Skip to main content

Posts

Showing posts from October, 2017

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में, ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे  समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आ…

Tulsi Pooja Ka Mahattw

तुलसी पूजा का महत्त्व, कैसे प्राप्त करे सफलता तुलसी पूजा से, Dev uthni gyaras ko tulsi viavah ka maahttw, jyotishiy salaah. तुलसी विवाह भारत में बहुत ही उत्साह से किया जाता है और ये पूजा देव उठनी एकादशी को किया जाता है कार्तिक महीने में. देव उठनी एकादशी के बाद शुभ कार्यो जैसे विवाह आदि की शुरुआत हो जाती है. ऐसी मान्यता है की देव उठनी एकादशी को भगवान् अपनी योग निद्रा से जागते ४ महीने बाद.  ये दिन दिवाली जैसे ही मनाई जाती है. अगर कोई दिवाली पर पूजा नहीं कर पाया है तो वो देवउठनी एकादशी को भी पूजा करके सम्पन्नता को आकर्षित कर सकते हैं.  भगवान् विष्णु और तुलसी जी का सम्बन्ध दिव्य है और विचित्र भी. तुलसी का पूजन भारत में हर जगह किया जाता है. तुलसी का एक नाम “वृंदा” भी है. आइये जानते हैं तुलसी और शालिग्राम के पीछे की कहानी : ऐसा कहा जाता है की तुलसी का विवाह एक जालंधर नाम के राक्षस से हुआ था और तुलसी के तप के प्रभाव से कोई भी जालंधर को हरा नहीं पा रहा था. इसी के समाधान के लिए देवतागण भगवान् विष्णु के पास गए और प्रार्थना की. तब भगवान् विष्णु ने तुलसी के पति का रूप धरा और तुलसी के पास गए जिससे…

Dev Uthni Gyaras Ka Mahattw || देव उठनी एकादशी महत्तव

Dev Uthni Gyaras Ka Mahattw, देव उठनी एकादशी महत्तव,  क्या करे प्रबोधिनी एकादशी को सफलता के लिए.
एक ऐसा दिन जिसका हिन्दुओ के लिए बहुत अधिक महत्तव है और वो दिन हैं कार्तिक शुक्ल पक्ष की ग्यारस. इस दिन को प्रबोधिनी एकादशी या फिर देव उठनी ग्यारस भी कहा जाता है. भारत में इस दिन को बहुत ही हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है.
ऐसा माना जाता है की भगवान् विष्णु आशाद शुक्ल पक्ष की ग्यारस को क्षीर सागर में विश्राम करने चले जाते हैं और 4 महीने बाद कार्तिक शुक्ल पक्ष की ग्यारस को उठते हैं इसी लिए इस दिन को देव उतनी ग्यारस कहा जाता है. जब विष्णुजी सोते है तो उस समय विवाह आदि शुभ कार्य वर्जित हो जाते हैं और देव उठनी ग्यारस से विवाह आदि के महूरत फिर से शुरू हो जाते हैं.
प्रबोधिनी एकादशी को तुलसी विवाह का भी प्रचलन है जो की विवाह के शुरू होने के संकेत है. अलग अलग प्रान्त में अलग अलग तरीके के रीती रिवाज देखने को मिलते हैं.  आइये जानते है किस प्रकार आसानी से देव उठनी ग्यारस को पूजन कर सकते हैं :इस दिन जल्दी उठके दैनिक कार्यो से मुक्त हो जाना चाहिए.अगर कोई पवित्र नदी के आस पास रहते हैं तो उन्हें पवित्र…

Talaak Samasya Ka Jyotish Samadhan

तलाक समस्या का ज्योतिष समाधान, कैसे दूर करे तलाक की समस्या को, वैवाहिक जीवन समस्या समाधान. तलाक वैवाहिक जीवन के समस्याओं का आखरी समाधान है. ये शादी के बाद समस्याओं के चरम स्थिति का परिणाम होता है. इन दिनों तलाक की समस्याएं बढती जा रही है और इसके अनेको कारण है. परन्तु सही बात ये है की तलाक किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता है. तलाक लेने से पहले कुछ प्रश्नों के उत्तर को जान लेने चाहिए खुद से जैसे की – क्या सिर्फ अपने अहंकार को संतुष्ट करने के लिए तलाक लेना ठीक है?अगर हम अपने साथी के साथ निभा नहीं पा रहे है तो क्या सिर्फ तलाक ही समाधान है?क्या तलाक रूपी महत्त्वपूर्ण फैसले को जल्द बाजी में लेना सही है?क्या आप इतने कमजोर है की अपने साथी के विचारों को बदल नहीं पा रहे हैं सफल जीवन जीने के लिए ?क्या आपकी समस्या वाकई में बहुत बड़ी है या आपने इसे बना रखा है.क्या आपको लगता है की आप अपने साथी के बिना पूरा जीवन सुख पूर्वक निकाल पायेंगे.क्या आप सोचते हैं की तलाक एक आखरी रास्ता बचा है?कहीं कोई नकारात्मक उर्जा या नकारात्मक विचार तो आपको तलाक लेने को मजबूर नहीं कर रहा है? तलाक सही मायने में कोई समाध…

