Skip to main content

Posts

Showing posts from September, 2019

Vedc Jyotish Mai Kuch Mahattwapoorn Yoga

Vedc Jyotish Mai Kuch Mahattwapoorn Yoga, ज्योतिष में योग, क्या होते हैं योग और कैसे बनते हैं योग.  भारतीय ज्योतिष में या फिर यूँ कहे की वैदिक ज्योतिष में योगो का महत्तव भी बहुत है, ये पुरे जीवन में अपना प्रभाव बनाए रखते हैं. योगो को जानकार भी बहुत कुछ जाना जा सकता है. योगो का निर्माण कुछ ग्रहों के परस्पर साथ में बैठने से या फिर एक विशेष अंतराल में कुंडली के भावों में बैठने से होता है.  वैसे तो हजारो योगो का निर्माण होता है परन्तु यहाँ जानकारी के लिए कुछ महत्त्वपूर्ण योगो के बारे में जानकारी दे रहे हैं. 1.समुद्र योग: जब सभी ग्रह दुसरे, चोथे, छठे, आठवे, दसवें और बारहवे घर में बैठे तब समुद्र योग का निर्माण होता है. इस योग के कुंडली में होने से जातक की आर्थिक स्थिति अच्छी होती है, विपरीत लिंग से भी अच्छे सम्बन्ध होते हैं परन्तु इनको कन्या संतान ज्यादा होते हैं. 2. यूप योग: अगर सभी ग्रह पहले, दुसरे, तीसरे और चोथे घर में बैठ जाए तो यूप योग का निर्माण होता है कुंडली में. ऐसे जातक कुछ विचित्र तरह के रहते हैं और सांसारिक चीजे उनको ख़ुशी नहीं दे पाती हैं. इनको धन, वैभव से कोई लगाव नहीं होता पर …

Navratri Mai kala Jadu Se Suraksha

Navratri mai kala jadu se suraksha in hindi, नवरात्री में काला जादू से बचाव के उपाय, वस्तुएं जिनका प्रयोग किया जाता है काला जादू में, कैसे बचाए खुद को , व्यापार को,परिवार को काले जादू से.

ऐसा कहा जाता है की सिक्के के दो पहलु होते है एक सकारात्मक और दूसरा नकारात्मक. नवरात्री नौ दिन जो की अत्यंत शक्तिशाली माने जाते हैं साधना के लिए में भी दोनों प्रकार की साधनाए की जाती है.

सात्विक लोग जहा देवी और देवता की सात्विक साधना करते हैं वहीँ नकारात्मक विचारधारा से ग्रस्त लोग काले जादू और काले इल्म की साधना करते हैं.

ये काले जादू की साधनाए बहुत खतरनाक भी साबित होती है , ये सिर्फ जिसपे किया जाए उसका ही नुक्सान नहीं करती अपितु ये करनेवाले का भी सब कुछ बर्बाद करने की क्षमता रखती है. और देखा भी गया है की जिन्होंने अदृश्य शक्तियों का गलत इस्तेमाल किया है उनका हाल बहुत ख़राब हुआ है.

ऐसा इसीलिए होता है क्यूंकि हम बुरे से अच्छाई की उम्मीद नहीं रख सकते. शुरुआत में साधक को बहुत फायदे होते हैं परन्तु धीरे धीरे वो खुद ही इसमे फंस जाता है.

