे सबसे अधिक महत्त्व है, इस क्षणभंगुर जीवन को सफलता पूर्वक जीने के लिए जरुरी है की स्वास्थ्य अच्छा रहे. ज्योतिष के माध्यम से भी हम स्वास्थ्य के बारे मे बहुत कुछ जान सकते हैं. विभिन्न ग्रहों का हमपर अलग अलग असर होता है, ग्रहों की उर्जा हमारे जीवन पर असर डालती है. बीमारी एक ऐसा श्राप है जो होता तो एक को है पर पूरा परिवार प्रभावित होता है. 

ये भी सच है की अगर व्यक्ति खान पान मे समन्वय रखे तो भी बहुत सारी बिमारियों से बचा भी जा सकता है. इसी के साथ अगर कुछ ज्योतिषीय उपाय कर लिए जाए, कुंडली मे मौजूद ख़राब ग्रहों के प्रभावों को कम करने के लिए तो बहुत हद तक परेशानियों को कम किया जा सकता है. 

बीमारी के कारण को जानने के लिए कुंडली के छठे भाव को देखा जाता है, आठवे भाव को देखा जाता है. त्रिक भावों (6, ८, १२ )मे ख़राब ग्रहों की मौजूदगी भी स्वास्थय सम्बंधित परेशानियों की तरफ इशारा करती है. 

आइये जानते है कुछ ज्योतिषीय नियम की कैसे बीमारियों को जाना जाता है :
१. अगर ११वे भाव का स्वामी कमजोर होक छठे भाव मे बैठ जाए तो  जातक बीमार रहता है. 
२. अगर शनि पापी ग्रह के साथ बैठा हो ५वे, ९वे, या १२वे भाव मे तो स्वस्थ्य सम्बंधित परेशानियां देता है. 
३. अगर आठवे भाव का स्वामी किसी भी त्रिक स्थान मे बैठा हो तो भी बीमारी देता है. 
४. अगर लग्न का स्वामी कमजोर हो, शनि और मंगल साथ मे आठवे भाव मे बैठे हो साथ ही सूर्य बारहवे भाव मे बैठ जाए तो भी बीमारियों को आकर्षित करता है. 
५. अगर ग्यारहवे भाव का स्वामी छठे भाव मे बैठ जाए तो भी हेल्थ समस्या देता है. 

आइये अब जानते हैं की घाव / अल्सर आदि से सम्बंधित ज्योतिषीय योग:
१. अगर छठे भाव का स्वामी चन्द्र के साथ लग्न मे या फिर आठवे भाव मे बैठ जाए तो मूंह मे या फिर तालू मे घाव हो सकता है. 
२. अगर छठे भाव का स्वामी मंगल, सूर्य, बुध, गुरु, शुक्र, शनि , रहू, केतु के साथ आठवे भाव मे बैठ जाए तो धीरे धीरे गले, माथा, आँखों के आस पास, पेट, पाँव और मूंह पर घाव दे सकता है. 

आइये अब जानते हैं जनेन्द्रिय सम्बंधित बीमारियों के ज्योतिषीय कारण :
१. अगर सूर्य लग्न मे हो और मंगल सातवे घर मे हो तो जातक मूत्र सम्बंधित रोग या फिर सुगर से ग्रस्त हो सकता है. 
२. अगर मंगल दसवे घर मे हो, शनि साथ मे हो या फिर मंगल शनि द्वारा दृष्ट हो तो भी जनेन्द्रिय सम्बंधित रोग दे सकता है. 
३. अगर सूर्य, शुक्र, शनि पांचवे घर मे बैठे तो भी ऐसे रोग हो सकते है. 
४. अगर शुक्र नीच का हो या फिर शत्रु का हो या फिर पापी ग्रहों के साथ बैठा हो तो वीर्य सम्बंधित रोग हो सकता है. 
५. अगर चन्द्रमा, मंगल और शनि छठे, आठवे और बारहवे भाव मे बैठे हो तो भी जनेन्द्रिय सम्बंधित रोग हो सकते हैं. 
६. अगर छठे और सातवे भाव मे बहुत से पापी ग्रह हो तो भी रोग दे सकता है. 

