Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2016

Jyoitish Sewaye Online || ज्योतिष सेवा ऑनलाइन

Jyotish in Hindi, कुंडली का अध्ययन हिंदी में, ज्योतिष से संपर्क के लिए यहाँ क्लिक करे>> , .
ज्योतिष सेवा ऑनलाइन: एक अच्छा ज्योतिष कुंडली को देखके जातक का मार्गदर्शन कर सकता है. कुंडली मे ग्रह विभिन्न भावों मे बैठे रहते हैं और जातक के जीवन मे प्रभाव उत्पन्न करते हैं. अगर कोई व्यक्ति जीवन मे  समस्या से ग्रस्त है तो इसका मतलब है की उसके जीवन इस समय बुरे ग्रहों का प्रभाव चल रहा है और यदि कोई व्यक्ति सफलता प्राप्त कर रहा है तो इसका मतलब है की इस समय उसके जीवन मे शुभ ग्रहों का प्रभाव है.  विभिन्न ग्रहों की दशा-अन्तर्दशा मे व्यक्ति अलग अलग प्रकार के प्रभावों से गुजरता है जिसके बारे एक अच्छा ज्योतिष जानकारी दे सकता है.  ग्रहों का असर व्यक्ति के कामकाजी जीवन पर पड़ता है.
ग्रहों का असर व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन पर पड़ता है.
सितारों का असर व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर पड़ता है.
व्यक्ति के पढ़ाई –लिखाई , वैवाहिक जीवन, प्रेम जीवन, स्वास्थ्य आदि पर ग्रह – सितारों का असर पूरा पड़ता है.  आप “www.jyotishsansar.com” माध्यम से पा सकते हैं कुछ ख़ास ज्योतिषीय सेवाए ऑनलाइन :जानिए क्या कहती है आपकी कुंडली आ…

Sunafa Yoga in Vedic Jyotish In Hindi

सुनफा योग क्या होता है ,कैसे बनता है सुनफा योग कुंडली मे, कैसे इस योग का प्रभाव बढाए, जानिए ज्योतिष से.
अगर कुंडली मे चन्द्रमा से दुसरे स्थान मे कोई ग्रह मौजूद हो तो सुनफा योग का निर्माण होता है परन्तु शर्त ये है की सूर्य नहीं होना चाहिए. अर्थात अगर चन्द्रमा से द्वितीय स्थान मे सूर्य हो तो सुनफा योग खंडित हो जाएगा. इसके अलावा अगर कोई भी ग्रह हो तो सुनफा योग का निर्माण हो जाएगा और जातक को उसका लाभ मिलेगा.  आइये जानते हैं सुनफा योग का जीवन मे प्रभाव:ऐसा जातक जीवन मे आगे बढ़ने के लिए खुद को स्वयं ही प्रेरित करने की योग्यता रखता है.सुनफा योग के कारण जातक खुद के कमाई से बचत भी करता हैइस योग के कारण जातक बुद्धिमान बनता है.सुनफा योग व्यक्ति को धनवान भी बनता है.इस ज्योतिषीय योग के कारण जातक समाज मे सम्मान प्राप्त करता है.अतः इस योग का जीवन मे शुभ प्रभाव पड़ता है , सुनफा योग होने पर भी अगर जीवन मे परेशानी हो तो ज्योतिष से सही मार्गदर्शन प्राप्त करे , हो सकता हो की ग्रहों की स्थिति ठीक न हो , ऐसे मे सही नग , पाठ पूजा द्वारा जीवन को सफल बनाया जा सकता है.
उचित ज्योतिषीय मार्गदर्शन के लिए यहाँ क्लिक …