ऐसे बहुत से लोग है जो मेरे संपर्क में आये है जिन्होंने अपने शुरूआती समय…

Shardiya Navratri Aur Jyotish

Shardiya Navratri 2019 Aur Jyotish, शारदीय नवरात्री और ज्योतिष,क्या करे सफलता के लिए, जानिए ग्रहों की चाल. एक और शक्तिशाली समय आ रहा है जिसमे की हम शक्ति की आराधना कर सकते हैं, माँ दुर्गा की पूजा कर सकते हैं अपने उज्जवल भविष्य के लिए. ये दिन माँ की पूजा और उनके अवतारों की पूजा के लिए सर्वश्रेष्ठ दिन होते हैं.
देखा जाए तो साल में 4 नवरात्री आती है , उनमे 2 गुप्त नवरात्रियाँ होती है , साधारणता चैत्र मॉस की नवरात्री और शारदीय नवरात्री प्रसिद्द है. इन 9 दिनों में पूजा का विशेष महत्तव होता है कोई भी व्यक्ति अपनी किसी विशेष अभिलाषा को पूरी करने के लिए साधना कर सकता है.

जो लोग पुरे साल भर विशेष पूजा नहीं कर पाते हैं उनको इन 9 दिनों में जरुर पूजा आराधना करना चाहिए. तांत्रिक, अघोरी , संत, महात्मा, अध्यात्मिक साधक गण आदि पुरे साल नवरात्रीयों का इन्तेजार करते हैं अपनी साधना को सफल करने के लिए , अपनी साधना को गति देने के लिए.

साधारण लोग भी इन दिनों का लाभ बहुत आसानी से उठा सकते हैं. माता बहुत कृपालु है, दयालु हैं और अपने भक्तो का कल्याण करने के लिए तत्पर है, वो जगदम्बा हैं, जगत जाननी है, उनसे किस…

Suar Ke Daant Ke Totke

Jyotish Me Suar Ke Daant Ka Prayog, pig teeth locket benefits, Kaise banate hai suar ke daant ka tabij, क्या सूअर के दांत का प्रयोग अंधविश्वास है.

सूअर को साधारणतः हीन दृष्टि से देखा जाता है परन्तु यही सूअर पूजनीय भी है क्यूंकि भगवान् विष्णु ने वराह रूप में सूअर के रूप में अवतार लिया था और धरती को पाताल लोक से निकाला था. और वैसे भी किसी जीव से घृणा करना इश्वर का अपमान है , हर कृति इस विश्व में भगवान् की रचना है.
सूअर दांत के प्रयोग के बारे में आगे बताने से पहले कुछ महत्त्वपूर्ण बाते जानना चाहिए :इस प्रयोग में सिर्फ जंगली सूअर के दांत का प्रयोग होता है.किसी सूअर को जबरदस्त मार के प्रयोग में लाया गया दांत काम नहीं आता है अतः किसी भी प्रकार के हिंसा से बचे और दुसरो को भी सचेत करे.वैदिक ज्योतिष में सूअर के दांत के प्रयोग के बारे में उल्लेख नहीं मिलता है.इसका सूअर के दांत के प्रयोग को महुरत देख के ही करना चाहिए.कई लोगो का मनना है की सुकर दन्त का प्रयोग अंधविश्वास है परन्तु प्रयोग करके इसे जांचा जा सकता है , ऐसे अनेको लोग है जो अपने बच्चो को इसका ताबीज पहनाते हैं और कुछ लोग खुद भी पहनते है …

Adhi Yoga Vedic Jyotish In Hindi

ज्योतिष मे अधी योग, कैसे बनता है adhi yoga कुंडली मे, क्या प्रभाव होता है , जानिए ज्योतिष से.

अगर चन्द्रमा से छठे , सातवे और बारहवे भाव मे शुभ ग्रह बैठे हो तो कुंडली मे “अधी योग” का निर्माण होता है. ये बहुत ही शुभ योग होता है और जीवन को सफल बनता है.

आइये जानते है अधी योग का फल :ये योग जातक को दयालु बनता है.ये योग व्यक्ति को आत्मशक्ति देता है जिससे वो सफलता प्राप्त करता है. ये जातक को वैभवपूर्ण जीवन देता है अर्थान सुख सुविधाएं देता है .ऐसा जातक शत्रुओ को भी आसानी से परास्त कर देता है. अधी योग वाला जातक अच्छे स्वास्थ्य से युक्त होता है.  अतः अगर पूरी तरह से देखा जाए तो अधी योग एक शुभ और अच्छा योग है ज्योतिष मे और व्यक्ति को सफलता दिलाता है. अगर ये योग कुंडली मे हो तो निश्चित ही व्यक्ति अपने जीवन मे सफल होगा. अगर योग मौजूद हो पर कमजोर हो तो सही ज्योतिष से सलाह लेके सही नग, सही पूजा पाठ द्वारा इसे मजबूत किया जा सकता है.

किसी भी ज्योतिषीय मार्गदर्शन के लिए यहाँ क्लिक करे
संपर्क करे ज्योतिष से कुंडली विश्लेषण और समस्या समाधान के लिए >>

और सम्बन्धीत लेख पढ़े :
ज्योतिष मे योगो को जानिए
Adhee…

Pitru Moksh Amvasya Ko Kya Kare Totkay

पितृ मोक्ष अमावस्या को क्या करे पितरो की प्रसन्नता के लिए, जानिए कुछ आसान टोटके पितृ कृपा के लिए, कैसे दूर करे दुर्भाग्य, सर्व पितृ अमावस्या के लिए टोटके.

श्राद्ध पक्ष का अंतिम दिन होता है सर्व पितृ अमावस्या, ये दिन बहुत महत्त्व रखता है भारतीय ज्योतिष के हिसाब से. इस दिन बहुत बड़ी पूजाए होती है अपने जीवन को सुखी करने के लिए. हिन्दुओ में पितरो को बहुत सम्मान दिया जाता है क्यूंकि उनके कारण ही हम आज इस धरती पर है.

श्राद्ध पक्ष वो समय होता है जब हम अपने पूर्वजो के लिए पूजा, पाठ, दान आदि करते हैं ताकि उनकी उच्च गति हो और वो हमे आशीर्वाद दे सुखी जीवन के लिए.

पितृ पक्ष में हर तिथि को अलग अलग श्राद्ध लोग करते हैं परन्तु अगर किसी को अपने किसी पूर्वज की तिथि का ज्ञान न हो तो वो सर्व पितृ अमावस्या को उनका श्राद्ध कर सकता है.

इस अमावस्या को पितरो के निमित्त तर्पण करने से पितरो की कृपा की प्राप्ति होती है. जो लोग पितृ मोक्ष अमावस्या को अपने पूर्वजो के निमित्त भोजन, निकालते हैं, तर्पण करते हैं, दान देते हैं जरुरतमंदो को, उनके जीवन में खुशियाँ प्रवेश करती है, बढायें नष्ट होती है, धर्म-अर्थ-कम-मोक्ष की…

Pitra Moksha Amavasya Ka Mahatwa पितृ मोक्ष अमावस्या

Pitra Moksha Amavasya Ka Mahatwa पितृ मोक्ष अमावस्या का महत्तव, क्या है सर्वपितर अमावस्या, कैसे प्राप्त करे पितरों की कृपा, श्राद्ध के आखरी दिन क्या करे.

हर साल हिन्दू लोग 16 दिन तक विशेष पूजा पाठ करते हैं अपने पितरो की कृपा प्राप्त करने के लिए, ये सोलह दिन श्राद्ध पक्ष कहलाते हैं, पितर पक्ष कहलाते हैं , कुछ जगह पर इसे महालय भी कहते हैं. भारतीय संतो ने ये दिन निकाले थे जिससे की लोग अपने जीवन को सुखमय कर सके और अपने साथ साथ अपने पूर्वजो का कल्याण भी कर सके.  वास्तव में ये हमारा कर्त्तव्य है की हम अपने पूर्वजो को पितरो को समय समय पर याद करे और उनकी कृपा के लिए उनका धन्यवाद दे. क्यूंकि हम इस सुन्दर धरती पर अगर है तो उनके कारण. हिन्दू शाश्त्रो में पितरो को पूजने के लिए भी निर्देश दिए गए हैं जिससे की लोग सुखी और संपन्न जीवन जी सके. हिन्दू पंचांग के हिसाब से आश्विन माह में ये सोलह दिन आते हैं जब लोगो को विशेष रूप से पितरो के निमित पूजा पाठ, दान , तर्पण आदि करना चाहिए. ऐसा विश्वास किया जाता है की जो भी हम दान- पुण्य पितरो के नाम से करते हैं वो उनको प्राप्त होता है और बदले में वो हमे आशीष प्र…

