2020 Holi Utsav Ka Jyotish Mahattw

2020 में होली उत्सव और ज्योतिष, जानिए होलिका दहन कब होगा, क्या करे जीवन को सुखी करने के लिए.

होली रंगों का त्यौहार है, इस उत्सव में सभी अपना दुःख भूलकर खुशियों से जिन्दगी को भरने का प्रयास करते हैं. ज्योतिष के हिसाब से होली की रात्रि साधना को करने के लिए अती उत्तम समय होता है, इस रात्रि को तंत्र साधना भी की जाती है, मंत्र साधना भी की जाती है, यंत्र साधना भी की जाती है. विद्वान् लोग कुछ न कुछ विशेष अनुष्ठान करते हैं होली की रात्री को जीवन को सफल बनाने हेतु.
holi ka jyotish mahattw in best hindi jyotish website
2020 Holi Utsav Ka Jyotish Mahattw

  • ग्रह दोषों से मुक्ति के लिए भी ये रात्री ख़ास होती है.
  • इस रात्रि को मन्त्र जागृति के लिए शुभ माना जाता है.
  • इस रात्री को देवी देवताओं को प्रसन्न करने के लिए साधना की जा सकती है.
  • कुछ लोग वशीकरण साधना भी इस रात्री को करते हैं.
  • कुछ लोग आय के स्त्रोत को खोलने के लिए भी पूजा करते हैं.
  • इस रात्रि को काले जादू से सुरक्षा भी संभव है.
अतः होली की रात्री सभी के लिए ख़ास होती है. व्यापारी, गृहणी, प्रेमी, विद्यार्थी, नौकरी पेशा सभी इस रात्री को अपने जीवन को सफल बनाने के लिए पूजा पाठ कर सकते हैं.

आइये जानते हैं होलिका दहन का महत्त्व :

होलिका दहन एक ऐसी क्रिया है जिसमे हम अपने अन्दर की बुराइयों को जलाते हैं. होलिका के पीछे एक कहानी है, वो ये की होलिका नाम की एक राक्षसी थी जिसने भगवान् विष्णु के भक्त प्रहलाद को जलाने की कोशिश की परन्तु आग से न जलने का वरदान प्राप्त होने पर भी होलिका जल गई परन्तु भक्त प्रहलाद को कुछ नहीं हुआ. उसी दिन से विद्वान् लोग इस दिन को बुराई का नाश करने के लिए मनाने लगे.

पढ़िये होलिका दहन में क्या करे ?

होलिका दहन पूर्णिमा को होता है जिसका अपना ही महत्त्व होता है. इस दिन हम स्वास्थ्य के लिए पूजा कर सकते हैं, इस दिन संबंधो को सुधारने के लिए भी पूजा की जा सकती है, काले जादू से छुटकारे के लिए भी पूजा कर सकते हैं, ग्रह दोषों से छुटकारे के लिए भी इस दिन पूजा होती है.

आइये अब जानते हैं की 2020 ग्रह योग कैसे बन रहे हैं?

इस साल होलिका दहन ९ मार्च की रात्री अर्थात सोमवार की रात्री को होगा. पूर्णिमा होने के कारण वैसे भी ये रात्री ख़ास है. आइये देखते हैं गोचर में ग्रह कैसे बैठेंगे इस रात्री को.
  • गुरु और मंगल अपने मित्र राशि में रहेंगे जिसके कारण अध्यात्मिक और शक्ति प्राप्त करने के लिए पूजा पाठ करने के योग अच्छे रहेंगे.
  • शनि भी स्व राशि में रहेंगे जिससे शुभ फल देगा. 
  • सूर्य और बुध साथ में बैठ के बुधादित्य योग का निर्माण करेंगे जिससे यश, नाम, धन प्राप्ति की साधना के लिए श्रेष्ठ समय होगा. 
तो देखा जाए तो 2020 में होली की रात्री बहुत अच्छे योग बना रहा है साधना के लिए और मनोकामना सिद्धि के लिए.
  1. इस रात्री को जिनके विवाह में परेशानी आ रही है वे पूजा कर सकते हैं.
  2. जिनको नौकरी या व्यापार में परेशानी आ रही है, वे प्रयोग कर सकते हैं. 
  3. जिनको प्रेम जीवन में परेशानी आ रही है वे भी प्रयोग कर सकते हैं.
  4. हम धन, मान सम्मान आदि प्राप्ति के लिए भी पूजा कर सकते हैं.
  5. अगर कोई काला जादू से परेशां है तो वे भी इस दिन सुरक्षा के लिए प्रयोग कर सकते हैं.
पढ़िए कैसे खेले होली कुंडली में मौजूद ग्रहों के अनुसार .........
अतः देखा जाए तो होली की रात्रि शुभ है परन्तु थोडा सावधानी बरटके हम इस रात्रि का पूरा लाभ ले सकते हैं और जीवन को सुखी कर सकते हैं.
इस रात्रि को यात्रा टालना चाहिए, कोई नया कार्य शुरू न करे, कोई निर्णय न ले, किसी भी प्रकार के लड़ाई झगडे से दूर रहे.



अगर कुंडली में अंगारक योग हो, ग्रहण योग हो, चंडाल योग हो, तो आपको ज्यादा सावधान रहना चाहिए और रात्रि को पूजा पाठ, जप, हवन जरुर करना चाहिए.
Read in english about Astrology importance of Holi festival 2020

2020 में होली उत्सव और ज्योतिष, जानिए होलिका दहन कब होगा, क्या करे जीवन को सुखी करने के लिए. 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें