Skip to main content

Latest Astrology Updates in Hindi

Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav

Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav, Surya Mithun Rashi Mai kab jayenge, surya gochar june 2024, मिथुन संक्रांति क्या है, १२ राशियों पर असर | मिथुन संक्रांति का महत्त्व: Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar 2024:  जब सूर्य वृषभ राशि से मिथुन में प्रवेश करते हैं  तो उसे मिथुन संक्रांति कहते हैं| ज्योतिष के हिसाब से इस दिन के बाद अगले करीब ३१ दिन तक सूर्य मिथुन राशी में रहता है| जब सूर्य मिथुन राशि में रहते हैं तो भारत के गुवाहाटी में कामख्या मंदिर में  अम्बुबाची का मेला लगता है जब मंदिर के कपाट कुछ दिनों के लिए बंद किये जाते हैं, ऐसा कहा जाता है की साल में एक बार माता कामख्या रजस्वला होती है अतः इसीलिए कुछ दिनों के लिए मंदिर का पठ बंद रहता है और इन्ही दिनों मंदिर में मेला लगता है | ये सिर्फ साल में एक बार होता है और पुरे विश्व से लोग यहाँ आते है| भारत के बहुत से भागो में इस दिन लोग भगवान् विष्णु की पूजा करते हैं. कई भागो में मानसून आ जाता है और लोग बारिश का भी आनंद लेते हैं|  Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar 2024 Surya Ka Mithun Rashi Mai Gochar Ka Prabhav आइए जानते हैं कि सू

Dhumawati Jayanti Ke Upaay

Dhumavati Jayanti 2024, जानिए कौन है धूमावती माता, कैसे होती है इनकी पूजा, dhumawati mata ka mantra kaun sa hai, Dhumawati Jayanti Ke Upaay.

Dhumavati Jayanti 2024: 10 महाविद्याओं में से एक हैं माँ धूमावती और ये भगवती का उग्र रूप हैं | इनकी पूजा से बड़े बड़े उपद्रव शांत हो जाते हैं, जीवन में से रोग, शोक, शत्रु बाधा का नाश होता है | माना जाता है कि धूमावती की पूजा से अलौकिक शक्तियाँ प्राप्त होती हैं जिससे मुसीबतों से सुरक्षा मिलती हैं, भौतिक और अध्यात्मिक इच्छाएं पूरी होती हैं| इनकी पूजा अधिकतर एकल व्यक्ति, विधवाएँ, तपस्वी और तांत्रिक करते हैं | 

Dhumavati Jayanti 2024, जानिए कौन है धूमावती माता, कैसे होती है इनकी पूजा, dhumawati mata ka mantra kaun sa hai, Dhumawati Jayanti Ke Upaay
Dhumawati Jayanti Ke Upaay 


Dhumavati Jayanti Kab aati hai ?

हिन्दू पंचांग के अनुसार हर साल ज्येष्ठ महीने के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को माँ धूमावती जयंती मनाई जाती है। पौराणिक मान्यता के अनुसार , मां धूमावती धुएं से प्रकट हुई थीं और ये माता का विधवा रूप भी कहलाती है इसीलिए सुहागिन महिलाएं मां धूमावती का पूजन नहीं करती हैं, बस दूर से दर्शन करती हैं और आशीर्वाद लेती है |

Read in english about Importance of Dhumawati jayanti 2024 

Dhumavati Jayanti २०२४ में कब हैं ?

इस साल 14 जून शुक्रवार को धूमावती जयंती मनाई जाएगी क्यूंकि इसी दिन ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि है | 

Watch Video here

आइये जानते हैं 14 जून 2024 को ग्रहों की स्थिति कैसी रहेगी ?