Anfa Yog in Vedic Jyotish In Hindi

अनफा योग वैदिक ज्योतिष मे, कैसे बनता है ये योग कुंडली मे, अनफा योग का जीवन मे प्रभाव जानिए ज्योतिष द्वारा. अगर चन्द्रमा से बारहवे भाव मे ग्रह मौजूद हो तो अनफा योग का निर्माण होता है परन्तु एक शर्त ये है की सूर्य मौजूद नहीं होना चाहिए. अगर सूर्य १२वे भाव मे हो चन्द्रमा से तो ये योग नहीं बनेगा. ये योग भी शुभ है और जातक को बहुत फायदे देता है.

अनफा योग के जीवन मे प्रभाव :ये योग एक शुभ योग है और जातक को अच्छा शारीर प्रदान करता है. व्यक्ति का चेहरा बहुत आकर्षक होता है जिससे लोग उससे प्रभावित होते हैं. व्यक्ति आत्म सम्मान का भूखा होता है. अनफा योग के कारण व्यक्ति को जीवन मे मान-सम्मान मिलता है. व्यक्ति जीवन का आनंद भरपूर लेता है.  परन्तु जीवन के आखरी पडाव मे व्यक्ति अपने आपको सांसारिकता से दूर कर लेता है और अध्यात्मिक जीवन जीता है. ग्रहों की शक्ति के अनुसार परिणाम मे बदलाव भी दिख सकते हैं. परन्तु ये एक शुभ योग है और अगर कमजोर ग्रहों के कारण जीवन मे सफलता न मिल रहा हो तो ज्योतिष से परामर्श लेना चाहिए और आगे बढ़ना चाहिए.

संपर्क करे ज्योतिष से कुंडली विश्लेषण और समस्या समाधान के लिए >>

और सम…

Sunafa Yoga in Vedic Jyotish In Hindi

सुनफा योग क्या होता है ,कैसे बनता है सुनफा योग कुंडली मे, कैसे इस योग का प्रभाव बढाए, जानिए ज्योतिष से.
अगर कुंडली मे चन्द्रमा से दुसरे स्थान मे कोई ग्रह मौजूद हो तो सुनफा योग का निर्माण होता है परन्तु शर्त ये है की सूर्य नहीं होना चाहिए. अर्थात अगर चन्द्रमा से द्वितीय स्थान मे सूर्य हो तो सुनफा योग खंडित हो जाएगा. इसके अलावा अगर कोई भी ग्रह हो तो सुनफा योग का निर्माण हो जाएगा और जातक को उसका लाभ मिलेगा.

आइये जानते हैं सुनफा योग का जीवन मे प्रभाव:ऐसा जातक जीवन मे आगे बढ़ने के लिए खुद को स्वयं ही प्रेरित करने की योग्यता रखता है.सुनफा योग के कारण जातक खुद के कमाई से बचत भी करता हैइस योग के कारण जातक बुद्धिमान बनता है.सुनफा योग व्यक्ति को धनवान भी बनता है.इस ज्योतिषीय योग के कारण जातक समाज मे सम्मान प्राप्त करता है.अतः इस योग का जीवन मे शुभ प्रभाव पड़ता है , सुनफा योग होने पर भी अगर जीवन मे परेशानी हो तो ज्योतिष से सही मार्गदर्शन प्राप्त करे , हो सकता हो की ग्रहों की स्थिति ठीक न हो , ऐसे मे सही नग , पाठ पूजा द्वारा जीवन को सफल बनाया जा सकता है.
संपर्क करे ज्योतिष से कुंडली विश्लेषण और समस्…

