Skip to main content

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में,ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आपक…

Sansarik Pralobhano Ka Jaal

सांसारिक प्रलोभनों का जाल, कैसे मनुष्य नश्वर वस्तुओं का आनंद लेते हुए आखरी में पछताता है?, कैसे छला जाता है मनुष्य इस दुनिया में.
guru ki jarurat, sansar se kaise bache
sansarik jaal

||श्री गुरु देव शरणम् ||

संसार एक ऐसी मायावी दुनिया है जहाँ मनुष्य ने अपनी कल्पनाओं को साकार करते हुए अपने आपको उलझा रखा है और अपने आप से ही दूर हो गया है.
इंसान इस दुनिया में आता तो अकेला ही है और खाली हाथ भी, परन्तु इस दुनिया में प्रवेश करते ही वो ना-ना प्रकार के प्रलोभनों में फंसता चला जाता है. बचपन में खिलौने और पढ़ाई, युवा अवस्था में ताकत हासिल करना, विवाह करना, काम क्रीड़ा का आनंद लेना, बच्चे पैदा करना, नौकरी करना, अपने स्टेटस को बढ़ाना, ऐशो आराम की चीजो को बढ़ाते  रहना आदि और इस प्रकार पूरा जीवन कब निकल जाता है पता ही नहीं चलता है. बुढ़ापे में या तो बिस्तर पकड़ के अपनी आखरी सांस की प्रतीक्षा करता है या फिर अपने बच्चो की सेवा चाकरी में लगा रहता है.

समय निकलने के बाद पता चलता है की “माया मिली ना राम”

भगवान् की सारी रचनाओं में से सिर्फ इंसान ही ऐसी रचना है जिसके पास अथाह शक्ति है, विवेक है. इंसान ने अपनी साधना, तपस्याओ द्वारा असंभव को भी संभव किया है परन्तु इन सब उदाहरणों को एक तरफ रखते हुए आज का मनुष्य सिर्फ नश्वर को प्राप्त करने और उसे भोगने को ही अपना उद्देश्य समझने लगा है.

जहाँ तक ईश्वर आराधना की बात आती है तो वो तभी करता है जब कोई कष्ट आता है या फिर प्राप्त से ज्यादा प्राप्त करने में मनुष्य नाकाम होने लगता है.

सांसारिक सुखो को भोगने की ईच्छा के बढ़ने से दूसरी तरफ अध्यात्मिक मार्ग को दिखाने वाले संस्थाओं का भी चलन बढ़ चला है परन्तु दुःख की बात ये है की बिना प्राप्ति के ये राह दिखाने चल पड़े हैं, अधिकतर संचालको को तो अध्यात्म की रूप-रेखा ही नहीं पता होती है, बिना मंजिल पे पंहुचे लोग दुसरो को मार्ग दिखाने में लगे हुए हैं. 
जो अध्यात्म के चरम पे हैं वो अपने ही आनंद मे मग्न है, उन तक पंहुचना साधारण व्यक्ति के बस से बाहर है, आज तो जो हमे थोडा सा प्रलोभन देदे, हम उसकी तरफ चल पड़ते हैं. 
जहाँ बात कठिन साधनाओ की होती है वहां से व्यक्ति अपने आपको दूर करने में लग जाता है. 

मंत्र-तंत्र-योग आदि प्रलोभनों का जाल :

आज दुकानों में और गूगल में भी देखा जाए तो लोग सबसे ज्यादा उन चीजो को ढूँढने मे लगे हैं जो की सुलभता से प्राप्त नहीं हो सकती है. आधे अधूरे ज्ञान को इन्टरनेट में डालके लोग सिर्फ धन को आकर्षित कर रहे हैं और लालच में आके दुसरे उनका प्रयोग करने से भी नहीं हिचकते हैं. 
जल्दी से जल्दी सफलता पाने की होड़, जल्दी से जल्दी सभी सुखो को भोगने की होड़ ने समाज में एक अजीबोगरीब नजारा पैदा कर दिया है. 
यू ट्यूब में देखे तो कोई यक्षिणी सिद्ध करने की विधि बता रहा है, कोई कुंडलिनी जागरण करवा रहा है, कोई बैताल सिद्धि करवा रहा है, कोई त्रिकाल सिद्धि करने की विधि बता रहा है, और सबसे दुःख की बात ये है की लोग बिना सोचे समझे इन्हें देख भी रहे हैं, सुन भी रहे हैं और प्रयोग भी कर रहे हैं. कई लोग घोर नुक्सान कर बैठते हैं, कई मानसिक विकार से पीड़ित हो रहे हैं और भी बहुत कुछ हो रहा है जिसके बारे में तो नेट में आता ही नहीं है. 

क्यों धोखा खा रहा हैं इंसान आज ?