  • गोचर कुंडली में बुधादित्य राज योग बना रहेगा |
  • सूर्य शत्रु राशि के रहेंगे |
  • चन्द्रमा अपने मित्र राशि सिंह में रहेंगे |
  • मंगल स्व राशि मेष में रहेंगे |
  • बुध अपने मित्र राशी वृषभ में रहेंगे |
  • गुरु ग्रह अपने शत्रु राशि वृषभ में रहेंगे |
  • शुक्र अपने मित्र राशि धनु में रहेंगे |
  • शनि अपने स्व राशि कुम्भ में रहेंगे |
  • राहु और केतु अपने मित्र राशि में रहेंगे | Dhumavati Jayanti 2024

आइये जानते हैं माँ धूमावती के बारे में कुछ विशेष बातें :

  1. मां धूमावती का स्वरूप उग्र है |
  2. उनकी सवारी कौवा हैं |
  3. माता पुराने एवं मलिन वस्त्र धारण करती हैं और उनके केश बिखरे हुए रहते हैं |
  4. उनकी पूजा विधवा के रूप में की जाती है|

आइये जानते हैं माँ धूमावती के जन्म की कथा :

इनके जन्म के विषय में 2 कथाएं प्रचलित हैं -

  1. एक बार माँ पार्वती को बहुत तेज भूख लगने पर उन्होंने भगवान शिव को ही निगल लिया जिससे उनकी भूख तो शांत हुई पर उनके शारीर से  धुंआ निकलने लगा। इसके बाद भगवान शिव अपनी माया के द्वारा माता के पेट से बाहर आते हैं और माता से कहते हैं कि धुएं से व्याप्त देह होने के कारण आपके इस स्वरूप का नाम धूमावती होगा।<बर />ये भी माना जाता है की अपने पति भगवान शिव को निगलने के कारण उनका स्वरूप एक विधवा जैसा हो जाता है। इसके अलावा शिव के गले में मौजूद विष के असर से देवी पार्वती का पूरा शरीर धुंआ जैसा हो गया था । उनका सुन्दर शरीर श्रृंगार विहीन हो गया था । तब शिवजी ने पार्वती को कहा कि मुझे निगलने के कारण अब आप विधवा हो गई है। जिस कारण से आपका एक नाम धूमावती भी होगा। Dhumavati Jayanti 2024
  2. दूसरी कथा के अनुसार जब सती ने अपने पिता के यज्ञ में स्वयं को भस्म कर दिया तो उनके जलते हुए शरीर से जो धुआं निकला, उससे धूमावती का जन्म हुआ। इसीलिए वे हमेशा उदास रहती हैं और क्रोधित रहती है, अव्यवस्थित सी दिखती हैं |

आइये जाने हैं माँ धूमावती की पूजन का आसान तरीका :

  • प्रातः काल जल्दी उठकर दैनिक कार्यो से निव्रत्त्त हो जाएँ |
  • स्वच्छ कपड़े पहनकर पूजा स्थल पर बैठे ।
  • पूजन स्थल को गंगा जल से पवित्र करेंऔर माता के फोटो या मूर्ति को स्थापित करें |
  • फिर माता की पंचोपचार पूजा करें |
  • मां धूमावती की कथा का श्रवण करें और उनके मंत्रो का यथाशक्ति जाप करें |
  • पूजन के पश्चात अपनी मनोकमना पूर्ण करने के लिए मां से प्रार्थना करें।
  • हो सके तो धूमावती जयंती के दिन विधवाओं को देवी स्वरुप मानके उनकी पूजा करनी चाहिए, उन्हें कुछ उपहार में दें और उनसे आशीर्वाद लीजिये | Dhumavati Jayanti 2024

विशेष बात ध्यान रखने की :

  • मां धूमावती को भोग में नमकीन अर्पित करना चाहिए।
  • सूखी रोटी पर नमक लगाकर भी भोग लगा सकते हैं | 
  • भक्त माता को पकौड़े का भोग लगा सकते हैं |
  • Navratri mai inki puja vishesh rup se hoti hai | Dhumavati Jayanti 2024

आइये जानते हैं माँ धूमावती के मंत्र कौन से हैं ?

