Skip to main content

Vedic Jyotish Me 9 Grah

वैदिक ज्योतिष में ९ ग्रह, ग्रहों का सम्बन्ध जानिए ज्योतिष के हिसाब से.

ज्योतिष में 9 ग्रह हैं और वे सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु हैं। हमारा जीवन इन 9 ग्रहों के प्रभावों का परिणाम है। हमारी कुंडली में ये ग्रह अलग-अलग घरों में बैठते हैं और जीवन में प्रभाव दिखाते हैं। ज्योतिषी कुंडली पढ़कर हमारे जीवन में ग्रहों के प्रभाव को खोजने में सक्षम हैं।

अब इस पाठ में हम उन विषयों के बारे में जानने जा रहे हैं जो अलग-अलग 9 ग्रहों से संबंधित हैं यानी कुंडली में ग्रहों की स्थिति और शक्ति को देखकर हम किन विषयों पर विचार कर सकते हैं।

यह पाठ आपको ग्रहों की शक्ति को समझने और भविष्यवाणियों में मदद करेगा। प्रत्येक ज्योतिषी कुंडली पढ़कर भविष्यवाणियां करते हुए विषयों को ध्यान में रखते है।
बाद में हम "12 घरों के कारक ग्रहों" के बारे में भी जानेंगे |

janiye 9 graho se kaun si jankari milti hai kundli mai
Vedic Jyotish Me 9 Grah

इस ज्योतिषीय लेख में हम इन ९ ग्रहों के बारे में जानेंगे. हम ये भी जानेंगे की ये ग्रह जीवन के कौन से विषयो से जुड़े हैं.

आइये जानते हैं ज्योतिष में ९ ग्रहों के बारे में:



  1. सूर्य ग्रह और ज्योतिष :सूर्य का सम्बन्ध आत्मा से है, शक्ति से है, नाम, यश से है, ये अग्नि से भी सम्बन्ध रखता है, धैर्य, सम्बन्ध, उच्च अधिकारी वर्ग, गुस्सा, बुढ़ापा, पिता, ज्ञान, पवित्रता, गंजापन, आँखों, पहाड़ी इलाके, ताम्बा, सोना, यात्रा आदि से भी सम्बन्ध रखता है. अतः इन सब विषयो को जानना हो तो कुंडली में सूर्य की स्थिति, शक्ति, दृष्टि आदि को देखा जाता है.
  2. चन्द्र ग्रह और ज्योतिष :चन्द्रमा का सम्बन्ध भोजन, चांदी, शंख, जल, कपडे, घी, तेल, नींद, बुधीमत्ता, कफ, मानसिक स्थिति, पाप और पुण्य, आत्म शक्ति, अश्थिरता, महिला वर्ग, आदि से है. अतः इन सब विषयो की जानकारी लेने के लिए ज्योतिष में चन्द्र की स्थिति का अवलोकन किया जाता है.
  3. मंगल ग्रह और ज्योतिष :मंगल का सम्बन्ध है शक्ति से , गुस्से से, लड़ाई से, हथियार से, चोरी से, शत्रु से, लाल रंग से, ताम्बा, राजयोग से, मुर्खता से, धैर्य से, खून से, भाई से, कामुकता से, वाहन से आदि. अतः इन विषयो से सम्बंधित जानकारी के लिए कुंडली में मंगल की स्थिति, शक्ति और दृष्टि का अध्यन किया जाता है. you tube में देखिये  
  4. बुध ग्रह और ज्योतिष:बुद्धिमत्ता, ज्ञान, घोड़ा, खजाना, गणित, बात करने के कला, लिकने की कला, कपडा, बंगला, कला का ज्ञान, ज्योतिष, तीर्थ यात्रा, भाषण देने की शक्ति, नाना, नपुंसकता, चिकित्सा, गला, बहन, तंत्र, मंत्र, आयुर्वेद आदि का सम्बन्ध बुध ग्रह से है. अतः इन सब विषयो की जानकारी के लिए कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति, शक्ति और दृष्टि का अध्यन किया जाता है.
  5. गुरु ग्रह और ज्योतिष :गुरु ग्रह का सम्बन्ध ज्ञान से है, अच्छे कार्यो से हैं, धर्म से है, पढ़ाई से है, अच्छे पद से है, भोजन से है, पारिवारिक ख़ुशी से है, जवाबदारी से है, बचत से है, नाम, यश, तार्किक शक्ति, पुत्र, पेट की समस्या, दादाजी, बड़े घर, बड़े भाई, दान, गुरु भक्ति, चातुर्य आदि से भी गुरु सम्बन्ध रखता है. अतः इन विषयो की जानकारी के लिए कुंडली में गुरु ग्रह का अध्यन किया जाता है.
  6. शुक्र ग्रह और ज्योतिष:शुक्र का सम्बन्ध हीरा, शादी, प्रेम, स्त्री, सेक्स शक्ति, फूल, सुन्दरता, नाम, चांदी, कॉस्मेटिक के सामान, गाने की शक्ति, नाचने की कला, मनोरंजन, कला, कमजोरी, रहस्य आदि से है. अतः इन सब विषयो को जानने के लिए कुंडली में शुक्र ग्रह का अध्यन किया जाता है.
  7. शनि ग्रह और ज्योतिष:शनि का सम्बन्ध अंतर्मुखता, अलास्यता, रूकावटो, त्वचा, समस्याओ, दुःख, मौत से है. इसके अल्वा जंगल, लीवर, डर, बुढ़ापा, नाड़ी, कठोर परिश्रम, तामसिक प्रवृत्ति, भेंस, बकरी, कुत्ता, चोरी, आदि से भी शनि का सम्बन्ध है. अतः इनके बारे में जानने के लिए कुंडली में शनि की स्थिति, शक्ति और दृष्टि का अध्यन किया जाता है.
  8. राहू ग्रह और ज्योतिष:राहू का सम्बन्ध छाता, राज्य, बचत, शुद्र जाती, कुतर्क, पाप, अधर्मी व्यक्ति, तीर्थ, झूठ, भ्रम, मौत का समय, श्वास की समस्या, कटु वचन, अचानक होने वाली घटनाएं, आदि से है. अतः कुंडली में राहू को देखके इन सब विषयो की जानकारी ली जाती है.
  9. केतु ग्रह और ज्योतिष:केतु ग्रह का सम्बन्ध मुक्ति, शिव पूजा, चिकित्सा के कार्य, कुत्ता, मुर्गा, नाम, बुखार, साधुता, वात की समस्या, संपत्ति, पत्थर से चोट, मुर्खता, कांटे, भाग्य, मौण, सींग, आदि से है. अतः इनके बारे में जानने के लिए कुंडली में केतु ग्रह का अध्यन किया जाता है. यहाँ ये जानना भी जरुरी है की अगर कुंडली में कोई ग्रह शक्तिशाली है तो जातक को सम्बंधित चीजो की प्राप्ति आसानी से हो जाता है. अगर सम्बंधित ग्रह कमजोर है तो जातक उन चीजो को प्राप्त करने में कठिनाई महसूस करता है.

