Skip to main content

Posts

Showing posts from March, 2016

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में, ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे  समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आ…

3 gunas ko janiye सत्त्व राजस और तमो गुण

3 gunas ko janiye सत्त्व राजस और तमो गुण, कैसे जाने की किस गुण से हमारा जीवन प्रभावित है. सफलता और असफलता के साथ ३ गुणों का सम्बन्ध. तीन गुणों के कारण जीवन मे बहुत उथल पुथल होती रहती है. हमारा व्यवहार हमेशा इन गुणों के कारण प्रभावित होता है और बदलता भी रहता है. इन ३ गुणों की जानकारी से हमारे कई सवाल के जवाब हमारे सामने आ सकते हैं.  आइये जानते है ३ गुणों को : हमारे शारीर मे ३ गुण मौजूद होते है जिसके कारण हमारा व्यवहार बदलता रहता है, हमारा व्यक्तित्व प्रभावित होता है. इन गुणों का अलग अलग अनुपात ही हमे समाज मे एक दुसरे से अलग दिखता है. हमारे जीवन मे सफलता और असफलता के लिए भी ये ३ गुण जिम्मेदार होते है. इन ३ गुणों मे सामंजस्य अगर हो तो व्यक्ति सफल जीवन जी सकता है.  आइये जानते है कुछ मुख्य बाते ३ गुणों के बारे मे : इन ३ गुणों के नाम है सत्त्व, रजस और तमस.ये गुण सभी के शारीर मे मौजूद रहते है. सभी लोगो मे ये गुण अलग अलग अनुपात मे रहते है जिससे की हमारा व्यक्तित्त्व बनता है, व्यवहार दीखता है. सत्त्व, रजस और तमो गुण का प्रभाव साधारणतः सभी क्षेत्रो मे दीखता है. इन गुणों के कारण कोई फुर्तीला, कोई…

Krodh Ka Jivan Par Asar क्रोध को जानिए

Krodh Ka Jivan Par Asar क्रोध को जानिए, क्रोध और ज्योतिष, क्यों नहीं करना चाहिए गुस्सा. 
जब हमे गुस्सा आता है तो कई प्रकार के नकारात्मक विचार हमारे अन्दर प्रकट होने लगते है, इनका एक कारण किसी प्रकार की निराशा भी हो सकती है, किसी प्रकार की मानसिक कमजोरी या डर भी हो सकता है.  ये स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है. कभी कभी व्यक्ति खुद अपने लिए भी हानिकारक हो जाता है और दुसरो के लिए भी. 
क्रोध को गुस्सा भी कहा जाता है, ये एक प्रकार का उग्र रूप होता है हमारे व्यक्तित्व का. परन्तु गुस्सा हमेशा खतरनाक नहीं होता है. अगर कोई सोच समझकर सामंजस्य के साथ इसका प्रयोग करता है तो इसके द्वारा बहुत से कार्य को करवाया जा सकता है. 
हम अक्सर देखते है की कोई गुस्से से अपना मोबाइल फेक देता है, कोई घर की चीजो को फोड़ने लगता है और बाद मे उन्हे भान होता है की उनसे गलती हो गई है. इसके कारण न सिर्फ आर्थिक नुक्सान होता है बल्कि स्वास्थ्य हानि भी होती है. 
The 2 paksha in a montha are following: इस लेख मे हम देखेंगे शोध क्या बताते है क्रोध या गुस्सा के बारे मे :
अगर कोई व्यक्ति लगातार गुस्सा करता है तो उसे सर दर्द की शिक…

