vedic jyotish from India

हिंदी ज्योतिष ब्लॉग ज्योतिष संसार में आपका स्वागत है

पढ़िए ज्योतिष और सम्बंधित विषयों पर लेख और लीजिये परामर्श ऑनलाइन

Bhartiya Jyotish Aur Mahine Bhag 2

हम ज्योतिष के महत्त्व को पहले अध्याय मे पढ़ चुके है अब दुसरे पाठ मे हम जानेंगे महीनो के बारे मे, महीनो के वैदिक नाम आदि. 
Bhartiya Jyotish Aur Mahine Bhag 2, उत्तरायण और दक्षिणायन, ग्रह और तत्त्वों का सम्बन्ध
ज्योतिष मे महीने पाठ 2 

इसके अलावा अगर आप 9 ग्रहों के बारे मे जानना चाहते हैं तो भी आप यहाँ जान सकते हैं. ग्रहों को कौन सी उपाधि प्राप्त है इसे भी आप इस पाठ मे जानेंगे अर्थात कौन सा ग्रह राजा है, कौन मंत्री है आदि. 

कुंडली को पढने के समय ग्रहों का तत्त्वों से सम्बन्ध भी ध्यान रखना पड़ता है. इसे भी आप यहाँ जान पायेंगे, ५ तत्त्व होते हैं वायु, अग्नि, प्रथ्वी, आकाश और जल, हर ग्रह का सम्बन्ध किसी न किसी तत्त्व से होता है. इसके आधार पर उसका प्रभाव भी होता है. 

सूर्य पुरे साल मे १२ राशियों से गुजरता है और इसी के आधार पर उत्तरायण और दक्षिणायन होता है, इसको भी हम जानेंगे इस अध्याय मे. महुरत निकालने मे इनकी जरुरत पड़ती है. 

ज्योतिषी सीखिए के अध्याय 2 को पढने के बाद आप जान पायेंगे १२ महीनो के बारे मे, महीनो के वैदिक नाम, ग्रह तत्त्वो का सम्बन्ध, उत्तरायण और दक्षिणायन.

ये एक मजेदार विज्ञान है जिससे जितना जाना जाता है रस्य खुलते जाते हैं. 
Bhartiya Jyotish Aur Mahine Bhag 2, उत्तरायण और दक्षिणायन, ग्रह और तत्त्वों का सम्बन्ध

No comments:

Post a Comment

Indian Jyotish In Hindi