ॐ धूं धूं धूमावत्यै फट्।

or

॥ॐ धूमावत्यै च विद्महे संहारिण्यै च धीमहि तन्नो धूमा प्रचोदयात्॥

॥Om Dhumavatyai ch Vidmahe Samharinyai ch Dhimahi Tanno Dhuma Prachodayat॥

Listen Mantra On YouTube

Dhumavati Jayanti 2024

आइये जानते हैं कुछ सावधानियां जो  Devi dhumavati ke साधना के समय ध्यान रखना है :

  1. सुहागन महिलाओं को इनकी पूजा नहीं करना चाहिए।
  2. इनके हवन के लिए घी और तिल को मिश्रित करके होम करना चाहिए मन्त्र के साथ |
  3. इनकी साधना के लिए ब्रहमचर्य का पालन करना चाहिए सख्ती से|
  4. सात्विक भोजन करें साधना काल में |
  5. किसी भी प्रकार के लालच और हिंसा से दूर रहें | 
  6. किसी भी प्रकार के नशे से दूर रहें | Dhumavati Jayanti 2024

आइये जानते हैं माँ धूमावती की कृपा प्राप्त करने के लिए कुछ उपाय :

  • अगर जीवन में शत्रु अधिक हो गए हैं और पेरशानी बहुत बढ़ गई है तो ऐसे में राई और सेंधा नमक मिला के हवन करना चाहिए |
  • रोटी में नमक मिला के हवन करने से बड़े से बड़ा दुर्भाग्य भी दूर हो जाता है |
  • अगर कोई बिना कारण के कारागार में फंसा हो तो ऐसे में उसके घरवाले अगर काली मिर्च से हवन करें माँ धूमावती के मंत्रो से तो कारागार से मुक्ति मिलती है |
  • अगर कर्जा और गरीबी दूर नहीं हो रही है तो ऐसे में गुड़ से हवन करें |
  • धूमावती जयंती के दिन विधवाओं को देवी स्वरुप मानके उनकी पूजा करनी चाहिए, इससे भाग्य चमक उठता है | Dhumavati Jayanti 2024
देखिये पंचांग देखिये पंचांग 

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल :

  • माँ धूमावती कौन हैं ?
  • Dhumavati Jayanti २०२४ में कब हैं ?
  • धूमावती की पूजा कैसे होती है ?
  • माँ धूमावती के जन्म की कथा क्या है ?
  • माँ धूमावती की पूजन का आसान तरीका क्या है ?
  • माँ धूमावती के मंत्र कौन से हैं ?
  • क्या सावधानियां रखनी चाहिए dhumawati ki saadhna ke samay?
  • jivan me se paresaniyo se chutkaare ke liye kuch कुछ टोटके |

Dhumavati Jayanti 2024, जानिए कौन है धूमावती माता, कैसे होती है इनकी पूजा, dhumawati mata ka mantra kaun sa hai, Dhumawati Jayanti Ke Upaay.

Comments

Popular posts from this blog

84 Mahadev Mandir Ke Naam In Ujjain In Hindi

उज्जैन मंदिरों का शहर है इसिलिये अध्यात्मिक और धार्मिक महत्त्व रखता है विश्व मे. इस महाकाल की नगरी मे ८४ महादेवो के मंदिर भी मौजूद है और विशेष समय जैसे पंचक्रोशी और श्रवण महीने मे भक्तगण इन मंदिरों मे पूजा अर्चना करते हैं अपनी मनोकामना को पूरा करने के लिए. इस लेख मे उज्जैन के ८४ महादेवो के मंदिरों की जानकारी दी जा रही है जो निश्चित ही भक्तो और जिज्ञासुओं के लिए महत्त्व रखती है.  84 Mahadev Mandir Ke Naam In Ujjain In Hindi आइये जानते हैं उज्जैन के ८४ महादेवो के मंदिरों के नाम हिंदी मे : श्री अगस्तेश्वर महादेव मंदिर - संतोषी माता मंदिर के प्रांगण मे. श्री गुहेश्वर महादेव मंदिर- राम घाट मे धर्मराज जी के मंदिर मे के पास. श्री ढून्देश्वर महादेव - राम घाट मे. श्री अनादी कल्पेश्वर महादेव- जूना महाकाल मंदिर के पास श्री दम्रुकेश्वर महादेव -राम सीढ़ियों के पास , रामघाट पे श्री स्वर्ण ज्वालेश्वर मंदिर -धुंधेश्वर महादेव के ऊपर, रामघाट पर. श्री त्रिविश्तेश्वर महादेव - महाकाल सभा मंडप के पास. श्री कपालेश्वर महादेव बड़े पुल के घाटी पर. श्री स्वर्न्द्वार्पलेश्वर मंदिर- गढ़ापुलिया

