Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2018

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में, ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे  समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आ…

Mangla Gauri Puja Kya Hai

Mangla Gauri Puja Kya Hai, क्यों करे मंगला गौरी पूजा, क्या फायदे हैं मंगला गौरी पूजा के, मंगला गौरी व्रत महिमा.
श्रवण महीने के हर मंगलवार को एक विशेष पूजा का दिन होता है जब कुंवारी कन्याये अपनी मनोकामनाए पूर्ण करने के लिए पूजन कर सकती है. ये दिन होता है माँ मंगला गौरी को पूजने का जो की वास्तव में माँ पार्वती ही हैं. 
शिवजी के महीने में हर मंगलवार माँ पार्वती की पूजा के लिए होता है और जिन कन्याओं को विवाह में समस्या आ रही है या जो अच्छा वर चाहती है वो श्रवण मंगलवार को मंगला गौरी की पूजन करती है. 
माँ पार्वती शिवजी की अर्धांगिनी है और अपने भक्तो की मनोकामना को पूरा करने के लिए सदेव तत्पर रहती है इसी कारण प्राचीनकाल से कन्याये माँ गौरी की पूजा करती आ रही है. 
कैसे किया जाता है माँ मंगला गौरी की पूजा : इस पवित्र और शक्तिशाली दिन को कन्याये जल्दी उठकर अपने दैनिक क्रियाओं से निवृत्त होके माँ गौरी की मूर्थी या फोटो के आगे संकल्प लेती है की वो किस मनोकामना के लिए ये पूजा या व्रत कर रही है. 
माँ गौरी की पंचोपचार पूजन किया जाता है और उनको फूल, फल, दीप, नैवेद्य, आदि भेंट किया जाता है. देश के कुछ …

Saawan Ke Liye Chamatkaari Upaay

श्रावण के उपाय, सावन के चमत्कारी उपाय,  सावन के टिप्स , श्रावण में धन लाभ के उपाय, सावन में भगवान शंकर को प्रसन्न करने के उपाय , सावन के प्रभावशाली उपाय, सावन में शीघ्र फल के उपाय,  श्रावण में दरिद्रता दूर करने के उपाय, सावन में भगवान शिव की कृपा प्राप्त करने के उपाय, सावन में काल सर्प दोष के उपाय, सावन में रुद्राभिषेक सावन का पवित्र  महिना भगवान शंकर को बहुत प्रिय है। इस महीने में शिव भक्त भगवान् शिव को प्रसन्न करने के लिए विभिन्न उपाय करते है | सावन में भोलेनाथ की नित्य कुछ खास उपायों को करने से चमत्कारी लाभ दिखने को मिलते हैं.  भोलेनाथ बहुत ही भोले है और आसानी से भक्तो का कल्याण करते हैं, इनकी पूजा में कोई विशेष वस्तुओ की जरुरत भी नहीं होती है | इनको महादेव भी कहा गया है । सावन माह में भगवान भोले नाथ (Bhagwaan Bhole Nath) की पूजा अर्चना का विशेष ही महत्व है। कहते है सावन में भगवान शिव की सच्चे मन से पूजा करने से जातक को सभी सिद्धियाँ प्राप्त होती है उसकी समस्त मनोकामनाएँ पूर्ण होती है सावन के चमत्कारी उपाय, Sawan ke Chamatkari upay, सावन में शिव पूजा, Sawan Me Shiv Puja, सावन में …