आइए जानते हैं कुंडली में विभिन्न भावो से सम्बंधित कारक ग्रहों के बारे में:

  1. सूर्य, कुंडली के प्रथम भाव से संबंधित मुख्य ग्रह है।
  2. बृहस्पति कुंडली के द्वितीय भाव से संबंधित मुख्य कारक ग्रह है।
  3. मंगल कुंडली के तीसरे भाव का मुख्य कारक ग्रह है।
  4. चंद्रमा और बुध कुंडली में चौथे घर का मुख्य कारक ग्रहा है।
  5. बृहस्पति कुंडली के 5 वें घर का मुख्य कारक ग्रह है।
  6. शनि और मंगल कुंडली के 6 वें घर का मुख्य कारक ग्रह है।
  7. शुक्र का संबंध कुंडली के सातवें घर से है।
  8. शनि कुंडली के 8 वें घर से संबंधित है।
  9. सूर्य और बृहस्पति कुंडली के 9 वें घर का मुख्य कारक ग्रन्थ है।
  10. सूर्य, बृहस्पति, बुध और शनि का संबंध कुंडली के 10 वें घर से है।
  11. बृहस्पति कुंडली के ग्यारहवें घर से संबंधित भी है।
  12. शनि कुंडली के 12 वें घर से संबंधित है।
भविष्यवाणी करते हुए इन बातो का भी ध्यान रखना होता है.

कोई भी निर्णय पर पहुचने से पहले ये जरुरी है की किसी विद्वान् ज्योतिषी से परामर्श लिया जाए और विषयो का अध्यन भी किया जाए.



ऐसा भी देखा गया है की अगर ग्रह सकारात्मक और ताकतवर है तो एक साधारण परिवार में जन्म लेने वाला जातक भी बहुत अच्छी सफलता प्राप्त कर लेता है.

पढ़ते रहिये ज्योतिष के बारे में रोज और लगातार.

To know about 9 planets in jyotish is very important because these planets affect the life of person till from birth. Here in this article, my blog readers will know about the 9 planets in hindi, there nature and their relations with different segments of life. Know about sun, moon, mars, mercury, jupiter, venus, saturn, rahu and ketu. 

Contact astrologer for black magic remedies, kundli analysis, career reading, solutions of problems through astrology.



वैदिक ज्योतिष में ९ ग्रह, 9 planets in vedic astrology and relations with 12 houses in horoscope, ग्रहों का सम्बन्ध जानिए ज्योतिष के हिसाब से.

