vedic jyotish from India

हिंदी ज्योतिष ब्लॉग ज्योतिष संसार में आपका स्वागत है

पढ़िए ज्योतिष और सम्बंधित विषयों पर लेख और लीजिये परामर्श ऑनलाइन

Enema Kya hai , एनीमा क्या है

Enema kya hai, क्या है एनीमा, घर में कैसे करे एनीमा, पेट या बृहदान्त्र को साफ़ करने का सरल उपाय, एनीमा में स्तेमाल होने वाले उपकरण, सुरक्षा उपाय.
kaise kare enema, kaha kare enema in hindi
janiye enema ke bare mai

क्या आप कब्जियत से परेशान हैं 
क्या आप एसिडिटी या गैस की समस्या से परेशान हैं.
क्या आप सुबह संतुष्ट नहीं हो पाते हैं. 
क्या आपको ऐसा लगता है की शारीर के अन्दर किसी प्रकार का जहर समस्या पैदा कर रहा है.
क्या आप एक स्वस्थ शारीर और दिमाग चाहते हैं
क्या आप अपने स्वास्थ्य को लेके चिंतिति है.
तो इसमे कोई शक नहीं की एनीमा एक बहुत अच्छा विकल्प हो सकता है स्वस्थ रहने के लिए.

आइये समझते हैं एनीमा को –
आज के दौर बहुत ही व्यस्त है और हम सभी रोज क्या खाते हैं , क्या पीते हैं, ये हम खुद ही नहीं जानते हैं. transfat को भी हम नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं. दूषितता के कारण हमारा जीवन रोगों से भर जाता है और दवाओं के सहारे जीवन गुजरना होता है. ऐसे में एनीमा हमारे लिए बहुत ही मददगार साबित हो सकता है जो की कोई भी व्यक्ति घर पर स्तेमाल कर सकता है. 

एनीमा शारीर से दूषित पदार्थो को बहुत आसानी से बाहर कर सकता है और शारीर को रोगों से मुक्त कर सकता है. इससे पेट साफ़ होता है भूख बढती है और पाचन तंत्र सुचारू रूप से काम करने लगता है. 

दशको से इस क्रिया का प्रयोग बहुत ही अच्छे तरीके से किया जा रहा है लोगो द्वारा. बड़ी आंत को साफ़ करने मई एनीमा बहुत ही सशक्त और मददगार है. 

जो इसके बारे में पहली बार सुनता है और इसे करने के बारे में पता करता है उसे अजीब सा लगता है परन्तु जब कोई इसे पहली बार करता है तो उसके बाद मुस्कराहट स्वतः ही एनीमा के फायदे बता देती है. संतुष्टि का भाव व्यक्ति के चेहरे पे देखा जा सकता है. 

इसे आयुर्वेद, एलॉपथी, वैकल्पिक चिकित्सा, प्रकृतिक चिकित्सा सभी में स्थान दिया गया है. 

आइये जानते हैं किन चीजो का प्रयोग किया जाता है एनीमा में :
इसके लिए पूरी किट बाजार में मौजूद हैं और ऑन लाइन भी मौजूद है जिसे आप खरीद सकते हैं और घर पर एनीमा कर सकते हैं. 
इसके अंतर्गत एनीमा बैग/एनीमा मग, एक ट्यूब , एक नोजल होता है.

एनीमा के लिए घोल:
एनीमा के लिए किस घोल का प्रयोग किया जाए ये बहुत महत्वपूर्ण होता है और इसका चयन व्यक्ति के जरुरत के हिसाब से किया जाता है. उदाहरण के लिए अगर बड़ी आंत की सफाई मुख्या मुद्दा है तो इसके लिए नमक का पानी सबसे अच्छा होता है. अगर किसी विशेष रोग का इलाज करना है तो इसके लिए विभिन्न प्रकार के जड़ी बूटियों के पानी का स्तेमाल किया जाता है. 

परन्तु हमेशा साफ़ पानी/ छना पानी की स्तेमाल में लेना चाहिए. 

आईये जानते हैं कुछ प्रश्नों के जवाब एनीमा को लेके :

क्या घर में एनीमा करना सुरक्षित होता है ?
अगर जानकारी के साथ एनीमा किया जाए तो ये पूरी तरह से सुरक्षित होता है क्यूंकि इसमे कोई दवाई नहीं ले रहे है अपितु पानी को अन्दर डाल के पेट की सफाई की जा रही है. अतः बिना किसी हिचक के इसे घर में किया जा सकता है. 

एनीमा कब करना चाहिए ?
इसके लिए सबसे उपयुक्त समय सुबह का होता है क्यूंकि इस समय पेट प्राकृतिक तौर पर भी खाली होने को तैयार रहता है. और एनीमा के बाद व्यक्ति पूरा दिन बहुत अच्छा महसूस करता है. 

पहली बार में कितना द्रव्य एनीमा से लेना चाहिए ?
इसका जवाब तो ये है की हर व्यक्ति की अपनी कषमता होती है परन्तु फिर भी 500 ml शुरू में उपयुक्त होता है. जिसे धीरे धीरे बढ़ाया जा सकता है. 

एनीमा के लिए अपने आपको कैसे तैयार करे ?
एनीमा का मुख्या उद्देश्य है बड़ी आंत को साफ़ करना अतः ये अच्छा है की हम एक दिन पहले उपवास करे और सिर्फ फल खाए साथ ही ज्यादा से ज्यादा जल पीये. पेट जीतना खाली होगा , एनीमा उतना अच्छा होगा. 

एनीमा के लिए घोल कैसे बनाए :
सबसे सदा घोल जो सबसे ज्यादा प्रयोग में आता है वो है जल में नमक डाल के प्रयोग करना. 1 लीटर पानी में 1 चम्मच नमक डाले और अच्छी तरह हिलाए , पानी के तापमान को भी जांचे जो की आप सहन कर सकते हो.

कितनी देर तक एनेमा को अपने अन्दर रखना है?
इसका उत्तर ये है की जितनी देर आपकी क्षमता हो उतनी देर उसे रोके रखे. हालांकि शुरू में ये बहुत कठिन होता है. अतः जितनी देर तक रोकना संभव हो रोके फिर उसे निकाल दे.

एनीमा के बाद क्या खाए ?
जैसा की उपवास के बाद एनीमा करना बेहतर है, अतः पेट पूरा खाली हो जाता है अतः अगर ज्यादा खा लिया जाए तो पाचन तंत्र पर जोर पड़ता है अतः ये सलाह दी जाती है की हल्का भोजन करे और धीरे धीरे खुराक बढाए. 

धैर्य रखे और भूख बहुत लगने पर भी जायदा न खाए अन्यथा नुक्सान हो सकता है. 

एनीमा कब नहीं लेना चाहिए ?
1. अगर कोई महिला पेट से है तो न ले.
2. अगर किसी का ऑपरेशन हुआ हो तो न ले. 
3. अगर किसी का पेट दुःख रहा हो और कारण का पता न हो तो भी न ले.
4. ह्रदय रोगियों को भी नहीं लेना चाहिए. 
बहुत सारे केसेस में डॉक्टर से सलाह कर ही एनीमा लेना चाहिए. 
डिहाइड्रेशन से बचने के लिए खूब पानी पीना चाहिए, स्वस्थ रहे, शक्तिशाली रहे 


Enema kya hai, क्या है एनीमा, घर में कैसे करे एनीमा, पेट या बृहदान्त्र को साफ़ करने का सरल उपाय, एनीमा में स्तेमाल होने वाले उपकरण, सुरक्षा उपाय.

No comments:

Post a Comment

Indian Jyotish In Hindi