Skip to main content

Suraya grahan Mai Kya kare Jyotish Anusar

ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रहण का महत्व, सफलता के लिए क्या करें, जानिए विभिन्न राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा, surya grahan ke samay graho ki sthiti ।

वर्ष 2020 का पहला सूर्य ग्रहण 21 जून, रविवार को होगा। आम लोगों में ग्रहण को लेके डर होता है और यह सही है कि अगर हम सूर्य ग्रहण के समय में बाहर जाते हैं तो हमें विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्य हानी होने की आशंका बढ़ जाती है ।
surya grahan aur jyotish upaay
Suraya grahan Mai Kya kare Jyotish Anusar
सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है जिसमें चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच में आता है और इसलिए सूर्य की किरणें पृथ्वी तक नहीं पहुंच पाती हैं।

2020 में सूर्य ग्रहण की तारीख और समय क्या है?

  • इस वर्ष , 21 जून को सूर्य ग्रहण सुबह 10:06 बजे शुरू होगा और दोपहर 1:47 बजे तक रहेगा। स्थानीय समय के अनुसार अलग अलग शहर में समय का थोडा फर्क पड़ सकता है | ये ग्रहण भारत, अफ्रीक, एशिया, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा.
  • सूर्यग्रहण का कुल समय लगभग 3 घंटे 41 मिनट है।
  • सूतक 20 जून, शनिवार की रात्रि 10:00 बजे से शुरू होगा ।
Watch Video of surya grahan Impacts आइये जानते हैं की २१ जून को कोंसे योग बन रहे हैं और उसका असर क्या होगा जीवन पर : जैसा की आप जानते हैं की २१ जून, रविवार को सूर्य ग्रहण होने वाला है परन्तु इसके साथ ही ग्रहों की स्थिति भी बहुत बदली रहेगी जिसके कारण भी परेशानी बढ़ने के संकेत हैं.

अगर आप कुंडली देखे २१ तारीख को सुबह १० बजे की तो आप देखेंगे की :
surya grahan predictions in hindi
surya grahan kundli

  1. सूर्य, बुध, चन्द्र और राहू साथ में बैठे है जिसके कारण गोचर में भी सूर्य ग्रहण योग, चन्द्र ग्रहण योग बना हुआ है. 
  2. सूर्य, बुध, चन्द्र, और राहू को मंगल पूर्ण दृष्टि से देख रहा है जो की एक और अशुभ योग बना रहा है. 
  3. इसी के साथ अगर आप देखे तो ग्रहण के समय ६ ग्रह वक्री रहेंगे जो की है बुध, गुरु, शुक्र शनि , राहू और केतु.
  4.  और इसी दिन अमावस्या भी है. 
अतः देखा जाए तो सूर्य ग्रहण के का असर वैश्विक तौर पर और सांसारिक दृष्टि से शुभ नहीं होने वाला है. 

परन्तु साधना के लिए एक अति उत्तम योगो का निर्माण कर रहा है. अतः अगर आप सूर्य ग्रहण के समय गुरु मंत्र, इष्ट मंत्र का जप करते हैं तो निश्चित ही अपने बल को बढ़ा पायेंगे और अपने जीवन को सुरक्षित और सफल बना पाएंगे. 

आइए जानते हैं, किन राशियों के लिए यह सूर्य ग्रह अच्छा और बुरा है?

  1. यह सूर्य ग्रहण हिंदू पंचांग के अनुसार मृगशिरा नक्षत्र और मिथुन राशि पर होने जा रहा है।
  2. तो मिथुन राशि के लोगों के लिए, यह सूर्य ग्रहण अच्छा नहीं है।
  3. मेष, कन्या, सिंह, मकर राशि वालों के लिए शुभ रहेगा ।
  4. वृष, कुंभ, धनु, तुला के लिए, प्रभाव मध्यम होंगे।
  5. मिथुन, कर्क, वृश्चिक, मीन राशि वालों के लिए अशुभ रहेगा। सावधानी बरतना अच्छा है और किसी भी कारण से बाहर नहीं जाना चाहिए।

क्या आप जानते हैं कि सूर्य ग्रहण का समय आध्यात्मिक साधनाओं, तंत्र, मन्त्र, यंत्र सिद्धि के लिए बहुत अच्छा और शक्तिशाली समय होता है?

हम सभी को जीवन की समस्याओं को कम करने और जीवन में समृद्धि को आकर्षित करने का एक बहुत अच्छा अवसर मिल रहा है। हर व्यक्ति को इस महत्त्वपूर्ण समय का स्तेमाल करना चाहिए.

