Skip to main content

Posts

Showing posts from November, 2017

Rashi Ratna Aur Unke Rang Jyotish Mai

राशी रत्न, जानिए कौन से ग्रह से कौन सा रत्न सम्बन्ध रखता है, कौन से रंग के होते हैं रत्न ज्योतिष के हिसाब से, कब कौन सा रत्न पहने.
राशी के हिसाब से रत्नों की जानकारी होना आवश्यक होता है उन लोगो के लिए जिन्हें ज्योतिष में रूचि है. कुछ लोग जानकारी के आभाव में गलत रत्न धारण कर लेते हैं. कुछ लोग ऐसे भी है जिन्हें अपने जन्म तारिक, जन्म स्थान, जन्म समय की जानकारी नहीं है जिसके कारण उनकी कुंडली नहीं बन पाती है. ऐसे लोग अपने नाम राशि के हिसाब से रत्न धारण करना चाहते हैं. इस लेख में आप ज्योतिष से जानेंगे की कौन सा रत्न किस रंग का होता है और कौन सी राशि वालो को धारण करना चाहिए और कब. अपने राशि से सम्बंधित रत्न को जानने के लिए सही राशि चुनिए दिए गए विकल्प में से -
चुनिए अपनी सही राशिमेष राशि रत्नवृषभ राशि रत्न मिथुन राशि रत्न कर्क राशि रत्न सिंह राशि रत्न कन्या राशि रत्न तुला राशि रत्नवृश्चिक राशी रत्नधनु राशि रत्न मकर राशि रत्नकुम्भ राशि रत्नमीन राशि रत्न


ऊपर हमने देखा की कौन से राशी के कौन से रत्न है और उस राशि रत्न का रंग क्या है और उसे कब धारण किया जाता है.
नोट: अगर आपके पास आपकी जन्म तारी…

Surya Ka Vrischik Rashi Me Ane Ka Fal

सूर्य का वृश्चिक राशि में आने से क्या प्रभाव होगा राशियों पर, जानिए कैसे सूर्य का राशी बदलना शुभता लाएगा. ज्योतिष से जानिए भविष्यवाणी. सूर्य गृह अति महत्त्वपूर्ण ग्रह है हमारे लिए. सूर्य अगर किसी के कुंडली में शुभ हो तो जातक को मान सम्मान, तरक्की, समाज में विशिष्ट स्थान आसानी से दिला देता है वही अगर सूर्य ग्रह कुंडली में ख़राब हो जाए तो जातक को विभिन्न प्रकार की परेशानियाँ देता है.  गोचर में भी सूर्य समय समय पर राशि बदलता रहता है. इसे ही ज्योतिष में संक्रांति कहा जाता है. १६ नवम्बर २०१७ को सूर्य वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा अतः इस दिन को वृश्चिक संक्रांति कहा जायेगा. सूर्य देव का सम्बन्ध ज्योतिष के अनुसार पिता से है, आत्मा से है, समाज में मान सम्मान से है, यश, कीर्ति, प्रसिद्धि से है. इसका अर्थ ये है की सूर्य की स्थिति का असर हमारे जीवन में उपर लिखये विषयो पर होता है.  आपके कुंडली में सूर्य की स्थिति क्या है ये तो एक अच्छा ज्योतिष ही बता सकता है. और उसी के आधार पर ये हमारे जीवन को प्रभावित करता है.  सूर्य का वृश्चिक में गोचर का असर क्या होगा: इस लेख में हम जानेंगे की १६ नवम्बर को सूर्…

Kartik Poornima Ka Mahattw In Hindi

जानिए कार्तिक पूर्णिमा का महत्त्व, क्या करे कार्तिक पूनम को सफलता के लिए, कैसे प्राप्त करे स्वास्थ्य और सम्पन्नता. कार्तिक पक्ष की पूर्णिमा एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण दिन है जब हम स्वास्थ्य और सम्पन्नता के लिए पूजा पाठ कर सकते हैं. इस पवित्र दिन में भक्त भगवान् विष्णु और माता तुलसी का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं और अपने जीवन को सफल बना सकते हैं. इस दिन लोग पवित्र नदियों में स्नान करते हैं और घाटो पर पूजा-पाठ करते हैं.

कार्तिक पूर्णिमा को लोग बहुत अलग अलग तरह के विधि विधान करते दीखते हैं जिससे की जीवन को निष्कंटक बनाया जा सके. कुछ लोग तुलसी और शालिग्राम का विवाह करते हैं.भक्तगण नदी तटो पर दीप दान भी करते हैं. ऐसी मान्यता है की कार्तिक पूनम की शाम को दीप दान करने वाले को अश्वमेघ यज्ञ का पुण्य प्राप्त होता है.इस पवित्र दिन को लोग “त्रिजटा लक्ष्मी ” की पूजा भी करते हैं. ऐसा कहा जाता है की त्रिजटा लक्ष्मी जी ने माता सीता को अशोक वाटिका में बचाया था. विशेषरूप से कन्याएं त्रिजटा लक्ष्मी की पूजा अपने मनपसंद जीवन साथी को पाने के लिए करती है.भक्तगण इस दिन तुलसी का पौधा भी वितरित करते हैं.कुछ जगह त…