Saawan Mahine Me Kya Kare Safalta Ke liye

सावन के महीने में क्या करे सफलता के लिए, जानिए श्रावण महीने की शक्ति, जानिए कैसे करे सावन सोमवार को उपवास, क्या करे श्रावण महीने में सफलता के लिए, सावन महिना और ज्योतिष.
चातुर्मास के अंतर्गत श्रावन महीने का भी बहुत महत्त्व है. इस महीने का अध्यात्मिक साधना को करने का भी बहुत महत्त्व है. सावन महिना भगवान् शिव के पूजा के लिए भी बहुत महत्त्वपूर्ण है. विशेषकर सोमवार को लोग शिवजी की विशेष पूजा अर्चना करते हैं और सावन महीने के सोमवार “श्रवन सोमवार ”के नाम से भी बहुत प्रसिद्द है.
श्रावण महीने में अनेक प्रकार की पूजाए सफल होती है जैसे :शादी या विवाह में समस्या हटाने के लिए श्रावण महीने में पूजाएँ हो सकती है.व्यापार बाधा को हटाने के लिए भी विशेष पूजाएँ होती है सावन महीने में.भगवान् शिव को प्रसन्न करने के लिए भी पूजाए होती है श्रावण महीने में. आर्थिक परेशानी को दूर करने के लिए भी इस महीने में पूजाए संभव है. श्रावण महीने में पूजा आराधना, मंत्र सिद्धि करना आसान होता है. इस महीने में पारद शिवलिंग को स्थापित करके पूजा करना भी बहुत लाभदायक होता है. आइये जानते हैं की कौन कौन से अन्य त्यौहार भी आते …

2018 Sawan Mahine Ka Mahattw

2018 Sawan Mahine Ka Mahattw, ज्योतिष के अनुसार सावन महीने में क्या करे सफलता के लिए, श्रावण सोमवारों की तारीख और महाकाल साही सवारी की तारीख, मुख्य त्यौहार जो आ रहे है २०१८ श्रावण महीने में. वर्ष 2018 श्रावण महिना २८ जुलाई शनिवार से शुरू हो रहा है और 26 अगस्त रविवार को ख़त्म होगा, इस बार सावन महिना पुरे ३० दोनों का होगा और साथ ही अनेक महत्त्वपूर्ण त्यौहार भी आ रहे है इस बार सावन महीने में. ज्योतिष के हिसाब से श्रवण महिना भगवान् शिव का महिना है और इसी कारण लोग सावन के महीने में भगवान् शिव को प्रसन्न करने के लिए विभिन्न प्रकार की पूजाएँ करते हैं.

आइये जानते हैं 2018 में सावन सोमवारों की तारीखे: पहला श्रवण सोमवार ३० जुलाई को रहेगा इसी दिन उजैन में बाबा महाकाल की पहली सवारी निकलेगी.दूसरा सावन सोमवार ६ अगस्त २०१८ को है जब महाकाल बाबा की दूसरी सवारी उज्जैन में निकलेगी.तीसरा श्रावण सोमवार १३ अगस्त को है और इस दिन निकलेगी महाकाल की तीसरी सवारी.चौथा सावन सोमवार २० अगस्त को है और इस दिन बाबा की चौथी सवारी निकलेगी. नोट : उज्जैन में हर सावन सोमवार को बाबा की सवारी निकलती है हर साल और साथ ही एक स…

Shivji Se Judi Vastuo Ka Mahattw In Hindi

मानसिक शांति, सांसारिक सफलता, अध्यात्मिक उच्च अवस्था को पाने का सबसे सरल तरीका है शिव पूजा. हिन्दू धर्म ग्रंथो के हिसाब से भगवान् शिव कण कण मे मौजूद है. शिवजी के मंदिर संसार मे सब जगह मिल जाते हैं, शिव भक्त भी पुरे विश्व मे मौजूद है. 
भक्तगण शिव को अनेक नामो से पुकारते है जैसे भूतनाथ, रूद्र, नीलकंठ, मृत्युंजय, अघोरी आदि. सोमवार, शिवरात्रि, चौदस, अमावस्या आदि को इनकी विशेष पूजा की जाती है. 
शिव पूजा मे कई प्रकार के वस्तुओ का प्रयोग होता है जैसे बिल्व पात्र, दूध, जल, धतुरा, शहद आदि.
इसी प्रकार कई वस्तुए इनसे जुडी हुई है जैसे कड़ा, मृगछाल रुद्राक्ष, नाग, खप्पर, डमरू, गंगा, चन्द्रमा. इन सबका अपना ही महत्त्व है.  आइये जानते हैं भगवान् शिव से जुडी वस्तुओ का महत्त्व:१.बिल्वपत्र :
इसमे औषधीय गुण पाए जाते हैं, ये जठराग्नि को भी पोषित करता है, पाचन क्रिया मे सहायक है और बहुत अच्छा शोधक है. शिव हमेशा ही समाधि मे रहते हैं अतः भक्त उनक बेलपत्र अर्पित करते हैं.
2. मृगछाल :
ऐसा माना जाता है की ये ध्यान के लिए बहुत अच्छा होता है, ये शरीर के उर्जा को धरती मे जाने से रोकता है अतः साधक को अच्छी ऊर्जा …