आइये जानते हैं कुछ ख़ास उपाय या टोटके सूर्य ग्रहण के लिए जिनको करके हम अपने जीवन को समृद्ध बना सकते हैं::

  1. यह एक सत्य है कि अगर कोई भी सूर्य ग्रहण के समय किसी भी मंत्र का जाप करता है, तो कोई संदेह नहीं कि मंत्र अपनी शक्ति दिखाता है। अतः व्यक्ति आवश्यकता और इच्छानुसार गुरु मंत्र, या विभिन्न देवताओं से संबंधित किसी भी अन्य मंत्र का जाप कर सकता है।
  2. यदि आप जीवन में वित्तीय समस्या का सामना कर रहे हैं तो महालक्ष्मी अष्टकम या श्री सूक्तम का पाठ ग्रहण के समय जितना हो सके उतना करें। यह निश्चित रूप से महालक्ष्मी के आशीर्वाद को आकर्षित करेगा।
  3. कुंडली में ख़राब ग्रहों की सही चीजों की पेशकश भी जीवन की समस्याओं को कम करने में बहुत मदद करती है। कुंडली में ख़राब ग्रहों के बारे में जानने के लिए ज्योतिषी से परामर्श करना अच्छा है।
  4. अगर कोई काला जादू से पीड़ित है तो ग्रहण के समय महाकाली कवच का पाठ करना अच्छा होता है। इससे बहुत मदद मिलेगी।
  5. यदि आप लंबे समय से कोई साधना कर रहे हैं तो इस बार सूर्य ग्रहण में आप उसे जाग्रत कर सकते हैं ।
  6. यदि कोई जन्म कुंडली में कई ग्रहों से पीड़ित है तो नवग्रह शंती मंत्र का जाप करना अच्छा होता है।
  7. भगवान शिव के भक्त केवल शिव पंचाक्षर मंत्र का उच्चारण कर सकते हैं-ओम नमः शिवाय
ग्रहण के बाद, यदि पास में कोई बहने वाली नदी है, तो पवित्र स्नान करना और क्षमता के अनुसार चीजों का दान करना अच्छा है।

क्या ना करे सूर्य ग्रहण के समय?

  • प्रेग्नेंट लेडीज को सूर्य ग्रहण के समय बाहर नहीं जाना चाहिए।
  • ग्रहण के समय न कुछ खाएं न पिएं।
  • इस दौरान सोना अच्छा नहीं है और ग्रैहण समय के दौरान यौन संबंध बनाने से भी बचें।
  • ग्रहण की अवधि के दौरान लड़ाई और बहस न करें अन्यथा यह दुर्भाग्य लाएगा।
  • किसी से लड़ाई मत कीजिये और किसी के लिए बुरा मत सोचिये |
जानिए आपके कुंडली क्या कहती है आपके बारे में, कौन से ग्रह परेशानी पैदा कर रहे हैं जीवन में, क्या करे सफलता के लिए ज्योतिष अनुसार, कौन सा रत्न भाग्योदय करेगा.


आइये जानते है की सूर्य ग्रहण के बाद हम अपने घर को कैसे शुद्ध करे ?

  1. Sabse pahle graham khatm hone ke baad apne ghar me jhaadu lagaaye.
  2. Iske baad pure ghar me gangajal se chidkaaw kare tulsi ke patto se.
  3. Fir aapko pure ghar ka pocha namak ke paani se lagana chahiye.
  4. Aur iske baad pure ghar me gugal kid hoop kare khidkiya aur darwaje band karke. Dhoop den ke baad sab khidki darwaje khol dijiye.
  5. Aur ek kaam kare ki ghar me om ki dhwani ko chala de.

इससे आप देखेंगे की आपका घर और सभी सदस्य नकारात्मक उर्जा से मुक्त हो गए हैं |

Surya grahan mai kya kare, kaise kare bhagyoday surya grahan mai, सूर्य ग्रहण में क्या ख़ास करे जीवन को बाधाओं से मुक्त करने के लिए?, किस राशि के लिए शुभ और अशुभ रहेगा जानिए ज्योतिष से.

Comments

Popular posts from this blog

Suar Ke Daant Ke Totke

Jyotish Me Suar Ke Daant Ka Prayog, pig teeth locket benefits, Kaise banate hai suar ke daant ka tabij, क्या सूअर के दांत का प्रयोग अंधविश्वास है.