Anfa Yog in Vedic Jyotish In Hindi

अनफा योग वैदिक ज्योतिष मे, कैसे बनता है ये योग कुंडली मे, अनफा योग का जीवन मे प्रभाव जानिए ज्योतिष द्वारा.
अगर चन्द्रमा से बारहवे भाव मे ग्रह मौजूद हो तो अनफा योग का निर्माण होता है परन्तु एक शर्त ये है की सूर्य मौजूद नहीं होना चाहिए. अगर सूर्य १२वे भाव मे हो चन्द्रमा से तो ये योग नहीं बनेगा. ये योग भी शुभ है और जातक को बहुत फायदे देता है. अनफा योग के जीवन मे प्रभाव :ये योग एक शुभ योग है और जातक को अच्छा शारीर प्रदान करता है. व्यक्ति का चेहरा बहुत आकर्षक होता है जिससे लोग उससे प्रभावित होते हैं. व्यक्ति आत्म सम्मान का भूखा होता है. अनफा योग के कारण व्यक्ति को जीवन मे मान-सम्मान मिलता है. व्यक्ति जीवन का आनंद भरपूर लेता है.  परन्तु जीवन के आखरी पडाव मे व्यक्ति अपने आपको सांसारिकता से दूर कर लेता है और अध्यात्मिक जीवन जीता है. ग्रहों की शक्ति के अनुसार परिणाम मे बदलाव भी दिख सकते हैं. परन्तु ये एक शुभ योग है और अगर कमजोर ग्रहों के कारण जीवन मे सफलता न मिल रहा हो तो ज्योतिष से परामर्श लेना चाहिए और आगे बढ़ना चाहिए.  ज्योतिशिये मार्गदर्शन के लिए यहाँ क्लिक करे. और सम्बन्धीत लेख पढ़े : ज्योतिष…

Adhi Yoga Vedic Jyotish In Hindi

ज्योतिष मे अधी योग, कैसे बनता है अधी योग कुंडली मे, क्या प्रभाव होता है अधी योग का जीवन मे, जानिए ज्योतिष से.

अगर चन्द्रमा से छठे , सातवे और बारहवे भाव मे शुभ ग्रह बैठे हो तो कुंडली मे “अधी योग” का निर्माण होता है. ये बहुत ही शुभ योग होता है और जीवन को सफल बनता है.
आइये जानते है अधी योग का फल :ये योग जातक को दयालु बनता है.ये योग व्यक्ति को आत्मशक्ति देता है जिससे वो सफलता प्राप्त करता है. ये जातक को वैभवपूर्ण जीवन देता है अर्थान सुख सुविधाएं देता है .ऐसा जातक शत्रुओ को भी आसानी से परास्त कर देता है. अधी योग वाला जातक अच्छे स्वास्थ्य से युक्त होता है.  अतः अगर पूरी तरह से देखा जाए तो अधी योग एक शुभ और अच्छा योग है ज्योतिष मे और व्यक्ति को सफलता दिलाता है. अगर ये योग कुंडली मे हो तो निश्चित ही व्यक्ति अपने जीवन मे सफल होगा. अगर योग मौजूद हो पर कमजोर हो तो सही ज्योतिष से सलाह लेके सही नग, सही पूजा पाठ द्वारा इसे मजबूत किया जा सकता है.

किसी भी ज्योतिषीय मार्गदर्शन के लिए यहाँ क्लिक करे
और सम्बन्धीत लेख पढ़े :
ज्योतिष मे योगो को जानिए
Adhee yoga in astrology in english

ज्योतिष मे अधी योग, कैसे …

Barish Mai Kaise Rakhe Khyal Swasthya Ka

Barish Mai Kaise Rakhe Khyal Swasthya Ka, बारिश मे स्वस्थ रहने के तरीके, मानसून के दिन में कैसे रखे ख्याल अपना.
भीषण गर्मी के बाद जब बारिश का मौसम आता है तो सभी उसका आनंद उठाना चाहते हैं परन्तु जब लगातार बारिश होना शुरू होती है तो वातावरण में बहुत बदलाव होते हैं और ऐसे में बहुत सावधानी की जरुरत होती है स्वस्थ रहने के लिए. इस लेख में हम यही जानेंगे की कैसे बारिश के दिनों में अपने आप को स्वस्थ रखे.  मानसून के दिनों में कभी कभी सूर्य के दर्शन भी नहीं होते हैं और वातावरण में कई प्रकार के बैक्टीरिया का जन्म होता है जिससे विभिन्न प्रकार के रोग उत्पन्न होते हैं जैसे खुजली, दाद, खाज, बुखार, जुखाम, पेट के रोग, पाचन समस्याएं आदि. अतः ये जरुरी है की हम समस्याओं के कारणों को समझे और सही कदम उठाये ताकि बारिश के मौसम में स्वस्थ रहकर आनंद उठा सके.