आज अगर कोई धोखा खा रहा है तो उसका कारण है लालच, जल्द से जल्द सफलता पाने का लालच, दुसरो को हारने की भावना.  हम ये भूल जाते हैं की साधना कोई मजाक नहीं और किसी भी प्रकार की साधना में सफलता के लिए गुरु के मार्गदर्शन में साधना होना चाहिए. हम जितने में सफल सिद्धो की जीवनी पढ़ ले, सभी में हमे उनके कठिन साधना के विषय में पढ़ने को अवश्य मिलता है. जबकि इस कलयुग में हम सिर्फ १०८ बार मन्त्र जपके सिद्धि प्रपात करने में लगे रहते हैं और जब कुछ होता नहीं है तो लग जाते हैं भगवान् को कोसने, भाग्य को कोसने.

भटकाव का असली कारण:

आज सभी भटक रहे हैं और जब पूछा जाता है की क्यों भटक रहे हो, क्यों परेशान हो तो जवाब मिलता है, नौकरी में तरक्की नहीं, घर में शांति नहीं, मन विचलित है, बिमारी जाती नहीं आदि.
देखा जाए तो परेशानी अमीर को भी है और गरीब को भी और सत्य ये भी है की भारत के कुछ लोग जो योग साधना में सफलता पूर्वक आगे बढ़ रहे हैं वे सही मायने में सुखी है और प्रसन्न होके जीवन को जी रहे हैं.
जब हम सिद्धो की जीवनी पढ़ते हैं तो उसमे हमे एक सन्देश मिलता है की “नश्वर चीजो के पीछे भागोगे तो हाथ कुछ भी नहीं लगेगा ” अतः मनुष्य को ईश्वर प्राप्ति की और ध्यान लगाना चाहिए.
काम, क्रोध, लालच, घृणा को त्याग के हमे योग का अभ्यास करना चाहिए, तभी असल शान्ति की प्राप्ति हो सकती है. 

सांसार बन्धनों से बचने के लिए सही गुरु की शरण:

सत्य तो यही है की “गुरु कृपा ही केवलम”अर्थात गुरु कृपा प्राप्त होने पर ही सही मायने में कल्याण संभव है. अब यहाँ सवाल ये उठता है की गुरु किसको बनाएं क्यूंकि सही गुरु की पहचान नहीं है. तो इसके लिए सिद्धो ने कहा है की आप सबसे पहले अपने विवेक का स्तेमाल करके इस संसार को थोडा समझने का प्रयास करे फिर जब आपको इसकी नश्वरता का भरोसा हो जाए तो आप फिर शाश्त्रो में दिए निर्देश के हिसाब से ध्यान और भजन में मन को लगाए, इससे आपकी बुद्धि और मन निर्मल होती चली जायेगी और समय आने पर आपको सही गुरु की प्राप्ति हो जायेगी.
मनुष्य को सबसे पहले पुरुषार्थ करते हुए सही मार्ग में आगे बढ़ना होगा, अपने कर्मो को करते हुए ईश्वर को हमेशा याद करते रहना और प्रार्थना भी करते रहना ही सबसे श्रेष्ठ मार्ग है जब तक की गुरु की प्राप्ति ना हो जाए.

सद्गुरु प्राप्ति की महानता :

कबीर दास जी ने तो स्पष्ट कहा है की :
चलती चक्की देखके दिया कबीरा रोय,
दो पाटन के बीच में साबत बचा ना कोई||


अर्थात सुख और दुःख के चक्रव्यूह के बीच में फंस के कोई बच नहीं पाया है. अतः गुरु रूपी डंडे का सहारा जरुरी है. 
जब सच्चे गुरु की प्राप्ति होती है तो फिर साधना करने से व्यक्ति को अंतर्दृष्टि की प्राप्ति होती है और व्यक्ति आत्मज्ञान के मार्ग पर निडर होक चल पड़ता  है. शिष्य को सबकुछ सुलभ होने लगता है. ज्ञान के प्रकाश से उसका जीवन जगमगा उठता है और फिर सारे दुखो का अंत हो जाता है.

प्रेम, भक्ति, आनंद से उन्मुक्त होके साधक जीवन जीने लगता है.
अतः मनुष्य को चाहिए की सांसारिक प्रलोभनों को समझ के, इनकी नश्वरता को जानके कुछ ऐसा प्राप्त करने के लिए प्रयत्न करे जिसे कोई चुरा नहीं सकता, जिसे कोई छीन नहीं सकता.
जिस पर गुरु कृपा हुई उसके पास सारे सुख, वैभव अनायास ही आ जाते हैं परन्तु जो सिर्फ माया के पीछे भागता है उसे ना माया मिलती है और ना ही राम.