Chipkali Se Jude Shakun Apshakun

Chipkali Se Jude Shakun Apshakun, छिपकली से जुड़े शकुन – अपशकुन, क्या होता है जब छिपकली शारीर के किसी भाग पर गिरे, क्या होता है जब शारीर का कोई भाग कापने/फड़कने लगता है. 
ज्योतिष के अन्दर छिपकली के शारीर के किसी भाग पर गिरने को देखके भी भविष्यवाणी की जाती है . इस विषय का जिक्र भी शकुन – अपशकुन के अंतर्गत किया जाता है. परन्तु इस विषय पर लोगो के मत भिन्न भिन्न देखे गए हैं. यहाँ पर जानकारी के लिए कुछ छिपकली से जुड़े शकुन-अपशकुन बताया जा रहा है. 
आप चाहे तो अपने अनुभव भी छिपकली से जुड़े बाँट सकते हैं कमेंट के जरिये. 
कुछ कहते हैं की छिपकली का गिरना अशुभ होता है तो कुछ कहते हैं शुभ होता है. परन्तु इसका शुभ – अशुभ इस बात पर निर्भर करता है की छिपकली शारीर के किस भाग पर गिरी है.
1.अगर छिपकली सर पर गिरे तो ये शुभ माना जाता है. व्यक्ति को शीघ्र ही कुछ अच्छा मिलने वाला है, कुछ लाभ होने वाला है, जीवन में ख़ुशी मिलने वाली है.  2.अगर छिपकली तीसरी आँख की जगह गिरे तो इसका अर्थ है की किसी उच्च अधिकारीयों से लाभ होने वाला है.  3.अगर छिपकली नाक को छू  ले तो कोई परेशानी आने वाली है .  4.अगर छिपकली दाए कान पर …

Vaivahik Jivan Kharab Karne Wale Jyotishiy Yog

वैवाहिक जीवन को ख़राब करने वाले ग्रह योग और उनका प्रभाव ज्योतिष के अनुसार सुखी वैवाहिक जीवन अती आवश्यक है अगर आप जीवन को अछि तरह से जीना चाहते हैं. सुखी वैवाहिक जीवन के अंतर्गत हम सेक्स जीवन, एक दुसरे के साथ वैचारिक समानता, स्वस्थ जीवन, अच्छी संतान आदि को लेते हैं.  हर व्यक्ति जो की जब विवाह के बारे मे सोचता है तो उसके मन मे कई सारे सपने आने लगते हैं जिसमे की जीवन साथ के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाना महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है. परन्तु ऐसा अक्सर होता है की बहुत से दंपत्ति विवाह के बाद असंतुष्ट नजर आते हैं और इसके कई कारण सामने आते हैं परन्तु ज्योतिष कारणों के पीछे ग्रहों के योग को महत्त्व देते हैं. ग्रह जीवन को बहुत ज्यादा प्रभावित करते हैं और इसी कारन अगर शादीशुदा जीवन मे कोई समस्या आ रही है तो इसका अर्थ ये है की निश्चित ही ग्रह दशा सही नहीं चल रही है या फिर विवाह स्थान दूषित है. विवाह स्थान, सुख स्थान गुप्तांग से सम्बंधित भाव अगर दूषित हो तो कई प्रकार के समस्याओ का सामना जातक को करना पड़ सकता है जैसे –जीवन साथी के साथ संतोषजनक सम्बन्ध नहीं बन पाता है.शारीरिक सम्बन्ध बनाने से गुप्त रोग होन…