आइये जानते हैं कुछ ख़ास बाते जिससे हम रहेंगे स्वस्थ और स्फूर्तिवान:अगर आप भीग जाए तो ज्यादा देर तक भीगे कपडे न पहने, ऐसा होता है की बारिश का आनंद उठाने के लिए हम भीगे कपड़ो में घूमते रहते हैं जो की खतरनाक हो सकता है. इससे दाद, खाज, खुजली हो सकती है. अपने बाल…

Dhan Prapti Ke Liye Totke In Hindi, धन प्राप्ति टोटके

Dhan Prapti Ke Liye Totke In Hindi, धन प्राप्ति टोटके, वित्तीय तौर पर अपने आपको मजबूत करने के लिए ज्योतिषीय टोटके जानिए. dhan prapti ke upaay, apaar dhan prapti ke upaay, dhan prapti hetu totke, dhan prapti pooja in hindi, jyotish se dhan prapti, 

धन की जरुरत सबको है, किसी भी भौतिक इच्छा को पूरी करने के लिए धन का होना आवश्यक है, जीवन का आनंद लेने के लिए , सुख – सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए धन का होना जरुरी होता है. कुछ लोग तो बहुत धनी है तो कुछ लोगो को जरुरत का सामान भी खरीदने में परेशानियों का सामना करना होता है. कुछ लोग ऋण से छुटकारा नहीं पाते हैं. ऐसे में धनाकर्षण टोटको का प्रयोग लाभदायक होता है. 
धन प्राप्ति के टोटको का ये मतलब न समझे की इनका प्रयोग करते हैं धन की बरसात होने लग जायेगा , धन प्राप्ति के टोटको का प्रयोग करने से ग्रह दोषों का शमन होता है और आय के स्त्रोत खुलते हैं. इनका प्रयोग पूर्ण विश्वास और नियमित रूप से करना चाहिए. 
आगे बढ़ने से पहले जानते हैं धन और सम्पन्नता से सम्बंधित एक ख़ास बात.
वैदिक धर्म ग्रंथो के अनुसार माता लक्ष्मी धन की देवी मानी जाती है और धन राज कुबेर खजा…

Mission Safalta Ke Rahasya Ko Bhaag-1

Mission Safalta Janiye Safalta Ke Rahasya Ko, अगर सफलता आपका लक्ष्य है , अगर सफलता के लिए आप लालाइत हैं तो फिर ये लेख आपके लिए बहुत लाभदायक सिद्ध होगा.
जानिए ! किस प्रकार आप पा सकते हैं – एक प्रभावी व्यक्तित्त्व ................. एक प्रतिष्ठित सामाजिक जीवन .............................. धन, मान सम्मान .................... एक खुशहाल जीवन ......................
Mission सफलता : सफलता कौन नहीं चाहता है ? क्या हम सफलता नहीं चाहता , क्या हमारे मित्र सफलता नहीं चाहते, क्या मेरे भाई सफलता नहीं चाहते, क्या हमारे पड़ोसी सफलता नहीं चाहते, क्या हमारे पूर्वज सफलता नहीं चाहते थे और क्या हमारे आने वाली पीढ़ी सफलता नहीं चाहेगी. 
जी हाँ ! हर कोई सफलता चाहता था, चाहता है और चाहता रहेगा. परन्तु यहाँ प्रश्न ये है की आखिर ये सफलता है क्या? क्यूँ इसे हर कोई पसंद करता है, क्यों इसके लिए व्यक्ति दिन रात मेहनत करता रहता है. क्यों इसके बिना जीवन अर्थहीन हो जाता है. 
सफलता ! क्या ये एक भावना है?, क्या ये एक अहसास है ?, क्या ये एक स्त्री है ? , क्या ये एक पुरुष है?, क्या ये एक रूपया है, क्या मान-सम्मान है?.
आइये समझते…