Comments

Popular posts from this blog

Suar Ke Daant Ke Totke

Jyotish Me Suar Ke Daant Ka Prayog, pig teeth locket benefits, Kaise banate hai suar ke daant ka tabij, क्या सूअर के दांत का प्रयोग अंधविश्वास है. सूअर को साधारणतः हीन दृष्टि से देखा जाता है परन्तु यही सूअर पूजनीय भी है क्यूंकि भगवान् विष्णु ने वराह रूप में सूअर के रूप में अवतार लिया था और धरती को पाताल लोक से निकाला था. और वैसे भी किसी जीव से घृणा करना इश्वर का अपमान है , हर कृति इस विश्व में भगवान् की रचना है. Suar Ke Daant Ke Totke सूअर दांत के प्रयोग के बारे में आगे बताने से पहले कुछ महत्त्वपूर्ण बाते जानना चाहिए : इस प्रयोग में सिर्फ जंगली सूअर के दांत का प्रयोग होता है. किसी सूअर को जबरदस्त मार के प्रयोग में लाया गया दांत काम नहीं आता है अतः किसी भी प्रकार के हिंसा से बचे और दुसरो को भी सचेत करे. वैदिक ज्योतिष में सूअर के दांत के प्रयोग के बारे में उल्लेख नहीं मिलता है. इसका सूअर के दांत के प्रयोग को महुरत देख के ही करना चाहिए. कई लोगो का मनना है की सुकर दन्त का प्रयोग अंधविश्वास है परन्तु प्रयोग करके इसे जांचा जा सकता है , ऐसे अनेको लोग है जो अपने बच्चो को इसक

Kala Jadu Kaise Khatm Kare

काला जादू क्या है , कैसे पता करे काला जादू के असर को, कैसे ख़त्म करे कला जादू के असर को, hindi में जाने काले जादू के बारे में. काला जादू अपने आप में एक खतरनाक विद्या है जो की करने वाले, करवाने वाले और जिस पर किया जा रहा है उन सब का नुक्सान करता है. यही कारण है की इस नाम से भी भय लगता है. अतः ये जरुरी है की इससे जितना हो सके बचा जाए और जितना हो सके उतने सुरक्षा के उपाय किया जाए. kale jadu ko khatm karne ke upaay hindi mai ज्योतिष संसार के इस लेख में आपको हम उसी विषय में अधिक जानकारी देंगे की कैसे हम काले जादू का पता कर सकते हैं और किस प्रकार इससे बचा जा सकता है. प्रतियोगिता अच्छी होती है परन्तु जब ये जूनून बन जाती है तब व्यक्ति गलत ढंग से जीतने के उपाय करने से भी नहीं चुकता है. आज के इस प्रतियोगिता के युग में लोग बस जीतना चाहते हैं और इसके लिए किसी भी हद तक जाने से नहीं चुकते हैं और यही पर काला जादू का प्रयोग करने की कोशिश करते है. संपर्क करे ज्योतिष से मार्गदर्शन के लिए >> आखिर में क्या है काला जादू? हर चीज के दो पहलु होते हैं एक अच्छा और एक बुरा. काल

Gola Khisakna Kya Hota Hai Aur Iska Ilaaj Kya Hai

Kya Hota hai gola khisakna, nabhi hatne ka matlab kya hai, kaise thik kar sakte hain dharan ko, janiye kuch asaan tarike nabhi ko thik karne ke. nabhi khisakna aur asaan ilaaj साधारण शब्दों में नाभि खिसकना : जब हम बात करते हैं शारीर के मध्य इस्थान का तब नाभि का ध्यान आता है, जब हम योग के सन्दर्भ में मनिपुरक चक्र की बात करते हैं तब हमे ध्यान आता है नाभि का, जब भी पेट में दर्द होता है तो ध्यान आता है नाभि का. अतः नाभि हमारे शारीर का एक महात्वपूर्ण अंग है, इसी नाभि को गोला या धारण भी कहते हैं. अंग्रेजी में नाभि को Navel कहते हैं. ये वास्तव में एक संगम है जहाँ से नाड़ियाँ गुजरती हैं हर प्रकार की , अतः यहाँ पर जाल बना हुआ है नाड़ियों का, इन नाड़ियो को सहारा देने के लिए मांसपेशियां भी होती है और जब ये अपनी जगह से कभी खिसकती हैकिसी कारण से तो उसे कहते हैं “नाड़ी का खिसकना या गोला खिसकना या धरण ”. कभी ये बाएं खिसकता है, कभी ये दायें खिसकता है, कभी ऊपर और कभी निचे खिसकता है. गोला खिसकने के ज्योतिषीय कारण: मैंने अपने शोध में पाया है की जिन लोगो का गोला ज्यादा खिसकता है उनके