vedic jyotish from India

हिंदी ज्योतिष ब्लॉग ज्योतिष संसार में आपका स्वागत है

पढ़िए ज्योतिष और सम्बंधित विषयों पर लेख और लीजिये परामर्श ऑनलाइन

Ashad Adhik Maas Ka Mahattwa In Hindi

Ashad Adhik Maas Ka Mahattwa In Hindi, अधिक मॉस क्यों है ख़ास, कैसे खोले सफलता के रास्ते अधिक मास में.
adhik mas ka jyotishiy mahatwa
आषाढ़ अधिक मास का महत्त्व 

अगर आप जानना चाहते हैं उस ख़ास समय के बारे में जब हम साधना को बढ़ा सकते हैं, कर्म कांडो को सफलता पूर्वक कर सकते हैं, भगवान् विष्णु जी की कृपा प्राप्त कर सकते हैं तो ज्योतिष के हिसाब से अधिक मॉस बहुत ही अच्छा समय होता है. 
अधि मास भगवान् विष्णु को समर्पित है और इस समय में केवल पूजा पाठ , अनुष्ठान आदि ही किया जाने का उल्लेख मिलता है. 
आइये जानते हैं 2015 के अधिक मास के बारे में:
इस बार 17 जून से 16 जुलाई २०१५ तक अधिक मास रहेगा. हिन्दू पंचांग के हिसाब से इस समय अषाढ़ का महिना चलेगा और साथ ही कई ऐसे उत्सव मनाये जायेंगे जो की अधिक मास के महत्तव को बहुत बढ़ाएंगे.

आइये जानते हैं कौन कौन से ख़ास मौके आ रहे हैं इस बार अधिक मास में –
1. 20 जून २०१५ को विनयकी चतुर्थी व्रत और शनि पुष्य का पवित्र दिन है. अतः इस दिन भगवान् गणेश और साथ ही शनि की कृपा प्राप्त करने के लिए अनुष्ठान शुभ रहेगा.जो लोग शनि साड़े साती से परेशान है वो भी इस दिन पूजा पाठ द्वारा विशेष लाभ उठा सकते हैं. 
2. २८ जून को कमला एकादशी अर्थात ग्यारस पड़ रही है, ये दिन भगवान् विष्णु को समर्पित है और मल मास में आने के कारण इसका महत्तव बहुत बढ़ जाता है. अतः इस दिन विष्णु जी की प्रसन्नता के लिए उनका  पूजन विधि विधान से करना चाहिए.
3. अधिक अषाढ़ पूर्णिमा दो जुलाई को आ रही है , इस दिन सत्यनारायण की कथा का पाठ विशेष फलदाई होगा. अपने क्षमता के अनुसार विष्णु  मंदिर में जरुरत मंदों को दान दे और ब्राह्मण का भी आशीर्वाद ले. 
4. कृष्णा पक्ष की गणेश चतुर्थी पाँच जुलाई २०१५ को पड़ रही है. इस दिन जीवन में संकतो को दूर करने के लिए उपवास और पूजन करना श्रेष्ठ होता है.
5. बारा जुलाई २०१५ को कृष्ण पक्ष की एकादशी आयेगी , ये फिर से एक बहुत अच्छा दिन है भगवान् विष्णु की पूजा के लिए. 
6. शिव चतुर्दशी का दिन 14 जुलाई को है , इस दिन शिवजी की प्रसन्नता के लिए पूजन शुभ होगा. 
7. अधिक मास श्राद्ध अमावस्या 15 और 16 जुलाई को रहेगी और 16 को अधिक मास समाप्त होगा. 
अतः 2 एकादशी, 2 गणेश चतुर्थी, 1 अमावस्या और एक पूर्णिमा इस बार के अधिक मास को ख़ास बना रहे है. अतः इन पवित्र दिनों में विधिवत पूजन करे, मंत्र जप करे, हवन करे और अपनी साधना को आगे बढाए.
अपनी सफलता के लिए श्रद्धा और भक्ति से पूजन पाठ करे.

क्या करे अधिक मास में जीवन से समस्याओं को कम करने के लिए:

भगवान् विष्णु की कृपा से मल मास या अधिक मास बहुत ही पवित्र महिना माना जाता है. अतः इन दिनों में सफलता के रास्ते खोलने के लिए कुछ आसान उपाय दे रहे है. हालांकि अपने ज्योतिष से भी सलाह ले लेना चाहिए आपको. 
1. पुरे माहिने जल्दी उठके अपने नियमित कार्यो से मुक्त होक विष्णु जी के आगे, धुप, दीप, भोग आदि लगा के उनके 108 मंत्रो का जप करे. अगर ये न हो सके तो “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय ” का जप करे. 
2. रोज किसी विष्णु मंदिर या शिव मंदिर जाना चाहिए और दीप दान करना चाहिए. 
3. किसी से झूठ न बोले, धोखा न दे और हर समय भगवान् विष्णु का ध्यान करे.
4. जरुरत मंदों की सहायता करे और उनको भी इश्वर का रूप समझे. 
5. जब भी हो सके विशेषकर ग्यारस, पूर्णिमा को भगवान् विष्णु का पंचामृत से अभिषेक करे. 
पूर्ण श्रद्धा और भक्ति से की गई पूजा , आराधना खाली नहीं जाती अतः अधिक मास का उपयोग करे और जीवन को सफल बनाए इश्वर कृपा से. 

Ashad Adhik Maas Ka Mahattwa In Hindi, अधिक मॉस क्यों है ख़ास, कैसे खोले सफलता के रास्ते अधिक मास में.

No comments:

Post a Comment

Indian Jyotish In Hindi