Surya Grahan Dosh Ko Janiye Jyotish Me

कुंडली में सूर्य ग्रहण दोष को जानिए, कैसे बनता है सूर्य ग्रहण योग, क्या प्रभाव होता है सूर्य ग्रहण दोष का जीवन पर, क्या करे सूर्य ग्रहण दोष के प्रभाव को कम करने के लिए. लोग विभिन्न प्रकार के प्रश्न करते हैं सूर्य ग्रहण को लेके जैसे –क्या सूर्य ग्रहण व्यक्तिगत जीवन को प्रभावित करता है?क्या सूर्य ग्रहण काम काजी जीवन को प्रभावित करता है ?क्या सूर्य ग्रहण प्रेम जीवन को प्रभावित करता है ?क्या सूर्य ग्रहण वैवाहिक जीवन को प्रभावित करता है ?क्या इसके कारण काले जादू से भी ग्रस्त हो सकते हैं ?क्या कोई तरीका है जिससे सूर्य ग्रहण के परेशानियों से छुटकारा मिल सके ?अतः ऐसे बहुत से प्रश्न हैं जो की लोग पूछते हैं जिनके कुंडली में सूर्य ग्रहण दोष होता है. इस लेख में हम यही जानेंगे की कैसे सूर्य ग्रहण हमारे जीवन को प्रभावित करता है, कैसे जियें सफल जीवन. आइये जानते हैं सबसे पहले की क्या होता है सूर्य ग्रहण योग? राहू या केतु की युति जब सूर्य के साथ होती है तो सूर्य ग्रहण योग का निर्माण होता है कुंडली में. ये कोई शुभ योग नहीं है और इसी कारण जातक के जीवन में संघर्ष बढ़ जाता है. समस्या कितनी और कैसी रहेगी, य…

Navdurgao ki Shakti | नवदुर्गा

Navdurgao ki shakti in hindi, who are navdurga, importance of navratri, why to worship navdurga in navratri,9 manifestation of durga and there meaning in hindi.
माता कि अराधना हमेशा से ही समस्त कामनाओं को पूरी करने का एक सशक्त माध्याम रहा है। देवी भक्त के लिए इस दुनिया में कोई भी वस्तु अप्राप्य नहीं रहता है। धर्म , अर्थ, काम, मोक्ष कि प्राप्ति बड़ी ही आसानी से हो जाती है नवरात्री में महाशक्ति की आराधना से। अगर देवी कि कृपा प्राप्त हो जाए तो व्यक्ति को सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है। आइये समझते हैं कौन हैं माँ दुर्गा : ये हैं शक्ति कि देवी और साथ ही शिव का अंश भी हैं।  कहते है शिव शक्ति के बिना शव हैं, अतः इसी कारण संसार में  शक्ति अराधना को आवशयक माना गया है।   मुख्य रूप से माता दुर्गा के तीन रूप हैं :
महालक्ष्मीमाँ सरस्वती सरस्वतीमाँ कालीइन तीनो रूपों से ही इनके 9 रूपों का प्रकटीकरण हुआ है जिन्हें हम नवदुर्गा के नाम से जानते है।  
माँ दुर्गा के 9 रूप निम्नलिखित हैं :शैलपुत्रीब्रह्मचारीणीचंद्रघंटाकुष्मांडास्कंदमाताकात्यायनीकालरात्रीमहागौरीसिद्धिदात्री आइये जानते हैं कुछ मत्त्वपूर्ण त…

Vashikaran Yantra In Hindi, वशीकरण यंत्र को जानिए

Vashikaran Yantra In Hindi, वशीकरण यंत्र को जानिए, वशीकरण साधना, वशीकरण यन्त्र का सच.
किसी को मंत्र – तंत्र द्वारा खीचने की क्रिया वशीकरण कहलाती है, किसी के अन्दर अपने लिए विशेष भावनाए उत्पन्न करना वशीकरण के अंतर्गत लिया जाता है. जब खुद के तरक्की के लिए इस विद्या का प्रयोग किया जाता है तो इसे स्व-वशीकरण या फिर स्व – सम्मोहन कहा जाता है.

शत्रुता ख़त्म करने के लिए इस विद्या का प्रयोग किया जाता रहा है, अपने प्रेम को पाने के लिए भी लोग इस विद्या का प्रयोग करते हैं, जब वशीकरण का स्तेमाल अच्छे काम के लिए किया जाता है तो कोई समस्या नहीं है परन्तु जब इसका गलत प्रयोग किया जाता है तो इसके दुष्परिणाम भी देखने को मिलते हैं. अतः किसी भी हालत में इसके गलत प्रयोग न करे. वशीकरण नाम जीतना अच्छा लगता है उतना आसान वास्तव में है नहीं, जानकारी के अभाव में और कठिन साधना के अभाव में इसे सफलता पूर्वक कर पाना संभव नहीं है.  किन लोगो को ये साधना करना चाहिए :वो महिलाए जिनपर अत्याचार हो रहा हो , वो लोग इन मंत्रो द्वारा अपनी शक्ति को बढ़ा सकते हैं और अच्छा जीवन जी सकते हैं.वो लोग जो व्यापार में लगातार हानि उठा रहे …

Bachat Ke Yog Kundli Mai

बचत के योग कुंडली मे, जानिए कुंडली में कौन से भाव बचत को सपोर्ट करते हैं, कैसे रोके अनचाहे खर्चो को ज्योतिष के उपायों द्वारा?.
कुछ लोगो के लिए बचत एक बहुत बड़ी समस्या है, कमाई भले ही कितनी भी हो परन्तु जब बात बचत की होती है तो कुछ भी नहीं दीखता है. ऐसे लोग ज्योतिष से से ये पूछते है की – हम बचत क्यों नहीं कर पाते हैं?क्या करे की बचत शुरू हो?कैसे रोके अनचाहे खर्चो को आदि . आइये जानते हैं की बचत नहीं कर पाने के कारण क्या-क्या हो सकते हैं ज्योतिष अनुसार?हमारे कुंडली में चोथा भाव, पांचवा भाव, सातवां भाव, नवा भाव और बारहवां भाव बहुत महत्त्व रखता है बचत की दृष्टि से. इन भावो में कौन से ग्रह इस अवस्था मे बैठे है उसी आधार पर जातक की कमाई और बचत होती है. अगर ख़राब ग्रह इन भावों को कमजोर कर रहे हैं तो बचत करना बहुत मुश्किल होती है वही शुभ ग्रहों के होने पर जातक आसानी से संपन्न हो जाता है.कई बार ये भी देखा जाता है की उपर लिखे भावों में अच्छे ग्रह बैठे है परन्तु फिर भी जातक बचत नहीं कर पाटा है, तो ऐसे में ग्रहों की शक्ति को जांचा जाता है, अगर ग्रह बहुत कम अंश में विराजित हो तो भी जातक को परेशानी आती …