Neelam Ratna Rahasya In Hindi

Neelam Ratna Rahasya In Hindi, नीलम रत्न के फायदे, कैसे प्रयोग करे नीलम का सफलता के लिए, कैसे धारण करे नीलम.
एक कठोर परन्तु सात्विक ग्रह है शनि ज्योतिष के हिसाब से और रत्न जो इसका प्रतिनिधित्व करता है वो है “नीलम”, अंग्रेजी में इसे BLUE SAPPHIRE कहते हैं. एक बहुत ही शक्तिशाली रत्न जो जीवन को बदल के रख देता है अगर कुंडली में शनि शुभ हो. धन , वैभव, सम्पन्नता, भूमि लाभ, स्वास्थ्य सभी कुछ संभव है नीलम रत्न के द्वारा. परन्तु इसे धारण करने में सावधानी रखना होता है अन्यथा नुकसान हो सकता है. 
नीलम नौकरी पेशा लोगो को स्थाईत्व दे सकता है, एक अच्छा दिमाग दे सकता है, शारीरिक शक्ति दे सकता है, भूमि लाभ दे सकता है, साधना को आगे बढ़ाने में मदद कर सकता है. 
शारीर के आंतरिक रोगों से छुटकारा के लिए ये शक्ति दे सकता है, आय के स्त्रोत खोल सकता है और सुखी जीवन दे सकता है. 
किनके लिए नीलम शुभ हो सकता है? शनि से सम्बन्ध होने से ये रत्न मकर और कुम्भ राशी वालो के लिए लाभदायक है, ये इनका राशि रत्न है. जिनका शनि कमजोर है कुंडली में उनके लिए भी ये लाभ दायक है. इसको धारण करके जातक शनि की कृपा प्राप्त कर सकता है.  न…

Gomed Ratna Rahasya In Hindi

Gomed Gem Stone Secrets in hindi, गोमेद की शक्ति, कैसे ख़रीदे गोमेद, कैसे धारण करे गोमेद, सफलता के लिए गोमेद का प्रयोग.

क्या आप जानना चाहते हैं राहू के रत्न के बारे में, क्या आप एक ऐसे रत्न के बारे में जानना चाहते हैं जो की जीवन में जादुई बदलाव ला सकता है तो पढ़े इस लेख को.
गोमेद, जी हाँ एक ऐसा शक्तिशाली रत्न है जिसे अंग्रेजी में HESSONITE भी कहते हैं. ये रत्न राहू की शक्ति को जीवन में बढ़ा सकता है. इसका रंग लालिमा लिए होता है जिसमे थोडा पिला जैसा भी दीखता है, इसके रंग को गौमूत्र जैसा भी जान सकते हैं. 
कौन धारण कर सकते हैं गोमेद रत्न? मेरे अनुभव के हिसाब से उन लोगों के लिए गोमेद शुभ होता है जिनके कुंडली में राहू अच्छा है पर कमजोर है , गोमेद धारण करने से राहू का बल बढ़ने लगता है जिससे सफलता के रास्ते खुलते हैं.  अगर कमजोर राहू के कारण जीवन में, नाम, पैसा, सम्पन्नता आदि नहीं आ पा रही है तो गोमेद रत्न लाभदायक सिद्द हो सकता है. राजनीतज्ञों के लिए भी ये एक शुभ रत्न साबित हो सकता है. 
आइये जानते हैं गोमेद के लाभ :

What is Vashikaran ? | Vashikaran Kya hai?

वशीकरण क्या है, जानिए प्रकार और फायदें, वशीकरण साधना में किन चीजों की जरुरत होती है?