आइये कुछ और योग गुप्त रोग से सम्बंधित देखते हैं:

अच्छे स्वास्थ्य का महत्त्व, कुछ ज्योतिषीय योग जो की बिमारी का कारण हो सकते हैं, जनेन्द्रिय सम्बंधित रोग और ज्योतिष, अलसर- घाव से सम्बंधित योग, गुप्त रोग और ज्योतिष, मनो रोग के ज्योतिषीय कारण. 

१. जब छठे भाव का स्वामी , बुध, मंगल साथ मे बैठे हो कही भी या फिर सातवे भाव मे तो गुप्त रोग दे सकता है. 
२. जब आठवे भाव मे पापी ग्रह बैठ जाए या फिर पापी ग्रह से दृष्ट हो तो भी गुप्त रोग हो सकता है. 
३. अगर लग्न मे वृषभ या कन्या हो और इसका स्वामी बुध के साथ हो और सिंह राशी का मंगल चौथे या बारहवे भाव मे बैठे तो लिंग सम्बंधित समस्या हो सकता है. 

आइये अब जानते है कुछ मनो रोग से सम्बंधित ज्योतिषीय योग:
आज के तनाव भरे जीवन मे मनो रोग भी बहुत तेजी से बढ़ रहे है. ज्योतिष द्वारा मानसिक समस्याओं को भी जाना जा सकता है, मिर्गी, हिस्टीरिया आदि भी मनो रोग मे आते हैं.
१. जब चन्द्रमा राहू के साथ युति करता है तो भी मनो रोग दे सकता है.
२. अगर आठवे भाव मे बहुत से पापी ग्रह हो और शुक्र , चन्द्रमा के साथ किसी भी केंद्र स्थान मे तो भी मनोरोग दे सकता है. 
३. अगर राहू लग्न मे हो, चन्द्रमा छठे भाव मे हो, साथ ही सूर्य, चन्द्रमा, मंगल साथ मे आठवे भाव मे हो तो भी मन सम्बंधित रोग दे सकता है.
४. जब शनि और मंगल छठे या आठवे भाव मे हो तो भी मनोरोग हो सकता है. 

अगर आप भी किसी रोग से परेशान हो और ज्योतिषीय कारन जानना चाहते हो तो ज्योतिष से संपर्क कर सकते है. 


और सम्बंधित लेख पढ़े:
 अच्छे स्वास्थ्य का महत्त्व, कुछ ज्योतिषीय योग जो की बिमारी का कारण हो सकते हैं, जनेन्द्रिय सम्बंधित रोग और ज्योतिष, अलसर- घाव से सम्बंधित योग, गुप्त रोग और ज्योतिष, मनो रोग के ज्योतिषीय कारण. 

Comments

Popular posts from this blog

Kala Jadu Kaise Khatm Kare

काला जादू क्या है , कैसे पता करे काला जादू के असर को, कैसे ख़त्म करे कला जादू के असर को, hindi में जाने काले जादू के बारे में. काला जादू अपने आप में एक खतरनाक विद्या है जो की करने वाले, करवाने वाले और जिस पर किया जा रहा है उन सब का नुक्सान करता है. यही कारण है की इस नाम से भी भय लगता है. अतः ये जरुरी है की इससे जितना हो सके बचा जाए और जितना हो सके उतने सुरक्षा के उपाय किया जाए. ज्योतिष संसार के इस लेख में आपको हम उसी विषय में अधिक जानकारी देंगे की कैसे हम काले जादू का पता कर सकते हैं और किस प्रकार इससे बचा जा सकता है. प्रतियोगिता अच्छी होती है परन्तु जब ये जूनून बन जाती है तब व्यक्ति गलत ढंग से जीतने के उपाय करने से भी नहीं चुकता है. आज के इस प्रतियोगिता के युग में लोग बस जीतना चाहते हैं और इसके लिए किसी भी हद तक जाने से नहीं चुकते हैं और यही पर काला जादू का प्रयोग करने की कोशिश करते है. आखिर में क्या है कला जादू? हर चीज के दो पहलु होते हैं एक अच्छा और एक बुरा. काला जादू तंत्र, मंत्र यन्त्र का गलत प्रयोग है जिसके अंतर्गत कुछ शक्तियों को पूज के अपना गलत स्वार्थ सिद्ध किया जाता है. करने व…

