Hindi Jyotish Website, famous google jyotish, Astrologer in hindi

Basant Panchmi Ka Mahattw

भारत में बसंत पंचमी का त्यौहार, जानिए क्या महत्त्व है बसंत पंचमी का, क्या करे सफलता के लिए. 
basant panchmi ki jaankari jyotish dwara
vasant panchmi ka mahattw
हिंदी पंचांग के हिसाब से माघ महीने के शुक्ल पक्ष में पांचवे दिन बसंत पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है. ये बहुत ही आनंद का दिन होता है क्यूंकि ये दिन बहुत ही शानदार मौसम का संकेत होता है. 
इस दिन माता सरस्वती की पूजा की जाती है मुख्यतः, माँ सरस्वती विद्या की देवी है इसी कारण विद्यार्थियों के लिए बहुत महत्त्व रखती है. ऐसा माना जाता है की माँ सरस्वती का जन्म इसी दिन हुआ था इसी कारण माता के जन्म दिवस के रूप में भी ये दिन मनाया जाता है. 
बसंत के मौसम में खेत पीले रंग से आच्छादित हो जाता है क्यूंकि सरसों के फूल खिल जाते हैं. इस दृश्य का लोग खूब आनंद लेते हैं. 
आइये जानते हैं की लोग इस दिन क्या करते हैं:
  • लोग पीले कपड़े पहनते हैं. 
  • भक्तगण पीले फूल माता को अर्पित करते हैं. 
  • भोग में पिला भोजन बनाया जाता है जैसे खिचड़ी.
  • पीले मीठे चावल बनाने का भी रिवाज है इस दिन जिसमे केसर भी डाला जाता है.
  • पाठशालाओं में विद्यार्थि और गुरुजन मिलके माँ सरस्वती की विशेष पूजा अर्चना करते हैं. 
पिला रंग अध्यात्म, ज्ञान, रचनात्मकता का प्रतिक है इसीलिए इस दिन सब तरफ पीला ही पीला दीखता है. 
बसंत ऋतु सभी मौसमो में सबसे बेहतर माना जाता है जब लोग पुरे दिन मौज, मस्ती कर सकते हैं, ऐसे में न तो ज्यादा ठण्ड होती है और न गर्मी, इस मौसम में पेड़ पौधों में भी नै कोपले आती है, नए फूल खिलते हैं, नए फल लगते हैं जिससे सब तरफ तरो-ताजा वातावरण बन जाता है. हर तरफ लोग ख़ुशी मनाते नजर आते हैं. 
आज कल बच्चो को इन त्योहारों के बारे में कुछ पता नहीं होता है जो की ठीक नहीं है. हमे बच्चो को तीज त्योहारों के पीछे के विज्ञान को बताना चाहिए जिससे वे इनके महत्त्व को समझ सके.
कैसे करे बसंत पंचमी को पूजा आसान तरीके से?
  1. प्रातः काल जल्दी उठके नियमित कार्यो से फ्री हो जाए. 
  2. पीले वस्त्र पहने और पीले आसन पर बैठे.
  3. माँ सरस्वती की पूजा करे विधिवत.
  4. माता को पीले भोजन का भोग लगाए. 
  5. पिली मिठाई अर्पित करे. 
  6. माँ सरस्वती का कोई भी मंत्र कुछ देर पढ़े
  7. माता से प्रार्थना करे की आपको विद्या और सफलता प्रदान करे. 
  8. इसके बाद बड़ो और गुरुजनों का आशीर्वाद जरुर ले. 
अपने जीवन को उर्जा से भरे, ज्ञान से भरे, उत्साह से भरे माँ सरस्वती की पूजा करके. 
बसंत पंचमी की शुभकामनाये

और ज्योतिष के सम्बंधित लेख पढ़े:

भारत में बसंत पंचमी का त्यौहार, जानिए क्या महत्त्व है बसंत पंचमी का, क्या करे सफलता के लिए. 

No comments:

Post a Comment