ये एक एक ख़ास प्रकार की विद्या है जिसके अंतर्गत मन्त्र शक्ति, ध्यान शक्ति, तंत्र शक्ति द्वारा किसी विशेष नारी या पुरुष के अन्दर अपने प्रति अच्छी भावनाए पैदा करने के लिए प्रयोग किया जाता है.
वशीकरण के प्रकार: यहाँ में अलग अलग मंत्रो से जोड़कर वशीकरण के प्रकार बता रहा हूँ: इसका स्तेमाल प्रेम संबंधों को फिर से सुधारने के लिए भी किया जाता है.इस साधना के द्वारा अपने पसंद के व्यक्ति से विवाह किया जाता है.वशीकरण साधना के द्वारा व्यापार को बढ़ाया जा सकता है.वशीकरण के द्वारा समाज में एक अलग जगह बनाई जा सकती है.इस विद्या के द्वारा शत्रु को मित्र बनाया जा सकता है.वशीकरण के द्वारा मनचाही सफलता प्राप्त की जा सकती है. वशीकरण को सम्मोहन के नाम से भी जाना जाता है जिसका आसान मतलब होता है किसी को अपने कंट्रोल में करना अर्थात किसी के दिमाग पे अधिकार करना.  वशीकरण साधना में सावधानियां: इस साधना में अक्सर लोग काले जादू का स्तेमाल करते हैं जो की जीवन के लिए घातक सिद्ध होता है अतः ये निवेदन है की बुरी शक्तियों से आप अच्छाई की उ…

Durbhagya Ko Kaise Dur Kare Jyotish Dwara

दुर्भाग्य को कैसे दूर करे ज्योतिष द्वारा, जानिए कुछ टोटके जिससे दुर्भाग्य को दूर किया जा सकता है, जानिए कुछ ज्योतिषीय कारण बदकिस्मती के लिए जिम्मेदार.

भाग्य का जीवन में बहुत महत्त्व है, भाग्यशाली व्यक्ति को जीवन में सबकुछ आसानी से मिल जाता है, भाग्य अगर अच्छा हो तो जीवन निष्कंटक हो जाता है, जीवन सरल हो जाता है और सुख के साधन भी सुलभ हो जाते हैं. दूसरी तरफ अगर देखे तो दुर्भाग्य जीवन को संकटों से भर देता है, संघर्ष पैदा हो जाता है, जीवन नरक के सामान महसूस होने लगता है. इसी कारण हर व्यक्ति दुर्भाग्य से डरता है और इससे पार पाने की हर संभव कोशिश करता रहता है. ज्योतिष के हिसाब से भाग्य हमारे खुद के कर्मो से भी बनता है, हमारे पहले के कर्मो का फल ही हमारा आज है. दुर्भाग्य या बदकिस्मती इतनी खतरनाक होती है की इसके कारण व्यक्ति सफलता पाने में असमर्थ हो जाता है. साड़ी मेहनत भी कोई फल नहीं दे पाती है. ज्योतिष और दुर्भाग्य: ज्योतिष में कुंडली के अध्ययन से भी दुर्भाग्य को जाना जा सकता है. ऐसे बहुत से योग है जिनको देखके ये जाना जा सकता है की जातक को जीवन में दुर्भाग्य ने घेर रखा है. पढ़िए दुर्भाग्य को …

Kamjor Chandrama Ka Jivan Par Prabhav Aur Upaay Jyotish Me

कमजोर चन्द्रमा का प्रभाव जीवन में, कैसे बढ़ाए चन्द्रमा की शक्ति को , क्या नुक्सान होता है चन्द्रमा कमजोर होने से ज्योतिष के हिसाब से, जानिए कुछ ख़ास उपाय अच्छे जीवन के लिए. अगर सूर्य दहकता हुआ गेंद दीखता है तो वहीँ चन्द्रमा शीतलता लिए हुए दीखता है. सूर्य दिन का राजा है और चन्द्रमा रात्री को सभी को राह दिखाता है. लोग पूर्णिमा के दिन काफी उर्जा से युक्त महसूस करते हैं. चन्द्रमा की शक्ति भी जीवन में बहुत महत्त्वपूर्ण है. चन्द्रमा का सम्बन्ध जीवन के बहुत ही महत्त्वपूर्ण विषयो से रहता है :चन्द्रमा हमारे सोचने को प्रभावित करता है. चन्द्र अगर राहू के साथ युति कर जाए कुंडली में तो जीवन को बहुत ज्यादा प्रभावित करता है, साथ ही अगर ये वृश्चिक राशि में हो तो भी बहुत नुक्सान करता है. चंद्रमा माता के साथ संबंधो को भी प्रभावित करता है. जन्म के समय ये हमारे राशि का निर्धारण भी करता है. भावनात्मक विचारो को भी चन्द्रमा प्रभावित करता है.कर्क राशि पर चन्द्रमा का प्रभाव रहता है.चन्द्रम हमारे सोच, अंतः प्रज्ञा, रचनात्मकता, कल्पना शक्ति और इन्द्रियों को बहुत ज्यादा प्रभावित करता है. चन्द्रमा का सम्बन्ध हमारे …