Sawan Mahine Me Bhagyoday Ke Upaay

सावन महीने में भाग्योदय के लिए क्या करे, जानिए ज्योतिष के कुछ ख़ास उपाय, जानिए शरवन महीने के लिए विशेष पूजा. सावन का महिना भगवन शिव की पूजा के लिए विशेष महत्त्व रखता है, इस महीने में अध्यात्मिक उन्नति के लिए पूजा पाठ और साधना की जाती है. सावन के महीने में दान और शिव पूजा का भी बहुत महातत्व है.
जो लोग भगवान् शिव के भक्त हैं उनके लिए तो ये महिना बहुत ख़ास होता है. सभी जगह भगवन शिव के मंत्रो की गूंज सुनाई देती है, शिव भजन सुनाई देता है पूरा वातावरण शिवमय हो जाता है.
अगर कोई जातक दुर्भाग्य से ग्रस्त है, अगर कोई बुरी शक्तियों के घेरे में हो, अगर कोई काले जादू से परेशान हो तो सावन के महीने में शिव पूजा से लाभ प्राप्त कर सकते हैं और अपने जीवन को निष्कंटक कर सकते हैं. जानिए भाग्य का महत्त्व: मनुष्य जीवन में भाग्यशाली होना बहुत महतत्व रखता है. भाग्यशाली जातक को नाम, यश, धन सफलता बहुत आसानी से मिल जाती है. वहीँ भाग्यहीन जातक को बहुत ज्यादा मेहनत करना होती है किसी चीज को प्राप्त करने के लिए, कुछ लोगो को तो बुनियादी जरूरतों के लिए भी बहुत संघर्ष करना होता है.
इसमें भी कोई शक नहीं की अगर भगवान् शिव क…

Chandra Grahan Hai Guru Poornima Ko 27 july 2018 Ko

२०१८ में  27 जुलाई को गुरु पूर्णिमा पर चन्द्र ग्रहण का राशियों पर प्रभाव जानिए, कब लगेगा चन्द्र ग्रहण, क्या करे चन्द्र ग्रहण में, ज्योतिष उपाय सुखी जीवन के लिए.
गुरु पूर्णिमा में चन्द्र ग्रहण, क्या करे सुखी जीवन के लिए ग्रहण में.
चन्द्र ग्रहण शुरू होगा रात्रि को 11:39 PM पर चन्द्र ग्रहण समाप्त होगा रात्रि को 3:35 AM पर ग्रहण का सूतक शुरू होगा 27जुलाई २०१८ , शुक्रवार को दोपहर 2:30 PM पे. आइये देखते है कौन सी राशीयो के लिए चन्द्र ग्रहण शुभ है और कौन सी राशियों के लिए अशुभ:
मकर और कुम्भ राशी वालो को बहुत सावधानी रखने की जरुरत है.वृषभ, कन्या और धनु राशी वालो के ऊपर ज्यादा असर नहीं होगा चन्द्र ग्रहण का.मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक और मीन राशि वालो के लिए ये ग्रहण शुभ फलदाई होगा.
ग्रहण काल में कोई भी यात्रा या शुभ कार्य नहीं करना चाहिए और पूरा समय ज्यादा से ज्यादा मंत्र जप, ध्यान, पूजा आदि में गुजारना चाहिए.

अतः अध्यात्मिक अभ्यास करे चन्द्र ग्रहण में और सफलता को खींचिए अपनी और.

ग्रहण के समय की गई पूजा पाठ, तंत्र, मंत्र साधनाएं बहुत जल्दी फल देती है अतः इस समय का सदुपयोग करना चाहिए.
और ग्रहण से स…

Guru Poornima Importance In Hindi

Guru Poornima Importance In Hindi, गुरु पूर्णिमा का महत्तव हिन्दी में, क्या करे गुरु पूर्णिमा को.
2018 में 27 जुलाई , शुक्र वार को गुरु पूर्णिमा आ रही है और इस दिन चन्द्र ग्रहण भी होगा. 

हम सभी जानते हैं की हर साल भारत में गुरु पूर्णिमा बहुत ही उल्लास के साथ मनाया जाता है परन्तु इसका महत्तव बहुत ही कम लोग जानते हैं, आइये जानते हैं कुछ ख़ास बाते गुरु पूर्णिमा के ऊपर. गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्व रः । गुरु साक्षात्‌ परब्रह्म तस्मै श्रीगुरुवे नमः ॥ हमे ये श्लोक पढाया जाता है शुरू से ही , इसका मतलब है “गुरु ही ब्रह्मा है, गुरु ही विष्णु है , गुरु ही महेश्वर है और गुरु ही साक्षात् भगवान् है इसीलिए गुरुदेव को नमस्कार है ”. गुरु के बिना संसार की कल्पना भी संभव नहीं है, कई अध्यात्मिक साधको से मिलके ये पता चलता है की गुरु मिलने के बाद ही उनको वास्तव में जीवन का रहस्य समझ में आया, गुरु मिलने के बाद ही उनको उनके जन्म का कारण समझ आया, गुरु मिलने के बाद ही उनको उनके शक्ति का परिचय मिला. हमलोगों ने भगवान् को तो नहीं देखा परन्तु हम लोगो को जो शिक्षा देते हैं उनको हम जरुर जानते हैं इसी क…

Shani Pushya Ka Mahattwa In Jyotish

शनि पुष्य योग का महत्त्व हिंदी में, कैसे बनता है शनि पुष्य योग, क्या करे शनि पुष्य को , क्या न करे शनि पुष्य को सफलता प्राप्त करने के लिए. 
शनि पुष्य योग एक दुर्लभ योग है जो कभी कभार ही बनता है अतः इस दिन का प्रयोग विशेष पुजायो और टोटको को करने के लिए किया जा सकता है शनि देव को प्रसन्न करने के लिए. हम सभी जानते हैं की पुष्य नक्षत्र बहुत ही महत्त्व रखता है २७ नक्षत्रो में. 
जब पुष्य नक्षत्र शनिवार को आये तो वो दिन “शनि पुष्य योग ” कहलाता है.
वर्ष 2018 में 14 july को शनि पुष्य योग बन रहा है जिससे इस दिन का महत्व्  बहुत बढ़ जाता है क्यूंकि पुष्य का स्वामी है शनि अतः इस दिन हम शनि की शक्ति को बहुत अधिक महसूस कर सकते हैं. 
आइये अब जानते हैं शनि पुष्य योग के महत्त्व को : ये दिन शनि देव को प्रसन्न करने के लिए एक सर्वश्रेष्ठ दिन है. अगर कोई शनि साढ़े साती से या फिर शनि ढईया से ग्रस्त है तो इस दिन शनि शांति पूजा से विशेष लाभ मिल सकता है. इस दिन शनि देव का सरसों के तेल या फिर तिल के तेल से अभिषेक करने से विशेष फल प्राप्त होता है और परेशानियों से छुटकारे के रास्ते खुलते हैं. शनि पुष्य को जरुरतमंदों …

Jivika Sadhan Aur Jyotish

ज्योतिष से जानें जीविका के रहस्य, क्या होगा जीविका क्षेत्र, ज्योतिष की राय: जानें, किस रोजगार में भाग्य देगा साथ, आईये जाने जीविका प्राप्ति के योग ज्योतिष. कुंडली में भाव अनुसार रोजगार जानिए ज्योतिष में: जीविका साधन का जीवन में बहुत महत्त्व है, सही जीविका मिल जाए तो जीवन आसान हो जाता है परन्तु गलत जीविका चुनने से कई परेशानियाँ जीवन में आने लगती है और सही सफलता भी नहीं मिल पाती है. ज्योतिष में कुंडली के ग्रहों को देखके सही रोजगार को चुनने में सहायता मिलती है. इस लेख में हम देखेंगे की ज्योतिष में रोजगार को कैसे जाना जा सकता है विभिन्न तरीको से.  आइये देखते हैं की कुंडली का दसवां भाव से रोजगार या जीविका को कैसे जाना जा सकता है:जब कुंडली के दसवे भाव का स्वामी लग्न में बैठे तो जातक कड़ी मेहनत करने में सक्षम होता है और खुद की मेहनत से जीवन में सफलता प्राप्त करता है. ऐसे लोग व्यापार चला के सफल जीवन व्यतीत कर सकते हैं. जब कुंडली के दसवे भाव का स्वामी कुंडली के दुसरे घर में बैठे तो जातक भाग्यवान होता है और वो किसी भी साधन को चुनके सफलता प्राप्त कर सकता है. ऐसे में ये भी देखा गया है की जातक …

Chandra Grahan Ka Mahattwa In Hindi

Chandra Grahan Ka Mahattwa In Hindi, क्या करे चन्द्र ग्रहण के समय, क्या न करे ग्रहण के समय, जानिए कैसे बनाए जीवन को सुखी ग्रहण काल में. ग्रहण देखा जाए तो ठीक नहीं माना जाता है विज्ञान के हिसाब से क्यूंकि इस समय हानिकारक किरणे निकलती है जिससे की वातावरण दूषित होता है और जो लोग इसके संपर्क में ज्यादा आते हैं उनको कई प्रकार के समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. अतः ये सलाह दी जाती है की ग्रहण काल में बहार ना निकला करे. परन्तु इसका एक दूसरा बहुत ही अच्छा पक्ष है और वो ये की ग्रहण काल में की गई साधना शीघ्र फल प्रदान करती है, मंत्र सिद्धी, यन्त्र सिद्धी, तंत्र सिद्धी के लिए इससे ज्यादा अच्छा समय नहीं होता है. यही कारण है की विद्वान् लोग, तांत्रिक, मान्त्रिक और अन्य साधक ग्रहण का इन्तेजार लम्बे समय तक करते हैं. वैदिक ज्योतिष के हिसाब से चन्द्र का सम्बन्ध माता से होता है, मन से होता है, ठंडक से होता है, स्वप्न से होता है आदि. कर्क राशि का स्वामी है चन्द्र और चांदी इससे सम्बंधित धातु है. देखा जाए तो चन्द्र का सम्बन्ध भावना से बहुत ज्यादा होता है इसी कारण जिनके कुंडली में चन्द्र खराब हो या कमजो…

Kale Jadu Ka Parinaam

Kale Jadu Ka Parinaam, जानिए क्या होता है जब किसी पर काला जादू का प्रयोग होता है, जानिए क्या अंतर है कला जादू और सकारात्मक पूजाओ में.  काले जादू का क्या परिणाम होता है? इन दिनों काले जादू से सम्बंधित बहुत सी खबरे सुनने को मिल रही है | ऐसे बहुत से लोग है जो की अपने इच्छाओं की पूर्ति हेतु किसी भी हद तक जाने को तैयार होते हैं बिना ये जाने की उसका परिणाम बाद में क्या हो सकता है| कुछ लोग दुसरो को नियंत्रित करना चाहते हैं, कुछ लोग दुसरो को नुक्सान पहुचाना चाहते हैं, कुछ लोग मन पसंद साथी के साथ काम क्रीड़ा करना चाहते हैं, कुछ नौकरी में उन्नति चाहते हैं, कुछ समाज में सम्मान चाहते आदि. अपेक्षाओं का तो कोई अंत नहीं है परन्तु जब ये अपेक्षाएं पागलपन की हद तक बढ़ जाती है और अहंकार के साथ जुड़ जाती है तो व्यक्ति अपने इच्छाओ को पूरा करने के लिए कोई भी कदम उठा लेता है.  देखा जाए तो पूर्ण रूप से स्वार्थी व्यक्ति काले जादू का प्रयोग करने से नहीं चुकता है अपने इच्छाओ को पूरा करने के लिए.  आइये जानते हैं काले जादू का परिणाम: काले जादू को अलग अलग नामो से जाना जाता है विश्व के अलग अलग स्थानों में जैसे वुडू म…