Skip to main content

Latest Astrology Updates in Hindi

Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav

Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav, Surya Mithun Rashi Mai kab jayenge, surya gochar june 2024, मिथुन संक्रांति क्या है, १२ राशियों पर असर | मिथुन संक्रांति का महत्त्व: Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar 2024:  जब सूर्य वृषभ राशि से मिथुन में प्रवेश करते हैं  तो उसे मिथुन संक्रांति कहते हैं| ज्योतिष के हिसाब से इस दिन के बाद अगले करीब ३१ दिन तक सूर्य मिथुन राशी में रहता है| जब सूर्य मिथुन राशि में रहते हैं तो भारत के गुवाहाटी में कामख्या मंदिर में  अम्बुबाची का मेला लगता है जब मंदिर के कपाट कुछ दिनों के लिए बंद किये जाते हैं, ऐसा कहा जाता है की साल में एक बार माता कामख्या रजस्वला होती है अतः इसीलिए कुछ दिनों के लिए मंदिर का पठ बंद रहता है और इन्ही दिनों मंदिर में मेला लगता है | ये सिर्फ साल में एक बार होता है और पुरे विश्व से लोग यहाँ आते है| भारत के बहुत से भागो में इस दिन लोग भगवान् विष्णु की पूजा करते हैं. कई भागो में मानसून आ जाता है और लोग बारिश का भी आनंद लेते हैं|  Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar 2024 Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav आइए जानते हैं कि सू

Swadhishtan Chakra Ke Jagrut Hone Par Kya Hota Hai

 स्वधिस्थान चक्र के जागने पर क्या होता है, swasdhisthan Chakra Ke Jagrut Hone Par kya hota hai| 

मूलाधार चक्र के बाद जो दूसरा शक्ति केंद्र है हमारे शरीर में वो है स्वाधिष्ठान चक्र | इस लेख में हम जानेंगे की  swadhisthan chakr ko jaagrut karne ke kya fayde hote hain ?, स्वाधिष्ठान चक्र कितने दिनों में जागृत हो जाता है?, स्वाधिष्ठान चक्र को जागृत कैसे किया जाता है?, क्या फायदे हैं, स्वाधिष्ठान चक्र का मंत्र कौन सा है, स्वाधिष्ठान चक्र कहां होता है, स्वाधिष्ठान चक्र का बीज मंत्र कौन सा है आदि | 

स्वाधिष्ठान चक्र को Sacral Chakra भी कहा जाता है |जब भी कोई साधक साधना शुरू करता है तो सबसे पहले उसे मूलाधार चक्र को जागृत करना पड़ता है और उसके बाद उसे स्वधिस्थान चक्र से होते हुए आगे बढ़ना होता है | 

स्वधिस्थान चक्र के जागने पर क्या होता है, swasdhisthan Chakra Ke Jagrut Hone Par kya hota hai|
Swadhishtan Chakra Ke Jagrut Hone Par Kya Hota Hai


स्वाधिष्ठान चक्र की जाग्रति से साधक में स्पष्टता बढती जाती है जीवन को लेके और व्यक्तित्व में विकास और भी  तेजी से होने लगता है | 

Swadhisthan chakra का सम्बन्ध जल तत्त्व से हैं | 

स्वाधिष्ठान चक्र के जागृत होने पर साधक में प्रसन्नता, निष्ठा, आत्मविश्वास और ऊर्जा देखने को मिलती है | 

इस चक्र में अगर उर्जा की कमी हो तो साधकमें  आलस्य, भय, संदेह, प्रतिशोध, ईर्ष्या और लोभ देखने को मिलते हैं, इस चक्र के कमजोर होने पर व्यक्ति भोगी ही बना रह जाता है परन्तु भोगो को भी सही तरीके से भोग नहीं पाता है |

 इसीलिए स्वाधिष्ठान चक्र को जागृत करना सभी के लिए जरुरी है वो भले ही भौतिक जीवन का आनंद लेना चाहता हो या फिर अध्यात्मिक जीवन में आगे बढ़ना चाहता हो | 

Read in English about Benefits of activating Swadhisthan chakra/sacral energy center

आइये जानते हैं क्या क्या फायदे होते हैं स्वाधिष्ठान चक्र को जागृत करने के ?

  1. साधक जल तत्त्व को गहराई से समझने लगता है |
  2. साधक में गजब की स्फूर्ति उत्पन्न होने लगती है |
  3. अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उत्साह उतपन्न होने लगता है और वो और अधिक गहराई से अभ्यास करने लगता है | 
  4. जीवन के प्रति एक नई दृष्टि साधक को मिलती है | 
  5. उच्च स्तरीय साधक इसी चक्र पर धारणा करके जल पर चलने की शक्ति भी हासिल कर लेते हैं |
  6. साधक के अन्दर से क्रूरता, गर्व, आलस्य, प्रमाद, अवज्ञा, अविश्वास जैसे तमाम दुर्गुणों का नाश होने लगता है दूसरे शब्दों में हम ये कह सकते हैं की ये चक्र शारीरिक वासनाओं से आजादी दिलाती है जिससे साधक बहुत ही हल्का और शुद्ध महसूस करने लगता है | उसका मन और ज्यादा केन्द्रित और शक्तिशाली होने लगता है | 

हमारे शरीर में सबसे ज्यादा जल तत्त्व होता है इसीलिए इस चक्र को नियंत्रित करना बहुत जरुरी है जिससे की साधक अनेक प्रकार के रोगों से बच जाता है |

स्वाधिष्ठान चक्र का मंत्र कौन सा है ?

