Putrada Ekadashi Vrat Ka Jyotish Mahattw

Putrada Ekadashi Vrat Ka Jyotish Mahattw, क्या करे पुत्रदा एकादशी को संतान सुख के लिए.

जो एकादशी श्रावण महीने के शुक्ल पक्ष को आती है उसे भारत में पवित्र एकादशी या फिर पुत्रदा एकादशी के रूप में भी मनाया जाता है. ये पवित्र दिन भगवान् विष्णु को समर्पित है. इस दिन पति और पत्नी दोनों ही व्रत रखते हैं जिससे की स्वस्थ पुत्र की प्राप्ति हो. ये व्रत वैष्णव सम्प्रदाय में बहुत माना जाता है.
santan prapti ka kaun sa vrat hota hai, kis puja se santan prapti hoti hai
Putrada Ekadashi Vrat Ka Jyotish Mahattw

आइये जानते हैं की श्रावण पवित्रा एकादशी का महत्त्व:

हिन्दुओं की मान्यता है की श्राद्ध कर्म सिर्फ पुत्र द्वारा ही किया जाता है और ऐसी भी मान्यता है की बुढापे में पुत्र की अपने माता पिता की देखभाल करता है. हालांकि आज के समय में ऐसा कुछ दीखता नहीं है. आज लोग बीटा और बेटी के प्रति सामान भाव रखने लगे है. आज लड़कियां लडको से अच्छा अपनी जिम्मेदारियों को निभा रही है.

पवित्र एकादशी या फिर पुत्रदा एकादशी उन लोगो के लिए बहुत महत्त्व रखता है जो लोग सिर्फ पुत्र की कामना रखते हैं. अगर कोई दंपत्ति इस दिन उपवास रखता है और पूजा करता है तो भगवान् विष्णु की कृपा से उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है.

जानिए कुछ ख़ास बाते पुत्रदा या पवित्र एकादशी की पूजा के लिए:

  1. ये उपवास पति और पत्नी दोनों को रखना होता है.
  2. इस उपवास को करने के लिए पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करे.
  3. पुरे दिन और रात्री को कुछ न खाएं.
  4. भगवान् विष्णु की पूजा, अराधना में लगे रहे.
  5. विष्णु जी की पंचोपचार पूजा करे.
  6. पूरा समय मन्त्र जप, भजन, होम करने में लगाएं.
  7. भगवान् से पुत्र रत्न के लिए प्रार्थना करे.
  8. विष्णु सहस्त्र नाम का जप भी बहुत लाभ देगा.
और सम्बंधित लेख पढ़े :
देव उठनी एकादशी का महत्त्व
Devshayani ekadashi importance in English
मोक्षदा एकादशी का महत्त्व हिंदी ज्योतिष में पढ़िए
देव उठनी ग्यारस का महत्त्वा क्या है?
योगिनी एकादशी कब आती है और इसमें क्या करते हैं सफल जीवन के लिए?
मोहिनी ग्यारस क्यों ख़ास है ?
षट्तिला एकादशी का महत्त्व ज्योतिष में
देव शयनी एकादशी की महिमा के बारे में जानिए ज्योतिष में
Putrada ekadashi astrology significance

Putrada Ekadashi Vrat Ka Jyotish Mahattw, क्या करे पुत्रदा एकादशी को संतान सुख के लिए.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें