Skip to main content

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में, ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे  समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आ…

52 Shaktipeeth Ke Bare Me Janiye

५२ शक्ति पीठ भारत में, कहाँ मौजूद है ५२ शक्तिपीठ, कौन सी देवी की पूजा होती है ५२ शक्तिपीठो में. 
५२ शक्ति पीठ भारत में, कहाँ मौजूद है ५२ शक्तिपीठ, कौन सी देवी की पूजा होती है ५२ शक्तिपीठो में.
janiye 52 shaktipitho ke bare me

भारत में शक्तिपीठो का बहुत महत्त्व है, रोज हजारो लोग शक्तिपीठो में साधना और दर्शन के लिए पहुँचते हैं. ऐसी मान्यता है भक्तो की कि शक्तिपीठो में दर्शन पूजन करने से माता की कृपा तुरंत प्राप्त होती है. महाशक्ति स्वयं शक्तिरूप में शक्तिपीठो में मौजूद है. 
पुराणों के अनुसार शक्तिपीठो में माता के अंग गिरे थे इस कारण ये सब स्थान प्रसिद्द हो गए और शक्तिशाली भी. 
आइये जानते हैं ५२ शक्तिपीठो के बारे में साथ ही वहां की अधिष्ठात्री देवी और स्थान के बारे में
  1. हिंगुला शक्तिपीठ – बिलोचिस्थान में है और यहाँ भैरवी की पूजा होती है. यहाँ पर माता के सर का उपरी हिस्सा ब्र्हम्रंध्र गिरा था.
  2. किरीट शक्तिपीठ – बटनगर – हावड़ा में और यहाँ भुवनेश्वरी देवी की पूजा होती है. 
  3. नंदिपुर शक्तिपीठ सेंथिया –हावड़ा में जहाँ नंदिनी देवी की पूजा होती है. 
  4. अट्टहास शक्तिपीठ लाभपुर अहमदपुर, बंगाल में जहाँ फुल्लारा देवी की पूजा होती है. 
  5. वक्त्रेश्वर शक्तिपीठ – अंडाल, हावड़ा में जहाँ पर महिषमर्दिनी की पूजा होती है.
  6. नलहाटी शक्तिपीठ – नलहाटी हावड़ा में जहाँ कालिका की पूजा होती है. 
  7. बहुला शक्तिपीठ – सतवा , बंगाल में जहाँ चंडिका देवी की पूजा होती है. 
  8. त्रिस्त्रोता शक्तिपीठ – जलपाईगुड़ी, बंगाल में जहाँ पर भ्रामरी देवी की पूजा होती है. 
  9. कामगिरी शक्तिपीठ -  गौहाटी असाम में जहां पर कामख्या की पूजा होती है. 
  10. जयंती शक्तिपीठ – जयंतिया असाम में जहाँ पर जयंती देवी की पूजा होती है. 
  11. कालीपीठ शक्तिपीठ – कलकत्ता में जहाँ पर कालिका की पूजा होती है. 
  12. वृन्दावन शक्तिपीठ - वृन्दावन में जहाँ पर उमा देवी की पूजा होती है. 
  13. करवीर शक्तिपीठ – कोल्हापुर में जहाँ पर महिषमर्दिनी की पूजा होती है. 
  14. सुगंध शक्तिपीठ – शिकारपुर, बरिसल में जहाँ सुनंदा देवी की पूजा होती है. 
  15. करतोय तट शक्तिपीत – भवानीपुर, बोगडा में जहाँ पर अपर्णा देवी की पूजा होती है. 
  16. श्री पर्वत शक्तिपीठ – लद्दाख में जहाँ पर श्री सुन्दरी की पूजा होती है. 
  17. वाराणसी शक्तिपीठ – काशी में जहाँ पर विशालाक्षी की पूजा होती है. 
  18. गण्डकी शक्तिपीठ – राज्माहेंदरी में जहाँ पर विश्वेश्वरी की पूजा होती है. 
  19. गोदावरी तट शक्तिपीठ – मुक्तिनाथ, नेपाल में जहाँ पर गण्डकी की पूजा होती है. 
