vedic jyotish from India

हिंदी ज्योतिष ब्लॉग ज्योतिष संसार में आपका स्वागत है

पढ़िए ज्योतिष और सम्बंधित विषयों पर लेख और लीजिये परामर्श ऑनलाइन

Janmashtami Mai VASHIKARAN Sadhnaayen Kyu Hoti Hai

जन्माष्टमी मे वशीकरण साधना क्यों करते है लोग, क्या फायदे हो सकते हैं वशीकरण साधना के, जन्माष्टमी रहस्य.
जन्माष्टमी मे वशीकरण साधना क्यों करते है लोग, क्या फायदे हो सकते हैं वशीकरण साधना के, जन्माष्टमी रहस्य.
kyu vashikaran prayog janmashtmi mai kiya jata hai

इससे पहले की हम आगे बढे कुछ गलतफहमियो को दूर करना जरुरी है वशीकरण विद्या के सम्बन्ध मे. साधारणतः लोगो की धरना ये है की वशीकरण का मतलब होता है काले जादू के मंत्रो का स्तेमाल करके लड़के, लड़कियों, व्यक्ति या किसी नारी को वश में कर लेना परन्तु ये सत्य नहीं है. 

वशीकरण विद्या सिर्फ किसी व्यक्ति विशेष को ही वश में करने तक ही सिमित नहीं है. इस विद्या के अभ्यास से व्यक्ति स्वास्थ्य , संपत्ति, सम्पन्नता और दिव्य शक्तियों की कृपा भी प्राप्त कर सकता है. अतः दिमाग मे किसी प्रकार की गलत धारणाओं को निकाल के विद्या के सही प्रयोग को जानना चाहिए और लाभ उठान चाहिए. कुछ काले जादू के अभ्यास लोगो ने वशीकरण शब्द को गलत तरीके से फैलाया है जिससे की भ्रम उत्पन्न हो और लोगो के अन्दर भय उत्पन्न हो, ऐसे लोग इस विद्या के नाम का प्रयोग सिर्फ धन अर्जित करने के लिए ही करते हैं. 

अगर कोई वशीकरण विद्या का प्रयोग सही तरीके से करे तो इसमे कोई शक नहीं की ये जीवन को बदल सकता है. 

ये भी गलत है की वशीकरण के मंत्र सिर्फ काले जादू के किताबो में दिए हुए हैं. विभिन्न देवी देवताओं के मंत्रो मई भी वशीकरण की ताकत है और भक्त इनका लाभ दशको से उठाते आ रहे हैं. 

आइये अब जानते हैं की क्यों वशीकरण विद्या का अभ्यास जानकर जन्माष्टमी की रात्रि को करते हैं ?

भगवान् कृष्ण को “मायापति” भी कहा जाता है अर्थात जो माया पर अधिकार रखता हो. वे किसी भी परकार के माया को उत्पन्न करने में माहिर थे, माया अर्थात भ्रम. उनका और भी इतना शक्तिशाली और पवित्र था की लोगो को उनके पास रहना अच्छा लगता था.

जन्माष्टमी की रात्रि भगवान् कृष्ण की जन्मदिन के रूप में पुरे ब्रह्माण्ड में मनाया जाता है. लोग इस रात्रि को श्री कृष्ण की कृपा प्राप्त करने के लिए विभिन्न प्रकार की साधनाए करते दीखते हैं. सभी इस दुनिया और शारीर छोड़ने के बाद की दुनिया को सुगम करना चाहते हैं जिसके लिए कृष्ण की पूजा करते हैं. 

तंत्र की दृष्टी से भी जन्माष्टमी की रात्रि बहुत शक्तिशाली मानी जाती है अतः जानकार तंत्र मंत्र की साधना करते हैं इस रात्रि को. 

जन्माष्टमी की रात्रि को “मोहरात्रि” भी कहा जाता है. इसीलिए लोग इस दिन वशीकरण साधना को करना श्रेष्ठ समस्झते हैं. ऐसे कई चमत्कारिक मंत्र है जिनका प्रयोग इस रात्रि को अस्चार्यचाकित करने वाले परिणाम दे सकते हैं .

ऐसा माना जाता है की जन्माष्टमी को अलौकिक शक्तियों को आकर्षित करना आसान होता है अतः इस रात्रि को जानकार साधनाएँ करते हैं. 
  • लोग सांसारिक सुखों को प्राप्त करने के लिए साधना करते हैं.
  • लोग प्रेम पाने के लिए साधना करते हैं.
  • लोग दैविक शक्तियों की कृपा पाने के लिए साधना करते हैं.
  • लोग धन प्राप्त करने के लिए साधना करते हैं. 
अतः टीवी , पिक्चर , फालतू बातें करने की बजाय जन्माष्टमी को किसी न किसी प्रकार का मंत्र अभ्यास करना शुभ होता है, ये दिन सिर्फ साल में एक बार ही आता है. 

मान्यता के अनुसार मोहरात्रि को तंत्र सिद्धि, मंत्र सिद्धि, यन्त्र सिद्धि आसानी से हो सकती है. 
  • हम स्वस्थ जीवन के लिए मंत्र पाठ कर सकते हैं.
  • हम सम्पन्नता के लिए मंत्र पाठ कर सकते हैं.
  • हम अपने व्यक्तिगत जीवन को सुगम बनाने के लिए मोहरात्रि को मंत्र पाठ कर सकते हैं.
  • हम जीवन में प्रेम पाने के लिए मंत्र पाठ कर सकते हैं.
भगवान् कृष्ण सभी के जीवन में स्वास्थ्य , सम्पन्नता, प्रेम और संपत्ति प्रदान करे, ऐसी शुभकामनाएं.

जन्माष्टमी मे वशीकरण साधना क्यों करते है लोग, क्या फायदे हो सकते हैं वशीकरण साधना के, जन्माष्टमी रहस्य.

No comments:

Post a Comment

Indian Jyotish In Hindi