सूअर को साधारणतः हीन दृष्टि से देखा जाता है परन्तु यही सूअर पूजनीय भी है क्यूंकि भगवान् विष्णु ने वराह रूप में सूअर के रूप में अवतार लिया था और धरती को पाताल लोक से निकाला था. और वैसे भी किसी जीव से घृणा करना इश्वर का अपमान है , हर कृति इस विश्व में भगवान् की रचना है.
सूअर दांत के प्रयोग के बारे में आगे बताने से पहले कुछ महत्त्वपूर्ण बाते जानना चाहिए :इस प्रयोग में सिर्फ जंगली सूअर के दांत का प्रयोग होता है.किसी सूअर को जबरदस्त मार के प्रयोग में लाया गया दांत काम नहीं आता है अतः किसी भी प्रकार के हिंसा से बचे और दुसरो को भी सचेत करे.वैदिक ज्योतिष में सूअर के दांत के प्रयोग के बारे में उल्लेख नहीं मिलता है.इसका सूअर के दांत के प्रयोग को महुरत देख के ही करना चाहिए.कई लोगो का मनना है की सुकर दन्त का प्रयोग अंधविश्वास है परन्तु प्रयोग करके इसे जांचा जा सकता है , ऐसे अनेको लोग है जो अपने बच्चो को इसका ताबीज पहनाते हैं और कुछ लोग खुद भी पहनते है …

Kala Jadu Kaise Khatm Kare

काला जादू क्या है , कैसे पता करे काला जादू के असर को, कैसे ख़त्म करे कला जादू के असर को, hindi में जाने काले जादू के बारे में. काला जादू अपने आप में एक खतरनाक विद्या है जो की करने वाले, करवाने वाले और जिस पर किया जा रहा है उन सब का नुक्सान करता है. यही कारण है की इस नाम से भी भय लगता है. अतः ये जरुरी है की इससे जितना हो सके बचा जाए और जितना हो सके उतने सुरक्षा के उपाय किया जाए.
ज्योतिष संसार के इस लेख में आपको हम उसी विषय में अधिक जानकारी देंगे की कैसे हम काले जादू का पता कर सकते हैं और किस प्रकार इससे बचा जा सकता है. प्रतियोगिता अच्छी होती है परन्तु जब ये जूनून बन जाती है तब व्यक्ति गलत ढंग से जीतने के उपाय करने से भी नहीं चुकता है. आज के इस प्रतियोगिता के युग में लोग बस जीतना चाहते हैं और इसके लिए किसी भी हद तक जाने से नहीं चुकते हैं और यही पर काला जादू का प्रयोग करने की कोशिश करते है. संपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >>
आखिर में क्या है काला जादू? हर चीज के दो पहलु होते हैं एक अच्छा और एक बुरा. काला जादू तंत्र, मंत्र यन्त्र का गलत प्रयोग है जिसके अंतर्गत कुछ शक्तियों को प…

Gola Khisakna Kya Hota Hai Aur Iska Ilaaj Kya Hai

Kya Hota hai gola khisakna, nabhi hatne ka matlab kya hai, kaise thik kar sakte hain dharan ko, janiye kuch asaan tarike nabhi ko thik karne ke.
साधारण शब्दों में नाभि खिसकना : जब हम बात करते हैं शारीर के मध्य इस्थान का तब नाभि का ध्यान आता है, जब हम योग के सन्दर्भ में मनिपुरक चक्र की बात करते हैं तब हमे ध्यान आता है नाभि का, जब भी पेट में दर्द होता है तो ध्यान आता है नाभि का. अतः नाभि हमारे शारीर का एक महात्वपूर्ण अंग है, इसी नाभि को गोला या धारण भी कहते हैं. अंग्रेजी में नाभि को Navel कहते हैं.
ये वास्तव में एक संगम है जहाँ से नाड़ियाँ गुजरती हैं हर प्रकार की , अतः यहाँ पर जाल बना हुआ है नाड़ियों का, इन नाड़ियो को सहारा देने के लिए मांसपेशियां भी होती है और जब ये अपनी जगह से कभी खिसकती हैकिसी कारण से तो उसे कहते हैं “नाड़ी का खिसकना या गोला खिसकना या धरण ”. कभी ये बाएं खिसकता है, कभी ये दायें खिसकता है, कभी ऊपर और कभी निचे खिसकता है.
गोला खिसकने के ज्योतिषीय कारण: मैंने अपने शोध में पाया है की जिन लोगो का गोला ज्यादा खिसकता है उनके कुंडली में छ्टे भाव में कमजोरी होती है अर्थात वहां या त…