  20. शुची शक्तिपीठ – कन्याकुमारी में जहाँ नारायणी की पूजा होती है. 
  21. पञ्चसागर शक्तिपीठ – अज्ञात है पर यहाँ पर वाराही की पूजा होती है. 
  22. ज्वालामुखी शक्तिपीठ – कांगड़ा में जहाँ पर अम्बिका देवी की पूजा होती है. 
  23. जनस्थान शक्तिपीठ – नासिक में जहाँ भ्रामरी देवी की पूजा होती है. 
  24. कश्मीर शक्ति पीठ - अमरनाथ में जहाँ महामाया की पूजा होती है. 
  25. श्री शैल शक्तिपीठ - श्री शैल मल्लिकार्जुन में जहाँ महालक्ष्मी की पूजा होती है. 
  26. मिथिला शक्तिपीठ – जनकपुर जहाँ महादेवी की पूजा होती है.
  27. रत्नावली शक्तिपीठ - मद्रास में जहाँ कुमारी देवी की पूजा होती है. 
  28. प्रभास शक्तिपीठ – गिरनार, गुजरात में जहाँ पर चंद्रभागा देवी की पूजा होती है. 
  29. जालंधर शक्तिपीठ – जालंधर, पंजाब  में जहाँ पर त्रिपुर्मालिनी की पूजा होती है. 
  30. रामगिरी शक्तिपीठ -  मैहर , मध्य प्रदेश में जहाँ पर शिवानी देवी की पूजा होती है. 
  31. वैद्यनाथ शक्तिपीठ – वैद्यनाथ धाम , बिहार में जहाँ जयदुर्गे की पूजा होती है.
  32. कन्याकश्रम शक्तिपीठ – कन्याकुमारी में जहाँ पर शरवानी देवी की पूजा होती है. 
  33. चटटल शक्तिपीठ - चटगाँव में जहाँ भवानी देवी की पूजा होती है. 
  34. मणिवेदिका शक्तिपीठ -  पुष्कर में जहाँ गायत्री देवी की पूजा होती है. 
  35. मानस शक्तिपीठ – मानसरोवर में जहाँ पर दाक्षायनी की पूजा होती है.
  36. यशोर शक्तिपीठ – खुलना जैसौर में जहाँ पर यशोरेश्वरी की पूजा होती है. 
  37. प्रयाग शक्तिपीठ – प्रयाग में जहाँ पर प्रयाग देवी की पूजा होती है. 
  38. विरजा क्षेत्र शक्तिपीठ – पूरी , उड़ीसा में जहाँ पर विमला देवी की पूजा होती है. 
  39. कांची शक्तिपीठ – कन्चिपुरी में जहाँ पर देवगर्भा की पूजा होती है. 
  40. कालमाधव शक्तिपीठ – अज्ञात है पर यहाँ पर काली की पूजा होती है. 
  41. शोण शक्तिपीठ – अमरकंटक में जहाँ पर नर्मदा देवी की पूजा होती है. 
  42. नेपाल शक्तिपीठ – नेपाल में जहाँ पर महामाया की पूजा होती है. 
  43. मगध शक्तिपीठ – पटना में जहाँ पर सर्वानन्दकरी देवी की पूजा होती है. 
  44. त्रिपुरा शक्तिपीठ – त्रिपुरा में जहाँ पर त्रिपुरसुन्दरी की पूजा होती है. 
  45. त्रिमाख शक्तिपीठ – मिदनापुर बंगाल में जहाँ पर कपालिनी की पूजा होती है. 
  46. कुरुक्षेत्र शक्तिपीठ – जहाँ पर कुरुक्षेत्र में जहाँ पर सावित्री की पूजा होती है. 
  47. लंका शक्तिपीठ -  सिंहल में जहाँ पर इन्द्राक्षी की पूजा होती है. 
  48. युगाधा शक्तिपीठ - बर्दवान में जहाँ पर भुतधात्री की पूजा होती है. 
  49. विराट शक्तिपीठ - जयपुर में जहाँ पर अम्बिका देवी की पूजा होती है. 
  50. कर्णाट शक्तिपीठ – कर्णाटक में जहाँ पर जयदुर्गे की पूजा होती है. 
  51. उज्जैनी शक्तिपीठ – उज्जैन में जहाँ मंगला देवी की पूजा होती है. 
  52. भैरव पर्वत शक्तिपीठ - उज्जैन में जहाँ पर अवंती देवी की पूजा होती है. 

