vedic jyotish from India

हिंदी ज्योतिष ब्लॉग ज्योतिष संसार में आपका स्वागत है

पढ़िए ज्योतिष और सम्बंधित विषयों पर लेख और लीजिये परामर्श ऑनलाइन

Guru Poornima Importance In Hindi

Guru Poornima Importance In Hindi, गुरु पूर्णिमा का महत्तव हिन्दी में, क्या करे गुरु पूर्णिमा को.
guru poornima in hindi, what is guru poornima
guru purnima in hindi

हम सभी जानते हैं की हर साल भारत में गुरु पूर्णिमा बहुत ही उल्लास के साथ मनाया जाता है परन्तु इसका महत्तव बहुत ही कम लोग जानते हैं, आइये जानते हैं कुछ ख़ास बाते गुरु पूर्णिमा के ऊपर.

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्व रः ।
गुरु साक्षात्‌ परब्रह्म तस्मै श्रीगुरुवे नमः ॥

हमे ये श्लोक पढाया जाता है शुरू से ही , इसका मतलब है “गुरु ही ब्रह्मा है, गुरु ही विष्णु है , गुरु ही महेश्वर है और गुरु ही साक्षात् भगवान् है इसीलिए गुरुदेव को नमस्कार है ”.

गुरु के बिना संसार की कल्पना भी संभव नहीं है, कई अध्यात्मिक साधको से मिलके ये पता चलता है की गुरु मिलने के बाद ही उनको वास्तव में जीवन का रहस्य समझ में आया, गुरु मिलने के बाद ही उनको उनके जन्म का कारण समझ आया, गुरु मिलने के बाद ही उनको उनके शक्ति का परिचय मिला. 

हमलोगों ने भगवान् को तो नहीं देखा परन्तु हम लोगो को जो शिक्षा देते हैं उनको हम जरुर जानते हैं इसी कारण हमे अपने गुरुजनों का सम्मान करना चाहिए. 

गुरु पूर्णिमा वास्तव में मनाया जाता है “व्यास ऋषि” के सम्मान में मनाया जाता है जिन्होंने संसार को ये बताया था की वास्तव में गुरु का महत्तव क्या है और उनकी शक्ति क्या होती है. इसी कारण गुरु पूर्णिमा को “व्यास पूर्णिमा ” के नाम से भी जाना जाता है. उनके ही प्रेरणा से अषाढ़ मास की पूर्णिमा को समस्त गुरुजनों के पूजन के लिए मनाया जाने लगा.

इस दिन चन्द्रमा पुरे वर्ष भर में सबसे ज्यादा चमकता है और सबको अपनी शीतलता का अनुभव देता है. ये चातुर्मास के शुरू होने का संकेत भी देता है, ये साधना के लिए उपयुक्त वातावरण के निर्माण होने का संकेत भी देता है. 

व्यास ऋषि ने कई ग्रन्थ लिखे है जिनमे से महाभारत के बारे में सभी जानते हैं. उनके द्वारा लिखे ग्रंथो को पढने से जीवन जीने की कला सीखने को मिलती है.

अगर गुरु न हो तो संसार की कल्पना भी नहीं की जा सकती है, अगर गुरु न हो तो हमे पढ़ायेगा कौन और हमे सिखाएगा कौन. इसीलिए गुरु का सम्मान जरुरु करना चाहिए. 

शिष्य सफलता तभी प्राप्त करंता है जब कोई गुरु उस पर खुश हो जाए जैसे की अर्जुन अपने गुरु की कृपा से विश्व के सबसे अच्छे तीरंदाज बने, स्वामी विवेकानंदा अपने गुरु रामकृष्ण परमहंस के आशीर्वाद से पुरे विश्व में प्रसिद्ध हुए. 

गुरु का अर्थ होता है वो व्यक्ति जो की किसी को अन्धकार से बहार निकालने के रास्ता दिखाए, गुरु का अर्थ है ऐसे कोई जो हमे सिखाये क्या अच्छा है और क्या बुरा, कैसे हमे जीवन जीना चाहिए, क्या करना चाहिए और कैसे. 
क्या करना चाहिए गुरु पूर्णिमा को?
Guru Purnima Importance In Hindi, गुरु पूर्णिमा का महत्तव हिन्दी में, क्या करे गुरु पूर्णिमा को.


आइये जानते हैं कुछ बाते जो हर व्यक्ति को जीवन भर गुरु पूर्णिमा के दिन करना चाहिए जिससे की सफलता मिलती रहे और गुरुजनों का आशीर्वाद मिलता रहे –
1. गुरु पूर्णिमा के दिन जिनसे भी हमे ज्ञान मिला है उनको सम्मान देना चाहिए, श्रीफल, भेट और दक्षिणा देके उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए अगर सक्षम हो तो. 
2. गुरु पूर्णिमा के दिन जो सब के गुरु है वो है शिव भगवान् , उनका अभिषेक पंचामृत से करना शुभ होगा साथ ही शिव मंदिर में क्षमता अनुसार शिव भक्तो में प्रसाद का वितरण करना चाहिए. 
3. अगर कोई भी परेशानी हो तो गुरु से निर्भय होक बात करनी चाहिए और समाधान के लिए पार्थना करना चाहिए. 
4. जो दीक्षित है उनको अपने गुरु का ध्यान उनका पाद वंदन करना चाहिए. 
गुरु का ध्यान सर्वोपारी माना जाता है, गुरु की पूजा सर्वोत्तम पूजा मानी जाती है, गुरु के वाक्यों को मंत्र रूप में माना जाता है. गुर से श्रेष्ठ कुछ नहीं. 
भारत में तो प्राचीन काल से ही गुरुजनों की पूजा होती आ रही है, भारत विश्व में अध्यात्मिक गुरु के नाम से भी विख्यात है.
भगवान् शिव का कहना है की गुरु और भगवान् में कोई अंतर नहीं होता अतः पूर्ण रूप से गुरु को समर्पित करना चाहिए फिर किसी का भय नहीं होता. 
जीवन का लक्ष्य ज्ञान प्राप्त करना होता है जो की बिना गुरु के संभव नहीं.
पराशान्ति भी बिना गुरु के संभव नहीं.
आंतरिक संपत्ति की खोज भी बिना गुरु के संभव नहीं.
वो गुरु जो सभी के अंतर में निवास करते हैं और हर क्षण मार्गदर्शन करने के लिए तत्पर रहते हैं उनका दर्शन और कृपा सभी प्राप्त करे यही कामना करते हैं. 

ॐ गुरु ॐ 

और सम्बंधित लेख पढ़े :
Guru Poornima Importance In Hindi, गुरु पूर्णिमा का महत्तव हिन्दी में, क्या करे गुरु पूर्णिमा को.

No comments:

Post a Comment

Indian Jyotish In Hindi