vedic jyotish from India

हिंदी ज्योतिष ब्लॉग ज्योतिष संसार में आपका स्वागत है

पढ़िए ज्योतिष और सम्बंधित विषयों पर लेख और लीजिये परामर्श ऑनलाइन

Vastu Me Paintings Ka Prayog Kaise Kare

वास्तु के लिए कौन से चित्र शुभ होते हैं, आइये जानते हैं चित्रों का महत्त्व वास्तु में, कौन से पेंटिंग्स भाग्य को जगाता है, कैसे प्रयोग करे चित्रों का घर, ऑफिस आदि में ज्योतिष और वास्तु के नियमो के हिसाब से.
वास्तु के लिए कौन से चित्र शुभ होते हैं, आइये जानते हैं चित्रों का महत्त्व वास्तु में, कौन से पेंटिंग्स भाग्य को जगाता है, कैसे प्रयोग करे चित्रों का घर, ऑफिस आदि में ज्योतिष और वास्तु के नियमो के हिसाब से.
paintings ka kaise prayog kare vastu me success ke liye

पेंटिंग्स, फोटो, मूर्तियाँ आदि हमारे जीवन में बहुत महत्त्व रखती हैं और हमारे घर, ऑफिस आदि का एक भाग है. अतः हमारे विद्वानों ने कुछ सिद्धांत बनाए हैं जिनके हिसाब से अगर पेंटिंग्स का प्रयोग वास्तु में किया जाए तो निश्चित ही बहुत अच्छे लाभ दीखते हैं. सही जगह पर लगाया गया पेंटिंग वास्तु में ऊर्जा को बढ़ाता है और सफलता के रास्ते खोलता है. 

पेंटिंगो को लगाने के लिए लोग अलग अलग मत देते हैं जैसे कुछ कहते हैं की उत्तर दिशा की और लगाना चाहिए, कुछ कहते हैं दक्षिण और कुछ कहते हैं पश्चिम आदि. परन्तु सही बात तो ये है की जरुरत और किस प्रकार का पेंटिंग है ये जानने के बाद ही दिशा निर्धारण होता है. विभिन्न प्रकार के चित्रों के लिए विभिन्न दिशा निर्धारित है. 

अतः अगर आप चित्रों को लगाने वाले है वास्तु में तो निम्न बातो का ध्यान रखे :
किस कारण से आप पेंटिंग लगाना चाहते हैं.
किस प्रकार का पेंटिंग आप लगाना चाहते हैं जैसे जानवर, नदियाँ, समद्र, सीनरी, हास्य से सम्बंधित, देवी-देवताओं की पेंटिंग आदि.
 
आइये जानते हैं कुछ फायदे शुभ पेंटिंगो के बारे में :
कोई भी शुभ और सुन्दर चित्र से वास्तु में और सुन्दरता आ जाती है.
एक अच्छा पेंटिंग वास्तु में उर्जा का संचार करता है.
शुभ और अच्छी पेंटिंग जिस रूम में लगता है उसमे सकारात्मक ऊर्जा बढ़ जाती है.
चित्र और पेंटिंग हमारी इच्छाओ को भी पूरी करने में मदद करती है.
हमारे मूड पर भी चित्रों का पूरा असर होता है और इसी कारण मूड बदलने में भी ये सहायक हैं. 

आइये जानते हैं की कैसे पेंटिंग को लगाए अच्छे परिणाम के लिए :
  1. अगर आप उगते सूर्य से सम्बंधित चित्र लगाना चाहते हैं तो उसे पूर्व दिशा की और लगाना चाहिए.
  2. अगर आप पहाड़ से सम्बंधित चित्र लगाना चाहते हैं तो उसे दक्षिण दिशा की और लगाना चाहिए.
  3. अगर आप पूर्वजो का फोटो लगाना चाहते हैं तो उसे दक्षिण की दिवार पर लगाना चाहिए.
  4. शयन कक्ष के लिए दिल का चित्र, रोमांटिक जोड़ो का चित्र, पक्षियों का चित्र, फूलो का चित्र आदि शुभ रहता है.
  5. नदी, समुद्र या अन्य जल स्त्रोत का चित्र लगाना हो तो उसे उत्तर या फिर उत्तर-पूर्व की और लगाना चाहिए.
  6. महालक्ष्मी का फोटो लगाना हो तो पश्चिम दिशा में लगाए.
  7. कुछ लोग श्री गणेश का फोटो दरवाजे के ऊपर बाहर की और लगते हैं पर इसमें याद रखे की अन्दर की और भी एक फोटो लगाना चाहिए.
  8. फल, पकवानों के चित्र के लिए रसोई घर उपयुक्त स्थान है.
  9. दौड़ते हुए घोड़ो का फोटो लगाना चाहिए, इससे रचनात्मकता बढती है, धन आने के रास्ते खुलते हैं, उर्जा बढ़ती है, वातावरण को भी शक्तिशाली बनता है.
  10. काम काज के स्थान में धन से सम्बंधित तस्वीरे भी लगा सकते हैं , शुभ होता है.
  11. स्वास्थ्य लाभ के लिए हरियाली से युक्त तस्वीरे लगाए या फिर बांस के पेड़ो का फोटो भी शुभ होता है.
  12. सम्पन्नता के लिए कृष्ण जी का बांसुरी बजाते हुए साथ ही जिसमे गाय भी बेठी हो लगाना चाहिए.
आइये अब जानते हैं की कौन से तस्वीर नहीं लगाने चाहिए वास्तु में :
  • रोते हुए चेहरे का फोटो नहीं लगाना चाहिए, लड़ाई – झगड़े के फोटो नहीं लगाना चाहिए, हिंसक पशु–पक्षियों का फोटो नहीं लगाना चाहिए, गरीबी दर्शाते हुए फोटो नहीं लगाना चाहिए, इनसे दुर्भाग्य आता है.
  • शयन कक्ष में देवी का फोटो नहीं लगाना चाहिए.
  • हिंसक तस्वीरे भी नहीं लगाने चाहिए.
  • जल से सम्बंधित तस्वीरों को दक्षिण या दक्षिण पूर्व में नहीं लगाना चाहिए.
  • एक अच्छा पेंटिंग जीवन को सकारात्मक रूप से बदल सकता है. अगर आप अपने संबंधो को सुधारना चाहते हैं, पढ़ाई को अच्छा करना चाहते हैं, स्वास्थ्य लाभ चाहते हैं, अपनी स्थिति को मजबूत करना चाहते हैं और बुद्धिमानी से पेंटिंगो का प्रयोग करे. 
और सम्बंधित लेख पढ़े :
How to Place Paintings in Vastu ?

वास्तु के लिए कौन से चित्र शुभ होते हैं, आइये जानते हैं चित्रों का महत्त्व वास्तु में, कौन से पेंटिंग्स भाग्य को जगाता है, कैसे प्रयोग करे चित्रों का घर, ऑफिस आदि में ज्योतिष और वास्तु के नियमो के हिसाब से.

No comments:

Post a Comment