ये ५२ शक्तिपीठ दिव्य है और साधको को यहाँ पर अद्भुत शक्तियां प्राप्त होती है , भक्तगण भी यहाँ दर्शन और पूजन करके जीवन को सफल बनाते हैं. 
माता की कृपा सब पर बनी रहे, महाशक्ति हमारी रक्षा करती रहे बुरी शक्तियों से. 
५२ शक्ति पीठ भारत में, कहाँ मौजूद है ५२ शक्तिपीठ, कौन सी देवी की पूजा होती है ५२ शक्तिपीठो में. 

Comments

Popular posts from this blog

Kala Jadu Kaise Khatm Kare

काला जादू क्या है , कैसे पता करे काला जादू के असर को, कैसे ख़त्म करे कला जादू के असर को, hindi में जाने काले जादू के बारे में. काला जादू अपने आप में एक खतरनाक विद्या है जो की करने वाले, करवाने वाले और जिस पर किया जा रहा है उन सब का नुक्सान करता है. यही कारण है की इस नाम से भी भय लगता है. अतः ये जरुरी है की इससे जितना हो सके बचा जाए और जितना हो सके उतने सुरक्षा के उपाय किया जाए. ज्योतिष संसार के इस लेख में आपको हम उसी विषय में अधिक जानकारी देंगे की कैसे हम काले जादू का पता कर सकते हैं और किस प्रकार इससे बचा जा सकता है. प्रतियोगिता अच्छी होती है परन्तु जब ये जूनून बन जाती है तब व्यक्ति गलत ढंग से जीतने के उपाय करने से भी नहीं चुकता है. आज के इस प्रतियोगिता के युग में लोग बस जीतना चाहते हैं और इसके लिए किसी भी हद तक जाने से नहीं चुकते हैं और यही पर काला जादू का प्रयोग करने की कोशिश करते है. आखिर में क्या है कला जादू? हर चीज के दो पहलु होते हैं एक अच्छा और एक बुरा. काला जादू तंत्र, मंत्र यन्त्र का गलत प्रयोग है जिसके अंतर्गत कुछ शक्तियों को पूज के अपना गलत स्वार्थ सिद्ध किया जाता है. करने व…

Gomed Ratna Rahasya In Hindi

Gomed Gem Stone Secrets in hindi, गोमेद की शक्ति, कैसे ख़रीदे गोमेद, कैसे धारण करे गोमेद, सफलता के लिए गोमेद का प्रयोग.

क्या आप जानना चाहते हैं राहू के रत्न के बारे में, क्या आप एक ऐसे रत्न के बारे में जानना चाहते हैं जो की जीवन में जादुई बदलाव ला सकता है तो पढ़े इस लेख को.
गोमेद, जी हाँ एक ऐसा शक्तिशाली रत्न है जिसे अंग्रेजी में HESSONITE भी कहते हैं. ये रत्न राहू की शक्ति को जीवन में बढ़ा सकता है. इसका रंग लालिमा लिए होता है जिसमे थोडा पिला जैसा भी दीखता है, इसके रंग को गौमूत्र जैसा भी जान सकते हैं. 
कौन धारण कर सकते हैं गोमेद रत्न? मेरे अनुभव के हिसाब से उन लोगों के लिए गोमेद शुभ होता है जिनके कुंडली में राहू अच्छा है पर कमजोर है , गोमेद धारण करने से राहू का बल बढ़ने लगता है जिससे सफलता के रास्ते खुलते हैं.  अगर कमजोर राहू के कारण जीवन में, नाम, पैसा, सम्पन्नता आदि नहीं आ पा रही है तो गोमेद रत्न लाभदायक सिद्द हो सकता है. राजनीतज्ञों के लिए भी ये एक शुभ रत्न साबित हो सकता है. 
आइये जानते हैं गोमेद के लाभ :

Santan Prapti Yoga Kundli Mai In Hindi

कुंडली में संतान प्राप्ति योग, कुंडली में कैसे जाने संतान सुख के बारे में, क्या करे स्वस्थ संतान प्राप्ति के लिए ज्योतिष के अनुसार, संतान प्राप्ति में बाधा और समाधान ज्योतिष द्वारा. Santan yoga in kundli, hindi jyotish to know about santan problems remedies. जीवन में विवाह उपरान्त संतान का होना एक महात्वपूर्ण घटना होती है, ये पति और पत्नी को एक नई दृष्टि प्रदान करती है और जीवन में महत्वपूर्ण बदलाव लाती है. ऐसे बहुत से लोग है जो संतान सुख से वंचित है और संतान प्राप्ति के लिए खूब जातन करते हैं परन्तु सफल नहीं हो पा रहे हैं.

इसका कारण ज्योतिष द्वारा पता लगाया जा सकता है. कुंडली हमारे जीवन का आइना है अतः इसके द्वारा हम बहुत कुछ जान सकते हैं. कुंडली में 12 भाव होते हैं और सभी अलग अलग विषय से जुड़े है जिनका अध्यन कई रहस्यों से पर्दा उठा देता है जो की उन्सुल्झे है. संतान नहीं होने के कारण भी ज्योतिष द्वारा जाना जा सकता है.  इस लेख में संतान समस्या के कारण और समाधान पर प्रकाश डाला जा रहा है. क्यों आती है है समस्याए संतान प्राप्ति में, क्यों होता है गर्भपात , कैसे प्राप्त करे स्वस्थ संतान.

जीवन…