Mahakali Kawach Suraksha Ke Liye

महाकाली कवच क्या है, क्या फायदे है महाकाली कवच के, कैसे बचाए अपने आपको बुरी शक्तियों और काले जादू से.
महाकाली महाशक्ति का ही एक रूप है जो की अपने भक्तो की रक्षा करती है. इनकी कृपा से भक्त बुरी शक्तियों से बचा रहता है, बुरी नजर से बचा रहता है, काले जादू से भी बचने के लिए माता की कृपा बहुत जरुरी है.
सिद्ध महाकाली कवच कोई साधारण कवच नहीं होता है, दशको से लोग इस कवच के चमत्कारी प्रभाव का अनुभव कर रहे है और अपने आपको और अपने परिवार को बुरी शक्तियों से बचाए हुए है. ये कवच धारण करने वाले को बुरी शक्तयो से बचाता है, भूत प्रेत के बाधा से बचाता है, नजर दोष से बचाता है आदि. और यही नहीं अगर कोई ग्रहों की मार का सामना कर रहा है और कोई रास्ता नहीं दिख रहा है तो भी ये कवच बहुत लाभ दायक होता है. ये कवच ग्रहों दोषों से भी रक्षा करता है. अतः हम कह सकते हैं की जीवन को सफल बनाने में महाकाली कवच बहुत सहायक होता है.
सिद्ध महाकाली कवच से हमे रोज मर्रा के कार्य को अच्छी तरह से करने के लिए ऊर्जा भी मिलती है. माता की कृपा से भक्त सांसारिक सुख को भी भोग सकता है.
“या देवी सर्व भूतेशु शक्तिरूपेण संस्थिता ,
नमस्तस…

Shani Prakop Se Bachne Ke Totkay

शनि प्रकोप से बचने के टोटके, shani sade sati se bachne ke upaay, शनि ग्रह दोष निवारक टोटके, ज्योतिष समाधान.
शनि ग्रह सभी ग्रहों में सबसे ज्यादा क्रूर माने जाते हैं परन्तु सही बात ये है की सूर्य पुत्र शनि देव न्याय से सम्बन्ध रखते हैं, पाप और पुण्य का फल देना उनके ही हाथो में है, इसी कारण लोगो को उनसे भय लगता है.  जब शनि साड़े साती किसी की जीवन में आती है तो जातक को विभिन्न प्रकार के बड़े बदलाव नजर आते हैं जो की अच्छे भी होते हैं और बुरे भी. परन्तु लोगो को ग़लतफ़हमी है की शनि सिर्फ पीड़ा ही देते हैं अतः इस सोच को बदलना जरुरी है.  आइये जानते हैं की जब शनि पीड़ा देते हैं तो क्या-क्या हो सकता है?शनि के बुरे प्रभाव से शारीरिक पीड़ा बढ़ सकती है.ख़राब शनि के प्रभाव से लम्बे समय तक रोग रह सकता है.प्रेम संबंधो में समस्या उत्पन्न हो सकती है.रंजिशे बढ़ सकती है दोस्तों, रिश्तेदारों से.जातक को अपमान और उपेक्षा का सामना करना पड़ सकता है.जातक को कानूनी अड़चनो का सामना करना पड़ सकता है.बार बार असफलता जीवन में आती है.धन हानि का सिलसिला शुरू हो जाता है. आइये अब जानते हैं की जब शनि देव सकारात्मक प्रभाव उत्पन्न करते …

2018 Rashifal In Hindi

2018 Rashifal in hindi , Kya Kahte Hai Nay Saal Ke Sitare, पढ़िए २०१८ राशिफल, जानिए भविष्य फल, ग्रहों और नक्षत्रो का प्रभाव कैसे रहेगा २०१८ में.

नया साल जब भी आता है तो लोगो में नई उमंग, नया उत्साह, आ जाता है. लोग नए संकल्प लेने लगते हैं, नए सपने देखने लगते हैं और उन्हें पूरा करने के लिए नए उत्साह के साथ कार्य करने की तैयारी करते हैं. ज्योतिष प्रेमी लोग नए साल के राशिफल को जानने की इच्छा रखते हैं. अब समय आ गया है की हम जाने की नए साल २०१८ क्या ला रहा है, १२ राशियों पर ग्रहों के चाल का क्या असर होगा, क्या करे जीवन को सफल बनाने के लिए ज्योतिष के हिसाब से. जानिए शनि देव क्या असर डालने वाले है नए साल में राशियों पर. ये राशिफल आपको जीवन में महत्त्वपूर्ण फैसलो को लेने में मदद करेगा.
स्वागत है आप सभी का संवत 2074- 2075 मे: इस नए संवत्सर के राजा है सूर्य देव जिनका सम्बन्ध नाम, यश, ख्याति, उन्नति आदि से है और मंत्री है शनिदेव जिनका सम्बन्ध न्याय, निर्णय, कठोर परिश्रम, खेती आदि से है. अपनी राशि को चुनिए और जानिए ज्योतिष से २०१८ क्या ला रहा है आपके लिए.

आपकी राशि चुनिए मेष राशि वृषभ राशि�…