जीवन आपका, यात्रा आपकी प्राप्ति आपकी
सही सोचिये और सही निर्णय लीजिये

||श्री गुरु देव शरणम् ||

Comments

Popular posts from this blog

Kala Jadu Kaise Khatm Kare

काला जादू क्या है , कैसे पता करे काला जादू के असर को, कैसे ख़त्म करे कला जादू के असर को, hindi में जाने काले जादू के बारे में. काला जादू अपने आप में एक खतरनाक विद्या है जो की करने वाले, करवाने वाले और जिस पर किया जा रहा है उन सब का नुक्सान करता है. यही कारण है की इस नाम से भी भय लगता है. अतः ये जरुरी है की इससे जितना हो सके बचा जाए और जितना हो सके उतने सुरक्षा के उपाय किया जाए.
ज्योतिष संसार के इस लेख में आपको हम उसी विषय में अधिक जानकारी देंगे की कैसे हम काले जादू का पता कर सकते हैं और किस प्रकार इससे बचा जा सकता है. प्रतियोगिता अच्छी होती है परन्तु जब ये जूनून बन जाती है तब व्यक्ति गलत ढंग से जीतने के उपाय करने से भी नहीं चुकता है. आज के इस प्रतियोगिता के युग में लोग बस जीतना चाहते हैं और इसके लिए किसी भी हद तक जाने से नहीं चुकते हैं और यही पर काला जादू का प्रयोग करने की कोशिश करते है. आखिर में क्या है काला जादू? हर चीज के दो पहलु होते हैं एक अच्छा और एक बुरा. काला जादू तंत्र, मंत्र यन्त्र का गलत प्रयोग है जिसके अंतर्गत कुछ शक्तियों को पूज के अपना गलत स्वार्थ सिद्ध किया जाता है. करने …

Suar Ke Daant Ke Totke

Jyotish Me Suar Ke Daant Ka Prayog, pig teeth locket benefits, Kaise banate hai suar ke daant ka tabij, क्या सूअर के दांत का प्रयोग अंधविश्वास है. 

सूअर को साधारणतः हीन दृष्टि से देखा जाता है परन्तु यही सूअर पूजनीय भी है क्यूंकि भगवान् विष्णु ने वराह रूप में सूअर के रूप में अवतार लिया था और धरती को पाताल लोक से निकाला था. और वैसे भी किसी जीव से घृणा करना इश्वर का अपमान है , हर कृति इस विश्व में भगवान् की रचना है. सूअर दांत के प्रयोग के बारे में आगे बताने से पहले कुछ महत्त्वपूर्ण बाते जानना चाहिए :इस प्रयोग में सिर्फ जंगली सूअर के दांत का प्रयोग होता है. किसी सूअर को जबरदस्त मार के प्रयोग में लाया गया दांत काम नहीं आता है अतः किसी भी प्रकार के हिंसा से बचे और दुसरो को भी सचेत करे. वैदिक ज्योतिष में सूअर के दांत के प्रयोग के बारे में उल्लेख नहीं मिलता है. इसका सूअर के दांत के प्रयोग को महुरत देख के ही करना चाहिए. कई लोगो का मनना है की सुकर दन्त का प्रयोग अंधविश्वास है परन्तु प्रयोग करके इसे जांचा जा सकता है , ऐसे अनेको लोग है जो अपने बच्चो को इसका ताबीज पहनाते हैं और कुछ लोग खुद भी पहनत…

Santan Prapti Yoga Kundli Mai In Hindi

कुंडली में संतान प्राप्ति योग, कुंडली में कैसे जाने संतान सुख के बारे में, क्या करे स्वस्थ संतान प्राप्ति के लिए ज्योतिष के अनुसार, संतान प्राप्ति में बाधा और समाधान ज्योतिष द्वारा. Santan yoga in kundli, hindi jyotish to know about santan problems remedies. जीवन में विवाह उपरान्त संतान का होना एक महात्वपूर्ण घटना होती है, ये पति और पत्नी को एक नई दृष्टि प्रदान करती है और जीवन में महत्वपूर्ण बदलाव लाती है. ऐसे बहुत से लोग है जो संतान सुख से वंचित है और संतान प्राप्ति के लिए खूब जातन करते हैं परन्तु सफल नहीं हो पा रहे हैं.

इसका कारण ज्योतिष द्वारा पता लगाया जा सकता है. कुंडली हमारे जीवन का आइना है अतः इसके द्वारा हम बहुत कुछ जान सकते हैं. कुंडली में 12 भाव होते हैं और सभी अलग अलग विषय से जुड़े है जिनका अध्यन कई रहस्यों से पर्दा उठा देता है जो की उन्सुल्झे है. संतान नहीं होने के कारण भी ज्योतिष द्वारा जाना जा सकता है.  इस लेख में संतान समस्या के कारण और समाधान पर प्रकाश डाला जा रहा है. क्यों आती है है समस्याए संतान प्राप्ति में, क्यों होता है गर्भपात , कैसे प्राप्त करे स्वस्थ संतान.

जीवन…