Swadhisthan Chakr पे ध्यान करने के लिए वं/VAM मन्त्र का प्रयोग किया जाता है |  सुनिए इस मन्त्र को You Tube में 

स्वाधिष्ठान चक्र का स्थान कहा हैं ?

योग ग्रंथो के अनुसार swasdhisthan chakra का स्थान नाभि और मूलाधार चक्र के बीच में हैं | 

और सरलता से समझे तो हम कह सकते हैं की इस शक्ति चक्र का स्थान नाभि से 2 इंच नीचे है |

स्वाधिष्ठान चक्र को जागृत करने के तरीके क्या है ?

इस शक्ति केंद्र को कई तरीके से जागृत किया जा सकता है जैसे –

  • वं मंत्र का जाप करते हुए स्वाधिष्ठान पर ध्यान करते जाए, इससे ये क्षेत्र जागृत होने लगता है |
  • हम नारंगी रंग पर ध्यान करके भी स्वाधिष्ठान चक्र को जागृत कर सकते हैं | 
  • वैसे कुंडलिनी साधना करने वाले साधको को इसे अलग से जागृत करने का अभ्यास नहीं करना पड़ता है क्यूंकि जब कुंडली जागृत होती है तो वो इस चक्र से सभी गुजरेगी और स्वाधिष्ठान चक्र की शक्तियों को पूरी तरह से जागृत कर देंगी | 
  • शक्तिचालन क्रिया का अभ्यास करते रहिये | पढ़िए शक्तिचालिनी मुद्रा क्या होती है ?

अनेक प्रकार की बीमारियों से भी साधक बच सकता है इस swdhisthan chakr को जागृत करके जैसे –

  • संतान सम्बन्धी समस्या से छुटकारा मिलता है अर्थात साधक अच्छी संतान पैदा करने के काबिल होता है |
  • मूत्र सम्बन्धी समस्याओ से साधक बचता है |
  • पेट से सम्बन्धी समस्याओ से साधक बचता है |
  • गुप्तांगो की कम्ज्जोरी ख़त्म होती है |

किन नियमो का पालन करना होता है स्वधिस्थान चक्र को जागृत करने के लिए ?

  • आपको सबसे पहले साधने के प्रति इमानदारी रखनी होगी अर्थात आपको रोज नियम से निश्चित समय पर ध्यान करने की आदत डालनी होगी |
  • अपने अन्दर साहस भी बनाए रखें क्यूंकि चक्र ध्यान के दौरान कुछ ऐसे अनुभव होते हैं जिसके बारे में आपने कभी कल्पना भी नहीं की होगी |
  • शुद्ध और सात्विक भोजन करें जिससे कब्ज न होने पाए|
  • किसी भी प्रकार के नशे से दूर रहे क्यूंकि ध्यान का अपना एक नशा होता है अगर आप किसी प्रकार का नशा करेंगे तो आपको अपने शारीर के अन्दर मौजूद प्राकृत शक्तियों का अनुभव नहीं हो पायेगा |
  • रोज नियम से शक्तिचालन क्रिया, प्राणायाम और बंध का अभ्यास भी करें |
  • सूर्य नमस्कार जरुर करें, इससे आपको बहुत मदद मिलेगी |
  • सकारात्मक लोगो के साथ ही रहें | हो सके तो उन लोगो के संपर्क में रहें जो लोग कुंडलिनी साधना करते हैं |

Swadhisthan chakra kitne dino me jaagrut hota hai ?

इस प्रश्न का उत्तर ये है जब साधक मूलाधार चक्र को जागृत कर लेता है तो फिर अपने आप ही स्वधिस्थान चक्र जागृति होने लगती है | पढ़िए मूलाधार चक्र के जागने पर क्या होता है ?

एक बात ध्यान रखें की कुंडलिनी शक्ति महा शक्ति है और इन्हें जगाने से पहले हमे तन और मन से पूरी तरह स्वस्थ रहना होगा | 

तो आप सब को अब ये पता चल गया होगा की क्या होता है जब स्वाधिष्ठान जागृत होता है?