Gomed Ratna Rahasya In Hindi

Gomed Gem Stone Secrets in hindi, गोमेद की शक्ति, कैसे ख़रीदे गोमेद, कैसे धारण करे गोमेद, सफलता के लिए गोमेद का प्रयोग.

क्या आप जानना चाहते हैं राहू के रत्न के बारे में, क्या आप एक ऐसे रत्न के बारे में जानना चाहते हैं जो की जीवन में जादुई बदलाव ला सकता है तो पढ़े इस लेख को.
गोमेद, जी हाँ एक ऐसा शक्तिशाली रत्न है जिसे अंग्रेजी में HESSONITE भी कहते हैं. ये रत्न राहू की शक्ति को जीवन में बढ़ा सकता है. इसका रंग लालिमा लिए होता है जिसमे थोडा पिला जैसा भी दीखता है, इसके रंग को गौमूत्र जैसा भी जान सकते हैं. 
कौन धारण कर सकते हैं गोमेद रत्न? मेरे अनुभव के हिसाब से उन लोगों के लिए गोमेद शुभ होता है जिनके कुंडली में राहू अच्छा है पर कमजोर है , गोमेद धारण करने से राहू का बल बढ़ने लगता है जिससे सफलता के रास्ते खुलते हैं.  अगर कमजोर राहू के कारण जीवन में, नाम, पैसा, सम्पन्नता आदि नहीं आ पा रही है तो गोमेद रत्न लाभदायक सिद्द हो सकता है. राजनीतज्ञों के लिए भी ये एक शुभ रत्न साबित हो सकता है. 
आइये जानते हैं गोमेद के लाभ :

Kaise Kare Shukra Ko Majboot | Shukra astrology in Hindi

क्या है शुक्र ग्रह, शुक्र ग्रह का मानव जीवन में प्रभाव, क्या करे की शुक्र मजबूत हो, how to increase the power of Venus or shukra, benefits of shukra or Venus.

शुक्र को अंग्रेजी में Venus कहते हैं. ये सौर्य मंडल में सबसे चमकीला ग्रह है. शुक्र एक ऐसा ग्रह है जो की भौतिक जीवन को सुख संपत्ति से भर देता है. शुक्र ग्रह के अच्छा होने पर व्यक्ति को प्रेम संबंधो में भी सफलता मिलती है, वैवाहिक जीवन भी आनंद से गुजरता है और इसी के साथ समाज में भी उसे बहुत सम्मान मिलता है अतः शुक्र का कुंडली में मजबूत और अच्छा होना जरुरी है.
दूसरी तरफ अगर शुक्र ग्रह खराब हो या कमजोर हो तो व्यक्ति को अपने व्यक्तिगत जीवन को सुखी करने के लिए बहुत सघर्ष करना होता है. प्रेम संबंधों में भी उसे सफलता नहीं मिलती है, सम्मोहन शक्ति के अभाव में हर कार्य में उसे कुछ ज्यादा मेहनत करना होता है.  इसके अलावा शुक्र वीर्य का करक भी है, गुप्तांगो पर भी इसका प्रभाव रहता है. अगर किसी का शुक्र पीड़ित हो तो ऐसा व्यक्ति किसी न किसी कारण से गुप्त रोगों का शिकार हो जाता है. अतः सावधानी बरतनी चाहिए.  अच्छा शुक्र व्यक्ति को खूब ठाट बाट देता ह…