om kleem kaamdevay namah mantra ke fayde in hindi

कामदेव मंत्र ओम क्लीं कामदेवाय नमः के फायदे,  प्रेम और आकर्षण के लिए मंत्र, शक्तिशाली प्रेम मंत्र, प्रेम विवाह के लिए सबसे अच्छा मंत्र, सफल रोमांटिक जीवन के लिए मंत्र, lyrics of kamdev mantra। कामदेव प्रेम, स्नेह, मोहक शक्ति, आकर्षण शक्ति, रोमांस के देवता हैं। उसकी प्रेयसी रति है। उनके पास एक शक्तिशाली प्रेम अस्त्र है जिसे कामदेव अस्त्र के नाम से जाना जाता है जो फूल का तीर है। प्रेम के बिना जीवन बेकार है और इसलिए कामदेव सभी के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। उनका आशीर्वाद जीवन को प्यार और रोमांस से भरा बना देता है। om kleem kaamdevay namah mantra ke fayde in hindi कामदेव मंत्र का प्रयोग कौन कर सकता है ? अगर किसी को लगता है कि वह जीवन में प्रेम से वंचित है तो कामदेव का आह्वान करें। यदि कोई एक तरफा प्रेम से गुजर रहा है और दूसरे के हृदय में प्रेम की भावना उत्पन्न करना चाहता है तो इस शक्तिशाली कामदेव मंत्र से कामदेव का आह्वान करें। अगर शादी के कुछ सालों बाद पति-पत्नी के बीच प्यार और रोमांस कम हो रहा है तो इस प्रेम मंत्र का प्रयोग जीवन को फिर से गर्म करने के लिए करें। यदि शारीरिक कमजोरी

Mrityunjay Sanjeevani Mantra Ke Fayde

MRITYUNJAY SANJEEVANI MANTRA , मृत्युंजय संजीवनी मन्त्र, रोग, अकाल मृत्यु से रक्षा करने वाला मन्त्र |  किसी भी प्रकार के रोग और शोक से बचाता है ये शक्तिशाली मंत्र |  रोग, बुढ़ापा, शारीरिक कष्ट से कोई नहीं बचा है परन्तु जो महादेव के भक्त है और जिन्होंने उनके मृत्युंजय मंत्र को जागृत कर लिए है वे सहज में ही जरा, रोग, अकाल मृत्यु से बच जाते हैं |  आइये जानते हैं mrityunjaysanjeevani mantra : ऊं मृत्युंजय महादेव त्राहिमां शरणागतम जन्म मृत्यु जरा व्याधि पीड़ितं कर्म बंधनः।। Om mriyunjay mahadev trahimaam sharnagatam janm mrityu jara vyadhi peeditam karm bandanah || मृत्युंजय संजीवनी मंत्र का हिंदी अर्थ इस प्रकार है : है कि हे मृत्यु को जीतने वाले महादेव मैं आपकी शरण में आया हूं, मेरी रक्षा करें। मुझे मृत्यु, वृद्धावस्था, बीमारियों जैसे दुख देने वाले कर्मों के बंधन से मुक्त करें।  Mrityunjay Sanjeevani Mantra Ke Fayde आइये जानते हैं मृत्युंजय संजीवनी मंत्र के क्या क्या फायदे हैं : भोलेनाथ दयालु है कृपालु है, महाकाल है अर्थात काल को भी नियंत्रित करते हैं इसीलिए शिवजी के भक्तो के लिए कु