Kundli Vishleshan, कुंडली विश्लेषण

Kundli Vishleshan, कुंडली विश्लेषण, नए साल में क्या कहते हैं सितारे, क्या कहते हैं ग्रह –नक्षत्र २०१६ में , अपनी जन्मपत्रिका विश्लेषण से जाने कैसा जायगा नया साल.
क्या आप जानना चाहते हैं की नया साल २०१६ आपके लिए क्या ला रहा है आपके कुंडली के हिसाब से, क्या आप नए साल के लिए सही रत्न जानना चाहते हैं, क्या आप जानना चाहते हैं की कौन सी पूजा आपके लिए सही रहेगी. क्या नए साल में आप ग्रह नक्षत्रो के बारे में जानना चाहते हैं तो आज ही प्राप्त करे कुंडली विश्लेषण. जानिए अपने करियर के बारे में वैदिक ज्योतिष से. जानिए अपने वैवाहिक जीवन के बारे में अपने कुंडली में मौजूद ग्रहों के हिसाब से. जानिए अपने स्वास्थय के बारे में ज्योतिष से. जानिए अपने जीवन में प्रेम के बारे में. कुंडली मिलान करवाए और जानिए कैसा रहेगा आपका जीवन आपके जीवन साथी के साथ. मांगलिक दोष के बारे में जानिए और समाधान पाए. पितृ दोष, कालसर्प योग, अंगारक योग, ग्रहण योग के बारे में जानिए और समाधान पायें ज्योतिष से.
महादशा , अन्तर्दशा का जीवन में क्या प्रभाव पड़ेगा जानिये. ज्योतिष के मध्यम से जीवन के बहुत से रहस्यों को जाना जा सकता है, व्यक्…

kya kare shivratri mai क्या करे शिवरात्रि को

kya kare shivratri mai क्या करे शिवरात्रि को, कैसे कर सकते है शिवरात्रि को पूजा, कहा करे शिवरात्रि मे पूजा, किस प्रकार की पूजाए संभव है शिवरात्रि मे, समस्याओं का समाधान शिवरात्रि मे.  शिवरात्रि एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण रात्रि होती है हिन्दू धर्म ग्रंथो के अनुसार, साधनाओ को करने हेतु शिवरात्रि एक शक्तिशाली रात्रि मानी गई है. अगर को भौतिक इच्छाओं को पूरी करना चाहता है तो भी शिवरात्रि बहुत महत्तवपूर्ण मानी गई है.  अगर पुरे विश्वास और श्रद्धा से शिवरात्रि को साधना की जाती है तो निश्चय ही सफलता कदम चूमती है. साधारणतः हमे किसी भी साधना को करने हेतु विशेष समय की जरुरत होती है. परन्तु शिवरात्रि तंत्र की दृष्टि से भी एक प्रबल रात्रि मानी गई है जब किसी भी प्रकार की साधना को किया जा सकता है. हिन्दू ग्रंथो मे भी इस विषय पर बहुत कुछ उल्लेख मिलता है जिससे इस रात्रि का महत्त्व पता चलता है.  काश्मीर शैवैस्म मे उल्लेख है की पूरा विश्व भगवान् शिव का ही प्रकटीकरण है, इस विश्व मे ऐसा कुछ नहीं जो शिव नहीं. 
शिवरात्रि को शिव की कृपा का अनुभव हर भक्त कर सकता है. इस दिन और रात्रि को पुरे विश्व मे शिव भक्त शिव…

Kalajadu Samadhan Shivratri Mai

Kalajadu Samadhan Shivratri Mai, शिवरात्रि मे काले जादू से रक्षा, कुछ सरल उपाय नकारात्मक उर्जाव से बचाव हेतु. 
शिवरात्रि एक ख़ास दिन है जो की शिवजी की कृपा प्राप्त करने हेतु श्रेष्ठ माना जाता है, भक्तगण, साधक गण इस रात्रि को साधना मे बिताते हैं जैसे मंत्र जप, भजन, ध्यान और अन्य कर्म काण्ड. 
शिवरात्री बहुत ज्यादा शक्तिशाली रात है और इसी कारण कुछ नकारात्मक विचारधारा से ग्रस्त लोग इस दिन शक्तियों का गलत स्तेमाल करने से भी बाज नहीं आते हैं. ऐसा माना जाता है की शिवजी इस रात्रि को सभी की इच्छा पूरी करते हैं. 
अगर कोई भी व्यक्ति काले जादू या नकारात्मक उर्जाव से परेशान हो और समाधान चाहते हैं तो उन्हें शिवरात्रि को भगवान् शिव की शरण मे जाना चाहिए. इस पवित्र रात्री को अगर सही माध्यम से सही साधना करी जाए तो निश्चित ही लाभ होता है. 
ये रात्री मुसीबत मे फंसे व्यक्ति को काले जादू से बचाती है, नजर दोष से रक्षा करती है अगर सही तरीके से समर्पित होक साधना की जाए. 
आइये जानते हैं कुछ ख़ास  और आसान उपाय जो की आपको बचा सकती है नकारात्मक उर्जाओं से शिवरात्री को : १.शिवरात्रि को उपवास करे और अपने आपको शिवजी को…