तो आइये अपने जीवन को सफल बनाने के लिए करते हैं कुंडलिनी ध्यान |

स्वधिस्थान चक्र के जागने पर क्या होता है, swasdhisthan Chakra Ke Jagrut Hone Par kya hota hai|

Comments

Popular posts from this blog

84 Mahadev Mandir Ke Naam In Ujjain In Hindi

उज्जैन मंदिरों का शहर है इसिलिये अध्यात्मिक और धार्मिक महत्त्व रखता है विश्व मे. इस महाकाल की नगरी मे ८४ महादेवो के मंदिर भी मौजूद है और विशेष समय जैसे पंचक्रोशी और श्रवण महीने मे भक्तगण इन मंदिरों मे पूजा अर्चना करते हैं अपनी मनोकामना को पूरा करने के लिए. इस लेख मे उज्जैन के ८४ महादेवो के मंदिरों की जानकारी दी जा रही है जो निश्चित ही भक्तो और जिज्ञासुओं के लिए महत्त्व रखती है.  84 Mahadev Mandir Ke Naam In Ujjain In Hindi आइये जानते हैं उज्जैन के ८४ महादेवो के मंदिरों के नाम हिंदी मे : श्री अगस्तेश्वर महादेव मंदिर - संतोषी माता मंदिर के प्रांगण मे. श्री गुहेश्वर महादेव मंदिर- राम घाट मे धर्मराज जी के मंदिर मे के पास. श्री ढून्देश्वर महादेव - राम घाट मे. श्री अनादी कल्पेश्वर महादेव- जूना महाकाल मंदिर के पास श्री दम्रुकेश्वर महादेव -राम सीढ़ियों के पास , रामघाट पे श्री स्वर्ण ज्वालेश्वर मंदिर -धुंधेश्वर महादेव के ऊपर, रामघाट पर. श्री त्रिविश्तेश्वर महादेव - महाकाल सभा मंडप के पास. श्री कपालेश्वर महादेव बड़े पुल के घाटी पर. श्री स्वर्न्द्वार्पलेश्वर मंदिर- गढ़ापुलिया

om kleem kaamdevay namah mantra ke fayde in hindi

कामदेव मंत्र ओम क्लीं कामदेवाय नमः के फायदे,  प्रेम और आकर्षण के लिए मंत्र, शक्तिशाली प्रेम मंत्र, प्रेम विवाह के लिए सबसे अच्छा मंत्र, सफल रोमांटिक जीवन के लिए मंत्र, lyrics of kamdev mantra। कामदेव प्रेम, स्नेह, मोहक शक्ति, आकर्षण शक्ति, रोमांस के देवता हैं। उसकी प्रेयसी रति है। उनके पास एक शक्तिशाली प्रेम अस्त्र है जिसे कामदेव अस्त्र के नाम से जाना जाता है जो फूल का तीर है। प्रेम के बिना जीवन बेकार है और इसलिए कामदेव सभी के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। उनका आशीर्वाद जीवन को प्यार और रोमांस से भरा बना देता है। om kleem kaamdevay namah mantra ke fayde in hindi कामदेव मंत्र का प्रयोग कौन कर सकता है ? अगर किसी को लगता है कि वह जीवन में प्रेम से वंचित है तो कामदेव का आह्वान करें। यदि कोई एक तरफा प्रेम से गुजर रहा है और दूसरे के हृदय में प्रेम की भावना उत्पन्न करना चाहता है तो इस शक्तिशाली कामदेव मंत्र से कामदेव का आह्वान करें। अगर शादी के कुछ सालों बाद पति-पत्नी के बीच प्यार और रोमांस कम हो रहा है तो इस प्रेम मंत्र का प्रयोग जीवन को फिर से गर्म करने के लिए करें। यदि शारीरिक कमजोरी

Mrityunjay Sanjeevani Mantra Ke Fayde

MRITYUNJAY SANJEEVANI MANTRA , मृत्युंजय संजीवनी मन्त्र, रोग, अकाल मृत्यु से रक्षा करने वाला मन्त्र |  किसी भी प्रकार के रोग और शोक से बचाता है ये शक्तिशाली मंत्र |  रोग, बुढ़ापा, शारीरिक कष्ट से कोई नहीं बचा है परन्तु जो महादेव के भक्त है और जिन्होंने उनके मृत्युंजय मंत्र को जागृत कर लिए है वे सहज में ही जरा, रोग, अकाल मृत्यु से बच जाते हैं |  आइये जानते हैं mrityunjaysanjeevani mantra : ऊं मृत्युंजय महादेव त्राहिमां शरणागतम जन्म मृत्यु जरा व्याधि पीड़ितं कर्म बंधनः।। Om mriyunjay mahadev trahimaam sharnagatam janm mrityu jara vyadhi peeditam karm bandanah || मृत्युंजय संजीवनी मंत्र का हिंदी अर्थ इस प्रकार है : है कि हे मृत्यु को जीतने वाले महादेव मैं आपकी शरण में आया हूं, मेरी रक्षा करें। मुझे मृत्यु, वृद्धावस्था, बीमारियों जैसे दुख देने वाले कर्मों के बंधन से मुक्त करें।  Mrityunjay Sanjeevani Mantra Ke Fayde आइये जानते हैं मृत्युंजय संजीवनी मंत्र के क्या क्या फायदे हैं : भोलेनाथ दयालु है कृपालु है, महाकाल है अर्थात काल को भी नियंत्रित करते हैं इसीलिए शिवजी के भक्तो के लिए कु