vedic jyotish from India

हिंदी ज्योतिष ब्लॉग ज्योतिष संसार में आपका स्वागत है

पढ़िए ज्योतिष और सम्बंधित विषयों पर लेख और लीजिये परामर्श ऑनलाइन

Ganga Duhera Ka Mahatwa In Hindi

Ganga Duhera Ka Mahatwa In Hindi, जानिए गंगा दुशहेरा के विषय में, क्यों मनाते हैं गंगा दुष्मी, २०१६ के गंगा दशेरा का महत्तव .
ganga dashera ka mahatwa aur kya kare sampannta ke liye free
ganga dushera ka mahatwa

भारत में एक विशेष त्यौहार हर साल बड़े जोश से मनाया जाता है माँ गंगा की याद में. हिन्दू पौराणिक कथाओं के अनुसार गंगा एक पवित्र नदी है जो की पापों से लोगो को मुक्त करती है. इसे पापनाशिनी कहा गया है शास्त्रों में.

हिन्दुओं का ये अटूट विश्वास है की इस पवित्र दिन में अगर कोई गंगा में स्नान और दुबकी लगता है साथ ही पूजा करता है तो वो समस्त पापों से मुक्त हो जाता है और मुक्ति प्राप्त करता है.

गंगा दुशहरा को गंगा दशमी के नाम से भी जानते हैं और ये ज्येष्ठ मास में शुक्ल पक्ष के दशमी तिथि को मनाया जाता है.

इस दिन गंगा का अवतरण धरती पर हुआ था भागीरथ जी के अथक प्रयास के कारण, इसी कारण गंगा को भागीरथी भी कहा जाता है.

जहां जहां गंगा नदी बहती है वहां लोग गंगा घाट पर इकटठा होते हैं और पवित्र स्नान के बाद पूजा पाठ करते हैं, सिर्फ यही नहीं जहा अन्य नदियाँ है वहां भी लोग माँ गंगा का स्मरण करके स्नान और पाठ पूजा करते हैं.
धार्मिक तीर्थ स्थल जैसे हरिद्वार, वाराणसी, ऋषिकेश, अल्लाहाबाद में तो मेले जैसा वातावरण होता है और लाखो श्रद्धालु इस दिन माँ गंगा का आशीर्वाद लेने आते हैं.

लोग पवित्र स्नान के बाद पूजा करके ब्राह्मणों का आशीर्वाद लेते हैं और यथा शक्ति दान भी करते हैं. लोग गंगाजल घर पर भी रखते हैं , ऐसी मान्यता है की इससे बुरी शक्तियों का असर घर पर नहीं होता है.
गंगा दश्हेरा के अवसर पर भक्त लोग नदी किनारे इकटठा होक भजन गाते हैं मंत्र जपते हैं , माँ गंगा की आरती करते हैं, दीप दान करते हैं और माँ को फल, फूल दक्षिणा भेट करते हैं.
वास्तव में गंगा दुशेरा 10 दिनों तक मनाया जाता है और इसकी शुरुआत ज्येष्ठ मास की अमावस्या को होती है.
आइये अब जानते हैं की २०१६ की गंगा दशहेरा का ज्योतिषीय महत्तव:

इस बार 28 मई २०१६ गुरुवार को गंगा दुष्मी का शुभ योग है अतः ये उत्सव बहुत अधिक महत्तव रखता है. इस बार गंगा दशमी को गुरु अपने मित्र  राशि में है जिससे की इस दिन का महत्तव और बढ़ जाता है. साधको के लिए ये दिन बहुत ही अच्छा रहेगा.
इस दिन की गई पूजा पाठ का विशेष फल प्राप्त होगा. साथ ही गुरुवार को ये योग पद रहा है जिससे की महत्व और बढ़ गया है.
हालांकी राहू और गुरु की युति भी है और साथ ही मंगल और शनि की युति भी है जिससे की समय ठीक नहीं चल रहा है , ऐसे मे गंगा दसहेरा को पूजा पाठ करके अपने परेशानियों को कम करने के लिए प्रार्थना करके लाभ लिया जा सकता है.

क्या करें गंगा दशहेरा को :
इस दिन जल्दी उठ के फ्रेश होक नदी किनारे जाके पवित्र स्नान करना चाहिए फिर पूजा पाठ करके दीप दान करना चाहिए, हो सके तो पंचोपचार पूजा करे माँ गंगा का और यथा शक्ति दान करे और ब्राह्मणों का आशीर्वाद ले.
और भी अच्छा रहेगा अगर कुंवारी कन्याओं को भोजन करवाके उनका आशीर्वाद लिया जाए.
अपने पुरे परिवार के साथ गंगा का पूजन करे और आगे अपने जीवन में सफलता प्राप्त करे.

Ganga Duhera Ka Mahatwa In Hindi, जानिए गंगा दुशहेरा के विषय में, क्यों मनाते हैं गंगा दुष्मी, २०१६ के गंगा दशेरा का महत्तव .

No comments:

Post a Comment

Indian Jyotish In Hindi