Gaay Aur Bachde Ka Jyotish Mahattw

गाय को हिन्दुओ में माता की मान्यता मिली है. विज्ञान की दृष्टि से भी गाय बहुत लाभदायक होती है समाज के लिए. गौ मूत्र, गाय का गोबर, गाय से निकलने वाली गंध सभी स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है. गायो में कामधेनु को दिव्य माना गया है. ये सभी की मनोकामना को पूरी कर सकती है.  वेदों के अनुसार गाय की चार टांगे ४ वेदों का प्रतिक है.
गौ माता की सेवा निश्चित ही भाग्य को जगाता है और बहुत सी समस्याओं से बचाता है.वैदिक ज्योतिष भी रोज गौ की सेवा करने की सलाह देते हैं. गौ सेवा से दुर्भाग्य जाता रहता है और बाधाओं का नाश होता है और जीवन को आसानी से जीने में मदद मिलती है.अगर कोई वास्तविक गाय को पालने में समर्थ न हो तो वो गौमाता और बछड़े के मूर्ति या फोटो को शुभ समय मे लगा के भी फायदे उठा सकते हैं. इससे वास्तु दोष भी दूर होता है और भाग्योदय होता है, नवग्रह दोष भी दूर होता है.अगर कोई व्यापार की समस्या से जूझ रहे हो तो गाय और बछड़े के मूर्ति को अच्छे महुरत में लगाने से मदद मिलती है.अगर किसी के घर में अनावश्यक कलह होती है तो भी गाय और बछड़े की मूर्ति या फोटो को शुभ महुरत में लगाने से लाभ होता है.अगर घर में वास्तु दोष…

Janiye Dhan Prapti Ke Kuch Sanket, Shubh Shakun

जानिए धन प्राप्ति के कुछ संकेत, जानिए कुछ शकुन जो बताते है की धन लाभ होने वाला है.
हमारे समाज में शकुन और अपशकुन का बहुत महत्त्व है, हमे हमारे आस पास बहुत से लोग मिल जायेंगे जो की संकेतो को देख के ये बता देते है की समय शुभ है की नहीं. कुछ लोग ये बता देते हैं की भविष्य कैसा रहेगा.
हम समाज में रहते हैं और यहाँ कुछ न कुछ घटता रहता है, शकुन शास्त्र के हिसाब से हरेक घटनाएं कुछ न कुछ रहस्य अपने अंदर छुपाये रहता है. अतः लोगो की इन घटनाओं में आस्था है और विश्वास भी. इसी कारण कुछ शकुनो को देख के हम बहुत खुश हो जाते हैं कुछ को देखके भयभीत हो जाते हैं.

इस लेख में हम सिर्फ धन लाभ से जुड़े संकेतो को देखेंगे. ऐसे बहुत से संकेत है जिनको देखके हम ये जान सकते हैं की धन लाभ होने वाला है.
आइये जानते है कुछ शुभ शकुनो या संकेतो के बारे में जो हमे धन लाभ के बारे में बताते हैं :अगर आप कही जा रहे हैं और आपके सामने से नेवला रास्ता काट जाए तो ये एक शुभ शकुन हो जाता है, ये इस बात का संकेत है की कहीं से धन लाभ होने वाला है.अगर आप किसी धन सम्बन्धी कार्य के लिए जा रहे हो और ऐसे में गलती से आपकी जेब से कोई मुद्रा…

Navratri Vashikaran नवरात्री वशीकरण

, Navratri Vashikaran नवरात्री वशीकरण, कैसे करे नवरात्री में वशीकरण साधना, कैसे बढाए अपनी सम्मोहन शक्ति वशीकरण मंत्रो द्वारा नवरात्री में.

नवरात्री अर्थात साधना के लिए उपयुक्त 9 रातें जिनका इन्तेजार हर साधक पुरे वर्ष भर करते हैं. इन रात्रियों में सकरात्मक शक्तियां भक्तो का कल्याण करने के लिए तत्पर रहती हैं. देखा जाए तो पितृ पक्ष से लेके दिवाली तक का पूरा समय ही साधना के लिए उपयुक्त होता है और ऐसे में हमे कोई भी क्षण व्यर्थ नहीं गवाना चाहिए.  ये लेख उन लोगो के लिए है जो की अपनी सम्मोहन शक्ति को बढ़ाना चाहते हैं जो वशीकरण की शक्ति को देखना चाहते हैं और एक स्वस्थ और संपन्न जीवन व्यतीत करना चाहते हैं.


