Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2016

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में,ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है. विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है. ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है. आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आपके व…

Mission Safalta Ke Rahasya Ko Bhaag-1

Mission Safalta Janiye Safalta Ke Rahasya Ko, अगर सफलता आपका लक्ष्य है , अगर सफलता के लिए आप लालाइत हैं तो फिर ये लेख आपके लिए बहुत लाभदायक सिद्ध होगा.
जानिए ! किस प्रकार आप पा सकते हैं – एक प्रभावी व्यक्तित्त्व ................. एक प्रतिष्ठित सामाजिक जीवन .............................. धन, मान सम्मान .................... एक खुशहाल जीवन ......................
Mission सफलता : सफलता कौन नहीं चाहता है ? क्या हम सफलता नहीं चाहता , क्या हमारे मित्र सफलता नहीं चाहते, क्या मेरे भाई सफलता नहीं चाहते, क्या हमारे पड़ोसी सफलता नहीं चाहते, क्या हमारे पूर्वज सफलता नहीं चाहते थे और क्या हमारे आने वाली पीढ़ी सफलता नहीं चाहेगी. 
जी हाँ ! हर कोई सफलता चाहता था, चाहता है और चाहता रहेगा. परन्तु यहाँ प्रश्न ये है की आखिर ये सफलता है क्या? क्यूँ इसे हर कोई पसंद करता है, क्यों इसके लिए व्यक्ति दिन रात मेहनत करता रहता है. क्यों इसके बिना जीवन अर्थहीन हो जाता है. 
सफलता ! क्या ये एक भावना है?, क्या ये एक अहसास है ?, क्या ये एक स्त्री है ? , क्या ये एक पुरुष है?, क्या ये एक रूपया है, क्या मान-सम्मान है?.
आइये समझते…

Mission Safalta Ke Rahasya Ko Bhaag-2

Mission सफलता के पहले भाग मे हमने देखा की सफलता क्या है , क्या करे सही मायने मे सफलता प्राप्त करने के लिए, इस लेख मे उसी के आगे का भाग आप पढेंगे. अगर आपने मिशन सफलता भाग 1 नहीं पढ़ा है तो उसे पहले पढ़े, कुछ छोटी पर महत्त्वपूर्ण बाते सफलता के लिए.
साहस : हमारे पास भले ही रचनात्मकता हो, संपर्क हो, प्रचुर मात्र मे धन हो , कराय करने की क्षमता हो परन्तु साहस न हो तो हम अपनी योजनाओं को , विचारों को क्रियान्वित नहीं कर सकते. जैसे किसी की आवाज बहुत अछि हो और वह एक प्रसिद्द गायक बनना चाहता हो परन्तु अगर वह मंच पर जाने का साहस न करे तो वह अपने सपनो को साकार नही कर सकता . अतः अगर सफलता चाहते हैं तो सही कार्यों को करने का साहस पैदा करिये.  स्वामी विवेकानन्द कहते हैं – “क्या तुम पर्वताकार विघ्न बाधाओं को लांघकर कार्य करने के लिए तैयार हो ? यदि सारी दुनिया हाथ मे नंगी तलवार लेकर तुम्हारे विरोध में खड़ी हो जाए तो भी क्या तुम जिसे सत्य समझते हो उसे पूरा करने का साहस करोगे? यदि तुम्हारे पुत्र कलत्र तुम्हारे प्रतिकुल हो जाए , भाग्य लक्ष्मी तुमसे रूठकर चली जाए , नाम कीर्ति भी तुम्हारा साथ छोड़ दे, तो भी क्या …

Dev Shayani Ekadashi Ki Mahima in Hindi

देव शयनी एकादशी का महत्त्व, पद्मा एकादशी , हरी शयनी एकादशी किसको कहते है, क्या करे देव शयनी एकादशी को सफलता के लिए. 

अषाढ़ शुक्ल पक्ष का ग्यारहवां दिन बहुत ख़ास होता है भारत मे विशेषतः क्यूंकि मान्यता के अनुसार इस दिन भगवान् विष्णु क्षीर सागर मे सोने के लिए चले जाते हैं. अलग अलग प्रान्तों मे अषाढ़ मास के ग्यारस को अलग लग नामो से जाना जाता है जैसे पद्मा एकादशी, प्रथमा एकादशी, हरी शयनी एकादशी आदि. इस पुरे दिन और रात भक्त गण भगवान् विष्णु की पूजा और आराधना मे लगे रहते हैं. इसी दिन चातुर्मास की शुरुआत भी होती है अर्थात इस दिन से ४ महीने तक साधू संत विशेष पूजा आराधना करते हैं और कहीं जाते आते भी नहीं है. वर्ष २०१६ मे हरी शयनी एकादशी १५ जुलाई को आ रही है, दिन रहेगा शुक्रवार. मान्यता के अनुसार पद्मा एकादशी की शुरुआत राजा मानदाता से जुडी है. इन्होने अंगीरा ऋषि के कहने से अषाढ़ मास के ग्यारस को व्रत और विशेष पूजा की जिससे की इनके राज्य मे वर्षा हुई और सम्पन्नता आई. तभी से लोग भी इस दिन को मनाने लगे.
आइये जानते है क्या करे देव शयनी एकादशी को अच्छे जीवन के लिए :