vedic jyotish from India

हिंदी ज्योतिष ब्लॉग ज्योतिष संसार में आपका स्वागत है

पढ़िए ज्योतिष और सम्बंधित विषयों पर लेख और लीजिये परामर्श ऑनलाइन

Vaishakh Snan Ka Mahattw, वैशाख स्नान

वैशाख महीने को हिन्दू धर्म के अनुसार बहुत पवित्र माना जाता है पूजा पाठ, आध्यात्मिक अभ्यास हेतु, हवन, तर्पण आदि के लिए. हिन्दू ग्रंथो के अनुसार कार्तिक, वैशाख, श्रवण और माघ महिना बहुत महत्त्वपूर्ण होता है. इन महीनो मे लोग पूजा पाठ करते है जिससे की देवी देवताओं को खुश करके सुगम जीवन जिया जा सकता है. 
२०१६ मे सिंहस्थ भी उज्जैन मे वैशाख महीने मे शुरू हो रहा है जिसमे की साधक और भक्तगण पवित्र स्नान करेंगे. 
Vaishakh Snan Ka Mahattw, वैशाख स्नान का महत्त्व जानिए हिंदी मे.
vaishakh snan ka mahattw hindi mai

२२ अप्रैल से वैशाख स्नान शुरू होगा. ये पूर्णिमा का दिन है जब साही स्नान होगा. 
हालांकि जो लोग जिस पवित्र नदी के समीप है, वे लोग वही पवित्र स्नान का लाभ भी लेते ही हैं. नर्मदा नदी मे भी वैशाख महीने मे स्नान का बहुत महत्त्व होता है. 
आइये अब जानते है कुछ महत्त्वपूर्ण बाते वैशाख स्नान को लेके :
१. ये महिना भगवान् विष्णु की पूजा के लिए जाना जाता है अतः भक्तगण वैशाख महीने मे पवित्र स्नान करके विष्णु पूजा करते है. 
२. इस महीने मे मंत्र जप, तपस्या, दान आदि का महत्त्व बहुत बढ़ जाता है. 
३. ये गर्मी की शुरुआत है अतः लोग पुण्य कमाने हेतु पीने के पानी की व्यवस्था करते हैं. 
४. ऐसी मान्यता है की सुबह ब्रह्म महुरत मे पवित्र नदी मे स्नान करने से बहुत से पापो का नाश होता है. 
५. इस महीने मे भगवान् विष्णु की कृपा को आसानी से खीचा जा सकता है. 

आइये अब जानते है की २०१६ मे वैशाख महीने मे कौन कौन से मुख्य महुरत है स्नान के :
Vaishakh Snan Ka Mahattw, वैशाख स्नान का महत्त्व जानिए हिंदी मे.


पहली तारीख है २२ अप्रैल, पूर्णिमा और हनुमान जन्मोत्सव का पर्व.
दूसरी तारीख है ३ मई, एकादशी का जब वैशाख स्नान का लाभ लिया जा सकता है. 
तीसरा महुरत है 6 मई का जब अमावस्या है. 
चौथा महुरत है 9 मई का जब अक्षय तृतीय है. 
पांचवा वैशाख महीने का महुरत है 11 मई का जब शंकराचार्य जयंती है. 
छठा वैशाख स्नान महुरत है १५ मई, वृषभ संक्रांति का .
सातवा स्नान महुरत है १७ को , मोहिनी एकादशी.
आठवा वैशाख स्नान महुरत है  १९ मई , प्रदोष व्रत.
नवां और आखरी वैशाख स्नान की तारीख है २१ मई २०१६, बुध पूर्णिमा .
तो पुण्य कमाए, आनंद ले पूजा पाठ का , दान –धर्म का और जीवन को सुगम बनाएं. 


No comments:

Post a Comment

Indian Jyotish In Hindi