नवरात्री में हालांकि किसी भी प्रकार की साधना सफल हो सकती है परन्तु वशीकरण साधना का अपना एक अलग ही महत्तव है. इसके अंतर्गत किसी विशेष शक्ति को अपनी और आकर्षित करने के लिए साधना की जाती है, अपने अन्दर की शक्तियों को जगाने के लिए साधना की जाती है, अपना सकारात्मक प्रभाव और सकारात्मक और को बढ़ाने के लिए साधना की जाती है.

आकर्षण शक्ति का होना अपने आप में अलग ही महत्तव रखता है और जीवन में सफलता के लि…

Grhan Yog Kya Hota Hai Jyotish Me

ग्रहण योग क्या होता है , कैसे बनता है ग्रहण योग कुंडली में, जानिए ग्रहण योग के जीवन में प्रभाव, कैसे बचाए अपने आपको ग्रहण योग के दुष्प्रभाव से.
ज्योतिष में ग्रहण योग एक महत्त्वपूर्ण योग है जिसका असर जीवन में बहुत होता है. जिस जातक के कुंडली में ग्रहण योग होता है वो स्वयं ही इसे महसूस कर सकता है. परन्तु ऐसे भी बहुत से लोग है जो जीवन में परेशान तो बहुत है परन्तु उन्हें ये नहीं पाता की क्यों परेशान है. 
ग्रहण योग के कारण न सिर्फ भौतिक जीवन में परेशानी पैदा होती है बल्कि अध्यात्मिक जीवन में भी सफलता में समस्या पैदा होने लगता है. अतः ये जरुरी है की हम इस योग के बारे में जानकारी ले और जीवन को सुखी करे. क्या होता है ग्रहण योग, कैसे बनता है कुंडली में ग्रहण योग? इसे साधारण तरीके से समझिये. जब भी कुंडली के किसी भाव में राहू और केतु के साथ कोई दूसरा ग्रह बैठ जाता है तो ग्रहण योग का निर्माण हो जाता है. दुसरे जब राहू और केतु के महादशा या अन्तर्दशा में कोई दूसरा ग्रह आता है तो भी ग्रहण योग का निर्माण होता है.  ये एक ऐसा योग है जिसके कारण जीवन में संघर्ष बढ़ जाता है और व्यक्ति को अपने लक्ष्य की प्रा…

Nakaratmak Urja Ko Rokne Ke Kuch Upaay

Nakaratmak Urja Ko Rokne Ke Kuch Upaay, क्या है नकारात्मक उर्जा, कैसे रोखे नकारात्मकता को, जानिए कुछ ज्योतिषीय और वास्तु के उपाय नकारात्मक उर्जा से बचने के लिए.
वो उर्जा जिनसे हमे नुकसान होता है , परेशानी होती है, वो सब नकारात्मक उर्जा कहलाती है, नकारात्मक उर्जा जीवन में संघर्ष उत्पन्न करती है और मुश्किलें दिन प्रतिदिन बढती जाती है. नकारात्मक उर्जा के अंतर्गत हम काले जादू, भूत-प्रेत दोष, वास्तु उर्जा, बीमारियों आदि को भी शामिल करते हैं.
अगर हमे किसी जगह की नकारात्मकता को जानना है तो हमे उस जगह को महसूस करना होगा, अगर हम किसी जगह जाने पर घबराहट महसूस करते हैं या फिर हमारे व्यवहार में नकारात्मक परिवर्तन महसूस करते हैं तो ये जान लेना चाहिए की वहां पर किसी प्रकार की नकारात्मकता है उदाहरण के लिए टॉयलेट या कचरे फेके जाने वाले जगह पर जाने पर हमे एक विशेष प्रकार की गंध आती है जो की हमारे लिए परेशानी का कारण बन जाती है और हम ज्यादा देर तक वहां नहीं रह सकते , ये भी नकारात्मकता के कारण ही होता है. घर में नकारात्मकता होगी तो हम रह नहीं पायेंगे, ऑफिस में नकारात्मकता होगी तो काम सही तरीके से नहीं क…