Mission Safalta Ke Rahasya Ko Bhaag-2

Mission सफलता के पहले भाग मे हमने देखा की सफलता क्या है , क्या करे सही मायने मे सफलता प्राप्त करने के लिए, इस लेख मे उसी के आगे का भाग आप पढेंगे. अगर आपने मिशन सफलता भाग 1 नहीं पढ़ा है तो उसे पहले पढ़े, कुछ छोटी पर महत्त्वपूर्ण बाते सफलता के लिए.
साहस : हमारे पास भले ही रचनात्मकता हो, संपर्क हो, प्रचुर मात्र मे धन हो , कराय करने की क्षमता हो परन्तु साहस न हो तो हम अपनी योजनाओं को , विचारों को क्रियान्वित नहीं कर सकते. जैसे किसी की आवाज बहुत अछि हो और वह एक प्रसिद्द गायक बनना चाहता हो परन्तु अगर वह मंच पर जाने का साहस न करे तो वह अपने सपनो को साकार नही कर सकता . अतः अगर सफलता चाहते हैं तो सही कार्यों को करने का साहस पैदा करिये.  स्वामी विवेकानन्द कहते हैं – “क्या तुम पर्वताकार विघ्न बाधाओं को लांघकर कार्य करने के लिए तैयार हो ? यदि सारी दुनिया हाथ मे नंगी तलवार लेकर तुम्हारे विरोध में खड़ी हो जाए तो भी क्या तुम जिसे सत्य समझते हो उसे पूरा करने का साहस करोगे? यदि तुम्हारे पुत्र कलत्र तुम्हारे प्रतिकुल हो जाए , भाग्य लक्ष्मी तुमसे रूठकर चली जाए , नाम कीर्ति भी तुम्हारा साथ छोड़ दे, तो भी क्या …

Dev Shayani Ekadashi Ki Mahima in Hindi

देव शयनी एकादशी का महत्त्व, पद्मा एकादशी , हरी शयनी एकादशी किसको कहते है, क्या करे देव शयनी एकादशी को सफलता के लिए. 

अषाढ़ शुक्ल पक्ष का ग्यारहवां दिन बहुत ख़ास होता है भारत मे विशेषतः क्यूंकि मान्यता के अनुसार इस दिन भगवान् विष्णु क्षीर सागर मे सोने के लिए चले जाते हैं. अलग अलग प्रान्तों मे अषाढ़ मास के ग्यारस को अलग लग नामो से जाना जाता है जैसे पद्मा एकादशी, प्रथमा एकादशी, हरी शयनी एकादशी आदि. इस पुरे दिन और रात भक्त गण भगवान् विष्णु की पूजा और आराधना मे लगे रहते हैं. इसी दिन चातुर्मास की शुरुआत भी होती है अर्थात इस दिन से ४ महीने तक साधू संत विशेष पूजा आराधना करते हैं और कहीं जाते आते भी नहीं है. वर्ष २०१६ मे हरी शयनी एकादशी १५ जुलाई को आ रही है, दिन रहेगा शुक्रवार. मान्यता के अनुसार पद्मा एकादशी की शुरुआत राजा मानदाता से जुडी है. इन्होने अंगीरा ऋषि के कहने से अषाढ़ मास के ग्यारस को व्रत और विशेष पूजा की जिससे की इनके राज्य मे वर्षा हुई और सम्पन्नता आई. तभी से लोग भी इस दिन को मनाने लगे.
आइये जानते है क्या करे देव शयनी एकादशी को अच्छे जीवन के लिए :