Vivah Samasya Samadhan Shivratri Mai

Vivah Samasya Samadhan Shivratri Mai, शिवरात्रि मे विवाह समस्याओं का समाधान, विवाह हेतु कुछ फ्री टोटके . अगर आप एक अच्छे दिन की तलाश मे है जब विवाह समस्याओं का समाधान आसानी से हो सकता हो तो शिवरात्री एक शुभ और शक्तिशाली दिन है जब हम भगवान् शिव की कृपा प्राप्त करके अपने जीवन को निष्कंटक कर सकते हैं. अगर कुंडली मे मंगल दोष हो, ग्रहण दोष हो, कालसर्प दोष हो, जिसके कारण विवाह मे देरी हो रही हो या फिर वैवाहिक जीवन मे परेशानी हो रही हो तो शिवरात्रि को पूजाए करके जीवन से परेशानियों को कम किया जा सकता है. शिवजी को अनेक नामो से जाना जाता है जैसे महादेव, त्रिनेत्रधारी, महाकाल आदि और उनकी कृपा से बड़े से बड़े समस्याओं का समाधान हो जाता है. अतः अगर कोई पुरे समर्पित हो के शिवजी की आराधना करता है तो इसमे कोई शक नहीं की जीवन से परेशानियों का वेग कम होने लगता है.  शिवरात्रि मे मंगल दोष निवारण हेतु भी पूजा किया जा सकता है. शिवरात्रि मे कालसर्प दोष निवारण हेतु भी पूजाए होती है. ग्रहण योग समाधान हेतु भी इस दिन पूजा होती है. नवग्रह दोष निवारण हेतु भी लोग शिवरात्रि को पूजा करते हैं.  आइये अब जानते हैं कुछ टोटक…

Jyotish aur Shivratri ज्योतिष और शिवरात्रि

Jyotish aur Shivratri ज्योतिष और शिवरात्रि, शिवरात्रि की शक्ति, राशि अनुसार शिव पूजा कैसे करे, क्या करे शिवरात्रि को, सफलता के लिए क्या करे शिवरात्रि को. शिवरात्री फाल्गुन महीने के चौदस को आता है हर साल, ऐसा माना जाता है की इस रात्री को शिव और पारवती का विवाह हुआ था. इसी कारण भक्तगण इस दिन और रात को व्रत रखते हैं, शिव मंत्र का जप करते हैं , कीर्तन करते हैं.  ज्योतिष के अनुसार राशि अनुसार भी लोग पूजाए कर सकते हैं. साधारणतः पंचामृत और अकड़े के फूल से पूजा आसानी से किया जा सकता है. कुछ लोग काले तिल से स्नान करके भी शिव पूजा करते हैं इस दिन.  शिवरात्रि एक ऐसी रात है जब विद्वान् लोग साधना करते हैं सफलता हेतु. अतः अगर कोई भी जीवन को निष्कंटक करना चाहते हैं तो उन्हें साधना जरुर करना चाहिए.  अपनी क्षमता अनुसार शिव पूजा करना चाहिए. हमारा विश्वास और श्रद्धा ही शिव कृपा को हमारे जीवन मे लाएगी.  आइये जानते है राशी अनुसार कैसे शिवजी की पूजाए कर सकते हैं :
मेष राशी और शिव पूजा : गुड के जल से शिवजी का अभिषेक करना चाहिए और लाल चन्दन , कनेर के पुष्प से शिव पूजा करना चाहिए. मीठी रोटी का भोग लगा के जरुरतमं…