Mauni Amavasya In Hindi

मौनी अमावस्या महत्व | Significance of Mauni Amavasya, क्या करे मौनी अमावस्या को सफलता के लिए, सफलता सूत्र.
मौन शक्ति को जागृत करने और शक्ति का संचय करने का सबसे आसान तरीका है. मौन का अंग्रेजी मई अर्थ होता है silence . साधारणतः हम मौन का अर्थ जुबान से चुप रहने को समझते है परन्तु सत्यता ये है की मौन का अर्थ है तन, मन से मौन रहना, शांति में रहना. जब अन्तर से हम मौन होते हैं तो हमे अपनी ही शक्तियों के बारे में जानकारी होती है. परन्तु इस मौन को प्राप्त करने के लिए अत्यंत घोर साधना की जरुरत होती है. जिसकी शुरुआत हम मौनी अमावस्या को कर सकते हैं.

mauni amavasya ko kya kare jyotish anusar
mauni amavasya ka mahattw

ये अमवास्या माघ महीने में आती है हर वर्ष जो की ठण्ड के दिनों में पड़ती है. ये दिन हमे मौका देता है की हम मौन का अभ्यास कम से कम एक दिन तो करके देखे. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान का भी बहुत महत्व है. इस दिन पित्र शांति, ग्रहण शांति, काले जादू से बचाव के लिए पूजाए भी की जाती है.

भक्तगण इस दिन उपवास करते हैं, पवित्र नदियों में स्नान करते हैं, तीर्थो में स्नान करते हैं और पूजा पाठ करके पित्र और देवो की कृपा प्राप्त करते हैं. त्रिवेणी संगम में स्नान का भी इस दिन विशेष महत्व है. त्रिवेणी उस जगह को कहते हैं जहा पर तीन नदियाँ मिलती हैं.

मौनी अमावस का दिन है मौन की शक्ति को जाने का, ये दिन है अपने आपको जानने का, ये दिन है अपने आपको ऊर्जा से भरने का अतः इस मौके को बिलकुल भी गवाना नहीं चाहिए.

पौराणिक कथाओ से पता चलता है की इस दिन “मनु ऋषि” का जन्म हुआ था अतः ये दिन इनके जन्मदिन के रूप में भी मनाया जाता है. इस दिन लोग नदी तट , तीर्थो में स्नान करके तर्पण, हवन , पूजन आदि करते हैं जीवन को खुशहाल बनाने के लिए.

क्या करे मौनी अमावस्या को सफलता के लिए ?

  1. इस दिन पूर्ण मौन रखते हुए उपवास करना उचित है.
  2. पवित्र नदी, त्रिवेणी, तीर्थ पर स्नान करके शिव पूजा करना चाहिए और दोषों, पापो की निवृत्ति के लिए प्रार्थना करना चाहिए. पितरो की शांति हेतु भी पूजा करना चाहिए. दिनभर मंत्र जप करना चाहिए, कोई गलत कार्य नहीं काना चाहिए.
  3. अनाज, दक्षिणा, सोना, गौ का दान पात्र को देना चाहिए.
  4. अगर कुंडली में पितृ दोष हो तो तर्पण अवश्य करना चाहिए और पितृ शांति पूजा भी करना चाहिए.
  5. काले तिल से शिवजी का अभिषेक करना चाहिए. तिल के लड्डू , चक्की का भोग लगा के भक्तो में बांटना चाहिए.
  6. मौनी अमावस्या को काली चींटियो को भी भोजन खिलाना चाहिए इससे पुण्य मिलता है और बहुत सी परेशानियाँ ख़त्म होती है.
  7. मौनी अमावस को शाम को दीप दान करना चाहिए, इससे बहुत लाभ होता है.
  8. अगर कोई कालसर्प से ग्रस्त हो तो इस दिन नाग नागिन के जोड़े की पूजा करके नदी में विसर्जित करना चाहिए और अपनी क्षमता अनुसार दान - पुन्य करना चाहिए.
इस प्राकार इस दिन जीवन में सफलता के रास्ते खोलने के लिए पूजा पाठ करना चाहिए.
अगर आप विश्वसनीय ज्योतिष सलाह लेना चाहते है और जानना चाहते हैं अपने कुंडली के बारे में, कुंडली मई मौजूद दोष और उनके निवारण के बारे में तो अभी संपर्क करे.



और पढ़े सम्बंधित लेख:
Mauni amavasya significance in English. 
सोमवती और मौनी अमावस्या का महत्त्व हिंदी मे
सोमवती अमावस्या का महत्त्व हिंदी मे 
हरियाली अमावस्या का महत्त्व

मौनी अमावस्या महत्व | Significance of Mauni Amavasya, क्या करे मौनी अमावस्या को सफलता के लिए, सफलता सूत्र.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें