Skip to main content

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में, ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे  समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आ…

Jyotish Sikhiye Bhaag 3- 12 Rashiyan

ज्योतिष मे राशियों का बहुत महत्त्व है क्यूंकि हर व्यक्ति की एक राशी होती है जो की उस व्यक्ति के स्वाभाव को प्रभावित करती है. अतः किसी के राशी को जानकार हम उसके स्वभाव और व्यक्तित्त्व के बारे मे जान सकते हैं.
१२ राशियाँ वैदिक ज्योतिष मे भाग ३, बारा राशियों का स्वाभाव और प्रभाव हिंदी मे ज्योतिष द्वारा.
१२ राशियों का प्रभाव 

आइये जानते है की कैसे जाने किसी के राशी को ?
किसी के राशी को जानने के लिए उसकी कुंडली बनाना जरुरी है, राशी को अंग्रेजी मे zodiac कहते हैं. सबसे पहले ये देखिये की चन्द्रमा कौन से भाव मे बैठा है और वह पे कौन सा अंक लिखा है. हर अंक एक राशी को बताता है. जो अंक चन्द्रमा के साथ होगा वही उस व्यक्ति की राशि होगी. उदाहरण के लिए अगर चन्द्रमा अंक ४ के साथ बैठा हो तो राशी होगी कर्क. 
आइये अब जानते है कौन सा अंक कौन से राशी से सम्बन्ध रखता है :
१- मेष राशी
२- वृषभ राशि 
३- मिथुन राशी
४- कर्क राशी 
५- सिंह राशी 
६- कन्या राशी
७- तुला राशी
८- वृश्चिक राशी
९- धनु राशी
१०- मकर राशी
११- कुम्भ राशी
१२- मीन राशी 

आइये अब जानते हैं १२ राशियों के बारे मे :
१. मेष राशी –
ये पहली राशी है और १ से 30 डिग्री तक का स्थान राशी चक्र मे इसका होता है. ये भेद जैसी दिखती है जिस प्रकार भेद लड़ने के लिए हमेशा तैयार रहता है उसी प्रकार मेष राशी के लोग भी शक्तिशाली होते हैं और उग्रता नजर आ सकते हैं. अगर वातावरण बन जाए तो ये लड़ने से पीछे नहीं हटेंगे. 
मेष राशी का स्वभाव बहुत चंचल होता है. 
मेष राशी का स्वामी ग्रह मंगल है.
इससे सम्बंधित रंग लाल है.
लिंग है पुरुष 
इसका निवास स्थान जंगल होता है.
मेष राशी से सम्बंधित तत्त्व है अग्नि.
वर्ण है क्षत्रिय 
इसका असर मुख्यतः सर पर होता है और व्यक्ति को निर्भीक, दोस्तों के प्रति इमानदार, गुस्सेल आदि बनता है. इससे व्यक्ति के अन्दर अहंकार भी पैदा होता है. मेष राशी रात को शक्तिशाली होती है. 

2. वृषभ राशि :
ये वृषभ जैसी दिखती है, राशी चक्र मे इसका स्थान 30 से ६० डिग्री तक होता है. 
ये राशी स्थिर स्वभाव की होती है और इसका स्वामी शुक्र होता है. 
इससे सम्बंधित रंग सफ़ेद है और इसका सम्बन्ध दक्षिण दिशा से है. 
लिंग है स्त्रीलिंग.
वृषभ राशी का निवास जल स्थान, घास युक्त मैदान आदि मे होता है. 
इसका सम्बन्ध पृथ्वी तत्त्व से होता है. 
इसका असर मुख्यतः चेहरे और जबड़े मे रहता है. 
वृषभ राशी के कारन व्यक्ति शांत स्वभाव का होता है, थोडा बहुत स्वार्थी भी होता है, बुद्धिमान भी होता है, सांसारिक कार्यो मे कुशल होता है. वृषभ राशी के लोग वृषभ जैसे शक्तिशाली होते हैं काम करने मे और रात्रि को ज्यादा शक्तिशाली होते हैं. 

३. मिथुन राशी –
राशी चक्र मे मिथुन राशी का स्थान ६० से ९० डिग्री तक होता है. इसका चिन्ह स्त्री और पुरुष के जोड़े जैसा होता है. इसका स्वभाव मिश्रित होता है. 
मिथुन राशी का स्वामी बुध ग्रह होता है. 
इससे सम्बंधित रंग हरा होता है. 
इसका सम्बन्ध पश्चिम दिशा से होता है. 
लिंग पुरुष होता है. 
मिथुन राशी का निवास स्थान शयन कक्ष, बगीचा, जुआ खाना अदि मे होता है. 
इसका सम्बन्ध वायु तत्त्व से होता है. 
वर्ण शुद्र होता है. 
इसका प्रभाव मुख्यतः फेफड़ो, गला, बाहों, और स्वाशन प्रणाली पर होता है. 
मिथुन राशी दिन मे शक्तिशाली होता है. 
ये व्यक्ति को बुद्धिमान और कलाकार बनता है. 

४. कर्क राशि –
ये चौथी राशी है और राशी चक्र मे इसका स्थान ९० से १२० डिग्री तक है. कर्क राशी का स्वामी चन्द्रमा होता है. 
इसका स्वभाव गतिशील होता है. 
इसका सम्बंधित रंग सफ़ेद या गुलाबहि होता है. 
कर्क राशी की दिशा उत्तर होती है. 
इसका निवास स्थान तालाब, नदी का किनारा, बालू स्थान अदि होता है. 
इससे सम्बंधित तत्त्व जल है.
वर्ण शुद्र होता है. 
कर्क राशी का मुख्य प्रभाव पेट, किडनी, ह्रदय, ब्रैस्ट आदि पर होता है. 
इस राशी के लोग सांसारिक सुख को प्राप्त करने के लिए खूब मेहनत करते हैं, ये शर्मीले भी होते हैं पर बुद्धिमान होते हैं,समय के पाबंद होते हैं, बहार से कठोर दीख सकते हैं परन्तु अन्दर से कोमल स्वभाव के होते हैं. 

५. सिंह राशी –
ये राशी का चिन्ह शेर जैसा होता है और पांचवी राशी है. राशी चक्र मे इसका स्थान १२० से १५० डिग्री तक होता है. इसका स्वामी ग्रह सूर्य है. 
ये स्थिर स्वाभाव की राशी है और सम्बंधित रंग पिला है. 
इसकी दिशा पूर्व है. 
लिंग पुरुष है. 
सिंह राशी पहाड़ो, गुफा, जंगल आदि मे निवास करती है. 
इसका प्रभाव मुख्यतः पेट, पाचन तंत्र, ह्रदय आदि मे होता है. 
इस राशी के स्वामी स्वस्थ, परोपकारी, घुम्मकड़ स्वाभाव के हो सकते हैं. 

6. कन्या राशी –
ये छठी राशी है और इसका चाइना नाव चलती हुई लड़की जैसा होता है. राशी चक्र मे इसका स्थान १५० से १८० डिग्री तक है. 
ये इसका स्वभाव स्थिर नहीं रहता है और इसका स्वामी ग्रह है बुध.
सम्बंधित रंग है हरा. 
लिंग है स्त्री. 
कन्या राशी का निवास स्थान है घास युक्त मैदान.
इससे सम्बंधित तत्त्व है पृथ्वी.
वर्ण है शुद्र. 
शारीर मे इसका प्रभाव मुख्यतः कमर, अंतड़ियों पर और पेट से निचे के भाग पर होता है. 
ऐसे लोग स्व-सम्मान का ख्याल रखते हैं और ज्ञान पाने के लिए लालायित रहते हैं अपने आपको बढाने के लिए. 
ये राशी रात्रि को ताकतवर होती है. 

7. तुला राशी –

ये सातवी राशी है और इसका चिन्ह हाथ मे तराजू लिए जैसा दीखता है. राशी चक्र मे इसका स्थान १८० से २१० डिग्री तक है. इसका स्वाभाव अस्थिर है. तुला राशी का स्वामी शुक्र ग्रह है. सम्बंधित रंग थोडा कालापन लिए है.  
सम्बंधित दिशा पश्चिम है.
लिंग पुरुष है. 
इसका निवास स्थान व्यापारिक जगह होती है. 
तुला राशी का सम्बन्ध वायु तत्त्व से होता है. 
वरन शुद्र है. 
शारीर मे मुख्यतः ये नाभि के निचे के भाग पर प्रभाव रखता है. 
शुक्र ग्रह से सम्बन्ध होने के कारण व्यक्ति का रुझान काला की तरफ होता है, चकाचुन्ध की तरफ होता है. 
ये राशी दिन मे शक्तिशाली होती है. 

८. वृश्चिक राशी –
इसका चिन्ह वृश्चिक जैसा होता है और राशी चक्र मे इसका स्थान आठवां है २१० से २४० डिग्री तक. 
ये स्थिर राशी है 
इसका स्वामी ग्रह मंगल है. 
इससे सम्बंधित रंग सफ़ेद और सुनहरा है. 
इससे सम्बंधित दिशा उत्तर है. 
लिंग स्त्री है. 
इसका निवास स्थान है पथरीला इलाका, गुफा आदि. 
इससे सम्बंधित तत्त्व है जल.
वृश्चिक राशी का सम्बन्ध ब्राह्मण वर्ण से है. 
शारीर मे इसका प्रभाव मुख्यतः सेक्स अंगो पर रहता है. 
ये व्यक्ति को जिद्दी, सीधे बात करने वाला, आत्मशक्ति वाला बनाता है. 
वृश्चिक राशी दिन मे शक्तिशाली होती है.

9. धनु राशी –
इस राशी का चिन्ह आधा घोड़ा और आधा आदमी हाथ मे धनुष लिए होता है. ये नवी राशी है और राशी चक्र मे इसका स्थान २४० से २७० डिग्री तक होता है. 
इसका स्वभाव मिश्रित होता है.
इससे सम्बंधित रंग सुनहरा होता है. 
धनु राशी का स्वामी गुरु होता है 
दिशा है पूर्व.
लिंग है पुरुष.
इसका निवास स्थान महल, घुद्शाल आदि. 
इससे सम्बंधित तत्त्व है अग्नि. 
धनु राशी का वर्ण है क्षत्रिय.
शारीर मे इसका प्रभाव मुख्यतः लीवर/यकृत, धमनियों और नसों मे होता है. 
ऐसे लोग ताकतवर होते हैं और उनकी नियंत्रण करने की शक्ति भी अच्छी होती है. 

१०. मकर राशी –
इसका चिन्ह मगरमच्छ का शारीर और हिरन का मुह लिए होता है. ये दसवीं राशी है और राशी चक्र मे इसका स्थान २७० से ३०० डिग्री तक होता है. 
इसका स्वभाव चंचल और अस्थिर होता है. 
मकर राशी का स्वभाव चंचल होता है और इसका स्वामी शनि है.
लिंग पुरुष है. 
मकर राशी का निवास स्थान जल से सम्बंधित इलाके होते हैं और जंगल.
मकर राशी से सम्बंधित तत्त्व है पृथ्वी 
वर्ण है वैश्य.
शारीर मे इसका प्रभाव मुख्यतः घुटना, हड्डी और जोड़ो पर होता है. 
ऐसे लोग किसी ख़ास लक्ष्य को रखते हैं, अच्छा शारीर भी होता है और लगातार तरक्की चाहते हैं. 
मकर राशी रात्रि को शक्तिशाली होती है .

11. कुम्भ राशी – 
इसका चिन्ह बाँहों मे मटका लिए जैसा है. ये ग्यारहवी राशी है और राशी चक्र मे इसका स्थान ३०० से ३३० डिग्री तक है. 
कुम्भ राशी का स्वभाव स्थिर रहता है. 
इसका स्वामी शनि है. 
रंग है चितकबरा.
इस राशी की दिशा है पश्चिम.
लिंग है पुरुष.
कुम्भ राशी का निवास जल के पास और कुम्हार के यहाँ होता है. 
इससे सम्बंधित तत्त्व है वायु.
वर्ण है शुद्र.
इसका प्रभाव मुख्यतः खून/रक्त मे होता है. 
ऐसे लोग धार्मिक होते हैं, शांत प्रकृति के हो सकते हैं, उत्साहित और शोध करने मे विश्वास रखते हैं. 
ये राशी दिन मे शक्तिशाली होती है.

१२. मीन राशी –
इसका चिन्ह 2 मछलियाँ अपनी पूछ की तरफ देखते हुए है. राशी चक्र मे इसका स्थान बारहवा है और ३३० से ३६० डिग्री तक है. 
मीन राशी का स्वाभाव मिश्रित होता है. 
इसका स्वामी गुरु ग्रह है. 
सम्बंधित रंग मिश्रित है. 
मीन राशी की दिशा उत्तर है.
लिंग है स्त्री.
मीन राशी का निवास जल, नदी, तालाब, समुन्दर आदि मे है. 
सम्बंधित तत्त्व जल है. 
इसका वर्ण ब्राह्मण है 
शारीर मे इसका प्रभाव मुख्यतः पाँव पर होता है, कफ पर भी होता है. 
ऐसे व्यक्ति उदार और अच्छे व्यवहार के होते हैं. 
मीन राशी रात्रि मे ताकतवर होती है. 

तो इस पाठ मे हमने जाना १२ राशियों के बारे मे, उम्मीद करते हैं की इससे बहुत कुछ पाठको को लाभ हुआ होगा. जुड़े रहिये और जानते रहिये ज्योतिष के बारे मे रोज और लगातार. 

और सम्बंधित लेख पढ़े :

१२ राशियाँ वैदिक ज्योतिष मे भाग ३, बारा राशियों का स्वाभाव और प्रभाव हिंदी मे ज्योतिष द्वारा.

Comments

Popular posts from this blog

Kala Jadu Kaise Khatm Kare

काला जादू क्या है , कैसे पता करे काला जादू के असर को, कैसे ख़त्म करे कला जादू के असर को, hindi में जाने काले जादू के बारे में. काला जादू अपने आप में एक खतरनाक विद्या है जो की करने वाले, करवाने वाले और जिस पर किया जा रहा है उन सब का नुक्सान करता है. यही कारण है की इस नाम से भी भय लगता है. अतः ये जरुरी है की इससे जितना हो सके बचा जाए और जितना हो सके उतने सुरक्षा के उपाय किया जाए. ज्योतिष संसार के इस लेख में आपको हम उसी विषय में अधिक जानकारी देंगे की कैसे हम काले जादू का पता कर सकते हैं और किस प्रकार इससे बचा जा सकता है. प्रतियोगिता अच्छी होती है परन्तु जब ये जूनून बन जाती है तब व्यक्ति गलत ढंग से जीतने के उपाय करने से भी नहीं चुकता है. आज के इस प्रतियोगिता के युग में लोग बस जीतना चाहते हैं और इसके लिए किसी भी हद तक जाने से नहीं चुकते हैं और यही पर काला जादू का प्रयोग करने की कोशिश करते है. आखिर में क्या है कला जादू? हर चीज के दो पहलु होते हैं एक अच्छा और एक बुरा. काला जादू तंत्र, मंत्र यन्त्र का गलत प्रयोग है जिसके अंतर्गत कुछ शक्तियों को पूज के अपना गलत स्वार्थ सिद्ध किया जाता है. करने व…

Gomed Ratna Rahasya In Hindi

Gomed Gem Stone Secrets in hindi, गोमेद की शक्ति, कैसे ख़रीदे गोमेद, कैसे धारण करे गोमेद, सफलता के लिए गोमेद का प्रयोग.

क्या आप जानना चाहते हैं राहू के रत्न के बारे में, क्या आप एक ऐसे रत्न के बारे में जानना चाहते हैं जो की जीवन में जादुई बदलाव ला सकता है तो पढ़े इस लेख को.
गोमेद, जी हाँ एक ऐसा शक्तिशाली रत्न है जिसे अंग्रेजी में HESSONITE भी कहते हैं. ये रत्न राहू की शक्ति को जीवन में बढ़ा सकता है. इसका रंग लालिमा लिए होता है जिसमे थोडा पिला जैसा भी दीखता है, इसके रंग को गौमूत्र जैसा भी जान सकते हैं. 
कौन धारण कर सकते हैं गोमेद रत्न? मेरे अनुभव के हिसाब से उन लोगों के लिए गोमेद शुभ होता है जिनके कुंडली में राहू अच्छा है पर कमजोर है , गोमेद धारण करने से राहू का बल बढ़ने लगता है जिससे सफलता के रास्ते खुलते हैं.  अगर कमजोर राहू के कारण जीवन में, नाम, पैसा, सम्पन्नता आदि नहीं आ पा रही है तो गोमेद रत्न लाभदायक सिद्द हो सकता है. राजनीतज्ञों के लिए भी ये एक शुभ रत्न साबित हो सकता है. 
आइये जानते हैं गोमेद के लाभ :

Kaise Kare Shukra Ko Majboot | Shukra astrology in Hindi

क्या है शुक्र ग्रह, शुक्र ग्रह का मानव जीवन में प्रभाव, क्या करे की शुक्र मजबूत हो, how to increase the power of Venus or shukra, benefits of shukra or Venus.

शुक्र को अंग्रेजी में Venus कहते हैं. ये सौर्य मंडल में सबसे चमकीला ग्रह है. शुक्र एक ऐसा ग्रह है जो की भौतिक जीवन को सुख संपत्ति से भर देता है. शुक्र ग्रह के अच्छा होने पर व्यक्ति को प्रेम संबंधो में भी सफलता मिलती है, वैवाहिक जीवन भी आनंद से गुजरता है और इसी के साथ समाज में भी उसे बहुत सम्मान मिलता है अतः शुक्र का कुंडली में मजबूत और अच्छा होना जरुरी है.
दूसरी तरफ अगर शुक्र ग्रह खराब हो या कमजोर हो तो व्यक्ति को अपने व्यक्तिगत जीवन को सुखी करने के लिए बहुत सघर्ष करना होता है. प्रेम संबंधों में भी उसे सफलता नहीं मिलती है, सम्मोहन शक्ति के अभाव में हर कार्य में उसे कुछ ज्यादा मेहनत करना होता है.  इसके अलावा शुक्र वीर्य का करक भी है, गुप्तांगो पर भी इसका प्रभाव रहता है. अगर किसी का शुक्र पीड़ित हो तो ऐसा व्यक्ति किसी न किसी कारण से गुप्त रोगों का शिकार हो जाता है. अतः सावधानी बरतनी चाहिए.  अच्छा शुक्र व्यक्ति को खूब ठाट बाट देता ह…